खुर्रम शाह दरगाह कोंच या तकिया खुर्रम शाह कोंच जालौन

अल्लाताला के एक मजनू थे। वली खुर्रम शाह जिन्हें खुदा की बख्शी तमाम रूहानी ताकतें हासिल थी जिनके जरिये वो अवाम में खुशियाँ बाँटते फिरते थे। उन्हीं की यादगार में उन्हीं की रूहानी ताकतों से भरापूरा यह खुर्रम शाह दरगाह उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के कोंच के आजाद नगर मुहल्ले में बना है। जहां बड़ी संख्या में जुमेरात को जियारिन जियारत करने आते हैं। इसे तकिया खुर्रम शाह के नाम से भी जाना जाता है।

 

 

खुर्रम शाह दरगाह का इतिहास

 

 

सन 1755 से 1765 के बीच यह तकिया तामीर हुआ। वली खुर्रम शाह जिनके नाम पर आज यह तकिया आबाद है वे औरंगजेब के वक्त के थे। वली खुर्रम शाह की उमर के बारे में यह कहा जाता था कि वली की उमर सौ साल से ज्यादा थी। सन 1755 में वली खुर्रम शाह का इन्तकाल हुआ और उनके बाद वली निहालुद्दीन शाह को यह शाही रूतबा हासिल हुआ।

 

 

सन 1765 में इनके इन्तकाल के बाद वली रूह उल्ला शाह वली हुए। सन 1792 में इमामशाह फिर सन 1824 में फकीर उल्लाशाह फिर सन 1839 में यकीन शाह फिर सन 1880 में मुहम्मद शाह फिर सन 1921 में अकबर शाह और सन 1934 में शाह मुजफफर अली कौकब इस तकिया की गद्दी पर गद्दीनसीन हुये और उनको वली रूतबा हासिल है।

 

 

तकिया खुर्रम शाह के अल्फाजी मायने पर गौर करने से पता चलता है कि यह तीन अल्फाजों से मिलकर बना है। ‘तकिया’ अरबी व फारसी दोनों का वह लफ्ज है जिसेके मायने होती है वह जगह जहाँ फकीर रहता है तथा जिस पर पूरा एतबार किया जा सके। खुर्रम लफ़्ज़ फारसी का है। और इसका इस्तेमाल लक़ब विषेशण के रूप में होता है। इसका अर्थ होता है खुश, आनंद, प्रसन्न, हराभरा तथा आफताब से दूर रहने वाला। शाह लफ्ज़ फारसी का है जिसके मायने होता है खुदाबन्द, फकीरों को पुकारने का लकब, दाता। शाह लफ्ज का इस्तेमाल बादशाह के लिए सिर्फ इस वजह से किया जाने लगा क्योंकि वह अवाम की जड़ और उसका आका होता है। तकिया खुर्रम शाह के इन मायनों की वजह से यह नतीजा निकाला जा सकता है कि यह वह जगह है जहाँ जहाँनी आफताब से दूर रहने वाला खुशमिजाज, खुदावन्द अपनी झोली से दूसरों में खुशियाँ व मुहब्बत बाँटने वाला और जिस पर सबका इत्मीनान हो , ऐसा फकीर आराम फरमाता हो।

 

खुर्रम शाह दरगाह कोंच
खुर्रम शाह दरगाह कोंच

 

आजकल इस तकिया के वारिस श्री शाह मुजफ्फर अली कौकब अल कादरी उम्र 82 वर्ष ने बतलाया कि यह जगह दगियाना कहलाती है क्योंकि इस जगह पर ही हिन्दू ठाकुरों ने इस्लाम कबूल किया था जिसकी वजह से हिन्दू ठाकुरों की कौम पर दाग लग गया और यह जगह दगियाना हो गयी।

 

 

तकिया खुर्रम शाह का वास्तुशिल्प

 

 

तकिया खुर्रम शाह 30×30 फुट के चौकौर व 3 फुट ऊँचे चबूतरे पर बना है। इसकी ऊँचाई 60 फुट है तथा इसका दरवाजा दक्खिन की तरफ है और इसकी दीवारें 3-3 फुट मोटी है। इस तकिया खुर्रम शाह में जमीनी धरातल पर वली खुर्रम शाह की मजार तामीर है और जमीनी मंजिल के ऊपर पहली मंजिल की चारों दीवारों और चारों गेट कोनों पर मेहराबदार आठ फुट ऊँचे आले बने हैं जिनके ऊपर गोल डाट पड़ी है तथा जिसके बीचों बीच कुछ लटकाने बावत एक कुन्दा लगा है और इस कुन्दे के तारों तरफ कमल के फूल के मानिंदफूल बने हैं। दीवारों और गोलडाट के सन्धि स्थल पर तोड़ो पर आधारित चौकौर जगह बनी है, जिसपर कमल की पंखुड़िया बनी है। छल्ले के तोड़ों पर तोता, मोर परिन्दों की तस्वीरें तामीर है और कमल फूल भी बने है। पहली मंजिल पर ही तकिये की चारों दीवारों के चारों कोनों पर एक-एक गुम्बदा युक्त मीनार बनी है। बीच के हर मुख्य गुम्बद पर एक फूल बना है जिसके बीच में कलश स्थापित है। वास्तुशिल्प की दृष्टि से सम्पूर्ण तकिये में हिंदू हिन्दू वास्तुकला की छाप दिखाई पड़ती है।

 

 

प्रचलित किंवदन्तियां

 

 

तकिया खुर्रम शाह के बारे में यह मशहूर है कि यहां पर जो भी मन्नत माँगी जाती है वह वली की आसमानी ताकत के जरिये जरूर पूरी होती है इसी कारण आज भी हिन्द मुसलमान बगैर किसी भेदभाव के यहाँ पर आते हैं और अपनी मुरादों की झोली भरकर ले जाते हैं। वली साहब के हजारों चेले थे और हमेशा घूमते ही रहते थे।

 

इस तकिये के दाहिने बाजू पर एक दीवार बनी है। कहते हैं कि एक दिन वली खुर्रम शाह सुबह के वक्त इसी दीवार पर बैठे थे उसी समय कोई हाकिम मिलने आये। वली साहब उसी दीवार पर बैठे रहे और दीवार ने आगे बढ़कर हाकिम की अगुवाई की। इस तरह से दीवार के चलने का यह वाकया है। वली के कई इसी तरह के हैरतंगेज करामातें है।

 

मसलन वली साहब के एक चेले थे जिन्हें घूमने फिरने का बहुत शौक था। एक बार वे कीमियागीरी सीखकर वली खुर्रम शाह के हुजूर में पहुँचे और अपनी की मियागीरी के हुनर के बावत बढ़ चढकर बात की। वली खुर्रम साहब ने अपने ‘स्तन्‍जापाक’ का डेला एक पत्थर पर फेंककर मारा। वह पत्थर वली के स्तंनजा पाक से छूकर खालिस सोने में तब्दील हो गया तब उस चेले का चेहरा शर्म से झुक गया।

 

 

इस तकिया खुर्रम शाह के बारे में यह भी रवायत मशहूर है कि फकीर उल्ला शाह के वक्त कोई मकोई नाम का गोरा अंग्रेज शराब पीकर व जूते पहिने हुए वल्ली साहब की मजार पर चढ़ने जा रहा था कि उसने जैसे ही मजार के दरवाजे की जंजीर छुई किसी रूहानी ताकत ने उसे बाहर फेंक दिया जिससे उसका सिर फट गया और वह वहीं पर मर गया। आज भी चमेंड मौजे में उस गोरे अंग्रेज की कब्र बनी है जो मकोई बाबा के नाम से जानी जाती है। उस दिन में यह मशहूर हो गया कि इस तकिये पर कोई अंग्रेज नहीं चढ़ेगा। वास्तव में मकोई नाम का कोई अंग्रेज नहीं था। उस समय कैप्टेन मेकाले ले था। जो रानी लक्ष्मीबाई के साथ कोंच में हुए ऐतिहासिक युद्ध में मारा गया आज भी वहीं मैंकाले मकोई बाबा के नाम से जाना जाता है। क्योंकि यदि मकोई अंग्रेज इस तकिये पर मरता तो उसकी कब्र वहीं आस पास कहीं होनी चाहिएं थी न कि इस तकिये से 2 मील दूर। यहाँ पर यह तथ्य भी दृष्टव्य है के भदेवरा से लेकर धमूरी तक मकोई बाबा का स्थान कहा जाता है उसके आस पास मैदान में तमाम अंग्रेजों की कब्रे जिन्हें यहाँ स्थानीय भाषा में मुनारें कहा जाता है। चूँकि वली साहब को औरतों में कोई दिलचस्पी नहीं थी। इस वजह से वली साहब के हुजूर में औरत जात नहीं जाती है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:--- यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

write a comment