गंगा दशहरा का महत्व – क्यों मनाया जाता है गंगा दशहरा की कथा

ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। गंगा दशहरा के व्रत का विधान स्कन्द-पुराण और गंगावतरण की कथा वाल्मीकि रामायण में लिखी है। ज्येष्ठ शुक्ला दशमी सम्वतसर का सुख है। इसमें स्नान और विशेष करके दान करना चाहिये। सर्वप्रथम तो गंगा दशहरा पर गंगा स्नान ही का माहात्म्य विशेष है। यह न हो सके तो किसी भी नदी मे तिलोदक देने का विधान है। जिससे मनुष्य दस महा पापों से मुक्त होकर विष्णु-लोक को जाता है।

 

 

 

गंगा दशहरा का महत्व

 

ज्येष्ठ शुक्ला दशमी यानि गंगा दशहरा को यदि सोमवार हो और हस्ति-नक्षत्र हो तो यह तिथि सब पापों के हरण करने वाली होती है। ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को बुधवार के दिन हस्ति नक्षत्र में गंगाजी भूतल पर अवतरित हुई थीं। इसी कारण यह तिथि महान पुण्य-पर्व मानी गई है। इसमें स्नान, दान और तर्पण करने से दस महा पापों का हरण होता है। इसी कारण इसके गंगा दशहरा कहते हैं।

 

 

 

गंगा अवतरण की कथा – गंगा दशहरा व्रत कथा

गंगा अवतरण की कथा के अनुसार अयोध्या के महाराज सगर के दो रानियाँ थीं। एक का नाम था केशिनी और दूसरी का सुमति। केशिनी के एक पुत्र और एक अंशुमान नामक पौत्र था। परन्तु सुमति के साठ हजार पुत्र थे। ये साठ हजार भाई राजा सगर के अश्वमेघ यज्ञ के घोड़े को ढूँढ़ने गये थे और कपिलदेवजी की शक्ति से वे सब भस्स हो गये। जब अंशुमान कपिलदेवजी के आश्रम पर गया, तब महात्मा गरुड़जी ने कहा– अंशुमान ! तुम्हारे साठ हजार चाचा अपने पापाचरण के कारण कपिलदेवजी के श्राप से भस्म हो गये हैं। यदि तुम उनकी मुक्ति चाहते हो तो स्वर्ग से गंगाजी को पृथ्वी पर लाओ। इनका अलोकिक जल तरण-तारण नहीं कर सकता। अतः हिमवान पर्वत की बड़ी कन्या गंगा के जल ही से इनकी क्रिया करनी चाहिये। इस समय तो घोड़े को ले जाकर पितामह के यज्ञ के समाप्त करो। तदनन्तर गंगाजी के इस लोक में लाने का प्रयत्न करो। अंशुमान घोड़े को लेकर सगर के यज्ञ-स्थान में पहुँचा और उसने पितामह से सारा समाचार कह सुनाया।

 

 

महाराज सगर का देहावसान होने पर मंत्रियों ने अंशुमान को अयोध्या की गद्दी पर बिठाया। राज पाकर अंशुमान ने अच्छा यश प्राप्त किया और ईश्वर की कृपा से इनका पुत्र दिलीप भी बड़ा प्रतापी हुआ। राजा अंशुमान पर्वत पर दारुण तप करने लगा। वह उसी स्थान पर पंचतत्व को प्राप्त हुआ, परन्तु गंगाजी को न ला सका । कालान्तर मे दिलीप भी अपने पुत्र को राज देकर स्वयं गंगाजी के लाने के उद्देश्य में तत्पर हुआ। किन्तु वह भी अपने उद्देश्य मे विफल हुआ।

 

 

राजा दिलीप का पुत्र भगीरथ बड़ा ही प्रतापी और धर्मात्मा राजा था। वह चाहता था कि एक सन्‍तान हो जाय, तो में भी गंगाजी को लाने का प्रयत्न करूँ। किन्तु जब प्रौढावस्था प्राप्त होने तक कोई सन्तान न हुई, तब मन्त्रियों को राज्य का भार सौपकर वह गंगाजी का लाने के लिये गोकर्ण तीर्थ मे तपस्या करने लगा। इन्द्रियों को जीत कर पंच्चाग्रि ताप से तपना, उध्वर्वाहु रहना और मास मे एक बार आहार करना। इस प्रकार की घोर तपस्या करते हुए जब बहुत वर्ष बीत गये, तब सब देवताओं को साथ लेकर प्रजाओ के स्वामी ब्रह्मजी राजा भगीरथ के पास जाकर बोले –हे राजन ! तुमने अभूतपूर्व तप किया है। इसलिये प्रसन्न होकर में तुमको वरदान देने आया हूँ। तुम इच्छानुकूल वर माँग सकते हो।

 

गंगा दशहरा व गंगा अवतरण कहानी
गंगा दशहरा व गंगा अवतरण कहानी

 

 

राजा भागीरथ हाथ जोड़कर बोला– हे नाथ ! यदि आप प्रसन्न हैं तो महाराज सगर के साठ हजार पुत्रो के उद्धार के लिये गंगाजी को दीजिये। बिना गंगाजी के उनकी मुक्ति होनी असम्भव है। इसके अतिरिक्त इक्ष्वाकु वंश से आजतक कोई राजा अपुत्रक नहीं रहा। इसलिये मुझको एक संतान का भी वरदान दीजिये।

 

 

राजा के इस विनय को सुनकर ब्रह्माजी ने कहा– राजन! तुम्हारे कुल को उज्ज्वल करने वाला एक पुत्र तुमको प्राप्त होगा और सगरात्मजों का उद्धार करने वाली गंगाजी भी निःसंदेह पृथ्वी पर आयेगी। परन्तु महान वेगवती गंगा को धारण करने की शक्ति भगवान शिव के सिवाय ओर किसी में नहीं है। इसलिये तुम शिवजी को प्रसन्न करो।

 

 

इतना कहकर देवताओं-समेत ब्रह्माजी अपने लोक को चले गये और जाते समय गंगाजी को आज्ञा कर गये कि सगर की सन्‍तान को मुक्ति प्रदान करने के लिये तुमको भूलोक में जाना होगा। इधर राजा भागीरथ पैर के एक ओंगूठे पर खड़े होकर महादेवजी की आराधना करने लगा।एक वर्ष व्यतीत हो जाने पर भगवान शिव जी ने वरदान दिया कि में अवश्य ही गंगा को शीश पर धारण करूँगा।

 

 

अस्तु ज्यों ही गंगा की धारा ब्रह्मलोक से भूतल पर आई, त्योंही वह शिव जी को जटाओ मे विलीन हो गई। पुराणों का मत है कि जब भगवान्‌ ने वामन-रूप धारण कर राजा बलि के यहाँ भिक्षा माँगी और तीन पग से सारी पृथ्वी को माप लिया था, उस समय ब्रह्माजी ने भगवान्‌ का चरणोदक अपने कमण्डल मे भर लिया था। उसी का नाम गंगा था। इसी कारण गंगा के विष्णुपादोद्रव भी कहते हैं।

 

 

ब्रह्मलोक से आते समय गंगा ने मन मे अहंकार किया कि मे महादेवजी को जटाओं को भेदन करके पाताल लोक से चली जाऊँगी। इससे महादेवजी ने अपनी जटा-जूट को ऐसा फैलाया कि कितने ही वर्ष बीत जाने पर भी गंगा को जटाओं से बाहर निकलने का मार्ग न मिला। जब राजा भगीरथ ने पुनः शिवजी की आराधना की तब शिवजी ने प्रसन्न होकर हिमालय मे ब्रह्मा जी के बनाये बिंदुसर तालाब मे गंगा जी को छोड़ दिया। उस समय गंगा की सात धाराएँ हो गई। उनमें से हादिनी, पावनी ओर नलिनी ये तीन धाराएँ तो बिंदुसर से पूर्व दिशा की ओर बहीं और सुचक्षु, सीता तथा सिंधु ये तीन नदियाँ पश्चिम दिशा को बही। सातवीं धारा राजा भगीरथ के पीछे-पीछे चली। महाराज भगीरथ दिव्य रथ पर चढ़कर। आगे-आगे चले जाते थे और गंगा उनके रथ के पीछे-पीछे। पुराणों मे यह भी लिखा है कि गंगा ने राजा भगीरथ से कहा कि तुम रथ पर बैठकर जिस ओर को चलोगे, उसी ओर में तुम्हारे पीछे-पीछे चलूंगी। इस प्रकार जब गंगा पृथ्वी-तल पर आई’ तो बड़ा कोलाहल हुआ।

 

 

जहाँ- जहाँ से गंगाजी निकलती जाती थीं, वहाँ-वहाँ की भूमि अपूर्व शोभामयी होती जाती थी। कहीं ऊँची, कहीं नीची और कहीं समतल भूमि पर बहने से गंगाजी की अपूर्व शोभा हो रही थी। आगे भागीरथ, उनके पीछे गंगा ओर गंगा के पीछे देवता, ऋषि, देत्य, दानव, राक्षस, गंधर्व, यज्ञ, किन्नर, नाग, सर्प ओर अप्सराओं की भीड़ चली जाती थी। महात्मा जन्हु गंगा के मार्ग में तपस्या कर रहे थे। जब गंगा उनके पास से निकलीं तो वह समूची गंगा को पान कर गये। देवताओं ने यह दृश्य देखकर जन्‍हु की बड़ी प्रशंसा की ओर उनसे कहा — कृपा करके लोक के कल्याण के लिये आप गंगा के छोड़ दीजिये। आज से यह आपकी कन्या कहलायेंगी।

 

 

जन्हु ने गंगा की धारा के अपने कान से निकाल दिया। तभी से गंगा का नाम जान्हवी पड़ गया। गंगा इस प्रकार अनेक स्थानों को पवित्र करती हुईं उस स्थान पर पहुँचीं, जहाँ सगर के साठ हजार पुत्रो के भस्म का ढेर लगा हुआ था। गंगाजी के जल का स्पर्श होते ही वे सब मुक्ति को प्राप्त हो गये। उसी समय स्वर्ग लोक के अधिपति ब्रह्माजी भी वहाँ प्रकट हुये। ब्रह्माजी अति प्रसन्न होकर भगीरथ से बोले– हे राजन! तुमने अपूर्व तप किया है, इस कारण तुम्हारा नाम अमर हो गया। गंगा का एक नाम भागीरथी होगा, जो सदैव तुम्हारा स्मरण कराता रहेगा। सगर के साठ हजार पुत्रों का उद्धार हो गया। अब तुम अयोध्या में जाकर धर्म और नीति-पूर्वक प्रजा का पालन करो। यह कहकर ब्रह्माजी स्वर्ग लोक को सिधारे और राजा भगीरथ अयोध्या को चले गये। गंगा अवरतण की इसी स्मृति में गंगा दशहरा मानाया जाता है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:——

 

 

ओणम फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
ओणम दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों मे से एक है। यह केरल के सबसे प्रमुख त्यौहारों में से एक Read more
विशु पर्व के सुंदर दृश्य
भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर Read more
थेय्यम पर्व नृत्य के सुंदर दृश्य
थेय्यम केरल में एक भव्य नृत्य त्योहार है और राज्य के कई क्षेत्रों में प्रमुखता के साथ मनाया जाता है। Read more
केरल नौका दौड़ महोत्सव के सुंदर दृश्य
भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक, केरल नौका दौड़ महोत्सव केरल राज्य की समृद्ध परंपरा और विविध संस्कृति को Read more
अट्टूकल पोंगल फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अट्टूकल पोंगल केरल का एक बेहद लोकप्रिय त्यौहार है। अट्टुकल पोंगल मुख्य रूप से महिलाओं का उत्सव है। जो तिरुवनंतपुरम Read more
तिरूवातिरा नृत्य फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया Read more
मंडला पूजा के सुंदर दृश्य
मंडला पूजा उत्सव केरल के त्योहारों मे एक प्रसिद्ध धार्मिक अनुष्ठान फेस्टिवल है। मंडला पूजा समारोह मलयालम महीने के वृश्चिक Read more
अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के Read more
लोहड़ी
भारत में अन्य त्योहारों की तरह, लोहड़ी भी किसानों की कृषि गतिविधियों से संबंधित है। यह पंजाब में कटाई के Read more
दुर्गा पूजा पर्व के सुंदर दृश्य
दुर्गा पूजा भारत का एक प्रमुख त्योहार है। जो भारत के राज्य पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार होने के साथ Read more
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने Read more
मुहर्रम की झलकियां
मुहर्रम मुस्लिम समुदाय का एक प्रमुख त्यौहार है। जो बड़ी धूमधाम से हर देश हर शहर के मुसलमान बड़ी श्रृद्धा भाव Read more
गणगौर व्रत
गणगौर का व्रत चैत्र शुक्ला तृतीया को रखा जाता है। यह हिंदू स्त्री मात्र का त्यौहार है। भिन्‍न-भिन्‍न प्रदेशों की Read more
बिहू त्यौहार के सुंदर दृश्य
बिहू भारत के असम राज्य का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह तीन त्योहारों का मेल है जो अलग-अलग दिनों Read more
हजरत निजामुद्दीन दरगाह
भारत शुरू ही से सूफी, संतों, ऋषियों और दरवेशों का देश रहा है। इन साधु संतों ने धर्म के कट्टरपन Read more
नौरोज़ त्यौहार
नौरोज़ फारसी में नए दिन अर्थात्‌ नए साल की शुरुआत को कहते हैं। ईरान, मध्य-एशिया, कश्मीर, गुजरात और महाराष्ट्र के Read more
फूलवालों की सैर
अगर भारत की मिली जुली गंगा-जमुना सभ्यता, हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे के आपसी मेलजोल को किसी त्योहार के रूप में देखना हो Read more
ईद मिलादुन्नबी त्यौहार
ईद मिलादुन्नबी मुस्लिम समुदाय का प्रसिद्ध और मुख्य त्यौहार है। भारत के साथ साथ यह पूरे विश्व के मुस्लिम समुदाय Read more
ईद उल फितर
ईद-उल-फितर या मीठी ईद मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व है। असल में यह रमजान के महीने के समाप्त होने की खुशी Read more
बकरीद या ईदुलजुहा
बकरीद या ईद-उल-अजहा ( ईदुलजुहा) ईदुलफितर के दो महीने दस दिन बाद आती है। यह ईद चूंकि महीने की दस Read more
बैसाखी
बैसाखी सिक्ख धर्म का बहुत ही प्रमुख त्योहार माना जाता है। इस दिन गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की Read more
अरुंधती व्रत
चैत्र शुक्ला प्रतिपदा को अरुंधती व्रत रखा जाता है। इस व्रत को रखने से पराये मर्द या परायी स्त्री से Read more
रामनवमी
रामनवमी भगवान राम का जन्म दिन है। यह तिथि चैत्र मास की शुक्ला नवमी को पड़ती है। चैत्र पद से चांद्र Read more
हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा श्री रामभक्त हनुमान का जन्म दिवस हैं। इस दिन हनुमान जयंती मनाई जाती है। कुछ लोग यह जन्म दिवस Read more
आसमाई व्रत कथा
वैशाख, आषाढ़ और माघ, इन्हीं तीनों महीनों की किसी तिथि में रविवार के दिन आसमाई की पूजा होती है। जो Read more
वट सावित्री व्रत
ज्येष्ठ बदी तेरस को प्रातःकाल स्वच्छ दातून से दन्तधोवन कर उसी दिन दोपहर के बाद नदी या तालाब के विमल Read more
रक्षाबंधन और श्रावणी पूर्णिमा
रक्षाबंधन:-- श्रावण की पूर्णिमा के दिन दो त्योहार इकट्ठे हुआ करते है।श्रावणी और रक्षाबंधन। अनेक धर्म-ग्रंथों का मत है कि Read more
नाग पंचमी
श्रावण शुक्ला पंचमी को नाग-पूजा होती है। इसीलिये इस तिथि को नाग पंचमी कहते हैं। भारत में यह बडे हर्षोल्लास Read more
कजरी की नवमी या कजरी पूर्णिमा
कजरी की नवमी का त्योहार हिन्दूमात्र में एक प्रसिद्ध त्योहार है। श्रावण सुदी पूर्णिमा को कजरी पूर्णिमा कहते है। इसी Read more
हरछठ का त्यौहार
भारत भर में हरछठ जिसे हलषष्ठी भी कहते है, कही कही इसे ललई छठ भी कहते है। हरछठ का व्रत Read more
गाज बीज माता की पूजा
भाद्र शुक्ला द्वितीया को अधिकांश गृहस्थो के घर बापू की पूजा होती है। यह बापू की पूजा असल में कुल-देवता Read more
सिद्धिविनायक व्रत कथा
गणेशजी के सम्पूर्ण व्रतों में सिद्धिविनायक व्रत प्रधान है। सिद्धिविनायक व्रत भाद्र-शुक्ला चतुर्थी को किया जाता है। पूजन के आरम्भ Read more
कपर्दि विनायक व्रत
श्रावण मास की शुक्ला चतुर्थी से लगाकर भादों की शुक्ला चतुर्थी तक जो मनुष्य एक बार भोजन कर के एक Read more
हरतालिका तीज व्रत
भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तीज हस्ति नक्षत्र-युक्त होती है। उस दिन व्रत करने से सम्पूर्ण फलों की प्राप्ति Read more
संतान सप्तमी व्रत कथा
भाद्रपद शुक्ल सप्तमी को संतान सप्तमी व्रत किया जाता है। इसे मुक्ता-भरण व्रत भी कहते है। यह व्रत सध्यान्ह तक Read more
जीवित्पुत्रिका व्रत कथा
अश्विन शुक्ला अष्टमी को जीवित्पुत्रिका व्रत होता है। इस व्रत को जीतिया व्रत के नाम से भी जाना जाता है। Read more
अहोई आठे
कार्तिक कृष्णा-अष्टमी या अहोई अष्टमी को जिन स्त्रियों के पुत्र होता है वह अहोई आठे व्रत करती है। सारे दिन Read more
बछ बारस का पूजन
कार्तिक कृष्णा द्वादशी को गोधूलि-बेला मे, जब गाये चर- कर जंगल से वापस आती हैं, उस समय उन गायों और बछडों Read more