गोपाल जी मंदिर जयपुर – गंगा-गोपाल जी मंदिर का इतिहास

भक्ति-भावना से ओत-प्रोत राजस्थान की राजधानी जयपुर मे मंदिरों की भरमार है। यहां अनेक विशाल और भव्य मदिरों की वर्तमान दशा और शोचनीय अवस्था को देखकर जहां दुख होता है, वहा नगर-प्रासाद की सीमा मे गोविंद देव जी के मन्दिर के पिछवाडे गंगा जी- गोपाल जी के आमने-सामने बने लघु मदिरों को देखने से सचमुच आनन्द प्राप्त होता है। महकती हुई मेंहदी की भीनी गंध से सुवासित वातावरण मे सीढियां चढकर दर्शनार्थी उस गैलरी मे पहुंचता है जो दोनो मंदिरो के प्रवेश द्वारों को जोडती है। मंदिर क्या हैं, कुंज भवन हैं जो धर्म-कर्म के पक्के और कट्टर सनातनी महाराजा माधोसिह ने अपने इष्टदेव के प्रसन्‍नार्थ, बनवाये थे।

 

 

गंगा गोपाल जी मंदिर का इतिहास

 

प्रवेश करते ही दोनो मंदिरो में खुले चौक हैं, जिनमे गढे हुए पत्थरों का समतल आंगन और दूब के छोटे लॉन हैं। गोपाल जी मंदिर मे संगमरमर का बना एक तुलसी का बिरवा है तो गंगाजी के मंदिर मे दो बडे सुघड ओर सुन्दर बिरवे है जो देखने लायक। आगे संग मरमर के तराशे हुए कमनीय खम्भो पर बने हुए बरामदों के “जगमोहन’ है और उनके बीच में गर्भगृह या निज मन्दिर। गंगा मंदिर में तो जयपुर की कलम के दो-तीन चित्र भी लगे हैं, राधा- कृष्ण के और एक चित्र हरिद्वार की हर की पौडी का भी है जिससे पता चलता है कि महाराजा माधोसिंह के समय मे यह कैसी लगती थी।

 

 

अपनी आदत के अनुसार महाराजा माधोसिंह ने दोनो ही मंदिरों मे संगमरमर पर उत्कीर्ण लेख भी लगवाये थे। जयपुर में गंगाजी का मंदिर सम्व॒त्‌ 1971 (1914ई )मे बनकर तैयार हुआ और इस पर 24,000 रुपये की लागत आईं। बाद मे इसमे एक रसोई “मय गैस और टूटी” के और जोडी गई तो 11,444 रुपये और लगे। इस प्रकार कुल 35,444 रुपये इस पर व्यय हुए। छोटा होने पर भी मंदिर की निर्माण सामग्री मे संगमरमर और करौली के सुघड बलुआ पत्थर के प्रयोग की प्रचुरता को देखते हुए यह लागत कम ही मानी जायेगी।

 

 

जयपुर में गोपाल जी का मंदिर इसके बाद बनवाया गया था। उसके लेख मे निर्माण के साल का उल्लेख नही है। यह निश्चित है कि यह अगले तीन-चार सालो में ही बना होगा क्योकि 1922 ई मे तो माधोसिंह की मृत्यु हो गई।

 

 

मंदिरों की इस “जुगल-जोडी” से माधोसिंह की धर्मप्रियता और ऐसे कामों के लिये उदारता का अच्छा परिचय मिलता है। जयपुर का यह राजा गंगा माता के साथ राधा-गोपाल का भी अनन्य भक्त था। गंगाजल का प्रयोग और सवेरे जागने पर सबसे पहले राधा- गोपाल का दर्शन उसका नित्य-नियम था। जयपुर शहर बसाये जाने के समय से ही यहां मंदिरो की संख्या किस प्रकार बढती गई, इस प्रकिया के अध्ययन के लिये भी यह दोनो मन्दिर अच्छे उदाहरण है। गंगाजी की मूर्ति महाराजा माधोसिंह की पटरानी, जादूण जी की सेव्य मूर्ति थी और इसकी सेवा-पूजा जनानी ड्योढी मे महिलायें ही करती थी। जादूण जी के बाद भी इसकी सेवा-पूजा का मडान पू्र्ववत्‌ चलता रहे, इस दृष्टि से यह मंदिर बनवाकर वैशाख शुक्ला 10, सोमवार, संवत्‌ 1971 में गंगाजी को पाट बैठाया गया। अगले वर्ष, संवत्‌ 1972 मे अलवर राज सभा की कवि मण्डली के एक सिद्ध और सरस कवि पंडित रामप्रसाद के ब्रजभाषा मे रचित तीन छंदो को संगमरमर की फलक पर उत्कीर्ण करवाकर इस मंदिर मे लगाया गया। पडित रामप्रसाद उपनाम ‘परसाद’ के प्रसाद-गुण सम्पन्न इस काव्य को देखकर आजकल की स्मारिकाओं का विचार होता है तो लगता है कि उस जमाने मे यह स्मारिका का ही रूप था। इससे कुछ साहित्य-सेवा भी होती चलती थी, जबकि हजारों का विज्ञापन जुटकर आज की स्मारिकाओं से क्या बन पाता है।

 

गंगा - गोपाल जी मंदिर जयपुर
गंगा – गोपाल जी मंदिर जयपुर

 

पंडित रामप्रसाद सचमुच सफल कवि थे। अलवर के गौड ब्राहमण परिवार मे जन्म लेकर उन्होने सोलह वर्ष की आयु मे ही समस्त अलंकार ग्रंथ पढ़कर हिन्दी साहित्य का अच्छा ज्ञान पा लिया था और हिन्दी काव्य का कोई पठनीय ग्रंथ उनकी दृष्टि से नही बचा था। किन्तु, सुविज्ञ कवि से अधिक पंडित रामप्रसाद व्यवहार- कुशल व्यक्ति थे। अलवर जैसी छोटी-सी जगह मे जाये-जन्मे और बडे हुए, किन्तु तत्कालीन राजपूताना की सभी रियासतों के राजाओं से वह व्यक्तिश मिले ओर अपनी कविता से मुग्ध कर प्रत्येक से पुरस्कार प्राप्त किया। | इग्लैंड की मलिका विक्टोरिया की गोल्डन जुबली पर जयपुर से एक अभिनन्दन-पत्र लन्दन भेजा गया था। वह काव्यमय था और पंडित रामप्रसाद का ही रचा हुआ था। जब महाराजा माधोसिंह ने 1902 में इग्लैंड यात्रा की और जयपुर लौटे तो पंडित रामप्रसाद ने उनके स्वागत मे भी अपनी काव्य रचनाएं सुनाई। महाराजा बडे प्रसन्‍न हुए और इस प्रसन्नता का प्रमाण वह दो गांव हैं- यशोदा नन्दनपुरा और मुस्कीमपुरा जो जागीर मे इस कवि को बख्शे गये। इस प्रकार जयपुर रियासत मे सम्मानित होने पर पंडित रामप्रसाद की गणना जयपुर के राज- कवियों मे भी की जाने लगी। पंडित रामप्रसाद का देहान्त 1918 ई में हुआ। अपने जीवन मे उन्होने 48 ग्रथो की रचना की, जिनमे कई प्रकाशित हैं।

 

 

यहां उनकी कविता के नमूने के लिये उन तीन छंदों मे से एक दिया जाता है जो गंगाजी के मंदिर की शिला-फलक पर अंकित हैं। अलवर और जयपुर के इस कुशल कवि का नाम इस मंदिर के साथ अमर है

ब्रहमा के कमडल ब्रहममडली परयो नाम।
विष्णु-पद गये विष्णुपदी नाम पाई है।
शिव की जटा में विराजी जटाशकरी होय।
जन्ह के गये पै नाम जान्हवी सुहाई है।।
कहे ‘परसाद हो भागीरथी भगीरथ के।
याही भहिमा से तीन लोकन मे गाई है।
ऐसे कलिकाल में बहतर के साल बीच।
माधव ने राखी जासो माधवी कहाई है।

 

गंगा गोपाल जी का यह मंदिर जयपुर के अनेक बडे और नामी मंदिरो की तरह सुनसान वीरान नही आज भी जिन्दगी और भक्ति-भाव से भरा है। प्रात-सांय गोविंद देव जी के जाने वाले भक्तजन यहां भी पहुंचते हैं और “जय गया मैया” बोलते दर्शन- परिकमा करते हैं। कलिकाल मे भी मंदिर के निर्माता का उद्देश्य जैसे पूरा हो रहा है।

 

 

माधोसिंह की गंगा-भक्ति अगाध थी। जयपुर की गर्मियो की लू और तपन से बचने के लिए वह राजा न विलायत जाता था और न किसी हिल स्टेशन पर। हरिद्वार में गौगा का किनारा ही उसे दैहिक सुख और आत्मिक संतोष प्रदान कर देता था। उसका गंगाजल- प्रेम मुगल सम्राट अकबर की तरह था। यह सब जानते हुए ही महामना मदनमोहन मालवीय ने इस राजा को प्रमुख हिन्दू नरेशों के उस सम्मेलन में विशेष रूप से आमंत्रित किया था जो हर की पौडी से गंगा का प्रवाह न हटाने का पक्ष प्रबल करने के लिए भीमगोडा (हरिद्वार) मे हुआ था-दिसम्बर, 1916 मे। इस सम्मेलन में लम्बे विचार-विनिमय के बाद बताया गया कि भीमगोडा में गंगा पर नये बांध के निर्माण से गंगा की पवित्रता में किस प्रकार अन्तर आ जाएगा। अन्त में ”सात घण्टे के विचार-विनिमय के बाद इस बात पर समझौता हो गया कि सरकार पहले से बने हुए दस दरवाजों से ही पानी का प्रवाह जारी रखेगी आर दस रेगुलेटर बनाने की योजना पर अमल नही किया जाएगा। राजाओं ने यह मान लिया कि हर की पौडी पर छह हजार क्यूसेक पानी का प्रवाह पर्याप्त होगा और यह पानी पिछवाड़े के बांध तथा मायापुर रेगलेटर से आयेगा।

 

 

इस प्रकार हरिद्वार और हर की पौडी की यथा स्थिति रखने के साथ जयपुर के इस महाराजा का नाम भी जुडा है। गंगौत्री का गंगा मन्दिर भी माधोसिंह का ही बनवाया हुआ है। गंगाजी के इस माहात्म्य के साथ गोपाल जी या राधा- गोपालजी की बात ही कुछ ओर हे। रजवाडों के रजवाडें इस शहर में यह ‘इग्लैंड रिटनुड’ ठाकुरजी है।

 

 

राधा-गोपाल जी महाराजा माधोसिंह के इष्ट थे। सवेरे बिस्तर छोडते ही वे सबसे पहले इन्ही मूर्तियो के दर्शन करते ओर इसके बाद ही ओर किसी का मुंह देखते। इस सदी के आरम्भ में जब महाराजा को एडवर्ड सप्तम की ताजपोशी में शामिल होने के लिये इग्लैंड जाना पड़ा तो अपने इष्टदेव को भी उन्होने साथ ले जाने का फैसला किया। ओलम्पिया नामक पूरा जहाज, जो महाराजा ने अपनी यात्रा के लिये किराये लिया था। गंगाजल से पवित्र किया गया और उसके एक कक्ष मे बाकायदा राधा-गोपाल जी का मन्दिर बनाया गया। जयपुर छोडने के बाद 3 जून, 1902 के दिन लन्दन पहुंचने तक पच्चीस दिन की समुद्री यात्रा मे महाराजा अपने नित्य नियम के अनुसार गोपालजी के दर्शन करते, तुलसी- चरणामृत लेते ओर प्रसाद पाते। जब यह लम्बा सफर पूरा कर महाराजा लन्दन के विक्टोरिया स्टेशन पर उतरे और कम्पडन हिल पर उनके प्रवास के लिये निश्चित “मोरेलाज” नामक कोठी जाने लगे तो सवा सौ आदमियों के उनके दल-बल का अच्छा-खासा जलूस बन गया जिसमे सबसे आगे एक गाडी पर राधा-गोपालजी की सवारी थी। आज तो हरे राम हरे कृष्ण” का प्रताप विश्व-व्यापी हो गया है, किन्तु 3 जून, 1902 को सूर्य अस्त न होने वाले का साम्राज्य की राजधानी में राधाकृष्ण की यह पहली रथ-यात्रा थी जो इस भारतीय राजा ने निकाली थी।

 

 

लन्दन के शहर मे यह अद्भुत ओर अभूतपूर्व नजारा था। अखबारो ने सुर्खिया लगाई “महाराजा और उनके देवता’ , ‘देवता सहित एक राजा लन्दन में , “देवता गाडी मे” आदि आदि। ”मार्निंग पोस्ट” ने लिखा आज समस्त हिन्द यह देखकर बडे प्रसन्न हैं कि इस यात्रा में महाराजा ने सारे भारत मे इस बात का उदाहरण रख दिया है कि हिन्दुस्तान के राजा-महाराजा चाहे तो किस प्रकार अपने धर्म का पालन कर सकते हैं।

 

 

कानिकल ने टिप्पणी की “इस देश मे हजारों हिन्दू आ चुके हैं, किंतु ऐसा अब तक कोई न आया जो अपने धर्म का इतना पालन करने वाला हो। अच्छे हिन्दू का धर्म है कि वह अपनी धार्मिक मर्यादा का पालन करे। अखबारो की ऐसी अनुकूल टिप्पणियों के साथ-साथ कुछ प्रतिकूल ओर आलोचनात्मक टिप्पणियां भी थी जिनमे मूर्ति पूजा को ढकोसला और अंधविश्वास करार दिया गया था। ऐसे हिन्दू-विरोधी कट्टर ईसाई आलोचकों को स्वामी प्रेमानन्द भारती नामक एक सन्यासी ने ”वैस्ट-मिनिस्टर” मे एक तीखा लेख लिखकर मुंह-तोड जवाब दिया। उसने लिखा “द्रोही ईसाइयो और उनके मिशनरियोऔ को यह याद रखना चाहिए कि पानी से बैतिस्मा की रस्म अदा करना, लकडी के क्रास के सामने घुटने टेक कर आराधना करना और बादशाह की ताजपोशी मे जैतून का रोगन लगाना भी ठीक वैसा ही है जैसा जयपुर महाराजा का प्रतिदिन श्री गोपाल जी के पूजन मे फल व गंगाजल काम मे लाना।

 

 

इसमे सन्देह नही कि महाराजा माधोसिंह की इग्लैंड यात्रा ने तब जो धूम मचाई थी, उसके पीछे सबसे बडा कारण उनका अपने रंग और अपनी मर्यादाओं को न छोडना ही था। राधा-गोपाल जी का इष्ट इसका मूलाधार था। जयपुर के इस छोटे से गंगा गोपाल जी मंदिर का यह महत्त्व क्या कम हैं।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
Hawamahal Jaipur
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
Hanger manger Jaipur
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक
बूंदी राजस्थान
केतूबाई बूंदी के राव नारायण दास हाड़ा की रानी थी। राव नारायणदास बड़े वीर, पराक्रमी और बलवान पुरूष थे। उनके
सवाई मानसिंह संग्रहालय
जयपुर के मध्यकालीन सभा भवन, दीवाने- आम, मे अब जयपुर नरेश सवाई मानसिंह संग्रहालय की आर्ट गैलरी या कला दीर्घा
मुबारक महल सिटी प्लेस जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के महलों में मुबारक महल अपने ढंग का एक ही है। चुने पत्थर से बना है,
चंद्रमहल जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक भवनों का मोर-मुकुट चंद्रमहल है और इसकी सातवी मंजिल ''मुकुट मंदिर ही कहलाती है।
जय निवास उद्यान
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के ऐतिहासिक इमारतों और भवनों के बाद जब नगर के विशाल उद्यान जय
तालकटोरा जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर नगर प्रासाद और जय निवास उद्यान के उत्तरी छोर पर तालकटोरा है, एक बनावटी झील, जिसके दक्षिण
बादल महल जयपुर
जयपुर  नगर बसने से पहले जो शिकार की ओदी थी, वह विस्तृत और परिष्कृत होकर बादल महल बनी। यह जयपुर
माधो विलास महल जयपुर
जयपुर  में आयुर्वेद कॉलेज पहले महाराजा संस्कृत कॉलेज का ही अंग था। रियासती जमाने में ही सवाई मानसिंह मेडीकल कॉलेज

write a comment