श्री गुरु रामदास जी सिक्खों के चौथे गुरु थे। श्री गुरू रामदास जी महाराज का जन्म कार्तिक कृष्णा दूज, वि.सं.1591वीरवार वाले दिन,लाहौर शहर में चूना मंडी इलाके में हुआ। आपकी माता दया कौर जी तथा पिता श्री हरिदास जी सोढ़ी थे। उस समय हिन्दुस्तान में शेरशाह सूरी राज कर रहा था। महाराज जी छोटी अवस्था के ही थे आपके पिता श्री हरिदास जी हरिलोक गमन कर गए तथा आपके बाल कंधो पर घर परिवार की बहुत बड़ी जिम्मेदारी आ पड़ी। आपका घर का नाम भाई जेठा था। कुछ समय ननिहाल में रहने के पश्चात गोइंदवाल चले आए । वहां रहकर चने मसाले बेचने लगे ।

 

 

गुरु रामदास जी का जीवन परिचय — गुरु रामदास जी की जीवनी

 

 

जन्म— कार्तिक कृष्ण 2, वि.सं. 1591, (24 सितंबर 1534)
जन्म स्थान— चूना मंडी, लाहौर, पाकिस्तान
पिता— श्री हरिदास जी
माता— माता दया कौर जी
पत्नी— माता भानी जी
वंश— सोढ़ी खत्री
सुपुत्र— पृथ्वी चन्द्र, महादेव जी, गुरु अर्जुन देव जी
गुरूगददी— भाद्रपद शुक्ल 13, वि.सं. 1631 (16 सितंबर सन् 1574)
ज्योति ज्योत— भाद्रपद शुक्ल 3, वि.सं. 1638 (1 सितंबर सन् 1581)

 

 

 

एक बार चने मसाले बेचते हुए गुरू जी के महलों के नीचे से गुजर रहे थे कि गुरू जी अपनी माता मनसा देवी जी साथ बैठे बीबी भानी जी के बारे में विचार- विमर्श कर रहे थे। माता जी भाई जेठा जी की ओर इशारा करके कहने लगे कि ऐसा लड़का चाहिए तो गुरू जी ने कहा कि तो इसी से विवाह कर दो । फिर वि. संवत 1613 में भाई जेठा जी के साथ बीबी भानी जी कि शादी कर दी गई। कुछ समय पश्चांत बीबी भानी जी जो कि अपने पिता गुरू देव कि बहुत सेवा करते थे ने महाराज जी से गुरूगददी घर में ही रहने का वरदान प्राप्त कर चुके थे। सदगुरु ने भाई जेठा जी को रामदास नाम देकर गुरूगददी बख्श दी और आपके श्री गुरू रामदास सोढ़ी पातशाह बना दिया।

 

 

 

अमृतसर की स्थापना

साहिब श्री गुरु अमरदास जी महाराज ने सुलतानविंड तथा तुंग ग्राम के जमींदारों से ज़मीन खरीदकर श्री गुरू रामदास जी के हाथों इस नगर की नींव आषाढ़ 5 वि.सं. 1626 को रखवाई तथा यहां सब जातियों के लोग बुलाकर बसाया। इस पवित्र नगरी में हर छोटे-बड़े, अमीर-गरीब को सोढ़ी पातशाह की ओर से पूर्ण सत्कर दिया जाता था। इस नगर का नाम रामदासपुर रखा गया। इसी को रामदास चक्क भी कहा जाता था। वि.सं.1633 में जब अकबर बादशाह दर्शानों के लिए आया तो उसने तुंग व सुलतानविंड ग्राम की कुछ और जमीन चक्क रामदास के नाम कर दी तथा मामला भी माफ करने का पटटा लिखा दिया। कुछ किमती हीरो -जवाहरात भी भेंट किया और माथा टेक कर चला गया।

 

गुरु रामदास जी
गुरु रामदास जी

वि.सं.1638 में अमृत सरोवर की सेवा शुरू हुई। पहले यह एक छोटा कच्चा तालाब था । गुरू रामदास जी महाराज ने समय आने पर सरोवर के लिए इसी स्थान को चुना था अमृत जल होने के कारण से इसका नाम अमृतसर रख दिया गया।

चौथी पातशाही श्री गुरू रामदास जी के ज्योतिलीन हो जाने के पश्चात श्री गुरू अर्जुन देव ने एक सुंदर नक्शे के अनुसार सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब की सरोवर के एकदम बीचोंबीच रचना की। जिसकी नींव प्रसिद्ध सूफी फकीर सांई मियां मीर द्वारा कार्तिक शुक्ल पंचमी, वि.सं. 1635 में रखवाई गई। इसके चार द्वार चार वर्णों को ध्यान में रखकर बनाए गए। सुंदर पुल तथा दर्शनी ड्योढ़ी की सेवा कई सालों तक होती रही। जब भी कोई यात्री दर्शन करने पहुंचता तो अपने आप उसके मुंह से निकल जाता है, डिठ्ठे सभे थाव नहीं तुध जेहिया, अर्थात संसार के सभी तीर्थ स्थान देखे पर श्री हरिमंदिर की शोभा इन सब से अलग है। दर्शनी ड्योढी के बिल्कुल सन्मुख छठे पातशाह श्री हरिगोबिन्द साहिब जी ने भक्ति के साथ शक्ति का मिश्रण करते हुए समय की नब्ज को पहचानकर श्री अकाल तख्त साहिब की नींव रखी जहां से धर्म युद्ध के लिए युद्ध लड़ने की अरदास की जाती थी। जो मर्यादा आज तक चली आ रही है। यंही पर हजूर ने मीरी पीरी की दो तलवारें पहनकर जुल्म का नाश किया।

 

 

इनके तीन पुत्र पृथ्वी चंद्र, महादेव जी तथा अर्जुन देव जी थे। पृथ्वी चंद्र कडवे स्वभाव के थे, महादेव सदा भजन में ही लीन रहते थे, तथा अर्जुन देव अपने पिता श्री के साथ बराबर की सेवा में हाथ बंटाते थे। गुरु रामदास जी महाराज ने अपनी नगरी अमृतसर में सब जातियों के लोगों लाकर बसा दिया।

 

 

बाबा श्री चंन्द्र जी से भेंट—

 

एक बार गुरु रामदास जी महाराज बारठ गांव गुरदासपुर जिले में सतिगुरु नानकदेव जी महाराज के बड़े पुत्र बाबा श्री चंन्द्र जी महाराज के पास गए और वहां आपने जिक्र किया कि हमने अमृतसर सरोवर की रचना की। आप भी किसी समय वहां पधारे तथा चक्क रामदास में दर्शन देवें, सो बाबा जी उसी इकरार के मुताबिक अमृतसर में मिलने आये, तब आपने बहुत आदर सत्कार किया। सूरज प्रकाश ग्रंथ में लिखा है कि आपने अनेक प्रकार के वचन विलास हुए। आपकी लम्बी दाढ़ी क्यों बढ़ रही है तो गुरू जी ने कहा आप जैसे महापुरुषों के चरण झाड़ने के लिए तथा बडी नमृता के साथ बाबा जी के चरण पोंछने लगें।

 

बाबा जी आपके वचन सुनकर बहुत प्रसन्न हुए। आपको तथा आपके परिवार को आशिर्वाद दिया। आपने पांच सौ रूपये तथा एक घोड़ा बाबा जी को भेंट करके माथा टेका।

 

भाई हिन्दाल को जो लंगर की सेवा बडी श्रद्धा व प्यार के साथ करता था। एक बार लंगर में आये तो भाई जी आटा गूंथ रहे थे। आपजी को आया देखकर सत्कार के लिए खड़े हो गये तथा आटे में सने हाथ पीठ पिछे करके चरणों पर शीश झुका दिया। महाराज ने एक सरोपे की बख्शीश की जब भाई जी ने कपड़ा सिर पर लपेटा तो उसे लोक परलोक का ज्ञान हो गया।

गुरु ग्रंथ साहिब में आपके द्वारा रचित कुल 638 छंद, शबद,श्लोक इत्यादि प्राप्त होते है।

 

 

बाबा आदम को पुत्र का आशिर्वाद—

 

 

एक बार बाबा आदम जी मालवे से अपनी घरवाली सहित दर्शन के लिए आये। कुछ समय डटकर गुरु घर में सेवा की। एक दिन गुरु जी ने प्रसन्न होकर कहा– गुरु घर के भंडारे खुले है जो मन में आये मुराद मांग लेवा, बाबा आदम ने कहा– महाराज आपका दिया सब कुछ है पर हमें एक पुत्र की दात बख्शे।

 

 

गुरु जी ने बाबा आदम से कहा– आपके कर्मों में पुत्र लिखा ही नहीं पर आपकी सेवा श्रृद्धा से हम बड़े खुश है। इसलिए हमारे यहाँ जो चौथा पुत्र होना था सो चौथा पुत्र हम आपको देते है सो वहीं अब आपके घर में पैदा होगा। उसका नाम भाई भगतू रखना। यह सुनकर आदम जी ने गुरु चरणों पर सिर झुका दिया तथा इस प्रकार दोनों जीव गुरु घर से खुशियां प्राप्त करके वापिस अपने घर लौट गये।

 

 

श्री गुरु अर्जुन देव जी को गुरूगददी सौंपी—

 

 

एक बार लाहौर से कोई रिश्तेदार आया तो अपने छोटे बेटे अर्जुन देव जी को उसके साथ भिजवा दिया और आदेश किया कि आप तब ही लौटना जब हम वापिस बुलावे।

जब अर्जुन देव जी को लगभग दो साल हो गये तो वह बहुत उदास रहने लगे क्योंकि उनका आपके साथ बहुत लगाव था। बड़ा साहिबजादा कुछ सख्त स्वभाव का था तथा महादेव जी अपने ही रंग में मस्त रहते ऊंची इमारत को एऊएऊएएैएऐएएथे तथा गुरु अर्जुन देव आप जी के साथ गुरू घर की सेवा में हाथ बंटाते थेइसलिए आपने बहुत वैराग्य में भर कर वहां से एक पत्रिका लिखी।
छोटे बच्चे के ऊच़ो।

जब आपने श्री अज छर्जुन देव जी के ह्रदय में गुरुघर के प्रति इतनी लगन श्रृद्धा व प्रेम अनुभव किया तो उनको भाद्रपद, दूज 1638 को गुरूगददी प्रदान कर दी तथा भादों सुदी तीज को 1638 वि.सं. को ज्योति ज्योत में समा गये।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more