ओडिशा का पहनावा – ओडिशा की वेष-भूषा

ओडिशा बंगाल की सुंदर खाड़ी,में भारत का एक पूर्वी भारतीय राज्य है। और यह पश्चिम बंगाल से घिरा हुआ है। ओडिशा का पहनावा इस भारतीय राज्य की एक अनोखी संस्कृति है। उड़ीसा के लोग बहुत धार्मिक हैं। इस बात का अंदाजा यहा उनके रूप औ वेषभूषा से लगाया जा सकता है। ओडिशा का पहनावा उनके रूप और संस्कृति पर एकदम फिट बैठता है। ओडिशा पांरपरिक पहनावा एक प्राचीन संस्कृति और शास्त्रीय नृत्य के लिए भी लोकप्रिय है।

 

 

ओडिशा का पहनावा

 

ओडिशा की वेषभूषा

 

ओडिशा का पहनावा
ओडिशा का पहनावा

 

महिलाओ के लिए ओडिशा का पारंम्परिक परिधान:–

ओडिशा का इतिहास बहुत बहुत प्राचीन है। यहां तक ​​कि कलिंग जगह जो सम्राट अशोक के पूरे जीवन रुख बदलने के लिए किया जानी जाती है। वह इसी राज्य का हिस्सा है। यहां लोगों को उनकी परंपरा और संस्कृति विरासत मे मिलीहो जिस को संरक्षित रखने के लिए यहा के लोग आज भी प्रतिबद्ध है ओडिशा में महिलाओ का मुख्य पहनावा साडी है। जो भारतीय संस्कृति का भी हिस्सा है। ओडिसा की महिलाओ की सुंदरता में भी चार चांद लगाता है। ओडिशा कटकी साड़ी और संबलपुरी साड़ी के लिए प्रसिद्ध है। इन साड़ीयो के डिजाइन बहुत अजीब और खुबसूरत होते हैं और यहां की महिलाए इसे बडे गर्व के साथ शादी, विवाह त्योहारो और रोजमर्रा के जीवन में प्रयोग करती है। यह परिधान काफी सुविधाजनक होता है। सलवार कमीज लड़कियों के ओडिशा में प्रसिद्ध वेशभूषा है, यहा की महिलाए साडी के साथ मूल्यवान गहने आदि का भी प्रयोग करती है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढे:–

ओडिशा का खाना

ओडिशा के त्योहार

भुवनेश्वर के दर्शनीय स्थल

 

 

पुरुषों के लिए ओडिशा पारंपरिक पोशाक:

 

ओडिशा के अधिकांश लोग कठिन कार्यकर्ता हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में तो बहुत अधिक हैं। ओडिशा में, पुरुषों अपने स्वयं के पारंपरिक परिधान पहनने के लिए ज्यादा दिलचस्पी रखते है। आम तौर पर, धोती कुर्ता ओडिशा में पुरुषों के लिए आम पारंपरिक वेशभूषा है। यह इसे त्योहार शादी समारोह आदि में भी पहनते है। धोती कुर्ता के अलावा वह कंधे पर गमछा डाल लेते है। यहा के लोग सख्ती से अपनी पारंपरिक धार्मिक वेशभूषा पहनने का पालन करते है। रास्ते में, किन्तु इंटरनेट,के तेजी से संचार, और अन्य बुनियादी सुविधाओं के घटनाक्रम के आगमन उनके परंपराओं और संस्कृति में बदलाव हो रहे हैं। तो वहाँ पोशाक डिजाइन में परिवर्तन और वेशभूषा की एक किस्म युवाओं के जीवन में प्रवेश कर रहे हैं। लेकिन फिर भी, पारंपरिक वेषभूषा मूल निवासियों के दिल में आज भी बैठी हैं।

ओडिशा का पहनावा, ओडिशा की वेषभूषा पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बताएं। इस जानकारी को आप अपने दोस्तो के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

2 Comments

Add a Comment