Alvitrips – Tourism, History and Biography

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi

गुरु तेग बहादुर जी का जीवन परिचय – गुरु तेग बहादुर जी की शहीदी

गुरु तेग बहादुर

हिन्दू धर्म के रक्षक, भारतवर्ष का स्वाभिमान, अमन शांति के अवतार, कुर्बानी के प्रतीक, सिक्खों के नौवें गुरु साहिब श्री गुरु तेग बहादुर जी का जन्म वैसाख कृष्ण पंचमी 1678 में हुआ था। आपका बचपन का नाम त्याग मल्ल था। आप बचपन से ही बड़े बहादुर तथा निर्भिक थे। शस्त्र विद्या में प्रवीण थे। पैंदे खां और उस्मान खान जिस समय कीरतपुर पर मार करता आया तो छठे गुरु जी ने आपको लड़ाई में जाने की आज्ञा दी तो आपने बड़ी बहादुरी से दुश्मनों के छक्के छुडाएं। गुरु जी ने इनका नाम तेग बहादुर रख दिया।

 

 

गुरु तेग बहादुर जी का जीवन परिचय – गुरु तेग बहादुर जी की कथा

 

नाम —- गुरु तेग बहादुर सिंह
जन्म —- 23 वैशाख कृष्ण पंचमी वि.सं. 1678 ( 18 अप्रैल 1621 ई.)
जन्म स्थान —- गुरु का महल, अमृतसर
पिता —- श्री हरगोबिंद साहिब जी
माता —– माता नानकी जी
पत्नी —- माता गुजरी जी
पुत्र —– गुरु गोबिंद सिंह जी
गुरूगददी —– चैत्र शुक्ल चौदस वि.सं. 1721 (16 अप्रैल 1664 ई.)
ज्योति ज्योत —- मघर सुदी 5, वि.सं. 1732 ( 24 नवंबर, 1675 ई.)

 

 

गुरु तेग बहादुर जी का शीश
भाई जैता गुरु तेग बहादुर जी शीश लेकर पहुंचे

 

 

गुरूगददी पर विराजमान:—–

श्री गुरु हरकिशन साहिब दिल्ली में ज्योति ज्योत में समाने से पूर्व बाबा बकाला का संकेत कर गये कि नवम पातशाह बाबा बकाला में है। जब संगत को इस बात का पता चला तो वह नौवें गुरु की खोज में व्याकुल होने लगी। इस समय का फायदा उठाकर बकाला में 22 मंजीया डालकर नकली गुरु भ्रम फैलाकर बैठ गये पर सही गुरु की खोज मखन शाह लुवाणे ने की। उसका जहाज समुद्र में तूफान में घिर गया। उसने कहा यदि नानक मेरा बेड़ा पार करेंगें तो मैं 500 सोने की मोहरें चढ़ाऊंगा। उसका बेड़ा पार हो गया, तो वह सोने की मोहरे चढ़ाने के लिए गुरु की खोज में गया तो 22 गुरु गद्दीयां देखकर चकित रह गया, फिर भी उसने प्रत्येक को दो दो मोहरें दी। उसने सोचा कि जो भी असली गुरु होगें स्वंय ही बकाया रकम की मांग कर लेगें। जब किसी ने बकाया रकम नहीं मांगी तो वह समझ गया कि इनमें से गुरु जी नहीं है। मखन शाह भौरे में पहुंचे तो वहां भी दो मोहरें रखकर नमस्कार की तो घट घट को जानने वाले गुरु जी ने अपना कंधा दिखाकर कहा कि पांच सौ का वचन देकर दो मोहरें ही दे रहा है। मखन शाह की खुशी की कोई सीमा न रही। फिर बाबा बकाला में 8वी वैशाख वि.सं. 1721 को गुरु तेग बहादुर जी को गुरूगददी का तिलक दिया गया।

 

 

धीरमल की धक्केशाही:—-

जब गुरु जी दूसरे दिन चांदनी लगाकर, दरिया बिछवाकर, दरबार सजाकर बैठे तथा संगत भारी संख्या में पहुंचने लगी तो सारी भेंट चढावा की रकम, धीरमल के मसंद ने गुरु जी पर हमला कर लूट ली और धीरमल के ठिकाने पर पहुंचा दिया। जब मखन शाह लुबाने को पता चला तो वह अपने साथियों के साथ धीरमल के डेरे पहुंच गया और सारा माल वापस ले आया।

 

 

 

गुरु जी अमृतसर आये:—-

नौवें पातशाह श्री गुरु तेग बहादुर साहिब गुरूगददी पर विराजमान होने पर जब अमृसर श्री सचखंड साहिब के दर्शन करने आये तो हरिमंदिर साहिब के द्वार इस भय से बंद कर दिये गये कि कहीं गुरु जी श्री दरबार साहिब पर कब्जा न जमाकर बैठ जाये। सच्चे पातशाह श्री दरबार साहिब से बाहर एक चबुतरे पर जहाँ आजकल गुरुद्वारा थड़ा साहिब सुशोभित है, कुछ समय बैठकर श्री गुरु रामदास जी के चरणों में बैठे तथा अमृतसरीएं अंदरहु कहकर वहां से चले गये।

 

 

 

आनंदपुर साहिब बसाना:—-

वि.सं. 1732 में आपने सतलुज नदी के किनारे गांव माखोवाल के किनारे बिलासपुर के राजा से जमीन खरीदकर श्री आनन्दपुर साहिब नामक रमणीक नगरी बसाई। पहले इस नगर का नाम नानकी के नाम पर चक्क माता नानकी रखा गया था।

 

 

 

एक पीर को उपदेश:—-

आनन्दपुर साहिब की स्थापना के पश्चात आप हर रोज जीवों के कल्याण के लिए सतसंग, दीवान सजाते थे। रोपड़ से एक पीर दर्शन करने आया तो उसने कहा यह ठीक नहीं आप गृहस्थ होकर फकीरी का दावा करते हो, तो सच्चे पातशाह ने उसे उपदेश करते हुए कहा कि गृहस्थ सब धर्मों से ऊंचा है।

 

 

 

तीर्थ यात्रा:—-

शरीकदारों की ईर्ष्या से कुछ दिन दूर रहने के लिए आनन्दपुर से बाहर धर्म प्रचार यात्रा पर जाने का विचार किया तथा आपके साथ माता नानकी, पत्नी गुजरी जी भी चले। श्री आनन्दपुर साहिब की सेवा कुछ मुख्य सिक्खों के सुपुर्द कर दी गई।

 

 

 

मीठा कुआँ:—–

आपने पहला पडाव रोपड़ के आगे गांव मूलोवाल में डाला। जब गुरु जी ने पीने के लिए पानी कुएँ से मंगवाया तो वह जल खारा था। तो गुरु तेगबहादुर जी ने दोबारा जल सतनाम कहकर मंगवाया तो जल मीठा हो गया। जब लोगों ने सुना तो बड़ी श्रृद्धा के साथ आकर महाराज के चरणों पर नमस्कार किया।

 

 

 

प्रयागराज पहुंचे:——

गुरु महाराज गांव सिखों,  हण्उयारें, नगर, दिल्ली, भेंदर, खीवा कलां, भीखीविंड, सीलसर, कुरूक्षेत्र, कैथल, वारने, थानेसर, बनी बदरपुर, सढैल पिंड कड़ा, मानकपुरी इत्यादि नगरी से होते हुए प्रयागराज पहुंचे। त्रिवेणी में स्नान किया और एक हवेली में दीवान सजाया जहां अटूट लंगर चलता रहा।

 

 

 

काशी वाराणसी:—-

छः महीने प्रयागराज में निवासकर आप काशी पहुंचे यहां भी आपकी ज्ञान चर्चा सुनकर यहां के विद्वान पंडित आपकी प्रतिभा से बहुत प्रभावित हुए।

 

 

गुरु तेग बहादुर
गुरु तेग बहादुर साहिब कश्मीरी पंडितों की प्रार्थना सुनते

 

भाई गुरबख्श को वरदान:—

आपकी कीर्ति सुनकर जौनपुर की संगत आई तो उसके प्रमुख भाई गुरबख्श को महाराज ने वर देते हुए कहा कि तुम्हारी चौरासी कट गई है। तेरे गृह बड़ा ही भगत सूरमा परोपकारी पुत्र पैदा होगा जो कुल का नाम रोशन करेगा।

 

 

पटना प्रवास:—-

काशी से सासाराम पहुंचे जहाँ से गया और गया से पटना पहुंचकर विश्राम किया वहीं सारा परिवार छोड़कर आप कामरूप देश राजा राम सिंह के साथ चले। आपकी कृपा से राजा राम सिंह को विजय प्राप्त हुई।

 

 

पुत्र का जन्म:—-

महाराज जब ढाका में थे तो पटना से आये एक गुरसिख ने पुत्र के जन्म का समाचार सुनाया तो राजा ने खूब मिठाई बांटी तथा गुरु महाराज ने भी गरीबों में खूब दान दिया।

 

 

 

आनन्दपुर प्रवेश:—

कुछ समय पश्चात गुरु जी ने सारा परिवार अपने पास आनन्दपुर साहिब वापस बुलवा लिया तथा आनन्दपुर में फिर से रौनक लौट आई। दोनों समय दीवान सजने लगे। संगत दूर दूर से आने लगी। गुरु जी ने अब पक्की रिहायश यही कर ली।

 

 

धर्म की रक्षा:—–

यहां पर कश्मीर के पंडितों ने आकर पुकार की कि औरंगजेब हिन्दू धर्म को समाप्त करने पर तुला हुआ है। गुरु जी अभी विचार ही रहे थे कि नौ वर्ष के गोविंद राय जी बाहर से खेलकर लौटे तो गोद में बैठ गये। बाल गोपाल ने पूछा कि इनका दुख कैसे दूर हो सकता है। आपने कहा यदि कोई महापुरुष अपना बलिदान देने को तैयार हो जाये। इस पर बाल गोविंद राय ने कहा आज की तारीख में आपसे बढ़कर कौन महापुरुष हो सकता है जो हिन्दू धर्म की रक्षा कर सके। ऐसे वीर वचन सुनकर गुरु तेग बहादुर जी ने बाल गोविंद राय को ह्रदय से लगा लिया और पंडितों से कहा कि जाओ जाकर अपने बादशाह को कह दो कि अगर हमारा गुरु तेगबहादुर मुसलमान बन जाये तो हम सब मुसलमान होने को तैयार है। बादशाह के बुलावे पर भाई दयाला, मतीदास, सतीदास इत्यादि गिने चुने शिष्यों को साथ लेकर गुरू पातशाह दिल्ली चले गये।

 

 

 

औरंगजेब की ओर से सत्कार:—-

जब औरंगजेब को पता चला तो आपसे विनती कि आपका संदेश मिल चुका है। अब आप फौरन इस्लाम कबूल करें तो सारे हिन्दू मुसलमान हो जावें। इस पर गुरु जी ने मुस्कुरा कर कहा — किसी को अपने दीन में जबरदस्ती दाखिल करना गुनाहे अव्वल है, हो सके तो अपने दीन में ऐसी खूबियां पैदा करो कि लोग खुद मुस्लमान बने। यूं ही खुदा की खलकत को दुखाना ठीक नहीं।
महाराज जी के वचन सुनकर बादशाह लज्जित हो गये। आपको अनेक कष्ट दिये गये यहा तक की लोहे के पिंजरे में कैद भी कर दिया गया। भाई मतीदास को आरे से चिरवा दिया गया। सतीदास जी को रस्सी से बांधकर जला दिया गया तथा भाई दयाला जी को गर्म पानी की देग में ऊबाला गया। आपके शिष्य शहीद हो गये।

 

 

 

पुत्र को गुरूगददी:—–

अंत समय निकट जानकर एक सिक्ख के हाथ पांच पैसे तथा नारियल भेजकर गुरु जी ने श्री आनन्दपुर साहिब में पुत्र गोबिंद राय जी को गुरूगददी सौंप दी।

 

 

गुरु तेग बहादुर जी का शीश
भाई जैता गुरु तेग बहादुर जी शीश लेकर पहुंचे

 

शहीदी:——

गुरु तेग बहादुर जी को मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी वि.सं. 1732 चांदनी चौक दिल्ली में शहीद कर दिया गया जहां उनकी याद में गुरूद्वारा शीशगंज कायम है। यह समय खुदाई कहर से कम नहीं था। बहुत अंधेड़ चल रहा था तथा वर्षा हो रही थी। भाई जैता गुरु महाराज क शीश को संभालकर आनन्दपुर साहिब की ओर रवाना हो गया तथा धड़ को गुरु का एक प्रेमी सिख लखीशाह वंजारा, अपने रूई के भरे ठेले में छुपाकर अपने घर, जहा आजकल गुरूद्वारा रकाबगंज शोभायमान है, का दिल्ली में ही संस्कार कर दिया गया। भाई लखीशाह का अभूतपूर्व कार्य था।

 

 

 

आनन्दपुर साहिब में शीश का संस्कार:—–

भाई जैता गुरु तेग बहादुर जी का शीश लेकर अभी कीरतपुर साहिब ही पहुंचा था कि आगे दसवें पातशाह गुरु गोबिंद सिंह जी शीश का इंतज़ार कर रहे थे। गुरु जी ने बड़े प्यार तथा वैराग्यवान होकर भाई जैता जी को गले से लगाकर उनका सत्कार किया तथा रंगरेटे गुरु के बेटे कहकर आदर किया। फिर शीश को पालकी में रखकर आनन्दपुर साहिब में नगर कीर्तन करते हुए पहुंचे तथा चन्दन की चिता बनाकर विधिपूर्वक अंतिम संस्कार किया गया। सारी संगत वैराग्यवान होकर हरिकीर्तन कर रही थी।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:——

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर” कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
“खालसा पंथ” दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more

write a comment

%d bloggers like this: