गोरा बादल की वीरता की कहानी व कथा

गोरा बादल काल्पनिक चित्र

गोरा बादल :– राजस्थान  की भूमि वीरों की जननी है। इस प्रान्त के राजा ही नहीं अपितु साधारण सरदारों ने भी अनुपम वीरता का परिचय दिया है।उनमें देशभक्ति, स्वामी भक्ति व जाति-प्रेम विशेष रूप से कूट- कूट कर भरा हुआ था। वे देशहित, अपने स्वामी की रक्षार्थ बलिदान होना सोभाग्य समझते थे। मृत्यु को त्यौहार समझने वाले रण बांकुरे सरदारों को कौन भूल सकता है, सत्य तो यह है कि ऐसे महान व्यक्तियों के नाम स्मृति-पटल पर आते ही श्रद्धा से सिर झुक जाता है, आंसू ही पुष्प बन कर अर्पित होते हैं। ऐसे ही एक सरदार थे गोरा बादल।

 

 

अलाउद्दीन खिलजी, जो दिल्‍ली का सम्राट था, जिसके पास
शक्ति व साधनों का अतुल भंडार विद्यमान था, उसकी आशाओं पर पानी फेरने वाले, स्वप्नों को धूमिल करने वाले, मंसूबों को उजाड़ने वाले तथा युद्ध स्थल में करारा जवाब देने वाले गोरा बादल को कौन नहीं जानता ?।

 

राजस्थान की भूमि वीरों की जननी है। इस प्रान्त के राजा ही नहीं
अपितु साधारण सरदारों ने भी अनुपम वीरता का परिचय दिया है।उनमें देशभक्ति, स्वामी भक्ति व जाति-प्रेम विशेष रूप से कूट- कूट कर भरा हुआ था। वे देशहित, अपने स्वामी की रक्षार्थ बलिदान होना सोभाग्य समझते थे। मृत्यु को त्यौहार समझने वाले रण बांकुरे सरदारों को कौन भूल सकता है, सत्य तो यह है कि ऐसे महान व्यक्तियों के नाम स्मृति-पटल पर आते ही श्रद्धा से सिर झुक जाता है, आंसू ही पुष्प बन कर अर्पित होते हैं। ऐसे ही एक सरदार थे गोरा बादल।

 

गोरा बादल की वीरता की कहानी

 

राजस्थान की भूमि वीरों की जननी है। इस प्रान्त के राजा ही नहीं
अपितु साधारण सरदारों ने भी अनुपम वीरता का परिचय दिया है।उनमें देशभक्ति, स्वामी भक्ति व जाति-प्रेम विशेष रूप से कूट- कूट कर भरा हुआ था। वे देशहित, अपने स्वामी की रक्षार्थ बलिदान होना सोभाग्य समझते थे। मृत्यु को त्यौहार समझने वाले रण बांकुरे सरदारों को कौन भूल सकता है, सत्य तो यह है कि ऐसे महान व्यक्तियों के नाम स्मृति-पटल पर आते ही श्रद्धा से सिर झुक जाता है, आंसू ही पुष्प बन कर अर्पित होते हैं। ऐसे ही एक सरदार थे गोरा बादल।

 

अलाउद्दीन खिलजी, जो दिल्‍ली का सम्राट था, जिसके पास
शक्ति व साधनों का अतुल भंडार विद्यमान था, उसकी आशाओं पर पानी फेरने वाले, स्वप्नों को धूमिल करने वाले, मंसूबों को उजाड़ने वाले तथा युद्ध स्थल में करारा जवाब देने वाले गोरा बादल को कौन नहीं जानता ?।

 

मदान्ध खिलजी ने जब परम सुन्दरी चित्तौड़ की महारानी, राजा रतन सिंह की प्रिय रानी साहिबा-पद्मिनी को अपनी बेगम बनाने का पूर्ण निश्चय कर लिया। फलत: छल कपट का सहारा लेकर रानी के दर्शन किए तथा शक्ति के नशे में चूर बादशाह ने रानी को प्राप्त करने की दृढ़ प्रतिज्ञा भी की।

 

गोरा बादल काल्पनिक चित्र
गोरा बादल काल्पनिक चित्र

अलाउद्दीन खिलजी राजपूतों की वीरता से परिचित था उनसे लोहा लेना उसकी शक्ति के बाहर था, अत: उसने छलपूर्ण उपाय अपनाएं। जब अलाउद्दीन राजा रतन सिंह से मिलने आया तब उसका बहुत स्वागत किया तथा सभ्यता के नाते बाहर दूर तक बादशाह को पहुंचाने भी आया, परन्तु बादशाह ने कपट से राजा को गिरफ्तार कर लिया तथा अपने डेरे में ले गया। इसके साथ ही साथ रानी पद्मीनी से कहलवा दिया कि अगर वो राजा को जीवित देखना चाहती है तो वह (रानी) स्वयं मेरी सेवा में आ जाये। इस विषम परिस्थिति में राजपूतों में रोष और भय व्याप्त हो गया। परन्तु इस दुःख पूर्ण घड़ी में धेर्य और विवेक की आवश्यकता होती हैं। रानी ने भी पूर्ण चिंतन व धेर्य से काम लिया। अपने चुने हुए सरदारों से परामर्श किया, इनमें प्रमुख गोरा और बादल थे।

 

ऐसे कठिन समय में रानी पद्मनी, गोरा बादल ने मिलकर बड़ी दूरदर्शिता से काम लिया। उन्होंने निश्श्चय किया कि इस विकट परिस्थिति में राजा रतन सिंह को कूटनीति से छुड़ाना चाहिये
और युद्ध करके अलाउद्दीन के छक्के छुड़ाना चाहिये। अतः उन्होंने अलाउद्दीन खिलजी के पास कहला भेजा कि, “रानी साहिबा दिल्‍ली के बादशाह की सेवा में पहुंचने को अहोभाग्य मानती है। परन्तु वे मान-प्रतिष्ठा का ध्यान रखती हुई सात सौ बांदियों के साथ पालकियों में बैठकर आयेंगी। इसके साथ ही साथ “उसकी हार्दिक अभिलाषा है कि वह अपने पति, मेवाड़ सूर्य, के अन्तिम दर्शन भी कर लें। अत: कारागार में उनसे मिलने की व्यवस्था एकान्त रूप में की जानी चाहिये। यदि आप यह शर्ते मंजूर करने को तेयार तो अनुकूल व्यवस्था की जाये।

 

 

इस संदेश को पढ़कर मदान्ध व अदूरदर्शी अलाउद्दीन खिलजी कुछ भी नही समझ सका वरन मारे खुशी के उछल पड़ा। उसकी बुद्धि पर अन्धकार छा गया, अपनी सूझबूझ खो बैठा। उसने सहर्ष वह शर्ते मंजूर की। बादशाह का स्वीकृति-पत्र प्राप्त होते ही सात सौ पालकियों की तैय्यारी प्रारम्भ हुई। प्रत्येक पालकी में दो-दो चुनें हुए सशस्त्र राजपूत वीर बैठे और छः छ: वीर कहारों के भेष में शस्त्रों को छिपाये प्रत्येक पालकी को उठाकर चल दिये। यह गुप्त वीरों का कारवां गोरा बादल के नेतृत्व में चल पड़ा। रानी महलों में ईश्वर से प्रार्थना कर रही थी कि ईश्वर उन्हें सफलता दे।

 

बादशाह ने भी शर्त के अनुसार कारागार में राजा से रानी को मिलने के लिये उचित व्यवस्था कर दी। बादशाह नवविवाह के स्वप्नों में डूबा था और वह निकाह के लिये काजी को बुलाने की व्यवस्था में लीन था। इधर महाराजा को मुक्त करते ही, वह कुछ वीरों को अपने साथ ले महलों की ओर चल पड़े। सभी सशस्त्र नौजवान राजपूत वीर अपनी अपनी पालकियों से निकल कर यवनों पर टूट पड़े। अलाउद्दीन खिलजी चिल्ला उठा “दगा ! दगा ! ”लड़ाई प्रारम्भ हो गई। गोरा बादल ने अपूर्व वीरता का परिचय दिया। वे बुद्धिमान व दूरदर्शी के साथ साथ वीर भी थे। उन्होंने मुसलमानों को गाजर-मूली की तरह काटना प्रारम्भ कर दिया। बादशाह इन दो बहादुरों के भयंकर वारों को देखकर घबरा उठा। उसने अपने डेरे को वहां से उठाने का भी फैसला किया।

 

यद्यपि इस युद्ध में बादल लड़ता-लड़ता मारा गया परन्तु दोनों
बहादुरों ने अपने स्वामी की सफलता के साथ रक्षा की तथा बादशाह को भी वहां से कूच करवाया। यह थी गोरा बादल की अनुपम वीरता की कथा। पृथ्वी पावन हो उठी अपने सपूत की आहुति से“ वाड़ी वीरो ने उचित सम्मान दिया। राजा रतनसिंह ने कहा, “हमें आज ऐसे अनुपम-देशभक्त व स्वामी भक्त वीरों पर गर्व है। ऐसे अनूठे सपूतों ने हमारे इतिहास को गौरवान्वित किया है। मेवाड़ इनके ऋण को कभी नहीं चुका सकता। में वीर बादल की दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूं तथा वीर गोरा की सेवाओं को प्राप्त करने के लिये आह्वान करता हूं। वह नौजवान मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार करें। जय एकलिंगी।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी – सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:— यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

write a comment

%d bloggers like this: