गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी – गुरुद्वारा श्री कतलगढ़ साहिब चमकौर

गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब श्री चमकौर साहिब में स्थापित है। यह गुरुद्वारा ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। इस स्थान पर श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के दो सुपुत्र साहिबजादा अजीतसिंह, साहिबजादा जुझार सिंह को मुगलों ने लड़ाई में शहीद कर दिया था।

 

 

गुरुदारे का मुख्य दरबार साहिब काफी बड़ा बना है। बीच में पालकी साहिब में गुरु ग्रंथ साहिब विराजमान है। चारों तरफ परिक्रमा मार्ग है। परिक्रमा में युद्ध के समय के कई बड़े तैलीय चित्र लगाये गये है। गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब का क्षेत्रफल लगभग 10 एकड़ में फैला हुआ है।

 

 

गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब का इतिहास – गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब हिस्ट्री इन हिन्दी

 

 

गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब, गुरुद्वारा कटलगढ़ साहिब गुरुद्वारा गढ़ी साहिब के पश्चिम में स्थित है और चमकौर साहिब में मुख्य गुरुद्वारा है। यह गुरुद्वारा उस स्थान को चिह्नित करता है जहां 7 दिसंबर 1704 को मुगल सेना और सिखों के बीच साहिबजादों और मूल पांच पंज प्यारे (पांच प्यारे) में से तीन के बीच हाथ से हाथ की लड़ाई हुई थी। इतिहास 1704 में चमकौर की लड़ाई के दौरान, जिसमें गुरु और 40 सिखों ने भारी बाधाओं के खिलाफ लड़ाई लड़ी, गुरु गोबिंद सिंह के दोनों बेटे अजीत सिंह और जुझार सिंह इस स्थान पर युद्ध में मारे गए। जब चमकौर के किले में सिख एक-एक करके शहीद हो रहे थे, तब सिख नहीं चाहते थे कि गुरु के दो पुत्र युद्ध में जाएं। गुरु गोबिंद सिंह ने घोषणा की कि किले के सभी सिख उनके प्रिय पुत्र है। युद्ध के दौरान 18 वर्षीय बाबा अजीत सिंह ने अपने पिता से किले से बाहर जाने और दुश्मन से लड़ने की अनुमति मांगी। उसने कहा, “प्रिय पिता, मेरा नाम अजीत (अजेय) है। मुझे जीता नहीं जाएगा। और अगर जीत लिया गया, तो मैं भाग नहीं जाऊंगा या जीवित वापस नहीं आऊंगा। मुझे जाने की अनुमति दें, ।” गुरु गोबिंद सिंह ने पुत्र को गले लगाया और उसे लड़ाई में भेज जहां वह अपने अंतिम सांस तक वीरतापूर्वक लड़े।

 

 

गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर
गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब चमकौर

 

अजीत सिंह से चार साल छोटे बाबा जुझार सिंह ने अपने भाई की शहादत को देखकर गुरु गोबिंद सिंह से पूछा, “प्रिय पिता, मुझे जाने की अनुमति दें, जहां मेरा भाई गया है। यह मत कहना कि मैं बहुत छोटा हूं। मैं आपका बेटा हूं। , मैं आपका सिंह (शेर) हूं। मैं आपके योग्य साबित होऊंगा। मैं दुश्मन की ओर मुंह करके, भगवान और गुरु के साथ मेरे होठों पर और मेरे दिल में लड़ते हुए मरूंगा। ” गुरु गोबिंद सिंह ने उन्हें गले लगा लिया और कहा, “जाओ मेरे बेटे और जीवनदायिनी मृत्यु को गले लगा लो। हम यहाँ पृथ्वी पर कुछ समय के लिए रहे हैं। अब हम अपने असली घर लौटेंगे। जाओ और वहाँ मेरी प्रतीक्षा करो। तुम्हारे दादा और बड़े भाई पहले से ही वहां हैं। तुम्हारा इंतज़ार है।” इस प्रकार गुरु ने अपने दोनों पुत्रों को शहादत के माध्यम से शाश्वत शांति प्राप्त करते देखा।

 

 

गुरु गोबिंद सिंह ने तब अपने पुत्रों का अनुसरण करने और मुसलमानों पर हमला करने के लिए खुद को तैयार किया, लेकिन उनके सिखों ने एक गुरमत्ता (संकल्प) पारित किया कि गुरु और दो शेष पंज प्यारे अंधेरे की आड़ में किले से बाहर निकल जाएं, जबकि शेष सिख, निश्चित युद्ध में मृत्यु का सामना करगें और किले की घेराबंदी करेगें। जिससे मुस्लिम हमलावरों को किले में दाखिल होने से रोका जा सके। अपने आप को अधिकार से वंचित करने के बाद गुरु को अपने सिखों की इच्छा के आगे झुकना पड़ा।

 

गुरुद्वारा कतलगढ़ साहिब का निर्माण

 

1831 में बेला के सरदार हरदयाल सिंह द्वारा यहां बनाए गए मूल गुरुद्वारे को 1960 के दौरान झार साहिब के संत प्यारा सिंह और बाद में अमृतसर के संत बिशन सिंह की देखरेख में बनाए गए एक नए परिसर से बदल दिया गया था। मारीजी साहिब नामक मुख्य इमारत एक उच्च आधार पर खड़ी एक सुंदर तीन मंजिला गुंबददार संरचना है। बड़े दीवान हॉल में आठ मीटर वर्गाकार गर्भगृह है। पास में ही एक और विशाल हॉल है जिसे अकाल बुरिगा कहा जाता है। यह मरीजी साहिब के निर्माण से पहले दैनिक सभाओं के लिए इस्तेमाल किया गया था। अकाल बुरिगा के पश्चिम में एक पुराना बावली साहिब अभी भी उपयोग में है। गुरु का लंगर, सामुदायिक रसोई, बावली साहिब और अकाल बुरिगा से आगे उत्तर में है। गुरुद्वारा में स्थानीय प्रबंध समिति के कार्यालय भी हैं जो शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के समग्र नियंत्रण में चमकौर में सभी ऐतिहासिक गुरुद्वारों का प्रबंधन करती है। दैनिक सेवाओं के अलावा, प्रत्येक बिक्रमी महीने के पहले और सिख कैलेंडर पर महत्वपूर्ण वर्षगाँठ पर बड़े पैमाने पर सभाओं में भाग लिया जाता है। शहीदी जोर मेला नामक एक तीन दिवसीय मेला 6,7 और 8 पोह को आयोजित किया जाता है, जो आमतौर पर 20, 21 और 22 दिसंबर को होता है, चमकौर के शहीदों की याद में।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:——-

 

 

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state)
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है।
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है।
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है।
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा पंचकूला
नाड़ा साहिब गुरूद्वारा चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से 5किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। नाड़ा साहिब गुरूद्वारा हरियाणा प्रदेश के पंचकूला
गुरुद्वारा पिपली साहिब पुतलीघर अमृतसर
गुरुद्वारा पिपली साहिब अमृतसर रेलवे स्टेशन से छेहरटा जाने वाली सड़क पर चौक पुतलीघर से आबादी इस्लामाबाद वाले बाजार एवं
गुरुद्वारा पातालपुरी साहिब, यह गुरुद्वारा रूपनगर जिले के किरतपुर में स्थित है। यह सतलुज नदी के तट पर बनाया गया
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी
गुरुद्वारा बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी नामक कस्बे में स्थित है। सुल्तानपुर लोधी, कपूरथला जिले का एक प्रमुख नगर है। तथा
गुरुद्वारा हट्ट साहिब
गुरुद्वारा हट्ट साहिब, पंजाब के जिला कपूरथला में सुल्तानपुर लोधी एक प्रसिद्ध कस्बा है। यहां सिख धर्म के संस्थापक गुरु
गुरुद्वारा मुक्तसर साहिब
मुक्तसर जिला फरीदकोट के सब डिवीजन का मुख्यालय है तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 5 किलोमीटर दूर लोकसभा के सामने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब स्थित है। गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब की स्थापना
दरबार साहिब तरनतारन
श्री दरबार साहिब तरनतारन रेलवे स्टेशन से 1 किलोमीटर तथा बस स्टैंड तरनतारन से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब
गुरुद्वारा बिलासपुर साहिब हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर मे स्थित है बिलासपुर, कीरतपुर साहिब से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर
मोती बाग गुरुद्वारा साहिब
मोती बाग गुरुद्वारा दिल्ली के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा मोती बाग दिल्ली के प्रमुख गुरुद्वारों में से
गुरुद्वारा मजनूं का टीला साहिब
गुरुद्वारा मजनूं का टीला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 15 किलोमीटर एवं पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी
बंगला साहिब गुरुद्वारा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर की दूरी पर गोल डाकखाने के पास बंगला साहिब गुरुद्वारा स्थापित है। बंगला
लखनऊ गुरुद्वारा गुरु तेगबहादुर साहिब
उत्तर प्रदेश की की राजधानी लखनऊ के जिला मुख्यालय से 4 किलोमीटर की दूरी पर यहियागंज के बाजार में स्थापित लखनऊ
नाका गुरुद्वारा
नाका गुरुद्वारा, यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा नाका हिण्डोला लखनऊ में स्थित है। नाका गुरुद्वारा साहिब के बारे में कहा जाता है
गुरुद्वारा गुरु का ताल आगरा
आगरा भारत के शेरशाह सूरी मार्ग पर उत्तर दक्षिण की तरफ यमुना किनारे वृज भूमि में बसा हुआ एक पुरातन
गुरुद्वारा बड़ी संगत नीचीबाग बनारस
गुरुद्वारा बड़ी संगत गुरु तेगबहादुर जी को समर्पित है। जो बनारस रेलवे स्टेशन से लगभग 9 किलोमीटर दूर नीचीबाग में

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *