गोविंद देव जी मंदिर जयपुर – गोविंद देव जी मंदिर का इतिहास

राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के सैंकडो मंदिरो मे गोविंद देव जी मंदिर का नाम दूर-दूर तक श्रृद्धालुओं में प्रसिद्ध है। जो भी हिन्दू यात्री या पर्यटक इस शहर में आता है, वह यहां के अन्य दर्शनीय स्थानों के साथ गोविंद देव जी की झांकी करने के लिए भी अवश्य जाता है। जयपुर के राजा भी अपने जमाने मे गोविंद देव जी को राजा और अपने को उनका दीवान मानते थे। गोविंद आज भी राजा हैं। उनके दरबार में हजारों भक्त हाजिर होते है और राधा-कृष्ण की लीलाओं के भजन-कीर्तन से सारे जय निवास उद्यान को निनादित करते रहते है। वृन्दावन की सी धूम अनेक अवसरों पर तो उससे भी अधिक गोविंद देव जी के मंदिर मे मची रहती है। इत्र और फलों की महक यहां की हवा मे तैरती है। बंगाल के चैतन्य महाप्रभु ने चार सदियों पहिले भक्ति भाव और कीर्तन का जो रास्ता सांसारिक लोगो को बताया था, उसका जादू अब भी बरकरार है। गोविंद देव जी के मंदिर मे यह प्रत्यक्ष देखा जा सकता है।

 

 

गोविंद देव जी मंदिर का इतिहास

 

 

यह विख्यात गोविंद देव जी मंदिर उस बारहदरी में है जो ”सूरज महल” के नाम से जय निवास बाग मे चंद्रमहल और बादल महल के मध्य में बनी थी। किंवदन्ती है कि सवाई जयसिंह जब यह शहर बसा रहा था तो सबसे पहले इसी बारहदरी मे रहने लगा था। उसे रात मे स्वप्न आया कि यह स्थान तो भगवान का है और उसे छोड देना चाहिए। अगले ही दिन वह चंद्रमहल मे रहने लगा और यहां गोविंद देव जी पाट बैठाये गये।मंगल बारहदरी को बीच मे बन्द कर किस आसानी से मंदिर मे परिणत किया गया, यह गोविंद देव जी के मंदिर में भली भांति समझा जा सकता है।जयपुर में इसके बाद तो प्राय वैष्णव और जैन, दोनो ही मंदिर इसी शैली पर बनने लगे। यहां के संगमरमर के अत्यंत कलात्मक दोहरे स्तम्भ ओर ‘“लदाव की छत” जिसमे पट्टियां नही होती, जयपुर के इमारती काम का कमाल है। मध्यकालीन राज-दरबारो की भव्यता और देवालय की शचिता की यहा एक साथ प्रतीति होती है।

 

 

गोविंद देव जी की झांकी सचमुच मनोहारी है। भावुक भक्‍तों का मानना है कि भगवान कृष्ण के प्रपौत्र वज्रनाभ ने यह विग्रह बनवाया था। वज्रनाभ की दादी ने कृष्ण को देखा था, इसलिये सबसे पहले वज्रनाभ ने जो विग्रह तैयार कराया उसे देखकर वह बोली कि भगवान के पांव और चरण तो बिल्कुल उन जैसे बन गये पर अन्य अवयव कृष्ण से नही मिलते। वह विग्रह मदनमोहन के नाम से जाना गया, जो अब करौली मे विराजमान है। वज्रनाभ ने दूसरी मूर्ति बनाई जिसमे भगवान का वक्षस्थल और बांह सही बने। इसे गोपीनाथ का स्वरूप कहा गया। फिर तीसरी मूर्ति बनाई गई जिसे देखकर वज्रनाभ की दादी कह उठी ”अहा, भगवान का अरविन्द नयनों वाला मखार बिन्द ठीक ऐसा ही था।” यही गोविंद देव जी की मूर्ति थी।

 

 

चैतन्य महाप्रभु ने ब्रज-भूमि के उद्धार और वहां के विलुप्त लीला- स्थलो को खोज निकालने के लिये अपने दो शिष्यो, रूप और सनातन गोस्वामी, को वृन्दावन भेजा था। ये दोनो भाई थे और गौड राज्य के मसाहिब थे, लेकिन चैतन्य से दीक्षित होकर संसार- त्यागी बने थे। रूप गोस्वामी ने गोविंद देव की मूर्ति को जो गोमा टीला नामक स्थान पर वृन्दावन में भूमिगत थी, निकालकर 1525 मे प्राण-प्रतिष्ठा की। अकबर के सेनापति और आमेर के प्रतापी राजा मानसिंह ने इस पवित्र मूर्ति की आराधना की। वृन्दावन मे 1590 ई में उसने लाल पत्थर का जो विशाल और भव्य देवालय गोविंद देव जी के लिये बनाया वह उत्तरी भारत के सर्वोत्कृष्ट मंदिरो मे गिना जाता है। भीतर से यह क्रास के आकार का है- पूर्व से पश्चिम 117 फूट लम्बा तो उत्तर से दक्षिण 105 फट। मुगल साम्राज्य मे इससे बडा और भव्य देवालय कदाचित ही बना हो। स्वयं बादशाह अकबर ने गोविंद देव जी की गायों के चरने के लिये 135 बीघा भूमि का पट्टा प्रदान किया था।

 

गोविंद देव जी मंदिर जयपुर
गोविंद देव जी मंदिर जयपुर

 

वृन्दावन के गोविंद देव मन्दिर मे चार नागरी लेख सुरक्षित है, जिनसे इसके निर्माण-काल के साथ इसे बनाने वाले अधिकारियों व कारीगरो का भी पता चलता है, जो अधिकांश मे आमेर राज्य के ही थे। अकबर के 34 वे राज्य-वर्ष (1590 ई ) का लेख इस प्रकार है-

 

“सवत्‌ 34 श्री शकबन्ध अकबर शाह राज श्री कूर्मकूल श्री पृथ्वीराजाधिराज वंश श्री महाराज श्री भगवतदास सुत श्री महाराजाधिराज श्री मानसिंह देव श्री वृन्दावन जोग पीठ स्थान मदिर कराजो श्री गोविंद देव को काम उपरि श्री कल्याणदास आज्ञाकारि माणिकचन्द चोपाडु शिल्पकारि गोविददास बाल
करिगरु गोरखदास वीमवल।”

 

जब इस मंदिर का मडान पूरा हुआ तो चैतन्य महाप्रभु की अपनी निजी सेवा की गौर-गोविन्द की लघु प्रतिमा भी किसी काशीश्वर पंडित के साथ वृन्दावन आ गईं और गोविन्द के विग्रह के बराबर ही इस पावन प्रतिमा को प्रतिष्ठित किया गया। गोविंद देव जी के साथ राधा का विग्रह तो बाद मे प्रतिष्ठित हुआ। यह विग्रह उडीसा के किसी प्रतापरुद्र नामक शासक ने बनवा कर भेट किया था।

 

 

अप्रेल, 1669 मे जब औरंगजेब ने शाही फरमान जारी कर ब्रज भूमि के देव-मंदिरों को गिराने और उनकी मूर्त्तियों को तोडने का हुक्म दिया तो इसके कुछ आगे-पीछे वहा की सभी प्रधान मूर्तिया सुरक्षा के लिये अन्यत्र ले जायी गईं। माध्व-गौड या गौडिया सम्प्रदाय के गोविंद देव, गोपीनाथ और मदनमोहन, ये तीनो स्वरूप जयपुर आये। इनमे गोविंद देव पहिले आमेर की घाटी के नीचे बिराजे और जयपुर बसने पर जयनिवास की इस बारहदरी मे पाट बैठे।

 

जयपुर नगर के इतिहास मे ए के राय ने वृन्दावन से जयपुर तक गोविन्ददेव की यात्रा का क्रम इस प्रकार निर्धारित किया है:–

  • 1590 ई से 1667-1670 ई के बीच -वृन्दावन के गोविंद मंदिर मे।
  • 1670 ई से 1714 ई तक कामा या वृन्दावन मे ही विग्रह को छिपा रखा गया।
  • 1714 से 1715 ई आमेर के निकट वृन्दावन मे इसे कनक वृन्दावन कहते थे।
  • 1715 से 1735 ई जयनिवास बाग मे (राय के अनुसार यह जयनिवास बाग आमेर के नीचे ही था)।
  • 1735 ई से आज तक सिटी पैलेस के वर्तमान मंदिर में।

 

आगे चलकर गोविंद देव जी के भोग-राग तथा गोस्वामी के निर्वाह के लिये जयपुर के महाराजा ने जागीर दी और स्वतन्त्रता के बाद जागीर उन्मूलन हो जाने पर 32,063 93 रुपये का वार्षिक अनुदान जयपुर के इस सर्व प्रमुख मन्दिर को दिया जाने लगा। गोविंद देव जी की सेवा पूजा गोडिया वेष्णवों की पद्धति से की जाती है। सात झांकिया होती है और प्रत्येक झांकी के समय गाये जाने वाले भजन ओर कीर्तन निधारित हैं।

 

 

गोविंद देव जी के भजन और झांकियां

 

गोविंद देव जी की झांकी में दोनो ओर दो सखियां खडी है। इनमे एक “राधा ठकुरानी की सेवा के लिए सवाई जयसिंह ने चढ़ाई थी। प्रतापसिंह की कोई पातुर या सेविका भगवान की पान-सेवा किया करती थी। जब उसकी मृत्यु हो गई तो प्रतापसिंह ने उसकी प्रतिमा बनाकर दूसरी सखि चढाई, जिससे इस झांकी की शोभा ओर सुन्दरता में ओर वृद्धि हुई। सवाई प्रतापसिंह के काल मे राधा-गोविन्द का भक्तिभाव बहुत बढ़ गया था। गोविंद देव जी को यह राजा अपना इष्टदेव मानता था। अपनी कविताओं में उसने कहा है:–

हमारे इष्ट है गोविन्द।
राधिका सुख-साधिका संग
रमत बन स्वच्छन्द।।

प्रतापसिंह सारी जिंदगी समस्याओं में उलझा रहा था ओर उसे बार-बार मरहठों से टक्कर लेनी पडती थी। ऐसी ही किसी नाजुक घडी में उसने गोविन्द के सामने यह कातर पुकार भी की

विपति विदारन विरद तिहारो।
है गोविन्दचद ‘ ब्रजनिधि’” अब
करिके कृपा विधन सब ठारो।।

प्रतापसिंह अपने उपनाम ”ब्रजनिधि” को गोविन्द का इनायत किया हुआ भी कहता है। उसका एक रेखता हैं

दिल तडपता है हुस्न तेरे को
कब मिलेगा मुझे सलौना स्याम।
अब तो जल्दी से आ दरस दीजे
जो इनायत किया है ब्रजनिधि’ नाम।।

 

गोविंद देव जी के इस विग्रह के सामने राजा मानसिंह जैसे वीर योद्धा का सिर झुका और अकबर जैसे बादशाह ने भी इसका सम्मान किया। माध्व-गोड वेष्णव सम्प्रदाय की इस सर्वोच्च और शिरोमणि मूर्ति को जयपुर वाले तो इष्ट मानते ही है, चैतन्य के हजारों अनुयायी बंगाल, बिहार, मणिपुर और असम तक से दर्शनो के लिये आते है। जयपुर इसी विभूति के कारण इन भावुक भक्तो के लिये वृन्दावन बना हुआ है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
Hawamahal Jaipur
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
Hanger manger Jaipur
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक
बूंदी राजस्थान
केतूबाई बूंदी के राव नारायण दास हाड़ा की रानी थी। राव नारायणदास बड़े वीर, पराक्रमी और बलवान पुरूष थे। उनके
सवाई मानसिंह संग्रहालय
जयपुर के मध्यकालीन सभा भवन, दीवाने- आम, मे अब जयपुर नरेश सवाई मानसिंह संग्रहालय की आर्ट गैलरी या कला दीर्घा
मुबारक महल सिटी प्लेस जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के महलों में मुबारक महल अपने ढंग का एक ही है। चुने पत्थर से बना है,
चंद्रमहल जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक भवनों का मोर-मुकुट चंद्रमहल है और इसकी सातवी मंजिल ''मुकुट मंदिर ही कहलाती है।
जय निवास उद्यान
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के ऐतिहासिक इमारतों और भवनों के बाद जब नगर के विशाल उद्यान जय
तालकटोरा जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर नगर प्रासाद और जय निवास उद्यान के उत्तरी छोर पर तालकटोरा है, एक बनावटी झील, जिसके दक्षिण
बादल महल जयपुर
जयपुर  नगर बसने से पहले जो शिकार की ओदी थी, वह विस्तृत और परिष्कृत होकर बादल महल बनी। यह जयपुर
माधो विलास महल जयपुर
जयपुर  में आयुर्वेद कॉलेज पहले महाराजा संस्कृत कॉलेज का ही अंग था। रियासती जमाने में ही सवाई मानसिंह मेडीकल कॉलेज

write a comment