गुरु हर राय जी की जीवनी – श्री हर राय जी की बायोग्राफी इन हिन्दी

श्री गुरु हर राय जी सिखों के सातवें गुरु थे। श्री गुरू हर राय जी का जन्म कीरतपुर साहिब ज़िला रोपड मे हुआ । पिता का नाम बाबा गुरूदित्ता जी व माता का नाम निहाल कौर था। बचपन में बड़े ही नर्म स्वभाव के थे हसलिए आपको कोमल आत्मा के नाम से याद किया जाता है। पिता बाबा गुरूदत्ता जी कयोंकि उदासीन बन चुके थे इसलिए छटे पातशाह ने आप मे गुरूगददी के लक्षण देकर आपको गुरूगददी सौंप दी। आपने गददी पर बेठने हि अपने बाबा की फौज में से2200जवान रखके बाकि सब कि छुट्टि कर दी।
कीरतपुर साहिब में एक विशाल दवाखाना तथा एक चिड़ियाघर भी बनवाया था।

 

 

 

गुरु हर राय की जीवनी, गुरु हर राय जी बायोग्राफी इन हिन्दी, गुरु हर राय जी की जयंती

 

 

जन्म —- मार्गशीर्ष माघ शुक्ल,वि. सं. 1687 (16 जनवरी 1630)
जन्म स्थान —- कीरतपुर साहिब, जिला रोपड़
पिता —– बाबा गुरुदीत्ता जी
माता —– निहाल कौर जी
पत्नी —– किशन कौर, चन्द्र कौर, राम कौर, कोट कल्याणी, तोखी जी, अनोखी जी लडिकी जी, प्रेम कौर जी
पुत्र —- श्री राम राय जी, श्री हर कृष्ण जी
गुरुगददी —- चैत्र कृष्ण 13 वि.सं. 1698 ( 6 अक्टूबर सन् 1661) कीरतपुर

 

 

नाभा -पटियाला राज्य का वरदान-

एक दिन दरबार में प्राभु का यशगान हो रहा था। इलाही वाणी का कीर्तन चल रहा था कि काला नमक चोधरी अपने भाई के बेटे को कंधे पर उठाकर दरबार में आया और दोनों बच्चे जिनके बदन तक नंगे थे तथा भूके थे। काले चोधरी ने विनति कि की सच्चे पातशाह दोनों मेरे भाई की निशानी हैं। आपके पास आया हूँ कि भरण पोषण हो सके। तो गुरू जी ने कहा कि तू इनके भूके होने की बात करता है इनके आसंरे तो अनेकों के पेट भरेंगे तथा नाभा पटियाला जैसे राज्य इनकि संतान के कबज़े में होंगे।
काला बहुत खुश हुआ और मत्था टेककर अपने घर आया। पत्नी को सारी बात बताई तो पत्नी जल भछन गई कि भतिजे तो बादशाह बन जाए गे तुम्हारे बच्चों का क्या? फिर से जाकर अपने बच्चों के लिए भी गुरू जी से मांगे । जब काला फिर से गुरू दरवार मे विनती लेकर गया तो गुरू जी ने कहा चौधरी जो होना था  सो तो हो गया अब क्या लेने आए हो ।
यह सुनकर काले के कपाट खुले गये । तब गुरू जी ने कहा जाऔ चौधरी भले ही तेरे बेटे राजे महाराजे ना बन सकेंगे पर दोलत से मालामाल रहेंगे। किसी बात की इनको कमी नही रहने वाली।  समय पाकर उसके भतीजे नाभिया पटियाला तथा जींद रियासतो के के राजा बने तथा उसके अपने परिवार के बेटे भी बड़े सरदार हुए तथा धन माल से भरपूर होकर राज्य सुख भोगने लगे।

 

गुरु हर राय जी
गुरु हर राय जी

 

 

भाई फेरु पर वरदान:—-

एक दिन भाई भगतू ने दरबार में हाजिर होकर विनती की कि कोई सेवा बताएँ तो आपने वचन किया कि गुरु के घर लंगर के लिए खेती करवाया करो, सो भाई जी खेती करवाने लगे। एक दिन खेती मजदूर कहने लगे कि हमें रोटियों पर घी लगवा कर दिया करें, तो भाई जी ने एक फेरी लगाने वाले से जोकि नमक, घी, तेल बेचा करता था, से कहा कि इन मजदूरों को जितना घी मांगते है दे दो और कल आकर हम से पैसे ले जाना। सो उस फेरी वाले ने जितना घी मजदूरों ने मांगा कुप्पी से निकाल कर दे दिया। उसने बचे हुए घी की टोकरी को ऊपर ढांप दिया। अगले दिन वो गुरु जी के पास पैसे लेने गया तो हैरान रह गया। उसकी टोकरी तो अब भी घी से भरी थी। यह देखकर भाई भगतू के पास आकर कहने लगा कि उसे भी सिक्ख बना लेवें। भाई भगतू उसे गुरु हर राय जी साहिब के पास ले आये तो गुरु जी ने उसे सिख बनाकर कहा कि आज से तेरा नाम भाई फेरु होगा क्योंकि तू फेरी लगाता है।

 

 

 

भाई जीवन परोपकारी:—

एक ब्राह्मण का लड़का मर गया तो गुरु महाराज के दरबार में आकर विनती की कि महाराज मेरे बेटे को जीवन दान बख्शो तो गुरु हर राय जी ने कहा कि भाई सारा संसार ही चलने वाला है, मौत तो किसी क कहे रूक नहीं सकती। जब उसने बहुत कहा तो गुरु जी ने कहा एक सूरत है कि बच्चा जी उठे, यदि कोई और इसके लिए प्राण त्याग दें, क्योंकि यमदूतों को तो एक आत्मा पकड़ कर ले जानी है।
यदि कोई ऐसा व्यक्ति तुम्हें मिले तो यहां ले आना तेरा बेटा जी उठेगा। जब लड़के के माता पिता और कोई रिश्तेदार मरने के लिए तैयार न हुआ तो भाई जीवन जी ने अपने घर जाकर योगाभ्यास द्वारा अपने प्राण त्याग दिये और उसका बेटा उठकर बैठ गया। गुरु महाराज जी ने भाई जीवन जी को सौ सौ वरदान दिए और अपने हाथों से उसका संस्कार किया।

 

 

 

रामराय जी को दिल्ली भेजा:—-

एक बार औरंगजेब बादशाह ने गुरु हर राय जी महाराज को दिल्ली बुलवाया। आपने अपने बड़े बेटे राम राय जी को भेज दिया और कहा कि बेटे वहां जाकर कोई करामात नहीं दिखलाना तथा बादशाह जो सवाल करें तो घबराना नही, न ही शाही जलाल के रोआब में आना। सद्गुरु नानक सदा अंग संग रहेंगें। आप जो चाहोगे वहीं होगा।
जब राम राय जी औरंगजेब के पास पहुंचे तो औरंगजेब पर आपका उचित प्रभाव पड़ा पर उन्होंने आज्ञा का पालन न करते हुए करामातें दिखानी शुरू कर दी तथा गुरुवाणी की तुको को भी उलटा कर सुनाया। जब गुरु जी को यह सब पता चला तो आपने बहुत गुस्सा महसूस किया तथा कहा कि उससे कहो कि अब हमें अपना मुंह न दिखाये।

 

 

 

श्री गुरु हरिकृष्ण जी को गुरूगददी सौंपी:—-

छोटे पुत्र श्री गुरु हरिकृष्ण जी अभी केवल पांच वर्ष के थे कि एक दिन आपने सुंदर वस्त्र हरिकृष्ण जी को पहनाये तथा गले में सोने का कैण्ठा भी डाल दिया। श्री गुरु हरिकृष्ण जी बालकों के साथ खेलते हुए बाहर चले गये, किसी मंगते ने सवाल किया तो बालक प्रभु ने उसे कैण्ठा उतार कर भीख में दे दिया। जब आपने पुत्र से पूछा कि लाल जी कैण्ठा कहाँ है, तो कहा कि एक भिक्षुक ने मांगा तो हमने उतारकर दे दिया ताकि वह सुख से रह सके। पुत्र का त्याग देखकर सातवें पातशाह मेहरबान हो गये तथा खुश होकर कहा आठवां नानक मिल गया है, उसी समय गुरूगददी त्यागकर कहा कि अब संगत इन्हें ही हमारा रूप समझे तथा कार्तिक कृष्ण नवमी 1718 वि. को आप कीरतपुर साहिब में ज्योति ज्योत में समा गये।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—–

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state)
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है।
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है।
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है।
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *