एक्सरे की खोज किसने की थी, एक्सरे किरणें कैसे काम करती है

एक्सरे

सन्‌ 1895 के एक सर्द दिन जर्मनी के वैज्ञानिक राण्ट्जन (Roentgen) फैथोड किरण विसर्जन नलिका (Cathode ray discharge tube) के साथ कुछ प्रयोग कर रहे थे। यह कैथोड किरण विसर्जन नलिका पूरी तरह एक गत्ते से इस प्रकार ढकी थी कि उससे प्रकाश बाहर न जा सके। उन्होंने यह अनुभव किया कि विसर्जन नलिका से कुछ फिट की दूरी पर रखा एक कागज, जिस पर बेरियम ब्लेटिनो सायनाइड का लेप चढ़ा था, अंधेरे में चमक रहा है। वास्तव में इस प्रतिदीष्ति (Fluorescence) की घटना को जे.जे. थाम्सन एवं अन्य कई योग्य भौतिकविदों ने देखा तो था, परंतु इसे महत्वहीन जानकर अधिक गौर नहीं किया था। उन्हें इन विकिरणों की प्रकृति के बारे में पता नहीं था, इसी कारण उन्होंने इन विकिरणों को एक्सरे किरणों का नाम दे दिया। लेकिन राण्ट्जन ने इस अकस्मातु खोज के महत्व को यथार्थ मे लिया और अपने अगले छ. सप्ताह उन्होंने इन एक्सरे किरणों के सभी गुणों को पता लगाने में व्यतीत किए। उनकी इस दिशा में रुचि का अन्दाजा तो इस बात से लगाया जा सकता है कि वे अपनी प्रयोगशाला मे ही खाना खाते एवं सोते थे।

 

एक्सरे की खोज किसने की थी

 

ये नयी किरणें विसर्जन नलिका के ऐनोड से उत्सर्जित (Emitted) जान पड़ती थीं, और कैथोड किरणों से इस बात में भिन्‍न थीं कि ये किरणें विसर्जन नलिका से बाहर वायु में लगभग 2 मीटर तक भेदन कर सकती हैं। जबकि कैथोड किरणें विसर्जित नलिका के अंदर ही रहती हैं। जब राण्ट्जन ने विभिन्‍न पदार्थों की एक्सरे किरणों के प्रति पारदर्शिता (opaque) की खोज की तो उन्होंने पाया कि ये किरणें केवल 1 मिमी. मोटे शीशे (lead) का भेदन (penetrate) कर सकती हैं। जब वह सीसे की एक छोटी -सी डिस्क को एक्सरे किरणों के मार्ग में रख रहे थे, तब उन्होंने एक और बात की तरफ ध्यान दिया। उन्होंने देखा कि एक्सरे किरणें सीसे की डिस्क की छाया बनाने के अतिरिक्त, उनके अंगूठे की बाह्य रेखा भी दिखा रही थी। मांस एवं हड्डी की पारदर्शिता भिन्‍न-भिन्‍न होने के कारण ही उन्हें अंगूलियों की हड्डियों की छाया अपेक्षाकृत अधिक काली दिखाई दी। उन्होंने यह अनुमान लगाया कि एक्सरे किरणें उन पदार्थों का भी भेदन करने की क्षमता रखती हैं, जिनमें से प्रकाश नही गुजर पाता।

 

एक्सरे
एक्सरे

 

राण्टूजन ने इन किरणों के बार मे कई सही अनुमान लगाए। उदाहरण स्वरूप, उनके अनुसार इन किरणों की तरंगदैधर्य (wave length) विद्युत चुम्बकीय विकिरणों (radiation) जैसी प्रकाश तरंगों से कम होनी चाहिए क्योकि ये किरणें चुम्बकीय क्षेत्र से अप्रभावित रहती हैं। उनके छः सप्ताह के एकाग्रतापूर्वक किए गए अध्ययनों को कई उच्च कोटि के पेपरों में प्रकाशित किया गया। राण्ट्जन ने स्वय ही इस नईं घटना को एक्सरे किरणों का नाम दिया था। उन्हें कदापि पसंद नहीं था कि कोई इन किरणों को राण्ट्जन किरणों के नाम से पुकारे। उन्होंने अपनी इस खोज पर एक ही बार आम भाषण दिया। उन्होने कई सम्मानों को लेने से मना कर दिया।

 

 

कई वैज्ञानिक खोजें ऐसी होती हैं, जिनका लाभ प्राप्त करने के लिए कई साल शोध कार्य करना पड़ता है, इसके विपरीत एक्सरे किरणों का लाभ उनको लगभग दो महीनों बाद ही मिल गया। जब उनका न्यूहैम्पशायर हास्पिटल में एक अस्थिभंज (fracture) के निदान एवं चिकित्सा में उपयोग किया गया। इसी कारण सन्‌ 1901 में उन्हें भौतिकी के क्षेत्र में प्रथम नोबेल पुरस्कार मिला।

 

 

चिकित्सा के क्षेत्र में इन किरणों की उपयोगिता संसार भर में माननीय है। एक्सरे किरणों की खोज के अलावा राण्ट्जन ने द्विध॒वों के घृर्णन (rotating dielectrics) के चुम्बकीय प्रभावों और क़रिस्टलों में वैद्युत घटना पर प्रयोग किए। शताब्दी की समाप्ति पर वे भौतिकी में पद ग्रहण करने हेतु व॒जबर्ग से म्यूनिख चले गए और म्यूनिख में ही अपनी जिन्दगी के तीन वर्ष एकान्त में बिताने के बाद 77 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े

 

 

ट्रांसफार्मर
ए° सी० बिजली किफायत की दृष्टि से 2000 या अधिक वोल्ट की तैयार की जाती है। घर के साधारण कामों के Read more
डायनेमो सिद्धांत
डायनेमो क्या है, डायनेमो कैसे बने, तथा डायनेमो का आविष्कार किसने किया अपने इस लेख के अंदर हम इन प्रश्नों Read more
बैटरी
लैक्लांशी सेल या सखी बैटरी को प्राथमिक सेल ( प्राइमेरी सेल) कहते हैं। इनमें रासायनिक योग के कारण बिजली की Read more
रेफ्रिजरेटर
रेफ्रिजरेटर के आविष्कार से पहले प्राचीन काल में बर्फ से खाद्य-पदार्थों को सड़ने या खराब होने से बचाने का तरीका चीन Read more
बिजली लाइन
कृत्रिम तरीकों से बिजली पैदा करने ओर उसे अपने कार्यो मे प्रयोग करते हुए मानव को अभी 140 वर्ष के Read more
प्रेशर कुकर
प्रेशर कुकर का आविष्कार सन 1672 में फ्रांस के डेनिस पपिन नामक युवक ने किया था। जब डेनिस पपिन इंग्लेंड आए Read more
इत्र
कृत्रिम सुगंध यानी इत्र का आविष्कार संभवतः सबसे पहले भारत में हुआ। प्राचीन भारत में इत्र द्रव्यो का निर्यात मिस्र, बेबीलोन, Read more
कांच की वस्तुएं
कांच का प्रयोग मनुष्य प्राचीन काल से ही करता आ रहा है। अतः यह कहना असंभव है, कि कांच का Read more
घड़ी
जहां तक समय बतान वाले उपरकण के आविष्कार का प्रश्न है, उसका आविष्कार किसी वैज्ञानिक ने नहीं किया। यूरोप की Read more
कैलेंडर
कैलेंडर का आविष्कार सबसे पहले प्राचीन बेबीलोन के निवासियों ने किया था। यह चंद्र कैलेंडर कहलाता था। कैलेंडर का विकास समय Read more
सीटी स्कैन
सीटी स्कैन का आविष्कार ब्रिटिश भौतिकशास्त्री डॉ गॉडफ्रे हान्सफील्ड और अमरीकी भौतिकविज्ञानी डॉ एलन कोमार्क ने सन 1972 मे किया। Read more
थर्मामीटर
थर्मामीटर का आविष्कार इटली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक गेलिलियो ने लगभग सन्‌ 1593 में किया था। गेलिलियो ने सबसे पहले वायु का Read more
पेनिसिलिन
पेनिसिलिन की खोज ब्रिटेन के सर एलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने सन् 1928 में की थी, लेकिन इसका आम उपयोग इसकी खोज Read more
स्टेथोस्कोप
वर्तमान समय में खान पान और प्राकृतिक के बदलते स्वरूप के कारण हर मनुष्य कभी न कभी बिमारी का शिकार Read more
क्लोरोफॉर्म
चिकित्सा विज्ञान में क्लोरोफॉर्म का आविष्कार बडा ही महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। क्लोरोफॉर्म को ऑपरेशन के समय रोगी को बेहोश करने Read more
मिसाइल
मिसाइल एक ऐसा प्रक्षेपास्त्र है जिसे बिना किसी चालक के धरती के नियंत्रण-कक्ष से मनचाहे स्थान पर हमला करने के Read more
माइन
सुरंग विस्फोटक या लैंड माइन (Mine) का आविष्कार 1919 से 1939 के मध्य हुआ। इसका आविष्कार भी गुप्त रूप से Read more
मशीन गन
एक सफल मशीन गन का आविष्कार अमेरिका के हिरेम मैक्सिम ने सन 1882 में किया था जो लंदन में काम कर Read more
बम का आविष्कार
बम अनेक प्रकार के होते है, जो भिन्न-भिन्न क्षेत्रों, परिस्थितियों और शक्ति के अनुसार अनेक वर्गो में बांटे जा सकते Read more
रॉकेट
रॉकेट अग्नि बाण के रूप में हजारों वर्षो से प्रचलित रहा है। भारत में प्राचीन काल से ही अग्नि बाण का Read more
%d bloggers like this: