चंद्रमहल सिटी पैलेस जयपुर राजस्थान

राजस्थान  की राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक भवनों का मोर-मुकुट चंद्रमहल है और इसकी सातवी मंजिल ”मुकुट मंदिर ही कहलाती है। दिवाने खास के पश्चिम में बडे और ऊंचे दरवाजों के बजाय जयपुर के स्थापत्य की परम्परागत ताजदार “पोली” हैं जो अति सुन्दर और नयनाभिराम है। यह रिधसिधे पोल या गणेश पोल है जो चंद्रमहल को सर्वतोभद्र से जोडती है। इसमे संदेह नही किस चंद्रमहल जैसा आज है, उसमे सवाई जयसिंह से लेकर मानसिंह द्वितीय तक सभी राजाओं का कुछ न कुछ योगदान रहा है। लेकिन अठारहवी सदी के इस भव्य राजपूत इमारत के प्रधान निर्माताओ में जयसिंह, प्रतापसिंह और रामसिंह द्वितीय के नाम लिये जा सकते है। सवाई जयसिंह भव्यता के साथ सादगी का हिमायती था, पर प्रताप सिंह के समय में जयपुर की निर्माण-शैली जिस प्रोढता और परिपक्वता को जा पहुची थी उसमे जयपुर के मजबूत चूने के पलस्तर में अलंकरण का भी बडा रिवाज हो गया था। यह “ प्रीतम निवास” के विशाल आंगन मे बनी हुईं चार पोलो या “पोलियो”‘ से ही स्पष्ट है जिनके अलंकरण में मयूर बने हुए है। यह कक्ष जयसिंह के बनवाये हुए ‘ चन्द्र मंदिर के पीछे है। प्रीतम निवास, रिधमसिध पोल और भीतर का विशाल चाक प्रतापसिंह ने बनवाये थे। दोनो मिलकर चंद्रमहल की सबसे नीचे की मंजिल है।

 

 

चंद्रमहल सिटी पैलेस जयपुर

 

 

सवाई जयसिंह की आज्ञा से नगर-प्रासाद के इस सात मजिले महल का निर्माण जयपुर के प्रधान नगर नियोजक विद्याधर चकवर्ती ने ही कराया था। विद्याधर को, जो महकमा हिसाब की एक शाखा का नायब दरोगा था, 1729 ई में जब जयपुर नगर का निर्माण पूरे वेग से चल रहा था, देश दीवाण’ नियुक्त किया गया था। 1734 ई में उसे अश्वमेध यज्ञ का सिरोपाव बख्शा गया था ओर इसी वर्ष में उसने ज्येप्ठ शुक्ला पंचमी को ‘सतखंडा’ महल या चंद्रमहल बनाने के उपलक्ष मे सिरोपाव किमती साविक 85-3 प्राप्त किया था।

 

 

चन्द्र मंदिर मे बरामदे की भित्ति पर जयपुर के राजाओं के पूरे आकार के दर्शनीय चित्र बने है। संगमरमर के आंगन, स्निग्ध स्तंभ आर सुरुचिपूर्ण रंग- सज्जा इस राजसी आवास की विशेषताएं है जो सवाई मानसिंह द्वितीय (1922-70 ई ) ने एक जर्मन कलाकार ए एच मूलर से कराईं थी। 44 बर्ष राज करने और जयपुर जैसा शहर बसा देने के बाद इसी भवन मे सवाई जयसिंह ने निनिमेप दृष्टि से भगवान गोविन्द को निहारते ओर ब्रजनाथ व गोकलनाथ जैसे विद्वान पंडितो से भागवत-कथा सुनते हुए अपनी जीवन-लीला समाप्त की की थी। यह 3 अक्टूबर 1743 की बात है।

 

चंद्रमहल जयपुर
चंद्रमहल जयपुर

 

चंद्रमहल मे रहने वाले पहले राजा सवाई जयसिंह की तरह जयपुर के अंतिम महाराजा सवाई मानसिंह (द्वि) का पार्थिव शरीर भी यहां 1970 ई मे उसी स्थिति मे जनता के दर्शनार्थ रखा गया था।
चंद्रमहल की दूसरी मंजिल मे “सुख निवास” है जों एक खुली छत पर खुलता है। यह महल भी अपनी दीवारो पर रंगीन बेल-बूटो और फलो के डिजायनों से सजा हुआ है। कुछ चित्र भी है। सुख निवास सवाई जयसिंह ने अपनी चहेती रानी सुखकंवर के नाम पर बनाया होगा जो ईश्वरी सिंह की माता थी। आमेर मे भी सूख मंदिर” है। जयपुर के कवि शासक प्रताप सिंह को यह अत्यन्त प्रिय था। वह प्राय इसी मे रहता और अपनी काव्य-रचना करता था। अपनी एक रचना ”स्नेह बहार” के अन्त में उसने लिखा है

 

 

जय जयनगर मकाम, धाम जहा गोविन्द कौ।
पते कियौ विश्वाम, सरन गहयौ नद नद कौ।।
जब ही कियौ विलास, सुख निवास के माहि यह।
बाचे बद्धि-प्रकास, दुख दारिद सब जाहि बह।।

अपने एक अन्य ग्रन्थ रंग चॉपड की रचना भी प्रतापसिंह ने इसी कक्ष मे पूरी की थी:–

 

श्री गुबिन्द प्रभु के निकट, जयपर नगरहि मद्ध।
ब्रजनिधि दास पतै कियौ, सुख निवास में सिद्ध।।

भर्तृहरि के “वैराग्य शतक” के ब्रज-भाषानुवाद को भी प्रताप सिंह ने इन पक्तियो के साथ पूरा किया है:–

 

श्री राधा गोबिद के चरन सरन विश्वाम।
चन्द्रमहल चित चहल में जयपुर नगर मुकाम।।

प्रताप सिंह के ग्रन्थो मे रचना सवत्‌ के साथ-साथ सुख निवास, चन्द्र महल और जयपुर नगर मुकाम का स्थान-स्थान पर हवाला दिया गया है। स्नेह सग्राम से यह कवि नरेश कहता है:–

 

जयपुर नगर मुकाम, चन्द्रमहलहि अवलम्बत।
भयी सग्रन्थ प्रतच्छ, सच्छता पाई सबत।।

जयपुर के कारीगरो ने चंद्रमहल के कक्षों मे भी दीवारों और छतो मे कांच की जडाई का काम किया है। यह सुन्दर और कमनीय होते हुए भी उस नफासत को नही पहुंचा जो आमेर मे मिर्जा राजा जय सिंह के बनवाये हुए ‘जय मंदिर” और ‘जस मंदिर’ में है। उस शीशमहल के लिए जहा महाकवि बिहारीलाल तक ने अपनी
संतसई में यह उल्लेख किया है:–

 

प्रतिविम्दित जयसाह द्युति, दीपित दरपण-धाम।
सब जग जीतन को कियो, काय व्यूह मन काम।।

वहा चंद्रमहल के शीश महलो के विषय में काव्य-रसिक सवाई प्रताप सिंह और उसकी ‘कवि बाईसी’ भी मौन ही रहे है। चंद्रमहल की तीसरी मंजिल रंग मंदिर कहलाती है। इसमे भी दीवारों, स्तंभो और छत मे छोटे-बडे शीशे है। चौथी मंजिल पर शोभा निवास है, पांचवी पर‌ छवि निवास और इसके भी ऊपर छठी मंजिल पर “श्री निवास” प्रासाद है। यह अलग-अलग नाम जैसे बताते है कि आधुनिक राज भवनो और दिल्‍ली के राष्ट्रपति भवन में “द्वारका सूट, अम्बर सूट” आदि नाम रखने की परम्परा नयी नही है। एक ही राजमहल के विभिन्‍न कक्षों को अलग-अलग नामो से मध्यकाल मे भी जाना जाता था और यह नाम भी शुद्ध भारतीय तथा कक्ष की शोभा के अनुरूप अधिक युक्तियुक्त होते थे। शोभा निवास मे रंग और सुनहरी कलम के साथ विभिन्‍न आकार के शीशो की जडाई है। जयपुर के राजा इसी कक्ष मे बैठकर दीपावली पर लक्ष्मी पूजन किया करते थे।

 

 

चंद्रमहल की सातवी मंजिल “मुकुट मंदिर” है। यहां से सारा जयपुर शहर तो आंखो के नीचे आ ही जाता है, दूर की पहाडियो और उन पर बने दुर्गो और मंदिरो का भी विंहगम दृश्यावलोकन होता है। एक ही नजर में जयपुर की अप्रतिम नगर-रचना, अनूठे शिल्प-साष्टव ओर भव्य स्थापत्य-कला का दिग्दर्शन हो जाता है। चंद्रमहल की इस छत का उपयोग सबसे अधिक शायद महाराजा राम सिंह ने किया था। इस राजा के शोको में पतंगबाजी भी एक था। चंद्रमहल ओर जनानी ड्योढी के बीच राम सिंह के कमरे मे एक कोठरी अब तक पतंगो की कोटडी कहलाती है। दूर-दूर के पतंग-डोर बनाने वाले तब यहां काम करते रहते थे। राम सिंह ने अच्छी “तुकल’ बनाने वालो और “मांजा” सतने वालों को इस हुनर में कमाल हासिल करने के लिये जागीर तक दी थी। चंद्रमहल की छत से जो पतंग उडाये जाते वे आदम कद पतंग होते, जिनके पावो में चांदी की छोटी-छोटी घुघरिया फूदन बनकर लटकी रहती। ठुमकी के साथ जब पतंग हवा पर सवार होकर आसमान से बाते करने लगता तो यह बारीक घुघरिया भी ठनक-ठनक करती। आज तो बस अनुमान ही किया जा सकता है कि कैसा माहौल रहता होगा।

 

 

वैसे जयपुर में पतंगबाजी इस नगर की स्थापना के समय से ही चालू हो गई थी। तभी 1770 मे बखतराम साह ने इस नगर के हाट-बाजारो का वर्णन करते हुए लिखा है ‘वस्त्रागर बुनकर वरकसाज, कहु बेचत गुड पतंगबाज। किन्तु बखतराम साह से बहुत पहले महाकवि बिहारी ने आमेर मे भी पतंगबाजी अवश्य देखी होगी। सतसई का यह दोहा प्रसिद्ध है:—

 

उडति गडी लखि ललन की, अगना अगना माह।
चौरी लो दौरी फिरति, छुवति छवीली छाह।।

सवाई जय सिंह तो “श्री राजाधिराज” था और प्रताप सिंह भी तूगा की लडाई मे महादजी सिंधिया को हराने के बाद बडा प्रतापी राजा होकर जिया था, लेकिन चंद्रमहल में रहने वालो मे राम सिंह एक ऐसा राजा था जो सबसे पहिले इंसान था। इस राजा की सादगी ओर बन्दा परवरी, दोनो की कहानियां ही इकट्ठी की जाये तो एक अच्छी खासी पोथी बन जाये। अपने पहिन ने की बोतली रंग की अगरखी ओर लाल पगडी को राम सिंह खुद ही धो लेता ओर रंग-सुखाकर पहिन लेता। महाराजा के पोशाकी कम नही थे और वह खास कपडो की देखभाल ओर उन्हे पहिनाने की ही तनख्वाह पाते थे, लेकिन रामसिंह के सरल स्वभाव और अपना काम खुद करने की ताव देखिये कि अपने सिर की नाप के लकडी के “मतगे” पर स्वय ही पगडी बांध लेता। मतंगा देखना हो तो आज भी परोहित जी के कटले में चले जाइये, जहा बीद राजाओ के साफे और पगडिया बांधी जाती है और इस बंधाई के दाम भी अब तो अच्छे खासे देने पडते है।

 

 

इसमे शक नही कि रामसिंह जैसे बहु-प्रतिभा-सम्पन्न, शास्त्र और संगीत प्रेमी, बहु पठित और बहुश्रुत, कला-कौशल के संरक्षक, परम्परा प्रिय आर सुधारवादी राजा का उत्तराधिकारी होकर रहना एक आसान काम न था। लेकिन माधोसिंह जैसा आदमी भी, जो न ऐसा पढा-लिखा था आर न इतना सुसंस्कृत अपने “गोपालजी’ के भरोसे ही ऐसे बडे बाप का लायक बेटा साबित हुआ। रामसिंह जो बडी विरासत छोड गया था, माधोसिंह उसके प्रति बडा सजग ओर सचेष्ट था। अपनी जिन्दगी में उसने ऐसी कोई बात न की जिससे रामसिंह के खडे किए हुए ढांचे मे थोडी भी गडबड हो। चंद्रमहल में सवेरे बिस्तर छोडते ही वह सबसे पहिले उन कोठरी में जाता जिसमे गोपालजी की मूर्ति विराजमान थी। फिर हाथ जोडकर भगवान से ये बाते करता जैसे किसी भरोसे के दोस्त या दातार मालिक से बतलाते है। वह क्या था आर क्या हो गया था इस बारे मे उसे कोई मुगालते भी नही थे। साफ दिल से वह गोपालजी से अर्ज करता “गोपाल! ई राज ओर इ प्रजा को तू ही मालिक छे। मै तो आयो कोने, तू ही मंनै इ गह्दी पर ल्यायो छं। अब तू ही म्हारी लाज राखजे, इसी कोई बात मत होवा दीजे क म्हारे कोई धब्बी लाग जाय! गोपाल, माधोसिह की तू ही निभावैलो!।” और, गोपालजी ने माधोसिह की वास्तव में सब निभाई। मन-गढन्त सुने-सुनाये किस्सो मे बह जाने वालो की बात तो अलग है, लेकिन जिन लोगो ने माधोसिंह ओर उसके तौर-तरीको को देखा और खूब नजदीक से समझा-परखा है, वे आज तक माधोसिंह का गुण-गान करते नही थकते। उसके दान-पुण्य के चर्चे जैसे कभी खत्म ही नही होते।

 

 

चंद्रमहल जिसके शीर्ष पर अब भी सवाई जयपुर का सवाया पंचरंगा झडा ही फहराता है यह सवाया झंडा, (जिसमे बडे ध्वज के ऊपर उसके एक चौथाई आकार का छोटा ध्वज लगता है जयपुर के संस्थापक सवाई जयसिंह की ही देन है), ऐसे अनुपात से बना हे कि इसमे सब कही घूम कर देखे बिना इसकी विशालता और भव्यता का अनुमान ही नही होता। अपने सामने दूर तक फैले सुरम्य उद्यान के साथ यह राजसी आवास सचमुच जीवन के सुद्ध और रगीनियो को भोगने का एक आदर्श महल ही रहा होगा। चंद्रमहल के पश्चिम मे एक छोटे चोक के साथ” माधो निवास” नामक महल है। इसका पश्चिमी भाग माधोसिंह प्रथम (1750- 67 ) ने बनवाया था, शेष भाग रामसिंह द्वितीय (1835-80ई ) ने जोडा। इसके पश्चिम में भी एक चौक है जिसके बीच मे तरणताल हैं। माधो निवास उत्तर की ओर जय निवास उद्यान में खुलता है। लाल बलुआ पत्थर का इसका द्वार कराई के काम से सुसज्जित है, जिसमे दो हाथी भी उत्कीर्ण है। इसी से इसका नाम गजेन्द्र पोल” है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
Hawamahal Jaipur
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
Hanger manger Jaipur
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक
बूंदी राजस्थान
केतूबाई बूंदी के राव नारायण दास हाड़ा की रानी थी। राव नारायणदास बड़े वीर, पराक्रमी और बलवान पुरूष थे। उनके
सवाई मानसिंह संग्रहालय
जयपुर के मध्यकालीन सभा भवन, दीवाने- आम, मे अब जयपुर नरेश सवाई मानसिंह संग्रहालय की आर्ट गैलरी या कला दीर्घा
मुबारक महल सिटी प्लेस जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के महलों में मुबारक महल अपने ढंग का एक ही है। चुने पत्थर से बना है,
जय निवास उद्यान
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के ऐतिहासिक इमारतों और भवनों के बाद जब नगर के विशाल उद्यान जय
तालकटोरा जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर नगर प्रासाद और जय निवास उद्यान के उत्तरी छोर पर तालकटोरा है, एक बनावटी झील, जिसके दक्षिण
बादल महल जयपुर
जयपुर  नगर बसने से पहले जो शिकार की ओदी थी, वह विस्तृत और परिष्कृत होकर बादल महल बनी। यह जयपुर
माधो विलास महल जयपुर
जयपुर  में आयुर्वेद कॉलेज पहले महाराजा संस्कृत कॉलेज का ही अंग था। रियासती जमाने में ही सवाई मानसिंह मेडीकल कॉलेज
ईश्वरी सिंह की छतरी
बादल महल के उत्तर-पश्चिम मे एक रास्ता ईश्वरी सिंह की छतरी पर जाता है। जयपुर के राजाओ में ईश्वरी सिंह के

write a comment