कुम्भज ऋषि कौन थे – कुम्भज ऋषि आश्रम जालौन

उत्तर प्रदेश के जनपद जालौन की कालपी तहसील के अन्तर्गत उरई से उत्तर – पूर्व की ओर 32 किलोमीटर की दूरी पर ग्राम कुरहना बसा हुआ है। इस ग्राम के विषय में यह जनश्रुति है कि कुम्भज ऋषि का आश्रम यहीं पर था।

 

 

कुम्भज ऋषि का इतिहास

 

महाभारत में कुम्भज ऋषि का वर्णन मिलता है। कुम्भज और वशिष्ट मुनि दोनो भाई भाई थे तथा मित्रावरूण की संतान थे। इनके विषय में कथानक प्रसिद्ध है कि भगवान शकर अपनी शक्ति सती के साथ त्रेतायुग में उनके आश्रम में गये थे। जहां पर ऋषि द्वारा इनको अखिलेश्वर जानकर इनकी पूजा की गयी। यह वृतांत रामचरित मानस में इस प्रकार वर्णित है:–

एक बार त्रेतायुग माहीं , सम्भु गये कुम्मण ऋषि पाहीं ।
संग सती जग जननि भवानी, पूजे ऋषि अखिलेश्वर जानी।

इन कुम्भज ऋषि के बारे में यह पौराणिक कथन है कि ये विन्ध्याचल पर्वत को पार कर दक्षिण – भारत की ओर गये थे और वहीं पर अगत्स्य ऋषि नाम से प्रसिद्ध हुए। इन्हीं अगत्स्य मुनि ने समुद्र के बढ़ते हुए प्रभाव को रोकने हेतु उसके जल को अपने पेट में समाहित कर लिया था। इसलिए इनको अगत्स्य मुनि के नाम से जाना गया। रामचरित मानस में यह वर्णन दृष्टव्य है कि-&

,
कहँँ कुंभज कँँह सिन्धु अपारा। सोषेउ सुजसु सकल संसारा ॥
रवि मंडल देखत लघु लागा। उदय तासु तिभुवन तम भागा ॥

 

अस्तु यह स्पष्ट है कि कुम्भज ऋषि और अगस्त्य अलग अलग नहीं थे वरन्‌ दोनों एक ही थे। मान्यता के अनुरूप कुरहना में ही इनका आश्रम था। जहाँ पर उन्होंने या तो अपना चर्तुमास मास व्यतीत किया हो अथवा अपनी तपस्थली बनाया होगा। इस ग्राम में दो प्राचीन मंदिर है जो कि शंकर जी एवं पार्वती जी का मंदिर है। यहीं स्थानीय श्रद्धालुओं द्वारा श्वेत संगमरमर की कुम्भज ऋषि की मूर्ति स्थापित की गई है। कुम्भज ऋषि का मंदिर का जीर्णोाद्वार अभी निकट में कराया गया है जबकि इनके सामने ही शंकर जी तथा पार्वती जी का मंदिर है , जिनका जीर्णोद्वार अभी नहीं हुआ है।

 

कुम्भज ऋषि
कुम्भज ऋषि

 

कुम्भज ऋषि का मंदिर

 

शंकर जी का मंदिर अन्दर से वर्गाकार है। अष्टभुजी आधार पर अर्द्धगोल गुम्बद बना है जिसके ऊपर मध्य में कमल दल का अंकन है और उस कमल दल में कलश स्थापित है। मंदिर की वर्गाकार चारों भुजाओं के मध्य में एक एक मेहराब युक्त दरवाजा बना हुआ है जिसके दोनों सिरों पर दो दो आले अंकित है। मंदिर लगभग 25 फुट ऊँची है। वर्ग की प्रत्येक भुजा 14 फुट लम्बी है। दीवार दो फुट चौड़ी है। तथा इसका दरवाजा 6 फुट ऊँचा एवं 2.5 फुट चौड़ा है।

 

इस मंदिर की दीवारों पर चूने का प्लास्टर है। मंदिर के कोने में मेहराब का अंकन है और ऊपर 8 आले बने हुए है। छत पर
बेलबूटों का अंलकरण है। इसमें प्रयुक्त ईटें हल्की एवं मोटी हैं। यह मंदिर पूर्वा भिमुख है।

 

 

शिवलिंग – भगवान शंकर का शिवलिंग ग्रेनाइट पत्थर से बना हुआ है। जिसके बारे में यह मान्यता है कि इसकी गहराई के विषय में कोई जानकारी प्राप्त नहीं है परन्तु वर्तमान अर्घे में यह गोल लिंग जिसका व्यास 11.5 फुट तथा ऊँचाई 1 फुट स्थापित दिखता है।

पार्वती मंदिर – यह मंदिर भी वर्गाकार है। जिसपर अष्टभुजी आकार की अर्द्धगोल छत बनी है जिसके मध्य में कमल दल का अंकन है। इसमें प्रयुक्त ईटें पतली परन्तु अत्यन्त हल्की है। चूने के प्लास्टर पर बेलबूटों का बाहर की ओर से अंलकरण स्पष्ट दृष्टिगोचर होता है। पार्वती जी का मंदिर एक चौकोर चबूतरे पर बना हुआ है। जो कि जमीन से लगभग 3 फुट ऊँचा है। मंदिर के वर्ग की भुजा 12 फुट लम्बी है। दरवाजा 5 फुट 3 इच ऊँचा व 2 फुट 6 इंच चौड़ा है। दीवार की चौड़ाई मय प्लास्टर 3 फुट है।

 

 

दोनों मंदिर अत्यन्त प्राचीन है एवं उनको देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि ये मंदिर लगभग 16 वीं , 17 वीं शताब्दी के आस पास के होने चाहिये। इसके सामने प्राचीन बजरी पत्थर के कुछ खण्ड भी पड़े हैं तथा एक चबुतरे पर कुछ पाषाण प्रतिमाएं भी पड़ी है। खण्डित पाषाण प्रतिमाओं को देखने से यह आभास होता है कि यह प्रतिमा भी 10वीं शताब्दी के आस पास की होनी चाहिये। मंदिरों तथा खण्डित मूर्तियों को देखने से यह निष्कर्ष निकालना जा सकता है कि यह स्थान प्राचीन स्थान रहा होगा। किन्तु मूर्तियों का मूर्ति शिल्प हमें 9वीं, 10वीं, शताब्दी के काल में ले जाता है। इसके पश्चात दैवी आपदाओं विध्वंशकारी प्रवृतियों के कारण ये नेस्तनाबूद हुए होंगे परन्तु जन आस्थाओं का सम्बल पाकर पुनः 16वी, 17वी, शताब्दी में जीर्णोद्वार हुए होगे और आज वर्तमान में पुनः जीर्णोद्वार की उत्कंठा अपने मन में संजोये समाज की आस्थाओं का परीक्षण कर रहे है। ब्रहमांड पुराण में वर्णित चतुर्थ अध्याय के अन्तर्गत कालपी महात्मा में भी इस क्षेत्र का उल्लेख हुआ है।

 

 

यहाँ स्थानीय स्तर पर शंकर जी के मंदिर के विषय में यह लोकोप्ति है कि आज से लगभग 40-50 वर्ष पूर्व कुछ अपराधिक प्रवृत्तियों के लोगों को जो भगवान शंकर के शिवलिंग को उखाड़ कर उसके नीचे दबे- हुए धन की प्राप्ति की इच्छा रखते थे, उन्हें यहाँ पर खींच लाई और इन अपराधिक प्रवृत्तियों वाले व्यक्तियों द्वारा पिंडी की खुदाई की गयी तथा उसमें उन्हें न तो कोई छोर मिला और न ही धन की प्राप्ति हुई बल्कि उस समय भगवान शंकर का वाहन एक वृषभ वहाँ पर आ गया और इन बदमाशों को वहाँ से खदेड़ दिया। तब से यहाँ पर इस प्रकार की घटना की पुन:वृत्ति नहीं हुई। कुल मिलाकर कुम्भज ऋषि का यह क्षेत्र अपना धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व रखता है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

 

चौरासी गुंबद कालपी
चौरासी गुंबद यह नाम एक ऐतिहासिक इमारत का है। यह भव्य भवन उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना नदी
श्री दरवाजा कालपी
भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में कालपी एक ऐतिहासिक नगर है, कालपी स्थित बड़े बाजार की पूर्वी सीमा
रंग महल कालपी
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले के कालपी नगर के मिर्जामण्डी स्थित मुहल्ले में यह रंग महल बना हुआ है। जो
गोपालपुरा का किला जालौन
गोपालपुरा जागीर की अतुलनीय पुरातात्विक धरोहर गोपालपुरा का किला अपने तमाम गौरवमयी अतीत को अपने आंचल में संजोये, वर्तमान जालौन जनपद
रामपुरा का किला
जालौन  जिला मुख्यालय से रामपुरा का किला 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 46 गांवों की जागीर का मुख्य
जगम्मनपुर का किला
उत्तर प्रदेश राज्य के जालौन जिले में यमुना के दक्षिणी किनारे से लगभग 4 किलोमीटर दूर बसे जगम्मनपुर ग्राम में यह
तालबहेट का किला
तालबहेट का किला ललितपुर जनपद मे है। यह स्थान झाँसी - सागर मार्ग पर स्थित है तथा झांसी से 34 मील
कुलपहाड़ का किला
कुलपहाड़ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के महोबा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह बुंदेलखंड क्षेत्र का एक ऐतिहासिक
पथरीगढ़ का किला
पथरीगढ़ का किला चन्देलकालीन दुर्ग है यह दुर्ग फतहगंज से कुछ दूरी पर सतना जनपद में स्थित है इस दुर्ग के
धमौनी का किला
विशाल धमौनी का किला मध्य प्रदेश के सागर जिले में स्थित है। यह 52 गढ़ों में से 29वां था। इस क्षेत्र
बिजावर का किला
बिजावर भारत के मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर जिले में स्थित एक गांव है। यह गांव एक ऐतिहासिक गांव है। बिजावर का
बटियागढ़ का किला
बटियागढ़ का किला तुर्कों के युग में महत्वपूर्ण स्थान रखता था। यह किला छतरपुर से दमोह और जबलपुर जाने वाले मार्ग
राजनगर का किला
राजनगर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहों के विश्व धरोहर स्थल से केवल 3 किमी उत्तर में एक छोटा सा
पन्ना के दर्शनीय स्थल
पन्ना का किला भी भारतीय मध्यकालीन किलों की श्रेणी में आता है। महाराजा छत्रसाल ने विक्रमी संवत् 1738 में पन्‍ना
सिंगौरगढ़ का किला
मध्य भारत में मध्य प्रदेश राज्य के दमोह जिले में सिंगौरगढ़ का किला स्थित हैं, यह किला गढ़ा साम्राज्य का
छतरपुर का किला
छतरपुर का किला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में अठारहवीं शताब्दी का किला है। यह किला पहाड़ी की चोटी पर
चंदेरी का किला
भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थित चंदेरी का किला शिवपुरी से 127 किमी और ललितपुर
ग्वालियर का किला
ग्वालियर का किला उत्तर प्रदेश के ग्वालियर में स्थित है। इस किले का अस्तित्व गुप्त साम्राज्य में भी था। दुर्ग
बड़ौनी का किला
बड़ौनी का किला,यह स्थान छोटी बड़ौनी के नाम जाना जाता है जो दतिया से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर है।
दतिया महल या दतिया का किला
दतिया जनपद मध्य प्रदेश का एक सुप्रसिद्ध ऐतिहासिक जिला है इसकी सीमाए उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद से मिलती है। यहां
कालपी का किला
कालपी का किला ऐतिहासिक और सांस्कृतिक दृष्टि से अति प्राचीन स्थल है। यह झाँसी कानपुर मार्ग पर स्थित है उरई
उरई का किला और माहिल तालाब
उत्तर प्रदेश के जालौन जनपद मे स्थित उरई नगर अति प्राचीन, धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व का स्थल है। यह झाँसी कानपुर
एरच का किला
उत्तर प्रदेश के झांसी जनपद में एरच एक छोटा सा कस्बा है। जो बेतवा नदी के तट पर बसा है, या
चिरगाँव का किला
चिरगाँव झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह झाँसी से 48 मील दूर तथा मोड से 44 मील
गढ़कुंडार का किला
गढ़कुण्डार का किला मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले में गढ़कुंडार नामक एक छोटे से गांव मे स्थित है। गढ़कुंडार का किला बीच
बरूआ सागर का किला
बरूआ सागर झाँसी जनपद का एक छोटा से कस्बा है। यह मानिकपुर झांसी मार्ग पर है। तथा दक्षिण पूर्व दिशा पर
मनियागढ़ का किला
मनियागढ़ का किला मध्यप्रदेश के छतरपुर जनपद मे स्थित है। सामरिक दृष्टि से इस दुर्ग का विशेष महत्व है। सुप्रसिद्ध ग्रन्थ
मंगलगढ़ का किला
मंगलगढ़ का किला चरखारी के एक पहाड़ी पर बना हुआ है। तथा इसके के आसपास अनेक ऐतिहासिक इमारते है। यह हमीरपुर
जैतपुर का किला या बेलाताल का किला
जैतपुर का किला उत्तर प्रदेश के महोबा हरपालपुर मार्ग पर कुलपहाड से 11 किलोमीटर दूर तथा महोबा से 32 किलोमीटर दूर
सिरसागढ़ का किला
सिरसागढ़ का किला कहाँ है? सिरसागढ़ का किला महोबा राठ मार्ग पर उरई के पास स्थित है। तथा किसी युग में
महोबा का किला
महोबा का किला महोबा जनपद में एक सुप्रसिद्ध दुर्ग है। यह दुर्ग चन्देल कालीन है इस दुर्ग में कई अभिलेख भी
कल्याणगढ़ का किला मंदिर व बावली
कल्याणगढ़ का किला, बुंदेलखंड में अनगिनत ऐसे ऐतिहासिक स्थल है। जिन्हें सहेजकर उन्हें पर्यटन की मुख्य धारा से जोडा जा
भूरागढ़ का किला
भूरागढ़ का किला बांदा शहर के केन नदी के तट पर स्थित है। पहले यह किला महत्वपूर्ण प्रशासनिक स्थल था। वर्तमान
रनगढ़ दुर्ग या जल दुर्ग
रनगढ़ दुर्ग ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण प्रतीत होता है। यद्यपि किसी भी ऐतिहासिक ग्रन्थ में इस दुर्ग
खत्री पहाड़ का दुर्ग व मंदिर
उत्तर प्रदेश राज्य के बांदा जिले में शेरपुर सेवड़ा नामक एक गांव है। यह गांव खत्री पहाड़ के नाम से विख्यात
मड़फा दुर्ग
मड़फा दुर्ग भी एक चन्देल कालीन किला है यह दुर्ग चित्रकूट के समीप चित्रकूट से 30 किलोमीटर की दूरी पर
रसिन का किला
रसिन का किला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले मे अतर्रा तहसील के रसिन गांव में स्थित है। यह जिला मुख्यालय बांदा
अजयगढ़ का किला
अजयगढ़ का किला महोबा के दक्षिण पूर्व में कालिंजर के दक्षिण पश्चिम में और खुजराहों के उत्तर पूर्व में मध्यप्रदेश
कालिंजर का किला
कालिंजर का किला या कालिंजर दुर्ग कहा स्थित है?:--- यह दुर्ग बांदा जिला उत्तर प्रदेश मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर बांदा-सतना
ओरछा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
शक्तिशाली बुंदेला राजपूत राजाओं की राजधानी ओरछा शहर के हर हिस्से में लगभग इतिहास का जादू फैला हुआ है। ओरछा

write a comment