गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस का इतिहास – वाराणसी गुरुद्वारा हिस्ट्री इन हिन्दी

गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में स्थापित है। श्री गुरु तेग बहादुर जी ने पंजाब से बाहर रहने वाली संगत के अनुनय को मानते हुए पूर्वी बंगाल व आसाम तक की यात्रा कर उनकी मनोकामनाओं को पूर्ण किया।

 

 

गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस का इतिहास

 

पंजाब के कई स्थानों से होते हुए दिल्ली, आगरा, मथुरा, कानपुर आदि से होते हुए जनवरी 1666 ई. में प्रयाग, त्रिवेणी पहुंचे यहां आपने कई मास तक निवास किया। गुरु नानक देव जी के मिशन का प्रचार करते हुए जरूरतमंदों की सहायता की तथा उपदेश, सत्संग, कीर्तन करते रहे। इससे गुरुदेव के यश में वृद्धि हुई।

 

 

उस समय काशी में श्री गुरु नानक देव जी के अनुयायी एक वृद्ध बाबा, भाई कल्याण जी रहते थे। जिनकी आयु 100 वर्ष से अधिक हो चुकी थी। गुरूगददी के मालिक गुरु तेगबहादुर जी का आगमन सुनकर उनके दर्शन के लिए लालायित हो उठे परंतु उनका शरीर प्रयाग तक पहुंचने में असमर्थ था।

 

 

इलाहाबाद त्रिवेणी से चलकर गुरु तेगबहादुर साहिब मिर्जापुर, चुनार, भुइली साहिब आदि स्थानों से होते हुए भाई कल्याण जी को उनके निवास स्थान काशी में आकर दर्शन दिये। यही स्थान गुरुद्वारा बड़ी संगत के नाम से प्रसिद्ध है। शहर के व्यापारिक केंद्र चौक के पास मोहल्ला औस भैरव नीचीबाग में स्थित हैं। यहां रहते हुए गुरु तेगबहादुर जी ने उपदेश, सत्संग कीर्तन करते हुए दूर दूर तक की संगतों को निहाल किया।

 

गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस

 

 

भाई कल्याण जी के मकान के अंदर एक गर्भगृह था। गुरु जी ने सात महीने 13 दिन इस स्थान पर बैठकर तपस्या की।महाराज जी का यह नित्य कर्म था कि सवा पहर रात रहते स्नान करके भजन सिमरन में लवलीन हो जाते। एक दिन अमृत समय जब सतगुरु जी वस्त्र उतारकर स्नान करने लगे तो भाई कल्याण जी ने कहा कि सच्चे पातशाह जी आज तो ग्रहण है। लाखों लोग आज गंगा जी में स्नान करेंगे कृपा करें तो हम भी चलकर गंगा स्नान कर आये। गुरु जी ने कहा गंगा माई से विनती करिए कि आपको स्नान वह यही करा देवें। भाई कल्याण जी बोले पातशाह जी ये कैसे हो सकता है? गंगा यहां से आधा किलोमीटर दूर है। और यहां से काफी नीचे भी है। तब गुरु जी ने घर लगी हुई एक शिला को खोदने के लिए कहा। जिसे उखाड़ कर निकाल देने पर वहां से गंगा के निर्मल जल की धारा निकल पड़ी। गुरु जी और शेष सभी लोगों ने स्नान किया।

 

 

 

जब घर और आंगन में पानी भरने लगा तो गुरु जी के आदेश के अनुसार वह पत्थर की शिला उसी स्थान पर रख दी गई और गंगा गुरु जी के चरणों को छूकर नीचे होती गयी। उस जल का स्त्रोत आज तक बाउली साहिब के रुप में इस स्थान के अंदर मौजूद है। बाउली साहिब के जल को अमृत मानकर लोग अपना तन मन शीतल करते है। तथा पूर्ण आस्था से इस अमृत का पान करके अपने रोगों को दूर करने की दुआ मांगते है।

 

 

 

गुरु तेगबहादुर जी ने जब अपने अगले सफर की तैयारी शुरु की तब भाई कल्याण जी तथा अन्य श्रद्धालु भक्तों ने बिछोड़े के आंसू आंखो में भरकर विनती की कि सच्चे पातशाह जी अब हम आपके दर्शानों के बिना किस आश्रय पर जियेंगे। तब सतगुरू जी ने अपने पवित्र शरीर से छुआ ढाके की मलमल का एक चोला देकर कहा कि श्रद्धा और प्रेम के साथ इसके दर्शन करने से आपको हमारे दर्शन होगें। इसके साथ ही आपने अपने पवित्र चरणों का जोड़ा भी दिया। यह पवित्र निशानियां आज तक यहां मौजूद है। सारी संगते श्रद्धा सहित गुरुद्वारा बड़ी संगत में पहुंचकर इनके दर्शन करती है।

 

 

भाई कल्याण जी का घर सिखों और भक्तजनों के लिए पवित्र स्थान बन गया। वहां पर एक भव्य गुरुद्वारा बनाया गया जिसका पुनः जीर्णोद्धार 1950 के लगभग किया गया। बहुत साल पहले सिखों ने काफी यातनाओं सहित इस स्थान को उदासी महंतों के कब्जे से प्राप्त किया था। इस गुरुदारे की सेवा महाराज रणजीत सिंह और महाराजा पटियाला ने करवाया। पटना साहिब से आनंदपुर साहिब जाते समय साहिबजादा गोबिंद राय जी ने भी सात साल की आयु में काशी में अपने चरण डाले। माता गुजरी जी, मामा कृपाल जी और अनेकों संगतों के साथ आएं।

 

 

पिता गुरु साहिब जी के इस स्थान गुरुद्वारा बड़ी संगत में कुछ दिनों तक निवास किया। अपनी इसी आयु में कई विद्वानों की शंकाओ का समाधान बड़े ही आश्चर्यजनक ढंग से किया। अपना मखमली जोड़ा ( जूता) संगत की श्रद्धा को देखते हुए संगत को प्रदान किया। बालक गुरु गोबिंद राय जी की बाल्यावस्था की ये निशानी भी गुरुद्वारा बड़ी संगत में मौजूद है।

 

 

इसके अतिरिक्त गुरु तेगबहादुर साहिब जी, गुरु गोबिंद सिंह जी और माता साहिब देवां जी के कुछ हुक्मनामे भी यहां मौजूद है। इन सभी यादगारों के दर्शन करके संगत अपने आपको धन्य मानते है। गुरुद्वारा बड़ी संगत में निवास करते समय मोहल्ला जगतगंज व धूफचंडी के श्रद्धालु जनों के निवेदन पर जगतगंज त्रिमुहानी पर स्थित एक मकान में रहकर सत्संग किया। गुरु जी के प्रति श्रद्धा व्यक्त करते हुए इस मकान को गुरुजी को अर्पित कर दिया गया इस पवित्र स्थान का प्रबंध श्री गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी करती है।

 

गुरुद्वारा बड़ी संगत का निर्माण

 

 

गुरुदारे का मुख्य सभामंडप 50 फुट वर्गाकार में अवस्थित है। जिसमें गुरु तेगबहादुर जी एवं श्री गुरु ग्रंथ साहिब का सिंहासन विराजमान है। लकड़ी का पलंग है जिसमें श्री गुरु ग्रंथ साहिब विराजमान है। श्री गुरु तेगबहादुर जी के स्मारक में उनके दो चोला कलीदार, हुक्मनामा पत्री मौजूद है। गुरुद्वारा तो तल में बना है। यहां पर गुरु गोबिंद सिंह जी का प्रकाशोत्सव, पालकी शोभायात्रा, गुरु शहीदी दिवस, 40 दिनों तक श्री गुरु अर्जुन देव जी के शहीदी दिवस में सुखमनी साहिब का पाठ होता है। साल भर यहा बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:——

 

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state)
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है।
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है।
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है।
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *