कौसानी इंडिया आकर्षक स्थल – कौसानी के बारे में जानकारी

उत्तराखंड राज्य में स्थित कौसानी भारत का एक खूबसूरत हिल्स स्टेशन है। समुद्र तल से लगभग 1980 मीटर की ऊंचाई पर बसा यह पर्वतीय स्थल अपने प्राकृतिक सौंदर्य व मनोहारी दर्शनीय स्थलो के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। इस पर्वतीय नगर की हरी भरी घाटिया व नैसर्गिक सौंदर्य को देख महात्मा गांधी ने कहा था कि— “कौसानीधरती का स्वर्ग है”  यह भी कहा जाता कि इस शहर के सौंदर्य से प्रभावित होकर ही गांधी जी ने अपनी “अनाशक्ति योग” नामक पुस्तक की रचना इसी शहर में की थी।

कौसानी का सूर्योदय का दृश्य इतना खूबसूरत होता है कि इस दृश्य को देखने के लिए दूर दूर से सैलानी घंटो पहले यहा एकत्र हो जाते है। चीड व देवदार के पेडो से घिरी यह नगरी विश्व भर के पर्यटन स्थलो में अपनी खास पहचान रखती है। कौसानी का मौसम भी बहुत सुहावना होता है जब कौसानी में बर्फबारी होती है तो यह मौसम और भी सुहावना हो जाता है। इस समय कौसानी का तापमान में भी भारी गिरावट होती है। बर्फबारी के समय सैलानी यहा जमकर आनंद उठाते है। आइए इस खूबसूरत शहर के ऐसे ही अन्य खुबसूरत पर्यटन व दर्शनीय स्थलो के बारे में विस्तार से जानते है। जिनकी सैर करके आप अपनी कौसानी यात्रा का फुल आनंद व लुत्फ उठा सकते है

 

कौसानी के सुंदर दृश्य
कौसानी के सुंदर दृश्य

 

कौसानी के दर्शनीय स्थल

 

पंत संग्रहालय

यह संग्रहालय बस अड्डे से कुछ ही दूरी पर स्थित है। इस संग्रहालय में ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित हिंदी के प्रमुख कवि सुमित्रानंदन पंतजी के दैनिक उपयोग में आने वाली वस्तुओ के साथ साथ उनकी कविताओ की पांडुलिपियां व पत्र आदि संग्रहित करके रखे गए है।

 

सोमेश्वर

सोमेश्वर का प्रसिद्ध मंदिर से कोसानी की दूरी लगभग 19 किलोमीटर है। इस प्रसिद्ध मंदिर का निर्माण चंद्रवंशीय राजा सोमचंद ने करवाया था। कत्यूरी शैली से निर्मित यह मंदिर स्थापत्य कला का बेजोड नमूना है। और यह सैलानियो का काफी पसंद आता है।

 

पिनाकेश्वर

कौसानी से पिनाकेश्वर की दूरी लगभग 20 किलोमीटर है। यह स्थान समुद्र तल से लगभग 9050 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। पिनाकेश्वर एक अत्यंत रमणीक व मनोहारी दर्शनीय स्थल है। ट्रैकिंग के लिए यह उपयुक्त स्थल है। इसके अलावा पर्यटक पिनाकेश्वर के पास ही बूढा पिनाकेश्वर, हुरिया तथा गोपालकोट भी जा सकते है। इन स्थानो का भी सौंदर्य सैलानीयो का मन मोह लेता है।

 

पिडारी ग्लेशियर

 

यह अद्भुत ग्लेशियर3820 मीटर की ऊंचाई पर है। पिंडर नदी यही से निकलती है। ट्रैकिंग के लिए भी यह उपयुक्त स्थल है। प्रतिवर्ष काफी संख्या में देशी और विदेशी सैलानी ट्रैकिंग के लिए यहा आते है। पिंडारी ग्लेशियर की सैर करने के लिए सबसे पहले बागेश्वर पहुचना पडता है। बागेश्वर से कौसानी की दूरी 39 किलोमीटर है। बागेश्वर से कपपोट पहुचना पडता है। जो बागेश्वर से 25 किलोमीटर की दूरी पर है। कपपोट से लोहार खेत आना पडता है। जो कि 16 किलोमीटर की दूरी पर है। इसकेबाद लोहारखेत से पिंडारी ग्लेशियर की की 35 किलोमीटर की यात्रा ट्रैकिंग करते हुए तय करनी पडती है।  कुमाऊं मंडल विकास निगम व कुछ पर्यटन संस्थाएं सितंबर व अक्टूबर के मध्य 7 से 9 दिन का पर्यटको को ग्लेशियर की सैर कराने का कार्यक्रम बनाती है। जो पर्यटको के लिए सुविधाजनक होता है।

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढे—

बागेश्वर के पर्यटन स्थल

अल्मोडा के पर्यटन स्थल

औली के दर्शनीय स्थल

 

कौसानी कब जाएं

वैसे तो कोसानी बरसात के मौसम को छोडकर किसी भी मौसम में जाया जा सकता है। फिर भी अप्रैल से जून और सितंबर से अक्टूबर का समय यहा घूमने के लिए उपयुक्त माना जाता है। यदि आप बर्फबारी का आनंद उठाना चाहते है तो दिसंबर से फरवरी के बीच में जा सकते है।

 

 

कौसानी कैसे जाएं

यहा से निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है। जो कोसानी से लगभग 142 किलोमीटर की दूरी पर है। काठगोदाम से आगे की यात्रा आप बस या टैक्सी द्वारा तय कर सकते है। काठगोदाम से शेयर्यड सूमो की भी सुविधाए उपलब्ध है।

 

 

 

 

उत्तराखंड पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढें

 

 

आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है ।
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की
हर की पौडी हरिद्वार
उत्तराखंड राज्य में स्थित हरिद्वार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है।
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
हरिद्वार जिले के बहादराबाद में स्थित भारत का सबसे बड़ा योग शिक्षा संस्थान है । इसकी स्थापना स्वामी रामदेव द्वारा
खजुराहो ( कामुक कलाकृति का अनूठा संगम भारत के मध्यप्रदेश के झांसी से 175 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले में स्थित
भारत की राजधानी दिल्ली के पुरानी दिल्ली इलाके में स्थित ऐतिहासिक मुगलकालीन किला है " लाल किला"। लाल पत्थर से
जामा मस्जिद दिल्ली के सुंदर दृश्य
जामा मस्जिद दिल्ली मुस्लिम समुदाय का एक पवित्र स्थल है । सन् 1656 में निर्मित यह मुग़ल कालीन प्रसिद्ध मस्जिद
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जनपद के पलिया नगर से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दुधवा नेशनल पार्क है।
पीरान कलियर शरीफ उतराखंड के रूडकी से 4किमी तथा हरिद्वार से 20 किमी की दूरी पर स्थित   पीरान  कलियर
सिद्धबली मंदिर उतराखंड के कोटद्वार कस्बे से लगभग 3किलोमीटर की दूरी पर कोटद्वार पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भव्य सिद्धबली मंदिर
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ
जिम कार्बेट नेशनल पार्क उतराखंड राज्य के रामनगर से 12 किलोमीटर की दूरी  पर स्थित जिम कार्बेट नेशनल पार्क  भारत का
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
जम्मू कश्मीर भारत के उत्तरी भाग का एक राज्य है । यह भारत की ओर से उत्तर पूर्व में चीन
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर
मानेसर झील या सरोवर मई जून में पडती भीषण गर्मी चिलचिलाती धूप से अगर किसी चीज से सकून व राहत
भारत की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तथा हजरत निजामुद्दीन दरगाह के करीब मथुरा रोड़ के निकट हुमायूँ का मकबरा स्थित है। यह
कुतुबमीनार के सुंदर दृश्य
पिछली पोस्ट में हमने हुमायूँ के मकबरे की सैर की थी। आज हम एशिया की सबसे ऊंची मीनार की सैर करेंगे। जो
भारत की राजधानी के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह उपासना स्थल हिन्दू मुस्लिम सिख
पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कमल मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर की थी। इस पोस्ट
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध स्थल स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *