Alvitrips – Tourism, History and Biography

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi

गुरु अर्जुन देव जी की कथा, वाणी व गुरु अर्जुन देव जी का जीवन परिचय

गुरु अर्जुन देव जी महाराज

गुरु अर्जुन देव जी महाराज सिक्खों के पांचवें गुरु है। गुरु अर्जुन देव जी का जन्म 19 बैसाख, वि.सं. 1620 को गोइंदवाल साहिब में श्री गुरु रामदास जी महाराज के घर में हुआ था। गोइंदवाल आपकी ननिहाल थी तथा आप बचपन में नानके ही रहे। भाद्रपद शुक्ल दूज वि.सं. 1638 में आपको गुरूगददी प्राप्त हुई।

 

 

गुरु अर्जुन देव जी की कथा, वाणी व जीवन परिचय के बारें में

 

जन्म —- 19 वैसाख 1620 वि.सं. (15 अप्रैल 1563 ई.)
जन्म स्थान —- गोइंदवाल साहिब जिला अमृतसर
पिता —- गुरु रामदास जी
माता —- माता भानी जी
पत्नी —- माता गंगा जी
पुत्र —- श्री गुरु हरगोविंद साहिब जी
गुरूगददी — भाद्रो शुक्ल दूज वि.सं. 1638 ( 16 सितंबर 1581 ई.)
ज्योति ज्योत —- ज्येष्ठ शुक्ल चौथ वि.सं. 1663 ( 30 मई 1606 ई)
स्थान —- लाहौर पाकिस्तान

 

 

पृथ्वी चन्द्र का विरोध:—-

जब गुरु अर्जुन देव को गुरु गद्दी की पगड़ी पहनाई जाने लगी तो पृथ्वी चन्द्र ने विरोध किया कि पगड़ी पर मेरा अधिकार है। मैं बड़ा हूँ। तब गुरु अर्जुन साहिब ने कहा आप ही पगड़ी बांध लें।

 

 

भाई गुरदास जी का आना:—-

कुछ समय पश्चात भाई गुरदास जी भी अमृतसर आ गये। जब रात्रि के समय भोजन करने लगे तो लंगर से लांगरी मिस्सी रोटियां आपके लिए लेकर आए। भाई जी ने जब आपसे मिस्सी रोटी के बारें में पूछा तो आपने कहा माता जी से जाकर पता करें। फिर भाई गुरदास जी माता भानी के पास पहुंचे तो उन्होंने बताया कि पृथ्वी चन्द्र व महादेव संगतों में झूठा प्रचार करके सारी कार भेंट ले जाते है तब भाई जी ने संगत को सही जानकारी देकर सीधे मार्ग पर डाला। इस प्रकार फिर से गुरु घर में काफी भेंट पहुंचने लगी।

 

 

गुरु अर्जुन देव जी महाराज
गुरु अर्जुन देव जी महाराज

 

गुरु जी की दयालुता:—-

जब इस प्रकार सारी भेंट फिर से गुरु के घर में भाई गुरदास जी की प्ररेणा से पहुंचने लगी तो पृथ्वी चन्द्र व महादेव ने माता जी के पास आकर फिर से शोरगुल किया कि हमारा गुजारा मुश्किल हो गया है सारी सेवा तो गुरु घर में आने लगी है। तब गुरु अर्जुन देव जी ने बड़ी दया करके, गुरु बाजार की दुकानों का किराया, आढ़त आदि बड़े भाई पृथ्वी चन्द्र को तथा पासीयां की कमाई भाई महादेव को सौंप दी ताकि वह भी सुख से रह सके।

 

 

 

साकेदारी में ईष्या:—-

इस प्रकार गुरूघर की बढ़ोत्तरी देखकर पृथ्वी चन्द्र की ईर्ष्या बढ़ती गई। उसके घर एक बेटा मेहरबान था जबकि आपके घर पुत्र नहीं था। एक बार आपकी पत्नी गंगा ने किमती शॉल धूप दिखाने के लिए छत पर डाली तो पृथ्वी चन्द्र की पत्नी जल बुझ गई। रात में अपने पति से झगड कर कहने लगी यदि आप अपने पिता से बनाकर रखते तो आज वह कीमती शॉल उनके घर नहीं बल्कि हमारे घर आती क्योंकि आप गुरु होते। यह सब सुनकर पृथ्वी चन्द्र बोला चिंता क्यों करती हो यह सब हमारे पुत्र मेहरबान का ही तो है उनके घर तो कोई संतान नहीं। सब कुछ के मालिक हम ही तो होगें।

 

 

 

माता गंगा जी की परेशानी:—

यह बात गुरु घर की दासी ने सुनकर माता गंगा जी को जा बताई। माता गंगा जी ने सुना तो बहुत चिंता में पड़ गई। रात में गुरु जी घर आये तो विनती की कि महाराज माई करमो ने बड़े दिल दुखाने वाले वचन कहें है। तब गुरु अर्जुन देव जी ने माता गंगा जी से कहा कि पुत्र प्राप्ति का वरदान प्राप्त करने के लिए आप बाबा बुड्ढा जी के पास जाएं। उनके वचन अटल है व अवश्य आपका मनोरथ पूरा करेगें।

 

 

 

पुत्र प्राप्ति का वरदान:—-

जब माता गंगा जी बीड़ साहिब पहुंची तो बाबा बुड्ढा साहिब जी भूख से व्याकुल हो चुके थे। दूर से ही माता जी को आते हुए देखकर बहुत प्रसन्न हुए। माता जी पसीने से तर हो रही थी। लस्सी वाली चाटी सिर से उतारकर नीचे रखी और बाबा जी से प्रसाद चखने की विनती की। बाबा बुड्ढा जी मिस्से प्रसादे दही के साथ चखकर खूब प्रसन्न हुए तथा कहने लगें— कुर्बान जाऊं! माता हो तो ऐसी सचमुच ही आज माता की तरह ममतावश होकर भोजन कर गया हूँ जब प्याज पकड़ कर हथेलियों में दबाकर तोड़ने लगे तो सहज भाव से बोले — माता! आपके घर ऐसा महाबली योद्धा सुपुत्र पैदा होगा कि जिस प्रकार मैने प्याज फोड़ा है उसी प्रकार वह तुर्कों के सिर फोड़ेगा। पुत्र का वर लेकर रात्रि होते वापिस अमृतसर लौट आयीं तथा गुरु जी से सारे समाचार खुशी से बतलाये।
बाबा बुड्ढा जी के वरदान स्वरूप श्री हरगोविंद साहिब जी महाराज का जन्म हुआ और यह पावन अवसर सारे सिक्ख जगत में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।

 

 

 

श्री हरिमंदिर साहिब का निर्माण:—-

जब सरोवर की कार सेवा समाप्त हुई तो गुरू जी ने अमृत सरोवर के बीचोबीच श्री हरमंदिर साहिब की नीवं प्रसिद्ध सूफी संत मियां मीर जी से रखवाई। इस मंदिर के चारों ओर चार द्वार, चार वर्णों के लिए समान रखे गये। जब हरिमंदिर जी की सेवा चालू थी तो गुरुसिखो ने अपनी आंखों से देखा कि भगवान श्री हरि मनुष्य रूप धारण कर सेवा में सम्मिलित हो रहे थे।

एक बार आप गुरू सिक्खों के एक दल के साथ अपने ननिहाल गोइंदवाल जा रहे थे तो तरनतारन में एक वृक्ष के नीचे विश्राम करने लगें तो कुछ कुष्ठ रोगी दर्शन करने आ गये। उनके दुख दूर करने के लिए 17 वैसाख 1647 को एक नये तीर्थ की रचना की, और एक सरोवर खुदवाया तथा वचन दिया कि जो कोई भी इस सरोवर में स्नान करेगा उसके सब दुख दूर होगें। आपने सरोवर के तट पर भी गुरुद्वारे की स्थापना करवाईं।

 

 

गुरु जी बारठ गये:—

एक बार गुरु बारठ साहिब, श्री गुरु नानक पातशाह के बड़े बेटे बाबा श्री चन्द्र जी के दर्शन करने गये। वहां सुखमनी साहिब की सोलह अष्टपदीयां सुनाई तो बाबा जी बहुत खुश हुए और आज्ञा दी कि प्राणी एक दिन में 24000 श्वास लेता है इसलिए आप आठ 8 अष्टपदीयां और रचना कर पूरी 24 कर देवें ताकि 24 घंटे प्राणियों के श्वास सफल हो सकें। गुरु जी ने कहा आगे आप रचना कर देवें तो बाबा जी ने आदि सचु जुगादि सचु है भि सचु नानक होसी भि सचु। श्लोक पढ़कर कहा कि आगे आप रचना पूरी करें सो गुरु जी ने 24 अष्टपदियां सम्मपूर्ण की।

 

 

श्री गुरु ग्रंथ साहिब की रचना:—

गुरु जी ने गुरूद्वारा रामसर में बैठकर, कनाते लगवाकर, भाई गुरदास आदि प्रमुख सिक्खों से पोथियां इकट्ठी करवाई तथा श्री गुरु ग्रंथ साहिब की सम्पादना की। इस स्थान पर वृक्षों के तले एक छोटी सी पोखर थी। जिसमें बारिश का पानी इकटठा हो जाया करता था। गुरु जी ने इसे ही रामसर सरोवर का स्वरूप प्रदान किया। भाद्रपद शुक्ल एक, वि.सं. 1661 को पोथी साहिब का श्री हरिमंदिर साहिब में प्रथम प्रकाश हुआ और बाबा बुड्ढा साहिब जी प्रथम ग्रंथी नियुक्त किये गये।

 

 

 

गुरु अर्जुन देव जी की शहीदी:—

गुरु अर्जुन देव जी की शहीदी गाथा सुनकर प्रत्येक दिल दर्द से व्याकुल हो उठता है। कि कैसे लाहौर के दीवान चन्दूलाल ने ज्येष्ठ महीने की गर्म कड़कती धूप में आपको कष्ट पहुंचाया। आग जलाकर, लोहे के तवे गर्म करवाकर, आपको उस गर्म तवे पर बिठाया तथा सिर पर गर्म बालू के कड़छे भर भर कर डलवाये, गर्म देकची के पानी में उबलवाया।

वह सद्गुरु सच्चा पातशाह श्री हरिमंदिर साहिब में गद्दी पर बिराजने वाले जिनके शीश पर छत्र झूलते थे, चंवर होते थे उन्हें गर्म तवे पर बिठाया तो आप उसे ही तख्त समझकर उस मीठे साजन की रजा में आलती पालती लगाकर बैठे, यह पंक्ति गा रहे थे। ” तेरा भाणा मीठा लागै, हरिनाम पदार्थ नानक मांगैं” मेरे दातार पातशाह ने लाखों कष्ट सहकर, अकह व असह जुल्म बर्दाश्त करके सिक्ख कौम का पौधा अपने खून से सींचा है। जिसके बाद सिक्ख पंथ को सद्गुरु जी की ओर सेवा सिमरन तथा बलिदान की धरोहर प्राप्त हुई है और पंथ आज तक चढ़दी कला में है। गुरु अर्जुन देव जी के अंदर कुर्बानी की इतनी शक्ति कैसे आई? श्री गुरु ग्रंथ साहिब सा नाम का जहाज प्यार करने का सामर्थ्य कहां से पाया। पिता जी भी गुरु थे और आप भी गुरु थे। आपकी माता भानी जी सेवा के पुंज थे।

 

गुरु अर्जुन देव जी महाराज
गुरु अर्जुन देव जी महाराज

 

प्रथम आशीष:—-

बीबी भानी जी ने अपने प्यारे पिता श्री गुरु अमरदास जी की अथाह सेवा करके “गुरूगददी घर में ही रहे” का वरदान मांगा तो तीसरे पातशाह ने अपनी पुत्री बीबी भानी जी से कहा था, प्यारी बच्ची यह गुरियाई बहुत महंगी पडेगी। आपके सोढ़ी वंश को महान कुर्बानियां करनी पड़ेगी। फिर बीबी भानी को आंख मूंद कर, जो जो कुछ विपदाएं सोढ़ी वंश पर आने वाली थी का सारा कौतूहल शांत कर दिया था, पर बीबी भानी ने फिर भी हौसला नहीं छोड़ा न ही डोलायमान हुई। अपने वचनों पर अडिग रहते हुए, बड़ी बड़ी दलेरी व नम्रता पूर्वक विनती की कि पिता जी अपनी कृपा द्वारा बल प्रदान करें, ताकि मेरा वंश हंसते मुस्कुराते सारी कुर्बानियां कर सकें। गुरु पिता ने कहा अच्छा बच्ची जैसे तेरे विचार है वैसे ही फलीभूत होगें।

 

 

 

दूसरी बार आशीष:—-

गुरु अर्जुन देव जी अभी दो तीन साल के ही थे कि माता भानी जी एक रोज दीवान में बच्चे को गोद में लिए बैठी थी। बाल्यावस्था होने के कारण जम कर नहीं बैठते थे, चारों ओर लुढ़कते फिर रहे थे। भोले पातशाह श्री गुरु अमरदास जी अपने चांद से प्यारे दोहते गुरु अर्जुन देव को गोद में बिठाकर दुलारने लगे तथा बोले — मेरा दोहता वाणी का बोहिथा। महान वाणी की रचना करके गृहस्थी जीवों का पार उतारा। इसके द्वार के बड़े बड़े वेदांती यती, योगी, ज्ञान प्रसाद लेकर तृप्त होगें। यह संसार के पर्दे ढांपेगा तथा सिक्ख कौम की जड़े पाताल में ले जावेगा इत्यादि।

इन ऐतिहासिक घटनाओं से स्पष्ट है कि कोई आम आदमी इतनी बडी कुर्बानी नहीं कर सकता। पंचम पातशाह अपने बुजुर्ग गुरु नाना जी तथा प्यारे पिता श्री गुरु रामदास जी महाराज की सेवा आज्ञा में रहकर और उनके आशीर्वाद से आत्मिक स्तर पर बलवान बने। इतना ही नहीं हरिमंदिर साहिब से सचखंड की सृजना की जो गृहस्थियों के लिए मुक्ति का केन्द्र बन गया। पंचम पातशाह जी ने अपने खून से सिक्खी का श्रृंगार किया। श्री गुरु तेगबहादुर जी ने धर्म की रक्षा करने के लिए चांदनी चौक, दिल्ली में बलिदान दिया, भाई मती दास जी आरे के साथ चिराये गये, भाई दयाला जी भी उबलते हुए पानी की देग में बिठाये गये। बाबा दीप सिंह जी ने शीश हथेली पर संभाला, वर्तमान समय में भी सिक्ख पंथ पर सदा चढ़दी कला में रखा। ज्येष्ठ शुक्ल चौथ, 1663 वि.सं. में आप ज्योति ज्योत में समा गये।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर” कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
“खालसा पंथ” दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more

write a comment

%d bloggers like this: