गुरु अमरदास जी का जीवन परिचय – गुरु अमरदास जी बायोग्राफी

गुरु अमरदास जी

श्री गुरु अमरदास जी महाराज सिखों के तीसरे गुरु साहिब थे। गुरु अमरदास जी का जन्म अमृतसर जिले के ग्राम बासरके में श्री तेजभान भल्ला खत्री के घर में हुआ था। आपकी माता श्री सुलक्खणी जी थी। आपका विवाह 11माघ, वि.सं. 1559 श्री मनसा देवी सुपुत्री श्री देवी चंद्र बहिल के साथ हुआ था।

 

 

श्री गुरु अमरदास जी का जीवन परिचय, गुरु अमरदास जी की जीवनी, गुरु अमरदास जी का सत्संग

 

 

जन्म — वैशाख शुक्ल 14, वि.सं. 1526 (23 मई 1479)
जन्म स्थान — ग्राम बासरके, जिला अमृतसर
पिता—- श्री तेजभान जी
माता—- माता सुलक्खणी जी
वंश—- भल्ला, क्षत्रिय
पत्नी—- श्री मनसा देवी जी
पुत्र एवं पुत्री—- बाबा मोहन जी, बाबा मोहरी, बीबी दानी जी, बीबी भानी जी
गुरु गद्दी— चैत्र शुक्ल 1, वि.सं. 1609 (16 अप्रैल सन् 1552 ई.)
ज्योति ज्योत—- भाद्रपद शुक्ल 15, वि.सं. 1631(16 अप्रैल सन् 1574 ई.)

 

 

 

गुरु मिलाप—

 

 

श्री गुरु अंगद देव जी महाराज खडूर साहिब में विराजमान थे और उनकी सुपुत्री बीबी अमरो, बासरके गांव में इनके भाई के बेटे के साथ ब्याही हुई थी। एक दिन वह गुरूवाणी का पाठ कर रही थी। अमृतवाणी की मीठी मीठी फुहार जब गुरू अमरदास जी के कानों में पड़ी तो आपने बीबी अमरो जी से पूछा– बेटा! तुम किस वाणी का पाठ कर रही हो। बीबी ने बताया कि यह तो मेरे परम पूज्य पिता श्री गुरु अंगद देव जी जो खडूर साहिब में विराजमान है, तथा श्री गुरु नानक देव जी महाराज की गददी पर सुशोभित है, उनकी वाणी है। संगत दूर दूर से उनके दर्शन करने आती है। ऐसा सुनकर श्री गुरू अमरदास जी के मन में भी गुरु जी के दर्शन करने की अभिलाषा हुई और एक दिन आप बीबी अमरो को साथ लेकर खडूर साहिब आ पहुंचे। दर्शन करके ऐसे निहाल हुए कि फिर सदा के लिए उनके द्वार पर टिक गए। इस प्रकार गुरु द्वार पर ही हरि रंग से रंगे रहने लगे। बहुत अधिक सेवा गुरु दरबार की करते रहे। आधी रात जागकर ब्यास नदी से गुरु महाराज के स्नान के लिए खडूर साहिब से चलकर अंधेरे सवेरे नित्य प्रति पानी की गागर भरकर लाते तथा दिन भर गुरु घर की सेवा में लीन रहते।

 

 

 

महान तीर्थ बावली साहिब श्री गोइंदवाल साहिब की रचना—

 

गोइंदवाल जिला अमृतसर में व्यास नदी के किनारे आबाद है। श्री खडूर साहिब में गोंदा खत्री नामक एक श्रृद्धालु ने, गुरु अंगद देव जी के दरबार में हाजिर होकर विनय की कि हे दयालु जी! मेरा गांव उजड़ चुका है। वहां भूत प्रेत बसने लगे है। जोकि किसी का भी घर आबाद नहीं होने देते। जो कोई भी दीवार खड़ी करते है अपने आप ही धरती पर आ गिरती है। मैने गुरु घर की बड़ी महिमा सुनी है और आपके चरणों में निवेदन है कि कृपा करके मेरा गांव फिर से आबाद करें।

 

 

उसकी विनती प्रवान करते हुए गुरु अंगद देव जी महाराज ने, गुरु अमरदास जी महाराज की ओर इशारा करते हुए कहा कि आप इस गोइंदा सेठ जी के साथ जाकर, एक धर्म नगरी आबाद करो। जब आप वहां की धरती पर कदम रखोगे तो वहां रिद्धि सिद्धियों का वासा हो जाएगा और सारी दुष्ट आत्माएं भूत प्रेत वगैरह वहां से भाग खड़े होगें। सारे दुख कलेश समाप्त हो जायेगे। इतिहास गवाह है कि गुरु साहिब के वचन सत्य साबित हुए जब गुरु जी की आज्ञा लेकर गुरु अमरदास जी ने उस धरती पर अपने चरण कमल रखे तो उस पृथ्वी का कण कण जगमग हो गया तथा उस स्थान की चरणधूलि को लोगों ने अपने माथे पर लगाकर भाग्य रोशन कर लिए।
सर्वप्रथम उस इलाके में पीने के पानी की कमी को देखते हुए गुरु अमरदास जी ने 84 सीढ़ियों वाली बावली की सेवा आरंभ करवाई और आज्ञा दी कि इन चौरासी सीढियों पर बैठकर एक एक सीढी पर जपुजी साहिब का पाठ करने वालों की चौरासी कट जाएगी।

 

गुरु अमरदास जी
गुरु अमरदास जी

 

 

वाणी की रचना—

 

आनंद साहिब तथा कुल शब्द 869 श्लोक छंद इत्यादि 17 रागों में थे।

 

 

गुरूद्वारा चुबारा साहिब–

 

यह चुबारा साहिब गुरूद्वारा गुरु जी ने बनवाया था और इसमें दीवार पर एक किल्ली (खूंटा) खास तौर पर लगवाई थी जिसे थामकर आप वृद्ध अवस्था में खड़े होकर तपस्या करते थे।

 

 

गुरूद्वारा बड़ा दरबार सभा स्थान—

 

इस स्थान पर आप काफी समय भजन बंदगी करते रहे तथा संगत दर्शनों के लिए व्याकुल हो रही थी। इस समय बाबा बुडढा साहिब तथा अन्य श्रृद्धालु सिक्खों की विनती सुनकर सभा में संगत को दर्शन देने के लिए आए। यही बीबी भानी जी की कोठडी, चूल्हा तथा तेईये तप की कोठड़ी है। इसी स्थान पर गुरु अर्जुन देव जी महाराज का जन्म हुआ था।

यह गोइंदवाल नगरी खडूर साहिब से तीन कोस के फासले पर बसी है। खडूर साहिब में ही गुरु अंगद देव जी ने गुरुमुखी अक्षर प्रचलित किए थे तथा यही पर हुमायूं बादशाह गुरु महाराज के दर्शन करने आया था।

 

 

गुरूद्वारा तपिआणा साहिब—

 

इस स्थान पर गुरु अंगद देव जी ने रोड़ो (कच्ची मिट्टी के रोड़े कंकड़) की सेज बनाकर कठिन तपस्या की थी।

 

 

गुरुद्वारा खडूर साहिब–

 

यहां गुरु अंगद देव जी ज्योति ज्योत समाये थे।

 

 

गुरूद्वारा दमदमा साहिब—

 

यहां पर गुरु अमरदास जी महाराज, दरिया ब्यास से पानी की गागर लाते हुए दम लिया करते थे।

 

 

बाईस प्रचार केन्द्र—

 

आपने गुरु नानक पातशाह का संदेश घर घर पहुचाने के लिए 22 प्रचार केन्द्र स्थापित किए। इस प्रकार आपने दूर दूर स्थानों पर रहने वाले गुरु सिक्खों को एक सूत्र में परोये रखने के लिए कार्यक्रम बनाये। जहाँ जहाँ भी गुरु सिक्ख थे वहां धर्मशालाओं में सत्संग जारी रखने के लिए चुनिंदा भक्त महान विद्वान तथा उंचे चरित्रवान व्यक्ति नियुक्त किए।

 

 

सामाजिक सुधार—

 

आपने पर्दा करने की रस्म की निंदा की। तथा बाल विधवाओं को सती होने की रस्म से हटाकर फिर से विवाह करवाने की रस्म जारी की। इसके अलावा आदर्श विवाह (आनंद कारज) की रीति प्रचलित की।

 

 

लंगर—

 

प्रत्येक धर्म के प्राणी मात्र के लिए एक ही पंक्ति में बैठकर भोजन करने की मर्यादा चालू की। रात्रि के समय जो लंगर बच जाता था उसे ब्यास नदी में जलप्रवाह कर दिया जाता था ताकि जल में रहने वाले जीव जंतु भी पेट भर सके।

 

 

तेइए ताप की कथा—

 

एक बार गोइंदवाल साहिब में एक वृद्ध माई का पुत्र तेईए के ताप से मृत्यु को प्राप्त हो गया तो उसकी माता के रोने धोने को सुनकर आप उनके घर गए और उस मृत बच्चे के मस्तक को अपने चरण स्पर्श करवाये तो वह उठकर खड़ा हो गया तब आपने तेइए ताप को बालक रूप प्रदान कर एक लोहे के पिंजरे में कैद करवा दिया। एक बार भाई लालो डल्ले ग्राम वाले गुरु दर्शन को आए तो पिंजरे में कैद बालक को देखकर द्रवित हो गए। तो वो इस बालक को छुडाने की कोशिश करने लगे। इस पर गुरु जी ने कहा यह बड़ी बुरी बला है। अगर आप ले जाना चाहते हो तो आपकी इच्छा है। कुछ दिन ठहर कर भाई लालो अपने गांव जाने लगा तो रास्ते में एक धोबी कपड़े धो रहा था। उसे देखकर बालक कहने लगा गुरु प्यारे जी आप परोपकारी हो मुझे बहुत भूख लगी है यदि आज्ञा मिले तो मै थोड़ा भोजन कर आऊं। भाई लालो ने कहा किसी सिक्ख के घर चलते है। बालक बोला आप यही कुछ देर रूके। मेरा भोजन यही तैयार है कही जाना नहीं पडेगा। ऐसा कहते हुए वह बालक बुखार का रूप धारण कर उस धोबी पर जा सवार हुआ। कुछ देर बाद धोबी की मृत्यु हो गई।

 

तब भाई लालो को गुरु साहिब का वचन याद आया तो उन्होंने उसे वापस लाने की सोची तब यह सुनकर तेईए ताप भाई लालो जी के चरणों में गिर पड़ा । और यह प्रतिज्ञा ली कि अब वो किसी को परेशान नहीं करेगा।

 

 

नम्रता के सागर—

 

एक बार आप दीवान सजाकर गद्दी पर बैठे हुए संगत से विचार विमर्श कर रहे थे कि अचानक श्री दातू जी, गुरु अंगद साहिब के बेटे, दीवान में आए नमस्कार तो नहीं किया अपितु कुछ समय खड़े रहने के बाद जोर से एक लात आपके बूढ़े शरीर पर जमा दी। जिससे गुरु जी गद्दी से नीचे लुढक गये। संगत में कोहराम मच गया। कुछ सहासी युवक तो लाल पीले भी होने लगे पर गुरु अमरदास जी जो अपार सहनशक्ति के पुंज थे, स्वयं ही उठे ओर दातू जी के चरण पकड़कर विनय की कि गलती हो गई। आपके चरण कमल से कोमल है मेरा बूढ़ा तन सख्तजान है इन्हें बहुत ही कष्ट हो रहा होगा तथा पैर दबाने लगे।

 

 

 

बीबी भानी जी की शादी—

 

बीबी दानी जी की शादी के बाद गुरु जी से माता मनसा देवी ने एक दिन बीबी भानी के विवाह के बारे में बात चलाई कि वर सुंदर तथा बनता फबता होना चाहिये। हुजूर मुस्कराये और कहा — करतार भली ही करेगा। इतने में भाई जेठा जी जो कुछ समय घुंगनीया बेचकर अपना गुजारा करते थे तथा बाकी समय गुरु घर में सेवा में व्यतीत करते थे, घर के सामने से घुंगनीया बेचते हुए गुजर रहे थे कि माता जी की नजर अचानक उन पर पड़ी तो कहने लगी कि दातार पातशाह इतनी आयु का तथा कुछ ऐसा ही गबरू जवान लड़का चाहिए। ऐसा ही सुंदर होना चाहिये। आप ने सुना तो प्रभु रंग में रंगे बोले — भाग्यवान! यदि ऐसा ही वर चाहिए तो इसमें क्या कमी है। यही ठीक है इसे बुलाकर पूछ लेना चाहिए।

 

 

गुरु गद्दी का वरदान—

 

एक दिन आप स्नान कर रहे थे कि अचानक चौकी का एक पाया टूट गया। बीबी भानी जी स्नान करवा रही थी बीबी ने देखा तो अपना हाथ वहां टिका दिया जहां से पाया चटक गया था। जब गुरु जी स्नान करके हटे तो बीबी भानी के हाथ से बहते हुए खून को देखकर सब कुछ समझ गए। आपने बिटिया से कहा कि मांग जो कुछ भी मांगना चाहती है। बीबी भानी ने कहा कि पिता जी आगे से गुरु गद्दी घर में ही रहनी चाहिए।
गुरुदेव कहने लगे– बेटा यह बहुत कठिन मार्ग है। गुरु व्यक्तियों को बहुत कुर्बानियां करनी पडेंगी और इशारों में ही आगे आने वाले दृश्य बीबी भानी को दिखला दिए। इस पर भानी जी ने कहा कि पिता जी यह वरदान भी साथ ही दे देवें कि आपकी बेटी का वंश यह बलिदान हंसते हंसते कर सके।

उचित समय पर भाई जेठा जी सेवा के पर्चो में पास हुए तो आपने उन्हें ही गुरु गद्दी सौंप दी। और भाद्रपद शुक्ल 15 वि.सं. 1631 को ज्योति ज्योत समा गए।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—–

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर” कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
“खालसा पंथ” दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more

write a comment

%d bloggers like this: