ग्वालियर का किला हिस्ट्री इन हिन्दी – ग्वालियर का इतिहास व दर्शनीय स्थल

ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग परिक्षेत्र में उपलब्ध जैन तीर्थाकंरों की प्रतिमाये इस बात को सिद्ध करती है, कि ग्वालियर का धार्मिक महत्व अति प्राचीन है। पहले यह क्षेत्र गुप्तों के अधिकार में था बाद में यह क्षेत्र हर्ष वर्धन और कछवाहों के अधिकार में आ गया। कछवाहा नरेशो ने विक्रमी संवत् 332 में ग्वालियर किले का निर्माण कराया था।

 

ग्वालियर का किला हिस्ट्री – ग्वालियर का इतिहास

 

कछवाहा वंश के शासक अपने वंश का सम्बन्ध भगवान श्रीराम के पुत्र कुश से मानते है। इस वंश का महत्वपूर्ण शासक सूरजसेन था जो कुष्ठरोग से गृषित था। उसका रोग ग्वालियर में ठीक हुआ और एक सिद्ध के आदेश से उसने अपना नाम बदलकर सूरजपाल रख दिया। इस वंश का 84वाँ नरेश तेज कर्ण था। उस समय इनका राज्य कन्नौज के राजा भोज के आधीन हो गया था। इस वंश में बऊदामा, किर्तिराज, भुवनराज और प्रदूमपाल नामक नरेश हुए। महिपाल के पश्चात मनोरथ नामक शासक हुआ। उसने सन् 1161 में ग्वालियर में महादेव मंदिर का निर्माण कराया। उसके पश्चात उसका पुत्र विजयपाल शासन में बैठा विक्रमी संवत् 1253 में शहाबुद्दीन ने ग्वालियर के किले पर आक्रमण किया। इसके बाद यह किला गुजर प्रतिहारों के अधीन आ गया। इस दुर्ग में महमूद गजनबी ने आक्रमण किया था उस समय यह दुर्ग चन्देलो के आधीन था। अन्त में यह दुर्ग कुतुबुद्धीन ऐबक के आधीन हो गया।

 

 

जब भारत वर्ष में तुगलक वंश के शासक राज्य करते थे उस समय ग्वालियर का किला नर सिंह राय कटिहार के आधीन था। जब दिल्‍ली मे तैमूर लंग का आकमण हुआ उस समय ग्वालियर फोर्ट बीरमदेव के अधीन था, इसके नाम के दो अभिलेख विकमी संवत् 1459 के ग्वालियर दुर्ग मे उपलब्ध होते है। तैमूर लंग के वापिस जाने के बाद ग्वालियर दूर्ग पर मुल्लई इकबाल खाँ ने चढ़ाई की ग्वालियर दुर्ग बहुत सुदृढ़ था। मुल्लइकबाल खाँ इसे जीत नही पाया यहाँ के देशी नरेशों ने मुल्लाइकबाल खाँ से बदला लेने के लिये इटावा के पास उस पर आक्रमण किया किन्तु राजपूतो की सामूहिक सेना मुल्‍ल्ला इकबाल खाँ को हरा नहीं पायी।

 

 

ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला

 

सल्तनतकाल में ही ग्वालियर का दुर्ग तोमर वंश के शासको के आधीन हो गया। इस वंश का शक्तिशाली नरेश मानसिंह तोमर थें। जिन्‍होने कलाकार साहित्यकारों को विशेष आश्रय प्रदान किया था। मुगल सम्राट बाबर भी बिक्रमी संबत् 1587 में ग्वालियर पर आक्रमण किया। इस समय ग्वालियर के राजा विक्रमजीत थे। इस युद्ध में विक्रमजीत की पराजय हुई। बाबर ने यहाँ मानसिंह के बनवाये महल और बगीचों को देखा तथा सम्सुद्धीन अल्पमस की बनवायी टूटी-फूटी मस्जिदे देखी और यही पर अपनी नमाज आदा की।

 

 

बाबर से लेकर औरंगजेब के शासनकाल तक ग्वालियर का किला मुगलो के आधीन रहा। औरंगजेब के शासनकाल के अन्तिम समय ग्वालियर दुर्ग मराठों के अधीन हो गया तथा यहाँ सिन्ध्याँ वंश राज्य करने लगा ग्वालियर के मराठा नरेशों की सन्धि अंग्रेजो से भी हुई। सन्‌ 1857 की क्रान्ति में ग्वालियर के सिन्धिया नरेश ने अंग्रेजों का साथ दिया जबकि झाँसी, कालपी, के मराठा, शासक तथा बाँदा के नवाब तात्याटोपे के नेतृत्व में अंग्रेजों का विरोधकर रहे थे। क्रान्तिकारियों ने ग्वालियर दुर्ग जीत लिया था। किन्तु अंग्रेजों की सेना के आ जाने के कारण क्रान्तिकारियों की पराजय हुई। और ग्वालियर के किले मे झांसी की रानी लक्ष्मीबाई कोअपने प्राणों की आहुत्त देनी पडी। उसके पश्चात ग्वालियर का किला फिर सिंधिया के अधिकार में आ गया।

 

 

ग्वालियर के किले में निम्नलिखित दर्शनीय स्थल है

1. ग्वालियर दुर्ग के अवशेष
2. ग्वालियर दर्ग के प्रवेश द्वार
3. तेलीका मन्दिर
4. गूजरी रानी का महल
5. मान सिंह का महल
6. जैन तीर्थाकंरो की मूर्तियाँ
7. तानसेन का मकबरा
8. गुलाम गौस खा का मकबरा
9. रानी झाँसी की समाधि
10. जय विलास पैलेस

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—–

 

 

तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला व चौरासी खंभा
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *