गुरु का ताल आगरा -आगरा गुरुद्वारा गुरु का ताल हिस्ट्री इन हिन्दी

आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन शहर है। पहले पहल इस शहर को द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण जी के नाना व कंस के पिता हिन्दू राजा उग्रसेन जो बहुत धार्मिक व प्रभु भक्त ने बसाया था। उस समय इसका नाम अग्रवन था। अकबर बादशाह ने इसको बदलकर अकबराबाद रख दिया था और समय के चलते आज इस शहर का नाम आगरा हो गया है। बाद में पन्द्रहवीं शताब्दी के मध्य में सिकंदर लोधी ने इसको अपनी राजधानी बना लिया जिसके पहले मुगल बादशाहों ने भी राजधानी ही जारी रखा। मुगल बादशाह शाहजहां ने यहां से राजधानी बदलकर दिल्ली ले गया था। जिससे आगरा की महत्ता कम हो गई।  उसके बाद शाहजहां ने यहां पर अपनी बेगम मुमताज महल की याद में यमुना नदी के किनारे दक्षिण की तरफ ताजमहल का निर्माण 1632 से 1648 ई. तक पूरा कराया। जिससे यह शहर दोबारा से विश्वभर में सैलानियों की पसंद का केन्द्र बन गया। गुरु का ताल भी इसी ऐतिहासिक शहर का मुख्य पर्यटन व धार्मिक स्थल है।

 

 

 

गुरुद्वारा दुख निवारण गुरु का ताल आगरा में श्री गुरु तेगबहादुर मार्ग पर स्थित है। सिख इतिहास से भी इस शहर का बहुत पुराना संबंध है। इस पावन पवित्र व ऐतिहासिक धरती पर श्री गुरु नानकदेव जी, श्री गुरु हरगोबिंद साहिब जी, श्री गुरु तेगबहादुर साहिब जी तथा श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के चरण कंवल पड़े है। जिनकी याद में गुरुद्वारा गुरु का ताल बना हुआ है।

 

 

गुरुद्वारा गुरु का ताल हिस्ट्री इन हिन्दी, गुरु का ताल आगरा का इतिहास

 

 

आनंदपुर साहिब से चलकर गुरु साहिब कीरतपुर के रास्ते पड़ाव दर पड़ाव रोपड़, सैफाबाद, पटियाला, समाना, कैथल, जींद, लखन, मजारा, रोहतक, जानीपुर, मथुरा आदि स्थानों से होते हुए गुरु नानक मिशन का प्रचार करते हुए दिल्ली से आगे आ गये। इस समय वर्षा की ऋतु आ चुकी थी। औरंगजेब को शक हो गया कि गुरु साहिब कहीं छुप गये है। इसलिए उसने एक फरमान जारी कर दिया कि हिन्दुओं के पीर श्री गुरु तेगबहादुर को पकड़वाने वाले को 500 मोहरें ईनाम में दी जायेगी।

 

गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा

 

औरंगजेब ने उनके सामने तीन शर्ते रखी, पहली कि वह कोई करामात दिखाये, दूसरी इस्लाम कबूल करके मुसलमान बन जाये। अगर वह दोनों बातों से इंकार करें तो तीसरी बात कत्ल होना कबूल लें। जब गुरु साहिब को काजियों ने शाही फरमान पढ़कर सुनाया तो गुरु साहिब ने पहली दोनों बातें न मानते हुए तीसरी शर्त शहादत का नाम पीना परवान कर लिया, क्योंकि गुरु साहिब आनंदपुर साहिब से चलने पर यह संकल्प ले चुके थे। इसलिए समय की नजाकत को देखते हुए गुरु साहिब ने भाई मतीदास, भाई सतीदास, भाई दयाला जी को अपने साथ रखकर भाई गुरदित्ता को पांच पैसे नारियल देकर गुरुघर की चली आ रही मर्यादा के अनुसार गुरूगददी गोबिन्द राय जी को देने के लिए आनंदपुर साहिब भेज दिया, अथवा भाई जैता जी को अपना शीश आनंदपुर साहिब में ले जाने की ताकीद कर दी। भाई गुरुदीत्ता जी ने आनंदपुर साहिब पहुंचकर बाल गोबिंद राय जी को आनंदपुर साहिब से दिल्ली तक पहुंचने की सारी वार्ता सुनाई अथवा गुरूगददी की रस्म भी अदा की। औरंगजेब गुरु साहिब की शहादत का जाम पीने वाले फैसले को सुनकर अपने आप से बाहर हो गया फलस्वरूप उसने जल्लादों से कहा कि उसके सामने भाई मतीदास को आरे से चीर कर दो फाड़कर दिया जाये।

 

 

भाई सतीदास को रुई में लपेटकर आग लगा दी जाये व भाई दयाला को उबलते हुए पानी में डालकर शहीद किया जाये। इस समय गुरु साहिब लोहे के पिंजरे में बंद यह सब अपनी आंखों से देख रहे थे, जैसे जैसे गुरु साहिब का चेहरा जलाल से लाल हो रहा था उसे देखकर औरंगजेब का मन डोल रहा था। मगर फिर भी वह जुल्म करता ही रहा। अंत में शाही फरमान के अनुसार 11 नवंबर 1675 ई. को शाही जल्लाद जलालुद्दीन ने तलवार के साथ गुरु साहिब पर वार किया तो हाहाकार मच गई एक आंधी आई। जिसे देखकर वहां की सारी जनता भयभीत हो गयीं।

 

 

वह सुरक्षित स्थानों की ओर भागने लगी। उस समय बादशाही सिंहासन डोला और पापों का ठीकरा चोरस्तें ही फूट गया ( जहां पर चांदनी चौक दिल्ली में गुरुद्वारा शीशगंज साहिब है) दिन में ही अंधेरा छा गया था।

 

 

आगरा में गुरु का ताल एक अलग स्थान है। इस स्थान से परवाना लोक भलाई हेतु शमा पर शहीद होने के लिए खुद चलकर अपने कातिल के पास पहुंचा। संसार में परोपकार से भरे उदाहरण और कहीं नहीं मिलते। इस स्थान पर गुरु साहिब की याद में बनी विशाल आलीशान इमारतें आज भी गुरु साहिब की धर्म हेतु दी गई कुर्बानी की याद ताजा करती है।यहां पर लाखों श्रृद्धालु व सैलानी हर साल आते है। यह स्थान आज सिख धर्म के प्रचार का केंद्र बन चुका है।

 

 

गुरुद्वारा गुरु का ताल का निर्माण

 

श्री 111 संत अतर सिंह जी गुरुद्वारा मस्तुआना से वरोसाये उनके प्रिय सेवक व त्याग की मूरत संत हरिसिंह जी आजादी से पहले धर्म रक्षा के लिए जब हजूर साहिब पहुंचे तो उस समय संत साधु सिंह जी मोनी भी उनके साथ थे। वही संत हरिसिंह की संगत करते हुए संत निधान सिंह जी की संगत आ गये और वहां गोदावरी नदी के किनारे नगीना घाट गुरुद्वारे में लंगर सेवा तनमन से करते रहे।

 

 

इसके बाद संत हरनाम सिंह जी आगरा में सन् 1971 ई. को गुरुद्वारा गुरु का ताल आये। आगरा पहुंचने पर आगरा की संगतों के सहयोग से सितंबर 1971 को पूर्णिमा वाले दिन गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा की सेवा में आया। साथी संत निरंजन सिंह व संत प्रीतम सिंह जी को अपने साथ लेकर इस महान सेवा को करते हुए इस स्थान का नक्शा ही बदल दिया। समय के साथ साथ आसपास की जमीन खरीदकर गुरुघर की जमीन को बढावा दिया।

 

 

गुरुद्वारा गुरु का ताल का क्षेत्रफल लगभग 30 एकड़ है। संत साधू सिंह जी मौनी सन् 1971 से 1987 तक इस स्थान की सेवा करते रहे। इस गुरुदारा में सालाना गुरमत समागम, गुरु नानक गुरुपर्व शहीदी गुरुपर्व, पूर्णिमा आदि त्योहार धूमधाम से मनाये जाते है। यहां पर हर साल शरद पूर्णिमा को रात को 6 बजे से 11 बजे तक अस्थमा की विशेष दवाई वितरण की जाती है। गुरुदारे मे एक गौशाला भी है। जिसमें लगभग 150 गायों की सेवा की जाती है। गुरुदारे में निरंतर लंगर चलता रहता है। यहां पर कोई कर्मचारी नहीं है लेकिन लगभग 300 सेवादार यहा रहते है जो सेवा करते है। गुरुद्वारा कमेटी द्वारा यहां पर ठहरने का उचित प्रबंध है जिसमें 50 वातानुकूलित कमरे तथा 40 सामान्य कमरे है। भारत वर्ष से सालाना लाखों की संख्या में यहां श्रृद्धालु व पर्यटक आते है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े :——

 

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state)
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है।
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है।
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है।
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *