श्री गुरु अंगद देव जी महाराज सिखों के दूसरे गुरु थे। गुरु नानक देव जी ने इन्हीं को अपना उत्तराधिकारी बनाकर गुरु गद्दी सौपी थी। इनका मूल नाम लहणा था। जिसको बदलकर गुरू नानक देव जी ने इन्हें अंगद देव नाम दिया था।

 

 

गुरू अंगद देव जी का जीवन परिचय – गुरु अंगद देव जी का इतिहास, गुरू अंगद देव जी की पुण्यतिथि, गुरु अंगद देव जी की वाणी, गुरु अंगद देव जी प्रकाश पर्व आदि

 

 

 

नाम — गुरु अंगद देव

अन्य नाम —- लहणा जी (मूल नाम)

जन्म—-  31 मार्च, 1504

जन्म भूमि—  हरीके गांव, फिरोजपुर, पंजाब

मृत्यु—- 28 मार्च, 1552

मृत्यु स्थान—- अमृतसर

माता पिता— फेरू जी और रामो जी

पत्नी— खीवी जी

संतान— दो पुत्र- दासू जी एवं दातू जी और दो पुत्रियाँ- अमरो जी एवं अनोखी जी

 

 

 

गुरु अंगद देव जी
गुरु अंगद देव जी

 

 

गुरु मिलाप—-

आपने श्री गुरु नानक देव जी की महीमा सुन रखी थी। एक बार जब आप देवी की यात्रा पर जा रहे थे, और करतारपुर के पास से गुजर रहे थे। तो गुरु नानक देव जी के दर्शनों के लिए घोड़ा उधर ही घुमा दिया। महाराज जी के दर्शन किए तो शांति प्राप्त हो गई तथा आप संगत को विदा कर वहीं रूक गए। श्री गुरु नानक देव जी महाराज घट घट जानने वाले थे, जब उन्होंने पूछा कि आपका क्या नाम है और कहने पर कि जी मेरा नाम लहना है। गुरु नानक जी ने कहा अच्छा भाई अगर आप लहणा हो तो हमें आपका देना है। जब चाहे लेना हो गुरु घर से मांग कर ले लेना। गुरु महाराज जी की कही बात का रहस्य कुछ समय पश्चात प्रत्यक्ष सामने आया वहीं बात हुई अंततः गुरु जी ने आपको गुरु अंगद देव जी नाम देकर गुरु गद्दी सौंप दी।

 

 

खडूर साहिब आना—

एक दिन गुरु नानक देव जी प्रभु के रंग में रंगे हुए लहणा जी से कहने लगे कि आप खडूर चले जाइए क्योंकि अब हमें सचखंड स्थान पर जाना है। गुरु जी के वचन मानकर भाई लहणा जी के मन पर गहरा असर हुआ और आप गुरु नानक जी के वियोग में खडूर साहिब में वापस लौटकर अपनी बुआ जी माई भराई के मकान में बैठकर समाधिलीन हो गए और इस प्रकार संसार से किनारा सा कर गए।

 

 

 

गुरुदेव का प्रकट होना—-

 

 

जब गुरु नानक देव जी ज्योति ज्योत समा गए तो संगत द्वितीय नानक की खोज में उदास सी हो गई तो बाबा बुड्ढा जी साहिब से मार्ग दर्शन की प्रार्थना करने लगी। बाबा बुड्ढा जी बड़े बुद्धिमान थे और जानते थे कि गुरु अंगद देव जी, गुरु नानक पातशाह की आज्ञा का उल्लंघन करने वाले नहीं है। सो आप सारी संगत को साथ लेकर खडूर साहिब पहुंचे। माई भराई के मकान पर आकर गुरु नानक देव जी महाराज के ज्योतिलीन होने का समाचार सुनाया तथा प्रार्थना की कि हे दीनदयाल महाराज जी, संगत आपके दर्शन के लिए व्याकुल है। आप नानक पातशाह का उपदेश देकर संगत को निहाल करे। बाहर दीवान सजाया गया और दर्शन देकर गुरु साहिब के प्रकट होने का समाचार मिलता गया, चारों ओर से संगत दर्शनों के लिए खडूर साहिब में आने लगी और नगर में मेले के जैसा माहौल बनने लगा। सारे सिख जगत में खुशी की एक लहर सी दौड़ गई।

 

 

 

जन्म साखी लिखवाई—-

आपने श्री गुरू नानकदेव जी की जीवन कथा भाई बाला जी के मुख से सुनकर भाई पैड़ा मोखा जी से जोकि करतारपुर साहिब में गुरु जी के पास रहते रहे थे, गुरुमुखी अक्षरों में लिखवाकर संगत के लाभार्थ कथा के लिए रखवाई जिसे आजकल भाई बाला वाली जन्म सखी के नाम से जाना जाता है। आपने गुरुमुखी अक्षरों की भी रचना की।

 

 

 

बादशाह हुमायूं शरणागत हुआ—-

 

 

शेरशाह सूरी से हारकर बादशाह हुमायूं खडूर साहिब दर्शनों के लिए आया तो गुरु उस समय समाधि में लीन थे। बादशाह कुछ समय तो इंतजार करता खड़ा रहा फिर अहंकार सै भरकर बोला — मैं हिन्दुस्तान का बादशाह हूँ, और इसने मेरा निरादर किया है। जब वह गुस्से में आकर तलवार से आप पर वार करने लगा तो आपने कहा — जिस शमशीर से हमें डराना धमकाना चाहते हो वह शेरशाह सूरी के सामने क्यों नहीं उठा सके। यह बात हुमायूं के दिल में ऊतर गई और वह आपके चरण कमलों पर लेट कर माफी मांगने लगा।

 

 

ईष्र्यालु साधु—-

 

गांव का एक तपस्वी साधु जो कुछ एक जाटों का गुरु बना घूमता था। गुरु अंगद देव जी की महिमा सुनकर बहुत ईष्र्या करने लगा। एक बार गांव में वर्षा न होने के कारण फसलें बर्बाद होने लगीं तो उन जाटों ने साधु से जाकर कहा कि बारिश करवाओ, तो वह बोला गुरु अंगद जैसे गृहस्थी साधु बन बैठे हो तो यही हाल होना है। इस साधु की बात में आकर भोले भाले गांव वाले गुरूजी की उपेक्षा करने लगे।

 

 

भाई अमरदास जी, गुरु अंगददेव जी महाराज के दर्शन करने आएं तो गांव वालों से सारी बात पता चला तो आपने कहा कि गुरु अंगद देव जी महान है। आप लोगों ने गुरु जी के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया। गुरू जी को सारे गांव वाले मिलकर वापिस गाँव लेकर आए तो अमरदास जी ने कहा — हां आपके यहां बारिस हो सकती है जिस जिस खेत में आप साधु के चरण डलवाएगें उस खेत में बारिश हो जाएगी। लोगों ने अपने खेत में पहले बारिश करवाने की लालच में साधु की खीचतान करने लगे इस प्रकार गांव में खूब बारिश हुई। लोगों ने साधु को खींच खींच कर गांव गांव फिराया और बारिश करवाई।

 

 

 

मिर्गी हटाई—-

 

खडूर साहिब का एक चौधरी था, वह अहंकार का सताया हुआ तथा शराब का सेवन करने वाला था। वह गुरु जी से आकर कहने लगा कि आप अनेकों के दुख दूर करते है, मांनू तो तब जब आप मेरी शराब छुड़वा देवे मेरा मिर्गी का दौरा दूर कर दे?। महाराज जी ने कृपा दृष्टि करते हुए कहा तेरा दुख दूर हो जायेगा यदि तुम शराब पीना छोड़ दोगे। वह व्यक्ति सत्य वचन कहकर चला आया। गुरु साहिब की कृपा से उसकी मिर्गी की बिमारी दूर हो गई।
एक दिन उसने फिर से शराब पी ली और अपने मकान की ऊपर वाली छत पर चढ़कर हुंकारने लगा मैने तो शराब नहीं छोड़ी देख लूंगा मेरा क्या बिगड़ जाएगा। कुछ ही देर बाद शराब के नशे में धुत वह लड़खड़ा कर छत से नीचे गली में आ गिरा और सदा की नींद सो गया।

 

 

 

श्री गुरू अमरदास जी द्वारा आपकी सेवा—

 

 

अमरदास जी गुरु अंगद देव जी की बहुत दिल लगाकर सेवा करते थे। आधी रात उठकर खडूर साहिब से ब्यास नदी से आपके स्नान के लिए जल लेकर आते थे। एक रात बहुत जोर से वर्षा हो रही थी, तथा आंधी चल रही थी। आप पानी से भरी गगरिया उठाये आ रहे थे कि अंधेरा होने के कारण आपका पांव एक जुलाहे की खडडी में उलझ गया और आप गिर पड़े, परंतु पानी की गागर को कंधे पर संभाले रखा। जुलाहे ने आपसे दुर्वचन कहे और उसकी स्त्री ने कहा इस समय अमरू निथावें के सिवाय बाहर कोई नहीं हो सकता। जब गुरु अंगद देव जी को इस बात का पता चला तो उन्होंने वचन दिया। अमरदास निथवां नहीं वह तो निथावों की थां है। अर्थात जिनका कोई स्थान नही उनका आश्रय है। गुरु जी ने आपको गोइंदवाल साहिब जाकर संगतों को गुरवाणी प्रचार करने तथा नया नगर बसाने की आज्ञा दी। गोइंदवाल के निर्माण कार्य की प्रगति देखकर गुरु अंगद देव जी प्रसन्न होते और आप पर अपनी कृपा वर्षा करते।
श्री गुरू अमरदास जी महाराज को गुरु गद्दी सौपकर गुरु अंगददेव जी ज्योति ज्योत में समा गये। गुरु अंगद देव जी ने मात्र 63 श्लोकों की रचना की जो श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी में वारों के साथ लिखे हुए सुशोभित हो रहे है।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के Read more
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state) Read more
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में Read more
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है। Read more
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह Read more
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल Read more
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा Read more
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती Read more
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है। Read more
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में Read more
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल Read more
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है Read more
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह Read more
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की Read more
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख Read more
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल Read more
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह Read more
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप Read more
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण Read more
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है। Read more
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और Read more
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण Read more
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को Read more
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से Read more
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से Read more
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित Read more
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान Read more
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला Read more
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं Read more
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया Read more
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद Read more
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा Read more
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु Read more
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है। Read more
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना Read more
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित Read more
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर Read more
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से Read more
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी Read more
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला Read more
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ Read more
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है Read more
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन Read more
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में Read more