गुलाब युद्ध कब हुआ था – गुलाब युद्ध के कारण और परिणाम

पंद्रहवीं शताब्दी में ब्रिटेन मे भयानक गृहयुद्ध हुए। इनकी शुरुआत तब हुई जब ब्रिटेन का, तत्कालीन शासक हेनरी छठम (Henri Vl 1421-1471) पागल हो गया और गद्दी पर बैठने के लिए दो राजवंशो, लैनकास्टर (Lancaster) और यॉर्क (York) के बीच झगड़े होने लगे। इन युद्धों को ‘गुलाब युद्ध इसलिए कहते हैं क्योकि दोनो वंशों के प्रतीक-चिन्ह गुलाब थे। लैनकास्टर का लाल गुलाब और यॉर्क का सफेद गुलाब। तीस वर्ष लम्बे इन युद्धों में अंतिम विजय लैनकास्टर के हेनरी ट्यूडर की हुई जिसने एक नये राजवंश की स्थापना की। अपने इस लेख में हम इसी गुलाब युद्ध का उल्लेख करेंगे और निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से जानेंगे:—

 

 

गुलाबों का युद्ध कितने वर्ष तक चला? इंग्लैंड में गुलाबों के युद्ध का अंत कैसे हुआ? गुलाबों का युद्ध कब हुआ था? गुलाबों का युद्ध कहां हुआ था? गुलाब के फूलों का युद्ध? गुलाब युद्ध कब हुआ था? गुलाब युद्ध का क्या कारण था? गुलाब युद्ध कितने चरणों में हुआ? गुलाब युद्ध में किसकी पराजय हुई? गुलाब युद्ध किस किस के मध्य हुआ?

 

 

गुलाब युद्ध के कारण और युद्ध

 

यह ब्रिटेन के सिंहासन के लिए लैनकास्टर और यॉर्क वंशियों के बीच एक संघर्ष था। लैनकास्टर वंशी एडवर्ड तृतीय के तीसरे पुत्र जॉन ऑफ गौट, ड्यूफ ऑफ लैनकास्टर के वंशज थे। यॉर्क वंशी एडवर्ड तृतीय के चौथे पुत्र के वंशज थे परन्तु विवाह सबंध के नाते से, दूसरे पुत्र से प्राप्त अधिकार भी रखते थे। इस प्रकार इनका दावा लैनकास्टर वंश की अपेक्षा अधिक मजबूत था परन्तु 1399 में लैनकास्टर का वंश सिंहासनारूढ़ हो चुका था और कानून के अनुसार एडवर्ड तृतीय के अन्य सभी वंशजो के दावों को पृथक कर दिया गया था।

 

 

रिचर्ड-ड्यूक ऑफ यॉर्क (Duke Of York) दूसरे और चौथे पुत्र के वंशो का प्रतिनिधित्व करता था। लैनकास्टर वंश का प्रनिनिधि था-हेनरी छठम, जो उस समय राजा था और एक व्यक्ति था। एडमड-ड्यूक ऑफ समरसैट (Duke of Somerset) जो ब्योफोर्ट (Beaufort) वंश का प्रतिनिधि था। यह परिवार एडवर्ड तृतीय के तीसरे पुत्र के वंशज थे, जो पुत्र एक अवैध विवाह से उत्पन्न हुआ था। ड्यूक ऑफ यॉर्क ने हेनरी छठम और ड्यूक ऑफ समरसैट के विरुद्ध सिंहासन पर दावा किया। इसी कारण युद्ध छिड़ गया।

 

 

गुलाब युद्ध
गुलाब युद्ध

 

शतवर्षीय युद्ध ने बैरनो और सैनिकों में अव्यवस्था, क्रूरता,
अनुशासनहीनता और विधिहीनता पैदा कर दी थी। हेनरी छठम एक निर्बल राजा था। व्यवस्था और निधि के सही पालन न होने से बैरनो को नियंत्रित कर पाना असंभव हो गया था। वे अपने निजी सैनिक रखने लगे थे, जिनको सहचर (Retainers) कहते थे। ये सैनिक बैरनों द्वारा किये गये उपद्रवों और सख्तियों के साधन होते थे। ये बैरन ज्यूरियो और जजों को डर दिखाते और इस प्रकार अपने मित्रों और सहचरों को कानूनी सजा से बचाते थे। इस बुराई को ‘वर्दी और रक्षा (Livery and Maintenance) कहते थे। इसने देश मे व्यवस्था और विधि को पंगु बना दिया और राजा का शासन-प्रबंध चलाना विफल हो गया।

 

 

हेनरी का कोई अपना पुत्र न था। उसकी मृत्यु के पश्चात्‌ सिंहासन मिलना था या तो ड्यूक ऑफ समरसैट को या ड्यूक ऑफ यॉर्क को। अगस्त, 1454 में हेनरी छठम पागल हो गया किन्तु दो माह पश्चात्‌ ही रानी ने एक पुत्र को जन्म दिया। अतः दोनों के अवसर नष्ट हो गये किन्तु यॉर्क बृहत परिषद के नियंत्रण को प्राप्त करने में
सफल हो गया और समरसैट को गिरफ्तार कर लिया गया। यॉर्क ने स्वयं को संरक्षक (Protector) बना लिया। अगले ही वर्ष राजा स्वस्थ हो गया। यॉर्क को संरक्षक पद से हटा दिया गया और समरसैट को रिहा कर दिया गया। मई, 1455 में रानी ने लैनकास्टर वंशीय आमात्यो (Noble) को इकट्ठा कर राजा की रक्षा करने के लिए कहा। इधर, ड्यूक ऑफ यॉर्क ने युद्ध आरम्भ कर दिया।

 

 

गुलाब युद्ध की प्रमुख लड़ाइयां

 

गुलाब युद्ध की पहली लड़ाई सेट ऐलबंस पर मई, 1455 में हुई। यॉर्क जीता, समरसैट मारा गया, राजा को बंदी बना लिया। 1459 में ब्लोर हीथ की लड़ाई में लैनकास्टर वंशी फिर हारे। उसी वर्ष लुडलो (Ludlow) की लड़ाई में यॉर्किस्ट हारे। जुलाई, 1460 यॉर्किस्ट लौटे और नार्थम्पटन (Northampton) की लड़ाई में लैनकास्टर वंशी हारे। दिसम्बर, 1460 यॉर्क और सैलिस्बरी को बंदी राजा की रानी ने वेकफ़ील्ड (Wakefield) की लडाई में हराया और दोनों का कत्ल कर दिया। फिर फरवरी, 1461 की सेंट ऐलबंस की दूसरी लडाई मे वारविक को हरा अपने पति को छुड़ाया। फरवरी, 1461 मार्टिमस क्रास (Mortimer’s cross) की लड़ाई में यॉर्क-पुत्र ने लैनकास्टर वंशियों को हराया। 1461 एडवर्ड और वारविक ने लंदन पर कब्ज़ा कर लिया तथा एडवर्ड स्वयं एडवर्ड चतुर्थ के नाम से राजा बना। इसी वर्ष टौटन (Towton) की सबसे बडी लड़ाई हुई, जिसमें लैनकास्टर बुरी तरह से हारे। राजा, रानी और प्रिस ऑफ वेल्ज इंग्लैंड से भाग गये।

 

 

हैक्सम (Hexam) की लड़ाई (1464) में लैनकास्टर फिर वारविक से हारे। 1465 में हेनरी छठम फिर पकडा गया और लंदन लाया गया। 1469 ऐजकोट फील्ड (Edggecot feild) की लड़ाई में वारविक ने एडवर्ड चतुर्थ को हरा कर बंदी बना लिया। मार्च, 1470 लोसकोट फील्ड (Losecotfeild) की लड़ाई वारविक हार कर फ्रांस भाग गया और लैनकास्टर वंशियों से जा मिला। सितम्बर में इंग्लैड पर आक्रमण कर दिया। सेना के असहयोग के कारण एडवर्ड बचकर फ्रांस भाग पडा। वारविक हेनरी छठम के नाम पर इंग्लैड का स्वामी बन बैठा। अप्रैल, 1471 मे बारनेट(Barnet) की लडाई मे वारविक मारा गया। मई माह मे एडवर्ड ने ट्यूकसबरी (Tewkesbury) की लडाई मै रानी मार्गरेट को हराया। प्रिंस ऑफ वेल्ज मारा गया। बाद मे हेनरी की भी जेल मे मृत्यु हो गयी।

 

 

एडवर्ड ने 1483 में अपनी मृत्यु तक शांति से राज्य किया। उसके बाद उसका 2 वर्षीय पुत्र एडवर्ड पंचम सिंहासन पर बैठा किन्तु कुछ महीनो बाद उसके चाचा ने सिंहासन छीन लिया। उस बालक राजा और उसके भाई का कत्ल कर दिया गया और रिचर्ड तृतीय के नाम से लगभग दो वर्ष शासन किया। ट्यूकसबरी की लडाई के 14 वर्ष पश्चात अंतिम संग्राम हुआ। लैनकास्टर वंश की परम्परा के अंतिम वंशज हेनरी ट्यूडर ने फ्रांस के राजा की सहायता से रिचर्ड के शासन को चुनौती दी व 1485 मे बॉस्वर्थ(Bosworth) की लड़ाई में रिचर्ड को हराया और मार दिया। लैनकास्टर वंश सफल हुआ और हेनरी ट्यूडर ने एक नये राजवंश ‘ट्यूडर’ वंश की नीव डाली।

 

 

गुलाब युद्ध का परिणाम

 

इन युद्धों से इग्लैंड में जागीरी युग (Feudal age) और जागीरी बैरन प्रथा (Feudal Baronage) दोनो का अन्त हुआ अधिकांश युद्धों के दौरान ही समाप्त हो गये। जो बचे, उनके लिए सजा की कठोर शर्ते रखी गयी और उनसे जमीन जायदाद छीन ली गयी।
इग्लैंड की साधारण जनता ने इन युद्धों मे कोई भाग न लिया। इसीलिए सामान्य जीवन और वाणिज्य व्यापार की इतनी हानि नही हुई। आम आदमी को शांति, अमन और निश्चित व्यवस्था चाहिए थी। उसकी इसी प्रबल इच्छा ने ट्रयूडर वंशियों के निरंकुश शासन प्रबंध को लाकर खड़ा कर दिया। पार्लियामैंट द्वारा शासन करने का जो लैनकास्टर वंशियों का परीक्षण था, वह बुरी तरह विफल रहा। साधारण जनता तो यह चाहती थी कि राजा अच्छी तरह और कड़े हाथो से शासन करें। 1399 से 1461 तक पार्लियामैंट ने जितने भी अधिकार प्राप्त किये थे, उनकी उपेक्षा की गयी या उन्हें स्थगित कर दिया गया।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

ईरान इराक का युद्ध
1979 में ईरान के शाह रजा पहलवी के गद्दी छोड़कर भागने तथा धार्मिक नेता अयातुल्लाह खुमैनी के आगमन से आंतरिक Read more
फॉकलैंड द्वीपसमूह
भोगौलिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से फॉकलैंड ब्रिटेन की अपेक्षा अर्जेण्टीना के काफी निकट है किन्तु ब्रिटेन उसे अपना उपनिवेश मानता Read more
वियतनाम का युद्ध
भारत के दक्षिण-पूर्व में एक छोटा-सा देश है वियतनाम सोशलिस्ट रिपब्लिक। 69 वर्षों तक फ्रांसीसी उपनिवेश रहने के बाद 1954 Read more
प्रथम विश्व युद्ध
यूं तो प्रथम विश्व युद्ध का आरंभ सर्ब्रियनवासी राष्ट्रवादी (Serbian Nationalist) द्वारा आस्ट्रिया के राजकुमार आर्कडयूक फ्रैंज फर्डिनैंड (Archduke Franz Ferdinand) Read more
अरब इजरायल युद्ध
द्वितीय विश्य युद्ध की समाप्ति के बाद 14 मई, 1948 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने ब्रिटिश आधिपत्य के फिलिस्तीनी भू-क्षेत्र Read more
बाल्कन युद्ध
दक्षिण पूर्वी यूरोप के बाल्कन प्रायद्वीप (Balkan Peninsula) के देश तुर्क साम्राज्य की यातनापूर्ण पराधीनता से मुक्त होना चाहते थे। Read more
रूस जापान युद्ध
20वीं सदी के प्रारम्भ में ज़ारशाही रूस ने सुदूर पूर्व एशिया (For East Asia) के दो देशों, मंचूरिया और कोरिया पर Read more
फ्रांस प्रशिया युद्ध
प्रिंस ओट्टो वॉन बिस्मार्क (Prince Otto Van Bismarck) को इसी युद्ध ने जर्मन साम्राज्य का संस्थापक और प्रथम चांसलर बना Read more
क्रीमिया का युद्ध
तुर्क साम्राज्य के ईसाइयों को सुरक्षा प्रदान करने के बहाने रूस अपने भू-क्षेत्र का विस्तार कॉस्टेंटिनोपल (Constantinople) तक करके भूमध्य सागर Read more
वाटरलू का युद्ध
वाटरलू का युद्ध 1815 में लड़ा गया था। यह युद्ध बेल्जियम में लडा़ गया था। नेपोलियन का ये अन्तिम युद्ध Read more
Battle of Salamanca
स्पेन फ्रांस का मित्र देश था किंतु नेपोलियन नहीं चाहता था कि यूरोप में कोई भी ऐसा देश बचा रह Read more
Austerlitz war
जुलाई, 1805 में ब्रिटेन, आस्ट्रिया, रूस और प्रशिया ने मिलकर नेपोलियन से टककर लेने का निर्णय किया। जवाब में नेपोलियन ने Read more
सप्तवर्षीय युद्ध
सात वर्षों तक चलने वाले इस युद्ध मे एक ओर ऑस्टिया, फ्रांस, रूस, सैक्सोनी, स्वीडन तथा स्पेन और दूसरी तरफ Read more
तीस वर्षीय युद्ध
यूरोप मे धार्मिक मतभेदों विशेष रुप से कैथोलिक (Catholic) तथा प्रोस्टेंटस (Protestents) के बीच मतभेदों के कारण हुए युद्धों में Read more
सौ वर्षीय युद्ध
लगभग 135 वर्षों तक फ्रांस और ब्रिटेन के बीच चलने वाले इस सौ वर्षीय युद्ध का आरम्भ तब हुआ जब ब्रिटेन Read more
धर्मयुद्ध
येरूशलम (वर्तमान मे इसरायल की राजधानी) तीन धर्मों की पवित्र भूमि हैं। ये धर्म हैं- यहूदी, ईसाई और मुस्लिम। समय-समय Read more
रोमन ब्रिटेन युद्ध
महान रोमन सेनानायक जूलियस सीजर (Julius Caesar) ने दो बार ब्रिटेन पर चढ़ाई की। 55 ई.पू. और 54 ई.पू. में। Read more
प्यूनिक युद्ध
813 ई.पू. में स्थापित उत्तरी अफ्रीका का कार्थेज राज्य धीरे-धीरे इतना शक्तिशाली हो गया कि ई.पू तीसरी-दूसरी शताब्दी में भूमध्यसागरीय Read more
एथेंस स्पार्टा युद्ध
प्राचीन यूनान के दो राज्य-प्रदेशो एथेंस और स्पार्टा में क्षेत्रीय श्रेष्ठता तथा शक्ति की सर्वोच्चता के लिए प्रतिदंद्धिता चलती रहती थी। Read more
थर्मापायली का युद्ध
पूर्व-मध्य यूनान में एक बड़ा ही सेकरा दर्रा है- थर्मापायली। यह दर्रा उत्तरी मार्ग से यूनान में आने-जाने का मुख्य Read more
मैराथन का युद्ध
ई.पू. पांचवीं-छठी शताब्दी में फारस के बादशाहों का बड़ा बोलबाला था। एजियन सागर (Aegean sea) के निकट के लगभग सभी Read more
ट्रॉय का युद्ध
1870 में जर्मन पुरातत्ववेत्ता (Archaeology) हेनरिक श्लिमैन (Henrich Schliemann) ने पहली बार सिद्ध किया कि टॉय का युद्ध यूनानी कवि होमर Read more
1971 भारत पाकिस्तान युद्ध
भारत 1947 में ब्रिटिश उपनिषेशवादी दासता से मुक्त हुआ किन्तु इसके पूर्वी तथा पश्चिमी सीमांत प्रदेशों में मुस्लिम बहुमत वाले क्षेत्रों Read more

Add a Comment