साहिब श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज सिखों के दसवें गुरु है। गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्म पौष शुक्ल सप्तमी वि.सं. 1723 को नौवें पातशाह श्री गुरु तेग बहादुर जी तथा माता गुजरी जी के घर में पटना साहिब बिहार में हुआ था। उस समय दिल्ली के तख्त पर औरंगजेब हकूमत कर रहा था। वो चाहता था कि सारे हिन्दुस्तान को मुसलमान बना दे। इसी ख्याल से उसने हिन्दुओं को परेशान करना शुरू कर दिया।

 

 

गुरु गोबिंद सिंह जी का जीवन परिचय – गुरु गोबिंद सिंह जी की जीवनी – गुरु गोबिंद सिंह बायोग्राफी इन हिन्दी

 

जन्म —- पौष शुक्ल सप्तमी वि.सं. 1723  ( 5        जनवरी 1666 ई.)
जन्म स्थान —- हरमंदिर पटना साहिब, बिहार
पिता —- श्री गुरु तेग बहादुर जी
माता —- माता गुजरी
पत्नी —- माता जीतो जी, माता सुंदरी जी, माता साहिब कौर
पुत्र —- अजीत सिंह जी, जुझार सिंघ जी, जोरावर सिंह जी, फतेह सिंह जी
ज्योति ज्योत —- कार्तिक शुक्ल पंचमी वि.सं. 1765 नांदेड़ ( 21 अक्टूबर 1708 ई.) 

 

 

 

बचपन से ही निर्भिक:—-

गुरु गोबिंद सिंह जी बचपन से ही निडर, निर्भय तथा शूरवीर थे। बालकों की छोटी सेना बना रखी थी, और उनके साथ मिलकर जंग का खेल खेलते थे।

 

 

गुरु गोबिंद सिंह जी
गुरु गोबिंद सिंह जी

 

पटना में कौतुक:—-

आपने पटना नगर में रहते हुए बचपन में ही अनेकों चमत्कार किए। छोटी सी सुंदर कमान बनाकर उसमें से छोटे तीर छोड़कर पानी भरने आयी औरतों के घड़े इत्यादि फोड़ दिया करते थे। पंडित शिवदत्त को बालक गुरु ने रामचंद्र जी महाराज के रूप में दर्शन देकर उसकी इच्छा का आदर किया। राजा फतह चंद मैणी तथा उसकी रानी को अनेक चमत्कार दिखाकर उन्हें हरिनाम के रंग में रंग डाला।

 

 

आनन्दपुर में प्रवेश:—-

नौवें पातशाह के बुलावे पर सारा परिवार पुत्र को लेकर श्री आनन्दपुर साहिब आ जाने से नगर में रौनक आ गई। दिन रात सत्संग लगते रहते तथा संगत दर्शन कर जीवन सफल करती रहती।

 

 

पिता जी तेगबहादुर की शहादत:—

कश्मीरी पंडितों की पुकार पर नौवें पातशाह गुरु तेग बहादुर जी महाराज ने हिन्दू धर्म की रक्षा करने हेतु दिल्ली में जाकर अपना महान बलिदान दिया।

 

 

 

गुरूगददी तथा शाही शानबान:—-

गुरु गोबिंद सिंह जी नौ साल की आयु मे ही गुरूगददी पर विराजमान हुए तो जालिम हुकूमत के साथ टक्कर लेने के लिए आपने अपने दादा श्री हर गोबिंद साहिब जी की तरह भक्ति के साथ शक्ति को भी उजागर किया। सिर पर सुंदर कलगी सजाई जिसे देखकर ताज वालों के भी सर झुक जाते थे। हाथ पर बाज तथा नीले घोड़े के शाहसवार बनें। शाही वस्त्र पहनकर शाही अंदाज में रहने लगे।

 

 

गुरु गोबिंद सिंह जी खालसा पंथ की स्थापना करते
गुरु गोबिंद सिंह जी खालसा पंथ की स्थापना करते

 

खालसा का जन्म:—–

समय की नब्ज को पहचानते हुए गुरसिखों को भजन के साथ साथ शस्त्र विद्या भी सिखलानी शुरु कर दी। वे सोचते थे कि मेरा हर सिख संत सिपाही बन कर, एक हाथ में माला तथा दूसरे हाथ तलवार पकड़कर शान से जिये और हर जुल्मों के साथ लड़े। उन्होंने सोचा कि इस हिन्दू धर्म मे से गुरसिखों के ऐसे खालसा पंथ की सृजना की जाये जो लोगों की रक्षा को हमेशा तत्पर रहे। वैशाखी पर गुरु जी आनन्दपुर साहिब पहुंचे। केशगढ़ साहिब के स्थान पर एक ऊंची पहाड़ी पर अपना तम्बू लगाया और उस खेमे में से बड़े वीर रस भरपूर होकर, हाथ में नंगी तलवार थामे ललकार कर संगत के सामने आये और एक सिर की मांग करते हुए कहा कि कोई गुरु का प्यारा है जो अपने गुरु नानक के नाम पर मुझे एक सिर सौंप सके। सारे पंडाल में मौन छा गया तथा लोग इधरउधर देखने लगे। तभी एक लाहौर के दयाराम क्षत्रिय उठकर सामने आये और स्वयं को सिर काटने के लिए समर्पित कर दिया। गुरु जी उसे खेमे में ले गये। अंदर एक भयंकर आवाज उठी और खून की धारा तम्बू से बाहर बहती हुई दिखाई दी। इसी प्रकार से एक के बाद एक चार और सिख उठे तथा अपने सिर कटाने के लिए पेश किया। इनके नाम धर्मदास, हिम्मतदास, मोहकमदास तथा साहिब राम था। फिर गुरु जी ने खंडे बाटे का अमृत तैयार किया और पांच पांच घूंट इन पांच सिखों को पिलायें फिर आंखों तथा केशों में पांच छीटें दिये प्रत्येक घूंट के साथ “बोलो वाहिगुरू जी का खालसा वाहिगुरू जी की फतेह” कहलवाया। फिर कहा आज से आप खालसा बन गये। आज से आपका जन्म गुरु घर में हुआ है अब से आपने अपने नाम के साथ दास व राम इत्यादि के स्थान पर सिंह शब्द का प्रयोग करना है। आज से आपका कोई पूर्व नाम, धर्म जाति अथवा चिन्ह नहीं रह गये है। सारे एक ही गौत्र के हो गये हो फिर उन पांच सिखों को जो खालसा पदवी प्राप्त कर चुके थे, घुटने टेककर प्रार्थना की कि अब हमें भी आप खालसा सजावें। इस प्रकार उन पांच प्यारों से स्वंय अमृत छका और गोबिंद राय से गोबिंद सिंह हो गये।

 

 

बाईधार के राजाओं द्वारा विरोध:—-

जब महाराज जी ने खालसा पंथ की स्थापना की तो यह बात पहाड़ी राजाओं को पसंद नहीं आई कि ब्राह्मण, नाई, जाट, झीवर, चमार सब एक स्थान पर एक पंक्ति में बैठकर खाना खायें। उन्होंने इसी बहाने गुरुघर से ईर्षया करनी शुरू कर दी। तथा कई बार हमला करने आये पर हार कर गये। पाऊंटा साहिब के पास भंगाणी के युद्ध में तथा ज्वाला जी के निकट नादौण व्यास के तट पर पहाड़ी राजाओं तथा मुगलों की सम्मिलित शक्ति को ललकार कर विजय प्राप्त की। इन जीतों से चिढ़कर पहाड़ी राजाओं ने सामूहिक रूप से आनन्दपुर साहिब को घेर कर, मुगल सेना की सहायता से गुरु साहिब से बदला चुकाने का फैसला लिया।

 

 

विचित्र सिंह के हाथी के साथ युद्ध:—-

एक बार बाईस धार के राजाओं ने एक मस्त हाथी को शराब पिलाकर हथियारों से लैस करके लोहगढ़ के किले का द्वार तोड़ने के लिए भेजा ताकि पीछे फौज भी अंदर घुस सके और गुरु जी को पकड़ा जा सके। गुरु जी ने विचित्र सिंह को इशारा किया कि नंगा बरछा लेकर उस मदमस्त हाथी से जाकर युद्ध करो तो उस सिंह ने ऐसी जोर से नागिनी हाथी के माथे पर दे मारी कि वह जख्मी होकर अपनी ही फौज में भाग खड़ा हुआ और अनेक सैनिक उसके पांव तले आकर घायल हो गये।

 

 

शाही सेना को घेरा-

जब बाईस धार के पहाड़ी राजाओं तथा मुगल सेना ने आनन्दपुर को चारो और से घेरा दाल लिया तो आनन्दगड़ किले में घिरे गुरू साहिब तथा सिंह सूरमे तथा बाहर अनगिनत पहाड़ी वे मुगल सेना को लड़ाते बहुत समय बीत गया तो अंदर रसद पानी की कमी हो गई तो सिंहो में चिंता होने लगी।

 

 

बेदाव-

भूख व थकान के टूटे कुछ सिंह कमज़ोरी दिखाने लगे तो भाई मानसिंह कुछ सिंहों को साथ लेकर गुरू साहिब के सामने आये और विनती की अब हमें छुट्टियों देवें भूखे पेट अधिक दिनों तक लड़ा नहीं जाएगा। गुरू जी बोले अभी से डोल रहे हो। गुरु पंथ का साथ छोडकर जाओगे कहा बाहर भी तो जाना कठिन है। सिंहो ने सुनकर आंखें नीची कर ली। गुरू जी ने फिर कहा अच्छा भाई तुम्हारी इच्छा है जाना चाहते हो तो जाओ लेकिन एक रुक्का लिखकर हमें दे जाना कि न हम आपके सिंह है और न ही आप हमारे गुरु।

गुरु के कहने पर सिक्खों ने ऐसा ही कर दिया। कागज पर यह पंक्ति लिखकर दिया। गुरु देव ने कागज का वह पुर्जा संभाल कर रख लिया। जिसे सिक्ख इतिहास में बेदावा कहते है।

 

गुरु गोबिंद सिंह जी अमृत बनाते
गुरु गोबिंद सिंह जी अमृत बनाते

 

 

भाई घनईया जी पर प्रसन्नता:—–

जंग तेजी से हो रही थी कुछ सिंह भाई घन्हैया को पकड़ कर गुरु जी के पास लेकर आये, शिकायत की कि हजूर जिन दुश्मनों को हम मौत के घाट उतारने की कोशिश करते है उन्हें पानी पिलाकर यह फिर से तरोताजा कर देता है।

गुरु गोबिंद सिंह ने पूछा — क्या यह सिंह सही कह रहे तो गले में पल्ला डालकर तथा हाथ जोड़कर भाई जी ने कहा कि साहिब जब मैं जंग के दौरान किसी के मुंह में पानी डालता हूँ तो हर एक के चेहरे पर मुझे आप ही के दर्शन होते है। ऐसा प्रतीत होता है कि मै आपके मुख में पानी डाल रहा हूँ।

सदगुरू यह जानकर बहुत प्रसन्न हुए और भाई घन्ईया को अपने सीने से लगाया और आशीर्वाद दिया और एक डब्बी मरहम की देकर कहने लगे जिस जख्मी को पानी पिलाओ उसके घावों पर मरहम भी लगा दिया करो। जो सिंह देख सुन रहे थे गुरु जी की जय जयकार करने लगे तथा भाई घन्ईया धन्य हो धन्य हो कहने लगे।

 

 

 

आनन्दपुर का त्याग:—–

पहाड़ी राजाओं ने आटे की गाय बनाकर कसमें खाई कि अगर कुछ देर के लिए आनन्दपुर छोड़कर चले जाये तो फिर हम हमला नहीं करेंगे। जब महाराज ने उसकी उनकी कसमों पर एतबार करके आनन्दपुर से कूच कर दिया तो चारों ओर से पहाड़ी राजाओं तथा मुगल सेनाओं ने सिखों पर हमला कर दिया। सरसा नदी के किनारे भयंकर युद्ध हुआ। रात के अंधेरे में जब सरसा नदी पार कर रहे थे तो गुरू गोबिंद सिंह जी की माता गुजरी तथा छोटे पुत्र संग से बिछड़ गये तथा गुरु घर का लांगरी गंगू ब्राह्मण उन्हें अपने गाँव ले गया। रात को उनके जेवर व नगदी आदि चुरा लिया और माता व बच्चों को पकड़वा दिया वहां से माता व बच्चों को पकड़कर सरहिंद लाया गया जहां आपसे मुसलमान होने अथवा मौत में से एक को चुनने के लिए कहा गया। गुरु पुत्र टस से मस न हुए तो उन्हें जिंदा दीवार में चुनवा दिया गया तथा माता गुजरी ठंड़े बुर्ज से गिराकर शहीद कर दी गई।

 

 

चमकौर की जंग:—–

सरसा के दूसरे जत्थे में गुरु महाराज अपने चालीस के करीब जांबाज सिक्खों के साथ चमकौर की कच्ची गढ़ी में दो पुत्रों के साथ फिर से दुश्मन का मुकाबला करने लगे। अंदर से पांच पांच सिंहो का जत्था जयकारे लगाते हुए निकलते तथा अनेक दुश्मनों को मौत के घाट उतारते हुए शहीद हो गये। इसी जंग में गुरु गोबिंद सिंह के दो बड़े पुत्र शहीद हो गयें।

 

 

 

पंथ का हुकम:—–

जब दोनों पुत्र तथा बहुत से सिंघ शहीद हो गये तो भाई दया सिंह जी ने विनती की कि महाराज सच्चे पातशाह आपसे पंथ की आज्ञा है किआप गढ़ी छोड़कर चले जायें क्योंकि आप रहते है तो फिर से खालसा फौज बनाकर दुष्टों को टक्कर दे सकेंगे। गुरु जी यह सुनकर गुस्से में बोले— थोड़ा ध्यान करे कि क्या कह रहे हो कि मै जान बचा कर चला जाऊं। यह तो तीन काल तक होना मुश्किल है गोबिंद सिंह अपने सिक्खों का साथ कैसे छोड़ कर जा सकता है। जब दया सिंह जी ने देखा कि वे नहीं मानने वाले तो उन्होंने चार सिंघ अपने साथ और लिए और गुरु जी से फिर जाकर कहा कि अब तो पांच प्यारों का आपको हुक्म है कि आप गढ़ी छोड़कर फौरन चले जायें। पंथ का ऐसा सामूहिक हुकम सुनकर गुरु गोबिंद सिंह जी पंथ के सत्कार के लिए खड़े हो गये।

सच्चे पातशाह ने अपने ही द्वारा बताई हुई मर्यादा का सम्मान करते हुए अपनी कलगी तथा चोला उतारकर भाई जीवन सिंह को पहना दिया तथा गढ़ी से बाहर आ गये। साथ में कुछ सिख और थे। आजकल जहां गुरूद्वारा ताड़ी साहिब स्थित है उस स्थान पर मुसलमान फौजों के बीच में ताड़ी बजाकर ललकार कर यह कहते हुए निकल गये कि हिन्दुओं का पीर जा रहा है जिस किसी में हिम्मत हो तो रोक ले।

 

 

 

माछीवाड़ा:—–

चमकौर से शहंशाह पैदल चलते हुए माछीवाड़ा के जंगल में सिरहाने पत्थर तथा छाती पर ढाल रखकर कुछ समय के लिए सोने का यत्न करने लगे वहां से कुछ मुसलमान साथियों की सहायता से उच्च दे पीर बनकर निकले।

 

 

डल्ले की परख:——

जब साबों की तलवंडी पहुंचे तो डल्ला सरदार कहने लगा कि महाराज आपने व्यर्थ में ही इतने सिख मरवा लिए मुझसे एक बार भी कहा होता तो मै अपने जवान आपकी सहायता के लिए भेज देता। उसी समय एक सिख बंदूक लेकर आ गया तो गुरु जी ने कहा डल्ला जी जहा अपने जवानों में से कोई एक सामने खड़ा करो हमें इस बंदूक का निशाना परखना है। यह सुनते ही डल्ला व उसके साथी घबरा गये तथा पीछे हट गये तब गुरु जी ने कहा कि मेरे सिक्खों को यह खबर सुनाओ।

गुरू जी का संदेश सुनकर दो सिख एकदम झगड़ते हुए आ गए दोनों ही अपने आपको निशाना बनवाना चाह रहे थे। गुरु जी ने उठकर इन दोनों को गले से लगा लिया। इस प्रकार डल्ले का अहंकार चूर हो गया।

 

 

माता सुंदरी जी की विनती:—–

दीवान में आकर माता सुंदरी जी ने पूछा कि पातशाह क्या बात है मेरे चारों पुत्र एवं माता कहाँ है सिंह सूरमें, नीला घोड़ा, बाज, कलगी, घोड़ा कुछ भी नजर नहीं आ रहा तो आपके पंच प्यारे भी साथ में नहीं है।

 

 

गुरु की काशी:—–

गुरु जी वरदान दिया कि वह स्थान गुरु काशी है। भले ही कोई कितना भी मंदबुद्धि हो, अनपढ़ हो यहां आकर विद्वान हो जायेगा यह वचन करते हुए कल में धड धड कर पानी की ढाब में गिरानी शुरू कर दी। आज इस स्थान पर लिखनसर नामक गुरुद्वारा बना हुआ है तथा तलवंडी साबो खालसे का भारी जोड़ मेला लगता है।

 

 

मुक्तसर:——

गुरु जी खिदराने की ढाब जो आजकल मुक्तसर के नाम से प्रसिद्ध है जा पहुंचे। वहां भी मुगलों के साथ लड़ाई हो गई। माई भागों तथा चालीस सिंह जो आनन्दपुर में गुरु जी को छोड़कर चले आये थे जान तोड़कर लड़े और शहीद हो गये। महाराज जी ने उन सबको अपने सगे पुत्रो की तरह प्यार किया और कहा कि यह मेरा पंज हजारी है, यह मेरा दस हजारी है। भाई महां सिंह को गुरु जी ने अपनी गोद में सहारा दिया और कहां कि जत्थेदार मांग लो अब भी जो कुछ मांगना है तो यहां सिंह रो पड़ा कहने लगा — पातशाह जी मै बहुत शर्मिंदा हूँ। आपको मुश्किल में छोड़कर चला आया।

गुरु जी बोले मेरे पंथ के इन चालीस मुक्तों को लोग हर रोज अरदास करते समय नमन करा करेंगे तथा इस स्थान को भी खिदराने की ढाब की जगह मुक्तसर के नाम से जाना जायेगा।
मुक्तसर के युद्घ के पश्चात गुरु जी दक्षिण की ओर रवाना हो गये। दिल्ली से फिर दक्षिण की ओर चले ताकि नादेड़ पहुंच सके।

 

 

बंदा सिंह का मेल:—–

दसवें पातशाह जब नांदेड़ पहुंचे तो वहां बंदा सिंह वैरागी को सिंह सजाकर गुरूबख्स सिंह नाम देकर, हुक्मनामा, पांच सिंह तथा तीर दिये और आज्ञा की कि पंजाब जाकर दुष्टों का नाश करो। बंदे ने गुरु जी का आदेश मानते हुए पंजाब में आकर दुष्ट मुगलों से लोहा लोहा लिया तथा तथा सरहद की ईंट से ईटं बजा दी। गुरु के लालों का बदला चुकाया।

 

 

ज्योति ज्योत में समाना:——

अंततः जहां आजकल हजूर साहिब गुरुद्वारा बना हुआ है वहां गुरु गोबिंद सिंह जी ज्योति ज्योत में समा गये। जब अंगीठा खोला गया तो उसमें कुछ भी नहीं पाया गया। कुछ इतिहासकार खहते है कि महाराज घोड़े पर सवार कुछ सिक्खों को मिले थे पर अकाल पुरुष की बातें वहीं जाने। इस प्रकार सारा खानदान सरबंस वार कर, स्वर्स्व भारत माता की रक्षा व धर्म की रक्षा के लिए दाव पर लगा गये। जिसके बराबर की कोई मिसाल नहीं है।

दसवें पातशाह ने मसंद प्रथा को खत्म करके संगत को सीधा अपने साथ जोड़ लिया था क्योंकि मसंद आचरणहीन हो चुके थे। इसी प्रकार नांदेड़ में गुरु जु गुरु ग्रंथ साहिब को जुगों जुग अटल गुरु गद्दी पर विराजमान कर दिया और सिक्खों को गुरु मान्यो ग्रंथ का आदेश दिया।

 

गुरु गोबिंद सिंह जी की वाणी:—-

जाप साहिब, अकाल उसतति, चौपाई, बचित्र नाटक, सवईये, शब्द हजारे, जफरनामा, दशम ग्रंथ साहिब में संग्रहित।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—–

 

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more