कुदसिया महल गरीबों की मसीहा

लखनऊ के इलाक़ाए छतर मंजिल में रहने वाली बेगमों में कुदसिया महल जेसी गरीब परवर और दिलदार बेगम दूसरी नहीं हुई। लखनऊ के नवाब नसीरुद्दीन हैदर की इस महबूब मलिका की सखावत के डंके सारे शहर में बजते थे। उनके दरे-दौलत से कोई कभी खाली हाथ नहीं लौटता था। इस दरियादिली की एक वजह यह भी थी कि बेगम एक मामूली घर की लड़की थी और उन्हें गरीबी का दुख-दर्दे मालूम था।

 

 

बेगम कुदसिया महल गरीबों की मसीहा

 

 

बेगम कुदसिया महल को वो दिन याद आ गए जब लड़कपन में उनके मकान में एक नजूमी मीर अनवर अली इनके बाप से मिलने आए थे। बेगम बचपन में बिस्मिल्ला खानम थीं और उन्ही के हाथों मकान के अन्दर से गिलौरियाँ बाहर भेजी गई थी। जब ड्योढ़ी में आकर उसने मीर साहब की तरफ़ पान के बीड़े बढ़ाए तो उन्होंने हाथ पकड़कर लकीरें पढ़ना शुरू कर दिया। इसी बीच घर के बड़े लोग आकर बैठचुके थे। हाथ देख चुकने के बाद मीर साहब ने बड़े अदब से बिस्मिल्ला ख़ानम को आदाब बजाया और इतना ही कहा, “बेटी, खुदा जब आपको मलिकाका मर्तबा दे तो इस गरीब को न भूल जाइयेगा।” घरवाले उसे बे सिर पैर की बात समझकर मज़ाक उड़ा बैठे थे मगर अब तो सच कुदसिया महल की निगाहों में मुस्करा रहा था। फिर कुदसिया महल ने बड़ी इज्जत से उस बूढ़े ज्योतिषी मीर अनवर अली को महल में बुलवाया और दस हज़ार की थैली नजर देकर उन्हे सलाम अता किया।

 

 

बेगम कुदसिया महल
बेगम कुदसिया महल

 

कुदसिया महल की इस परोपकारी दास्तान का कोई अन्त नही है । हर रोज़ सुबह सवेरे जब उनके महल “कोठी दर्शन विलास’ के दारोगा कादिर अली खाँ साहब 500 रुपये बेगम की तरफ़ से फकीरों और गरीबों में बाँट दिया करते थे तब बेगम साहिबा दस्तरख्वान पर नाश्ते के लिए बैठती थीं। शाही खजाने की तरफ़ से उनके बावर्ची खाने का खर्च 1400 रुपये रोज़ बाँधा गया था और उसमें से भी एक बड़ा हिस्सा मोहताजों को खिला दिया जाता था।

 

 

लखनऊ  का एक नामी रंगरेज, जो कुदसिया महल के दुपट्टे रंगता था, एक दिन महल के दरवाज़े पर आकर खड़ा हो गया। उसने अपनी बेटी की शादी के लिए दरख्वास्त की। ज़रूरत पूछने पर उस बेचारे ने सिर्फ़ चार सौ रुपयों की फरमाइश की। इस बात पर कुदसिया महल को बेहद रंज और अफ़सोस हुआ और हुक्म दिया कि आज से दर्शन विलास की ड्योढ़ी पर सूरत मत दिखाना। इधर रंगरेज के होश गुम हो गए कि आख़िर मुझ ग़रीब से ऐसी कौनसी खता हो गई। बाद में जाहिर हुआ, बेगम इस बात पर नाराज़ हो गई हैं कि इस क़दर कम रक़म के लिए हमारे आगे दामन क्यूँ फैलाया गया और क्‍या ये हमारी तौहीन नहीं है जबकि इतनी छोटी जरूरत तो शहर का कोई मामुली आदमी भी रफ़ा कर सकता हैं। फिर उसे महल से कई हज़ार रुपये बेटी की शादी के लिए देकर बिदा किया गया।

 

 

एक दिन एक नौशा अपनी नयी ब्याही दुल्हन लिए उनकी महलसरा के पास से गुजरा। बरात में रोशन चौकी थी, बाजे भी बज रहे थे। सब कुछ था मगर ग़रीब की बेटी थी, इसलिए दहेज कुछ भी नहीं था। जब महल की कनीज़ों ने बेगम को कुल हाल बताया तो आपने फ़रमाया हमारे महल में दुल्हन को दो घड़ी के लिए रोक लिया जाए। अब क्‍या था, चोबदार और खिदमतगार इधर-उधर दौड़ रहे थे। कहारों ने दुल्हन की पालकी कोठी “दर्शन विलास’ की दहलीज़ में लाकर रख दी। ख़ादिमाएँ दुल्हन को गोद मे उठा लाई और दीवानखाने में लाकर बिठा दिया जहाँ कुदसिया महल मसनद नशीन थीं। चन्द इशारों में दुल्हन को जड़ाऊ जेवरों से लाद दिया गया और नौशे को तमाम नज़रें दिला दी गईं। जब कोठी “दर्शन विलास” से निकलकर दूल्हा और दुल्हन आगे बढ़े तो बरातका कायापलट हो चुका था क्‍योंकि वो गरीब अब मालामाल हो चुके थे।

 

 

बेगम कुदसिया महल ने नवाब की एक बात दिल में लग जाने पर संखिया चाट कर अपनी जान दे दी। ये 21 अगस्त, 1834 की बात है। उन्हें लखनऊ स्थित इरादत नगर कर्बला में दफ़्न कर दिया गया।

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

मलिका किश्वर
मलिका किश्वर साहिबा अवध के चौथे बादशाह सुरैयाजाहु नवाब अमजद अली शाह की खास महल नवाब ताजआरा बेगम कालपी के नवाब Read more
बेगम शम्सुन्निसा
बेगम शम्सुन्निसा लखनऊ के नवाब आसफुद्दौला की बेगम थी। सास की नवाबी में मिल्कियत और मालिकाने की खशबू थी तो बहू Read more
बहू बेगम
नवाब बेगम की बहू अर्थात नवाब शुजाउद्दौला की पटरानी का नाम उमत-उल-जहरा था। दिल्‍ली के वज़ीर खानदान की यह लड़की सन्‌ 1745 Read more
नवाब बेगम
अवध के दर्जन भर नवाबों में से दूसरे नवाब अबुल मंसूर खाँ उर्फ़ नवाब सफदरजंग ही ऐसे थे जिन्होंने सिर्फ़ एक Read more
सआदत खां बुर्हानुलमुल्क
सैय्यद मुहम्मद अमी उर्फ सआदत खां बुर्हानुलमुल्क अवध के प्रथम नवाब थे। सन्‌ 1720 ई० में दिल्ली के मुगल बादशाह मुहम्मद Read more
नवाब सफदरजंग
नवाब सफदरजंग अवध के द्वितीय नवाब थे। लखनऊ के नवाब के रूप में उन्होंने सन् 1739 से सन् 1756 तक शासन Read more
नवाब शुजाउद्दौला
नवाब शुजाउद्दौला लखनऊ के तृतीय नवाब थे। उन्होंने सन् 1756 से सन् 1776 तक अवध पर नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब आसफुद्दौला
नवाब आसफुद्दौला-- यह जानना दिलचस्प है कि अवध (वर्तमान लखनऊ) के नवाब इस तरह से बेजोड़ थे कि इन नवाबों Read more
नवाब वजीर अली खां
नवाब वजीर अली खां अवध के 5वें नवाब थे। उन्होंने सन् 1797 से सन् 1798 तक लखनऊ के नवाब के रूप Read more
नवाब सआदत अली खां
नवाब सआदत अली खां अवध 6वें नवाब थे। नवाब सआदत अली खां द्वितीय का जन्म सन् 1752 में हुआ था। Read more
नवाब गाजीउद्दीन हैदर
नवाब गाजीउद्दीन हैदर अवध के 7वें नवाब थे, इन्होंने लखनऊ के नवाब की गद्दी पर 1814 से 1827 तक शासन किया Read more
नवाब नसीरुद्दीन हैदर
नवाब नसीरुद्दीन हैदर अवध के 8वें नवाब थे, इन्होंने सन् 1827 से 1837 तक लखनऊ के नवाब के रूप में शासन Read more
नवाब मुहम्मद अली शाह
मुन्नाजान या नवाब मुहम्मद अली शाह अवध के 9वें नवाब थे। इन्होंने 1837 से 1842 तक लखनऊ के नवाब के Read more
नवाब अमजद अली शाह
अवध की नवाब वंशावली में कुल 11 नवाब हुए। नवाब अमजद अली शाह लखनऊ के 10वें नवाब थे, नवाब मुहम्मद अली Read more
नवाब वाजिद अली शाह
नवाब वाजिद अली शाह लखनऊ के आखिरी नवाब थे। और नवाब अमजद अली शाह के उत्तराधिकारी थे। नवाब अमजद अली शाह Read more