गिरधारी जी का मंदिर जयपुर राजस्थान

राजस्थान  की राजधानी जयपुर में राजामल का तालाब मिट॒टी और कुडे-कचरे से भर जाने के कारण जिस प्रकार तालकटोरा कोरा ताल रह गया, कटोरा न रहा, वैसे ही सिरह ड्योढी बाजार के उत्तरी छोर पर बने हुए गिरधारी जी का मंदिर का भी मंदिर तो रह गया, किंतु इसकी प्रमुख विशेषता जाती रही। यह विशेषता थी इसके प्रवेश द्वार पर बनी हुई सीढियों के एक स्नान-घाट होने की।

 

 

गिरधारी जी का मंदिर जयपुर

 

राजामल के तालाब में शहर के उत्तरी भाग का पानी आता था जो मुख्यत नाहरगढ़ की पहाडी का होता था। यह पानी नाहरगढ की छाया में बनी बारह विशाल और मजबूत मोरियो में होकर आता था ओर एक-दूसरे के ऊपर बनाये गये चार चोकोर मोखो की तीन कतारो मे होकर इस झील या तालाब मे पहुंचता था। ये मेहराबदार मोरिया और मोखे वहा परकोटे की दीवार मे अब भी देखे जा सकते हैं ओर ‘बारह मोरी’ ही कहलाते हैं।

 

 

तालाब भर जाने पर अतिरिक्त पानी निकालने की मोरिया माधो विलास महल से सटी हुई है। जयपुर मे अभी बहुत लोग हैं जिन्हे बारह मोरियों से निकलने वाला पानी गणगौरी बाजार से ब्रहमपुरी जाने वाली सडक पर घुटनों तक भरा हुआ याद है और ब्रहमपुरी से जोरावर सिंह के दरवाजे जाने वाली सडक पर माधो विलास से निकलने वाले पानी के प्रवाह मार्ग को आज भी ‘नन्दी” (नदी) ही कहा जाता है जिसके किनारे पहले छीपों ही छीपों के घर थे। अब तो सातों जाती ने सारी जल-प्लावित होने वाली जमीन पर कब्जा कर अपने-अपने घर-घरोदें बना लिये है।

 

श्री गिरधारी जी का मंदिर
श्री गिरधारी जी का मंदिर

 

गिरधारी जी का मंदिर माधो विलास के निर्माता माधो सिंह प्रथम ने ही बनवाया था। एक विशाल और ऊंचे चौक को (जैसे आमेर रोड पर जल महल मे) चार बुर्जो और दालानों से घेरा गया है। इसमे पूर्व की ओर कमानीदार छत की ‘इकदरी” या छोटे दालान के नीचे भगवान गिरधारी जी का मंदिर है। मंदिर के सामने जो चौकोर खुला चौक है, उसके अग्र-भाग मे दोनो कोनो पर अष्टकोण छतरियां बनी हुई है। तीनो बाजुओं के मध्य मे खडी सुन्दर कमानीदार छतों वाली लम्बी छतरियां है जिनके दोनो सिरे आयताकार कक्षों से जुडे है जिन पर गोल गुंबद है। सामने की बाजू के ठीक मध्य में बनाये गये प्रवेश-द्वार से तीन ओर घूमती हुई सीढियां उतरती है जो तालाब के पूरा भर जाने पर पानी मे डूब जाती थी। यह स्नान-घाट का नजारा था। जिसकी कल्पना सीढियों को देखकर अब भी की जा सकती है।

 

 

गिरधारी जी का मंदिर इस जलाशय के तट पर कैसा भव्य देवालय रहा होगा, इसका अनुमान आज इसलिये नही किया जा सकता कि सारा मंदिर लोह-लक्कड ओर कांठ-कबाड से घिर गया है। इसकी दीवारोंके सहारे ट्रकों की मरम्मत करने के कारखाने बन गये है जिससे इसकी बाहरी सचित्रित दीवारों पर भी बुरी तरह आ बनी है। सब और ग्रीस, तेल और गले हुए लोहे की दुर्गन्ध है। गिरधारी जी के मंदिर मे केसर-चन्दन, धूप और फूलो की जो सुगंध आनी चाहिए, वह ठेठ जगमोहन मे भी अब नहीं आती।

 

 

गिरधारी जी के मंदिर को माधो सिंह ने जिन महन्तो को भेंट किया वे उसके साथ उदयपुर से ही यहां आये बताये जाते हैं। इनमें एक “प्रेम कवि के नाम से ब्रज भाषा की बडी सुन्दर कविता करते थे। ”छन्दतरगिनी” के नाम से उनकी एक पुस्तक भी बताई जाती है। रचना की एक बानगी देखिये:–

छाकी प्रेम छाकिन कै नेम मे छबीली छैल
छैल के बसुरिया के छलन छली गई।
गहरे गुलाबन के गहरे गरूर भरे
गोरी की सुगंध गैल गोकुल गली गई।
दर में दरीन हू में दीपीति दिवारी दुति
दतो की दमक दुति दामनी दली गई
चौसर चमेली चारू चंचल चकोरन ते
चांदनी मे चंदमुखी चौकत चली गई।।

प्रेम कवि जब ऐसी सरस पद्म रचना करते थे तब यहां का माहौल ओर था। इस गिरधारी जी के मंदिर की सेवा-पूजा अद्यावधि वल्लभ सम्प्रदाय की पद्धति से होती है। माधो सिंह काकरोली (मेवाड) के गोस्वामी ब्रज भूषण लाल का शिष्य था।

 

 

गिरधारीजी के मंदिर से सबंधित एक उल्लेखनीय बात यह है कि अठारहवी सदी के आठवें दशक मे जब प्रसिद्ध महाकवि पद्माकर राज्याश्रय ओर आजीविका की तलाश मे ग्वालियर से जयपुर आया तो वह इसी मंदिर में ठहरा था। यही रहते हुए पद्माकर ने सवाई प्रताप सिंह से भेट करने की बडी कोशिश की, लेकिन दरबार के परस्पर विरोधी धडों के आगे इस परदेशी कवि की कुछ न चली। पद्माकर निराश हो चला था कि एक दिन गोविन्द देव जी के मंदिर मे यह वांछित भेट हो ही गई और इसके साथ पद्माकर का भाग्य जाग उठा इस कवि को फिर इतना वैभव प्राप्त हुआ कि पद्माकर ने गदगद होंकर कहा है-”हम कविराज है प्रताप महाराज के। डा भालचन्द्र राव तैलग ने महाराजा से पद्माकर को मिलाने का श्रेय महाराज कुमार जगत सिंह को दिया है, जबकि कुछ लोग यह श्रेय दूणी के राव शम्भू सिंह को देते है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

ईसरलाट मीनार जयपुर
राजस्थान  के जयपुर में एक ऐतिहासिक इमारत है ईसरलाट यह आतिश के अहाते मे ही वह लाट या मीनार है Read more
त्रिपोलिया गेट जयपुर राजस्थान
राजस्थान  की राजधानी जयपुर एक ऐतिहासिक शहर है, यह पूरा नगर ऐतिहासिक महलों, हवेलियों, मंदिरों और भी कितनी ही ऐतिहासिक इमारतों Read more
गोपीजन वल्लभ जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर में श्री जी की मोरी में प्रवेश करते ही बांयी ओर गोपीजन वल्लभ जी का मंदिर Read more
ब्रजराज बिहारी जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  के जयपुर शहर में ब्रजराज बिहारी जी का मंदिर चंद्रमनोहर जी के मंदिर से थोडा आगे जाने पर आता Read more
गोवर्धन नाथ जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  राज्य की राजधानी जयपुर के व्यक्तित्व के प्रतीक झीले जाली-झरोखों से सुशोभित हवामहल की कमनीय इमारत से जुड़ा हुआ Read more
लक्ष्मण मंदिर जयपुर
राजस्थान  की गुलाबी नगरी जयपुर के मंदिरों में लक्ष्मणद्वारा या लक्ष्मण मंदिर भी सचमुच विलक्षण है। नगर-प्रासाद मे गडा की Read more
सीताराम मंदिर जयपुर
राजस्थान  की चंद्रमहल जयपुर के राज-परिवार का निजी मंदिर सीतारामद्वारा या सीताराम मंदिर कहलाता है, जो जय निवास मे  के उत्तरी- Read more
राजराजेश्वरी मंदिर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के चांदनी चौक के उत्तरी-पश्चिमी कोने मे रसोवडा की ड्योढी से ही महाराजा Read more
ब्रज निधि मंदिर जयपुर
राजस्थान  में जयपुर वाले जिसे ब्रजनंदन जी का मन्दिर कहते है वह ब्रज निधि का मंदिर है। ब्रजनिधि का मंदिर Read more
गंगा - गोपाल जी मंदिर जयपुर
भक्ति-भावना से ओत-प्रोत राजस्थान की राजधानी जयपुर मे मंदिरों की भरमार है। यहां अनेक विशाल और भव्य मदिरों की वर्तमान दशा Read more
गोविंद देव जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के सैंकडो मंदिरो मे गोविंद देव जी मंदिर का नाम दूर-दूर तक श्रृद्धालुओं Read more
रामप्रकाश थिएटर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर में जयसागर के आगे अर्थात जनता बाजार के पूर्व में सिरह ड्योढ़ी बाजार मे खुलने वाला Read more
ईश्वरी सिंह की छतरी
बादल महल के उत्तर-पश्चिम मे एक रास्ता ईश्वरी सिंह की छतरी पर जाता है। जयपुर के राजाओ में ईश्वरी सिंह के Read more
जनता बाजार जयपुर
राजा के नाम पर बन कर भी जयपुर जनता का शहर है। हमारे देश में तो यह पहला नगर है जो Read more
माधो विलास महल जयपुर
जयपुर  में आयुर्वेद कॉलेज पहले महाराजा संस्कृत कॉलेज का ही अंग था। रियासती जमाने में ही सवाई मानसिंह मेडीकल कॉलेज Read more
बादल महल जयपुर
जयपुर  नगर बसने से पहले जो शिकार की ओदी थी, वह विस्तृत और परिष्कृत होकर बादल महल बनी। यह जयपुर Read more
तालकटोरा जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर नगर प्रासाद और जय निवास उद्यान के उत्तरी छोर पर तालकटोरा है, एक बनावटी झील, जिसके दक्षिण Read more
जय निवास उद्यान
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के ऐतिहासिक इमारतों और भवनों के बाद जब नगर के विशाल उद्यान जय Read more
चंद्रमहल जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक भवनों का मोर-मुकुट चंद्रमहल है और इसकी सातवी मंजिल ''मुकुट मंदिर ही कहलाती है। Read more
मुबारक महल सिटी प्लेस जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के महलों में मुबारक महल अपने ढंग का एक ही है। चुने पत्थर से बना है, Read more
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार Read more
Hanger manger Jaipur
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी Read more
Hawamahal Jaipur
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और Read more

write a comment