कुलपहाड़ का किला – कुलपहाड़ का इतिहास इन हिन्दी कुलपहाड़ सेनापति महल

कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक शहर है। 11 फरवरी 1995 से पहले कुलपहाड़ हमीरपुर जिले की एक तहसील थी। 11 फरवरी 1995 को महोबा जिले को हमीरपुर से अलग कर बनाया गया था, और कुलपहाड़ अब महोबा जिले का एक हिस्सा है। कुलपहाड़ भी एक प्राचीन ऐतिहासिक स्थल है तथा यहाँ भी एक प्राचीन किला है, जिसे कुलपहाड़ का किला के नाम से जाना जाता है। यह स्थल हमीरपुर से दक्षिण पश्चिम की ओर 26 कि0०मी0 दूर है। कुलपहाड के नामकरण के सम्बन्ध में यह कहा जाता है कि यहाँ एक गाँव कुलुहा पहडियाँ है उसी के नाम पर इस स्थान का नाम कल पहाड़ पडा।

 

 

 

कुलपहाड़ का किला – कुलपहाड़ सेनापति महल

 

इस क्षेत्र में के बुन्देला नरेशों के बनवाये हुए अनेक सरोवर है इसमें से अधिकांश शहर के दक्षिणी किनारे में है। सबसे प्रसिद्ध सरोवर गैराहा ताल है, इस सरोवर के किनारे अनेक धर्मिक स्थल और भवन बने ये है, तथा इस सरोवर में जल स्तर तक पहुँचने के लिए अनेक घाट बने हुये है जिनमें पत्थर के सोपान है। इस सरोवर के ठीक सामने छोटी सी पहाडी पर सुन्दर कुलपहाड़ का किला बना हुआ था। और कुछ महल बने हुये थे जिनके भग्नावशेष यहाँ उपलब्ध होते है।

 

 

यहीं पर राजा छत्रसाल द्वारा बसायी गयी बस्ती के अवशेष उपलब्ध होते है। यहाँ पर कुछ मन्दिरों का जीर्ण-उद्धार किया गया है तथा यहीं की पहाडी पर ईंदगाह मस्जिद के ध्वंसावशेष उपलब्ध होते यहाँ पर एक पहाडी पर कुछ महल उपलब्ध होते है। इनमें सबसे – प्रसिद्ध महल सेनापति महल है तथा एक मन्दिर विद्याजेन मन्दिर है। तथा दूसरा मन्दिर महाराज किशोरी जी का मन्दिर है। यहाँ के कुलपहाड़ किले में एक जल सरोवर है। जिसमें रानिया स्नान किया करती थी।

 

 

इस दुर्ग में दो गुप्त मार्ग है जो चरखारी और सुमरा दुर्ग से जुडे हुये है इस स्थल मे जल बिहार का मेला एक सप्ताह तक लगता हैं तथा इसी स्थल से कुछ दूरी पर सामरा पीठशाह की मजार है जो पहाड की चोटी पर है यहाँ पर अंग्रेजों के बनवाये हुये गिरजाघर है। जिसमें पादरी रहा करते है।

 

 

कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ का किला

 

इस दुर्ग के निम्नलिखत स्थल दर्शनीय है–

1. दुर्ग के अवशेष
2. गैराहा ताल जलाशय
3. ईदगाह और मस्जिद
4. सेनापति महल
5. विद्यार्जन मन्दिर
6. किशोरी जी का मन्दिर
7. दुर्ग का जलाशय
8. समरशाह

 

 

कुलपहाड़ का इतिहास – कुलपहाड़ हिस्ट्री इन हिन्दी

 

कुलपहाड़ ब्रिटिश राज में इसी नाम की एक रियासत की राजधानी थी। कुलपहाड़ की स्थापना 1700 में महाराजा छत्रसाल के पुत्र जैतपुर के राजा जगत राज द्वारा की गई थी, और इसे बुंदेला राजपूत सेनापति द्वारा पुनर्गठित किया गया था, जो महाराजा छत्रसाल के पोते जैतपुर के राजा जगत राज के पुत्र थे। 1804 में कुलपहाड़ पर अंग्रेजों ने कब्जा कर लिया और सेंट्रल इंडिया एजेंसी की बुंदेलखंड में एक रियासत बन गई। मुखिया मध्य प्रदेश के नौगोंग शहर में रहता था। कुलपहाड़ का किला, एक खड़ी पहाड़ी पर स्थित है, समुद्र तल से 800 फीट से अधिक ऊंचा है, और इसमें विस्तृत नक्काशीदार मूर्तियों के खंडहर हैं। कुलपहाड़ का संक्षिप्त इतिहास उत्पत्ति के खंड के अंतर्गत आता है। कुलपहाड़ के मध्यकालीन और प्राचीन इतिहास के बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है लेकिन 9वीं और 10वीं शताब्दी की संरचनाओं के अवशेष प्राचीन और मध्ययुगीन भारत में कुलपहाड़ के अस्तित्व और महत्व की पुष्टि करते हैं।

 

मुगलों के पतन और छत्रसाल बुंदेला के उदय के बाद, कुलपहाड़ उसके अधीन हो गया, लेकिन हासिल करने में विफल रहा और एक तरह की श्रेष्ठता हासिल की। 17 वीं शताब्दी में छत्रसाल ने स्वतंत्रता की घोषणा की और औरंगजेब के खिलाफ कड़ा प्रतिरोध किया। उन्होंने बुंदेला रियासत की स्थापना की और बहादुर शाह मुगल को ‘बुंदेलखंड’ नामक क्षेत्र में अपने सभी अधिग्रहणों की पुष्टि करनी पड़ी। फर्रुखसियर के शासनकाल के दौरान शत्रुता का पुनरुद्धार हुआ जब उसके सेनापति मोहम्मद खान बंगश ने वर्ष 1729 ईस्वी में बुंदेलखंड पर आक्रमण किया और वृद्ध शासक छत्रसाल को पेशवा बाजी राव से सहायता लेनी पड़ी। 70000 पुरुषों की उनकी ‘मराठा’ सेना इंदौर (मालवा) से धराशायी हुई और महोबा में डेरा डाला। उन्होंने नवाब बंगश की सेना को घेर लिया, जिन्होंने जैतपुर, बेलाताल, मुधारी और कुलपहाड़ आदि पर कब्जा कर लिया था। पेशवा ने कुलपहाड़ के पास जैतपुर, मुधारी और सलात के घने जंगलों में अपनी सेना का सफाया करके नवाब को करारी हार दी। इस सहायता के बदले में छत्रसाल ने अपने राज्य का एक तिहाई भाग मराठा सरदार को दे दिया। उस हिस्से में महोबा, श्री नगर, जैतपुर, कुलपहाड़ आदि शामिल थे। बाद में, 1803 ई. में बेसियन की संधि के तहत मराठों ने बुंदेलखंड क्षेत्र को ब्रिटिश शासकों को सौंप दिया। हालाँकि, इसका प्रशासन जालौन के सूबेदार द्वारा 1856 ईस्वी तक चलाया गया था जब इसे अंततः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा कब्जा कर लिया गया था। कुलपहाड़ को हमीरपुर जिले में महोबा के अनुमंडल के अंतर्गत एक तहसील का मुख्यालय बनाया गया था।

 

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—–

 

 

तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला व चौरासी खंभा
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *