एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक का जीवन परिचय – एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक की खोज

एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक

सन् 1673 में लन्दन की रॉयल सोसाइटी के नाम एक खासा लम्बा और अजीब किस्म का पत्र पहुंचा जिसे पढ़कर सोसाइटी के विद्वान सदस्यों की हंसी रुकने में ही न आती थी। पत्र को लिखने वाला एक डच दुकानदार था जो साथ ही दिन के कुछ वक्‍त चौकीदारी करके अपनी गुजर जैसे-तैसे कर रहा था। हंसी एकाएक रुक गई और सभी चेहरों पर कुछ हैरानी और इज्जत का मिला-जुला-सा एक भाव स्थिर हो गया, क्योंकि पत्र में जहां इस सीधे-सादे और निश्छल व्यक्ति ने अपने स्वास्थ्य के बारे में, अपने पड़ोसियों और उनके अन्धविश्वासों के बारे में, ब्यौरा दिया था, वहां खुद पत्र का शीर्षक देते हुए लिखा था, “मिस्टर एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक (Antonie van Leeuwenhoek) के ईजाद किए एक माइक्रोस्कोप द्वारा प्रत्यक्षदृष्ट—चमड़ी पर और मांस आदि पर पड़ी फफूंदी की, तथा डंग वगैरह की, एक और ही दुनिया के कुछ नमूने।

 

 

उस जमाने में जबकि अभी, छोटी-छोटी’ चीज़ों को बड़ा करके दिखाने के लिए बना मैग्निफाइंग ग्लास एक मामूली लेंस ही होता था जिसे हाथ में ही पकड़ना पड़ता था और जिसकी ताकत भी कोई बहुत नहीं होती थी, उस जमाने में क बे पढ़े-लिखे स्टोर कीपर ने शीशे घिस-घिसकर लेन्स तैयार करने की अपनी हवस को एक माइक्रोस्कोप बनाने में कृतार्थ कर लिया था, जिसके जरिए अब वस्तुओं को सैकड़ों गुना बड़ा करके दिखाया जा सकता था। रॉयल सोसाइटी ने ल्यूवेनहॉक को बाकायदा आमन्त्रित किया कि वह अपने परीक्षण जारी रखे, जिसके परिणामस्वरूप अगले पचास सालों में सोसाइटी को उसके 375 पत्र और आए।

 

 

एंटनी वॉन ल्यूवेनहॉक का जीवन परिचय

 

 

एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक का जन्म होलैंड के डेल्फ्ट शहर में 14 अक्तूबर 1632 के दिन हुआ था। टोकरियां बना-बनाकर और देसी शराब बेचकर भी परिवार ने अपनी प्रतिष्ठा बना रखी थी। अब पिता की मृत्यु हुई, बालक एंटोनी अपने इस नीली-नीली पवन चक्कियों और नहरों वाले छोटे से कस्बे को छोडकर एम्स्टरडम मे आ बसा। यहां पहुंचकर एक पंसारी के यहां वह काम करने लगा। 21 साल की उम्र मे वह एम्स्टरडम से फिर घर वापस आ गया और डेल्फ्ट में ही उसने एक अपनी पंसारी की दूकान खोल ली साथ ही, उसे सिटी हाल मे चौकीदारी की नौकरी भी मिल गई।

 

 

एंटोनी को एक हवस बडी बुरी तरह से चिपटी हुई थी। दिन-रात लेंस घिसते रहना। एक के बाद दूसरा लेंस, दूसरा पहले से बेहतर। कार्य वह जो निरन्तर पूर्ण से पूर्णतर होता चले। कुल मिला कर उसने 400 मेग्निफाइग ग्लास बनाए। छोटे छोटे लेंस जिनका व्यास इंच के आठवें हिस्से से भी कम, पृष्ठ पर छापे एक अक्षर से जरा बडा नही। किन्तु उन्ही लेंसो को आज तक मात नहीं दी जा सकी। अपने इन्ही लेंसों के जरिए उसने मामूली सुक्ष्मदर्शी यन्त्र तैयार किए, किन्तु उनकी उपयोगिता कितनी अद्भुत थी। कितना अद्भूत शिल्पी था एंटोनी जिसने इन नन्हे-नन्हे लेंसों को थामने के लिए नाजुक और ताकतवर स्टैण्ड भी खुद अपने ही हाथो से तैयार किए थे।

 

एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक
एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक

 

एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक की खोज

 

 

गैलीलियो ने अपने टेलिस्कोप को निरन्तर आकाश की ओर मोडा था, ल्यूवेनहॉक ने अपने लेंसो को सामान्यत अदृश्य जगत की निरन्तरता पर टिका दिया। जो कुछ भी उसके हाथ में सूक्ष्म आ सका। चमडो मे दरारें हो, पशुओं के बाल हो, मक्खी की टांगे
और सिर, सभी कुछ माइक्रोस्कोप द्वारा परीक्षित होना चाहिए।
पडोसियों की निगाह में ये सब पागलों के आसार थे। घण्टो गुजर जाए और वह अपने माइक्रोस्कोप से हिलता ही नही। डेल्फ्ट की भोली-भाली जनता उसकी क्या आलोचना करती है, वह जरा विचलित नही हुआ। वह दुनिया को अपने माइक्रोस्कोप के जरिये ही देखता रहा और सदा उसे अजीब से अजीब, और नये से नये, नज़ारे पेश आते। एक दिन उसने बारिश रुकने पर एक गड़ढे में से कुछ पानी इकट्ठा किया और उसमे बडे ही छोटे-छोटे जलचरों को तैरते-फिरते पाया, इतने छोटे कि मनुष्य की आंख बगैर इस प्रकार की किसी सहायता के उन्हे देख भी नही सकती। बेचारे असहाय जन्तु। उसके मुंह से बेबसी मे निकला, क्योंकि माइक्रोस्कोप द्वारा सहस्त्र-गुणित होने पर ही वह उनका प्रत्यक्ष कर पाया था।

 

 

उसे कुछ एहसास सा था कि ये जीवाणु आकाश से ज्ञमीन पर नही उतरे। जिसे सिद्ध करने के लिए उसने वर्षा-जल को इस बार एक निहायत ही साफ प्याले मे इकट्ठा किया। माइक्रोस्कोप फिट किया गया, किन्तु अब की बार उसी पानी में कोई कीडे वगैरह नही थे। किन्तु कुछ दिन तक पानी को उसी प्याले में रहने दिया गया तो छोटे-छोटे किड़े उसी में खुद-ब-खुद फिर से पैदा होने लग गए। ल्यूवेनहॉक इस परिणाम पर पहुंचा कि हवा जो धूल उडाकर अपने साथ ले आती है उसी के साथ ये भी कही से आ जाते है।

 

 

अपनी उगलीं को ज़रा काटकर वह माइक्रोस्कोप के नीचे ले आया और उसने खून की परीक्षा की, लाल-लाल छोटे-छोटे कीटाणु। सन् 1674 मे उसने अपने इन प्रत्यक्षों का एक यथार्थ विवरण रॉयल सोसाइटी को भेज दिया। तीन साल बाद उसने कुत्तों तथा अन्य पशुओं के बीजाणुओं का ब्यौरा भी सोसाइटी को लिख भेजा। रॉयल सोसाइटी हैरान रह गई। हॉलैण्ड का यह बाशिन्दा कोई वैज्ञानिक है या विज्ञान कथाओं का कल्पनाकार ? सोसाइटी ने लिख भेजा, कुछ दिन के लिए अपना माइक्रोस्कोप सोसाइटी को उधार भेज दो। जवाब में एक लम्बा खत और आ गया। एक निहायत ही छोटी दुनिया को खोलकर उसमें दिखा रखा था। लेकिन ल्यूवेनहॉक संशयात्मा था उसने माइक्रोस्कोप नहीं भेजा। रॉबर्ट हुक और नेहीमिया ग्यू को हुक्म हुआ कि एक निहायत ही बढ़िया माइक्रोस्कोप तैयार करें, क्योंकि एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक के अनुसन्धानों की भी आखिर परीक्षा होनी चाहिए। माइक्रोस्कोप तैयार हो गया। उन्होंने माइक्रोस्कोप से खून को देखा, मसाले के पाती में बेक्टीरिया उत्पन्न कर उन्हें देखा, अपने दांतों का मेल खुरच कर उसे देखा, कीटाणुओं को गरम पानी से मारकर देखा, और पाया कि नन्‍हें-नन्हें जीवों की यह दुनिया ही कुछ दूसरी है, वैसी ही जैसी कि ल्यूवेनहॉक के खतों को पढ़कर उन्होंने कल्पित कर रखी थी। अब आकर रॉयल सोसाइटी ने इस अनपढ़ डच का सम्मान किया। सन् 1680 में एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक को रॉयल सोसाइटी का फेलो चुन लिया गया।

 

 

सन् 1688 में एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक ने इन जीवाणओं के रेखाचित्र बनाए । अंधविश्वासों के उस युग में, जबकि साधारण जनता की आस्था थी कि मक्खियां वगैरह कुछ खास किस्म के प्राणी स्वयंभू होते हैं और सड़ती मिट्टी से, गोबर से, खुद-ब-खुद पैदा हो आते हैं। लेकिन ल्यूवेनहॉक ने प्रत्यक्ष सिद्ध कर दिखाया कि इनकी उत्पत्ति के नियम भी वही सामान्य प्रजजन सिद्धांत हैं। गेहूं को बरबाद करने वाले घुनों का उसने अध्ययन किया और खबर दी कि ये घुन-सुसरी भी अण्डज हैं। मछली की पूंछ को माइक्रोस्कोप के नीचे रखकर उसने देखा कि उसमें भी रक्त की बड़ी ही सूक्ष्म वाहिनियां हैं, कोषिकाएं हैं।

 

 

रॉयल सोसाइटी के नाम, तथा पेरिस की ऐकेडमी ऑफ साइंसेज के नाम लिखे पत्रों की जहां-तहां चर्चा होने लगी और परिणामतः एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक की कीर्ति अब विश्व-भर में फैल गई। इन वर्णनों को पढ़-पढ़कर रूस का जार और इंग्लैण्ड की महारानी तक अपने कौतूहल को संभाल नहीं सके। उन्हें भी उत्सुकता थी कि एंटोनी के माइक्रीस्कोप में से कुछ खुद प्रत्यक्ष कर सकें। वे खुद चलकर उसके यहां आए। उसकी दैनिक गतिविधियों में अन्त तक कुछ परिवर्तन नहीं आया। उसने स्वास्थ्य असाधारण पाया था। 91 साल की उम्र तक उसी तरह काम में लगा रहा। 26 अगस्त 1728 को एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक की मृत्यु हुई। किन्तु मरने से पहले वह अपने एक मित्र को दो अन्तिम खत दे गया था कि इन्हे रॉयल सोसाइटी के नाम डाल देना।

 

 

एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक का माइक्रोस्कोप एक बहुत ही सरल उपकरण था सिर्फ एक ही लैंस, और वह भी बहुत ही छोटा। दो तरह के लैंसो को मिलाकर एक तरह के कम्पाउण्ड माइक्रोस्कोप की ईजाद वैसे 1590 में हो ही चुकी थी, लेकिन उसके बनाने में कुछ टेक्निकल मुश्किलात इस कदर पेश आती कि हमेशा एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक का सीधा-सादा यन्त्र ही बेहतरीन नतीजे दिया करता था। तब से लेकर आज तक लैंस बनाने की कला बहुत उन्‍नति कर चुकी है। आधुनिक सूक्ष्मदर्शी यंत्र वस्तुओं के व्यास को 2,800 गुना करके दिखा सकता है। और वैज्ञानिको की जरूरत तो चीजों को इससे भी ज़्यादा बडा करके देखने की है। जिन जीवाणुओं अथवा बैक्टीरिया को ल्यूवेनहॉक ने देखा था, आधुनिक चिकित्सा शास्त्र के वाइरस अथवा विषाणु उनसे कही ज्यादा छोटे होते है। आज तो प्रकाश की किरण की बजाय विज्ञान मे, जब इलैक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप का प्रयोग आम होता जा रहा है, इलैक्ट्रॉनो की धाराओं से काम लिया जाता है जिसके द्वारा क्षुद्रवस्तुओ को 100,000 व्यास तक फैलाकर वैज्ञानिक देख सकता है।

 

 

एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक के पास वर्तमान विज्ञान के अदुभूत उपकरण नही थे, किन्तु उसके पास भी कुछ था, जिसे विज्ञान आज भी और बेहतर नही कर सका एक विचार के प्रति अविचल भक्ति, निरतिशय धैर्य, और वस्तु को प्रत्यक्ष करने के लिए
असाधारण अन्तबल, अन्तर्दृष्टि।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े—-

 

 

एनरिको फर्मी
एनरिको फर्मी— इटली का समुंद्र यात्री नई दुनिया के किनारे आ लगा। और ज़मीन पर पैर रखते ही उसने देखा कि Read more
नील्स बोर
दरबारी अन्दाज़ का बूढ़ा अपनी सीट से उठा और निहायत चुस्ती और अदब के साथ सिर से हैट उतारते हुए Read more
एलेग्जेंडर फ्लेमिंग
साधारण-सी प्रतीत होने वाली घटनाओं में भी कुछ न कुछ अद्भुत तत्त्व प्रच्छन्न होता है, किन्तु उसका प्रत्यक्ष कर सकने Read more
अल्बर्ट आइंस्टीन
“डिअर मिस्टर प्रेसीडेंट” पत्र का आरम्भ करते हुए विश्वविख्यात वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने लिखा, ई० फेर्मि तथा एल० जीलार्ड के Read more
हम्फ्री डेवी
15 लाख रुपया खर्च करके यदि कोई राष्ट्र एक ऐसे विद्यार्थी की शिक्षा-दीक्षा का प्रबन्ध कर सकता है जो कल Read more
मैरी क्यूरी
मैंने निश्चय कर लिया है कि इस घृणित दुनिया से अब विदा ले लूं। मेरे यहां से उठ जाने से Read more
मैक्स प्लांक
दोस्तो आप ने सचमुच जादू से खुलने वाले दरवाज़े कहीं न कहीं देखे होंगे। जरा सोचिए दरवाज़े की सिल पर Read more
हेनरिक ऊ
रेडार और सर्चलाइट लगभग एक ही ढंग से काम करते हैं। दोनों में फर्क केवल इतना ही होता है कि Read more
जे जे थॉमसन
योग्यता की एक कसौटी नोबल प्राइज भी है। जे जे थॉमसन को यह पुरस्कार 1906 में मिला था। किन्तु अपने-आप Read more
अल्बर्ट अब्राहम मिशेलसन
सन् 1869 में एक जन प्रवासी का लड़का एक लम्बी यात्रा पर अमेरीका के निवादा राज्य से निकला। यात्रा का Read more
इवान पावलोव
भड़ाम! कुछ नहीं, बस कोई ट्रक था जो बैक-फायर कर रहा था। आप कूद क्यों पड़े ? यह तो आपने Read more
विलहम कॉनरैड रॉटजन
विज्ञान में और चिकित्साशास्त्र तथा तंत्रविज्ञान में विशेषतः एक दूरव्यापी क्रान्ति का प्रवर्तन 1895 के दिसम्बर की एक शरद शाम Read more
दिमित्री मेंडेलीव
आपने कभी जोड़-तोड़ (जिग-सॉ) का खेल देखा है, और उसके टुकड़ों को जोड़कर कुछ सही बनाने की कोशिश की है Read more
जेम्स क्लर्क मैक्सवेल
दो पिन लीजिए और उन्हें एक कागज़ पर दो इंच की दूरी पर गाड़ दीजिए। अब एक धागा लेकर दोनों Read more
ग्रेगर जॉन मेंडल
“सचाई तुम्हें बड़ी मामूली चीज़ों से ही मिल जाएगी।” सालों-साल ग्रेगर जॉन मेंडल अपनी नन्हीं-सी बगीची में बड़े ही धैर्य Read more
लुई पाश्चर
कुत्ता काट ले तो गांवों में लुहार ही तब डाक्टर का काम कर देता। और अगर यह कुत्ता पागल हो Read more
लियोन फौकॉल्ट
न्यूयार्क में राष्ट्रसंघ के भवन में एक छोटा-सा गोला, एक लम्बी लोहे की छड़ से लटकता हुआ, पेंडुलम की तरह Read more
चार्ल्स डार्विन
“कुत्ते, शिकार, और चूहे पकड़ना इन तीन चीज़ों के अलावा किसी चीज़ से कोई वास्ता नहीं, बड़ा होकर अपने लिए, Read more
“यूरिया का निर्माण मैं प्रयोगशाला में ही, और बगेर किसी इन्सान व कुत्ते की मदद के, बगैर गुर्दे के, कर Read more
जोसेफ हेनरी
परीक्षण करते हुए जोसेफ हेनरी ने साथ-साथ उनके प्रकाशन की उपेक्षा कर दी, जिसका परिणाम यह हुआ कि विद्युत विज्ञान Read more
माइकल फैराडे
चुम्बक को विद्युत में परिणत करना है। यह संक्षिप्त सा सूत्र माइकल फैराडे ने अपनी नोटबुक में 1822 में दर्ज Read more
जॉर्ज साइमन ओम
जॉर्ज साइमन ओम ने कोलोन के जेसुइट कालिज में गणित की प्रोफेसरी से त्यागपत्र दे दिया। यह 1827 की बात Read more
ऐवोगेड्रो
वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी समस्याओं में एक यह भी हमेशा से रही है कि उन्हें यह कैसे ज्ञात रहे कि Read more
आंद्रे मैरी एम्पीयर
इतिहास में कभी-कभी ऐसे वक्त आते हैं जब सहसा यह विश्वास कर सकता असंभव हो जाता है कि मनुष्य की Read more
जॉन डाल्टन
विश्व की वैज्ञानिक विभूतियों में गिना जाने से पूर्वी, जॉन डाल्टन एक स्कूल में हेडमास्टर था। एक वैज्ञानिक के स्कूल-टीचर Read more
काउंट रूमफोर्ड
कुछ लोगों के दिल से शायद नहीं जबान से अक्सर यही निकलता सुना जाता है कि जिन्दगी की सबसे बड़ी Read more
एडवर्ड जेनर
छः करोड़ आदमी अर्थात लन्दन, न्यूयार्क, टोकियो, शंघाई और मास्कों की कुल आबादी का दुगुना, अनुमान किया जाता है कि Read more
एलेसेंड्रा वोल्टा
आपने कभी बिजली 'चखी' है ? “अपनी ज़बान के सिरे को मेनेटिन की एक पतली-सी पतरी से ढक लिया और Read more
एंटोनी लेवोज़ियर
1798 में फ्रांस की सरकार ने एंटोनी लॉरेंस द लेवोज़ियर (Antoine-Laurent de Lavoisier) के सम्मान में एक विशाल अन्त्येष्टि का Read more
जोसेफ प्रिस्टले
क्या आपको याद है कि हाल ही में सोडा वाटर की बोतल आपने कब पी थी ? क्‍या आप जानते Read more
हेनरी कैवेंडिश
हेनरी कैवेंडिश अपने ज़माने में इंग्लैंड का सबसे अमीर आदमी था। मरने पर उसकी सम्पत्ति का अन्दाजा लगाया गया तो Read more
बेंजामिन फ्रैंकलिन
“डैब्बी", पत्नी को सम्बोधित करते हुए बेंजामिन फ्रैंकलिन ने कहा, “कभी-कभी सोचता हूं परमात्मा ने ये दिन हमारे लिए यदि Read more
सर आइज़क न्यूटन
आइज़क न्यूटन का जन्म इंग्लैंड के एक छोटे से गांव में खेतों के साथ लगे एक घरौंदे में सन् 1642 में Read more
रॉबर्ट हुक
क्या आप ने वर्ण विपर्यास की पहेली कभी बूझी है ? उलटा-सीधा करके देखें तो ज़रा इन अक्षरों का कुछ Read more
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स (Christiaan Huygens) की ईजाद की गई पेंडुलम घड़ी (pendulum clock) को जब फ्रेंचगायना ले जाया गया तो उसके Read more
रॉबर्ट बॉयल
रॉबर्ट बॉयल का जन्म 26 जनवरी 1627 के दिन आयरलैंड के मुन्स्टर शहर में हुआ था। वह कॉर्क के अति Read more
इवेंजलिस्टा टॉरिसेलि
अब जरा यह परीक्षण खुद कर देखिए तो लेकिन किसी चिरमिच्ची' या हौदी पर। एक गिलास में तीन-चौथाई पानी भर Read more
विलियम हार्वे
“आज की सबसे बड़ी खबर चुड़ैलों के एक बड़े भारी गिरोह के बारे में है, और शक किया जा रहा Read more
“और सम्भव है यह सत्य ही स्वयं अब किसी अध्येता की प्रतीक्षा में एक पूरी सदी आकुल पड़ा रहे, वैसे Read more
गैलीलियो
“मै गैलीलियो गैलिलाई, स्वर्गीय विसेजिओ गैलिलाई का पुत्र, फ्लॉरेन्स का निवासी, उम्र सत्तर साल, कचहरी में हाजिर होकर अपने असत्य Read more
आंद्रेयेस विसेलियस
“मैं जानता हूं कि मेरी जवानी ही, मेरी उम्र ही, मेरे रास्ते में आ खड़ी होगी और मेरी कोई सुनेगा Read more
निकोलस कोपरनिकस
निकोलस कोपरनिकस के अध्ययनसे पहले– “क्यों, भेया, सूरज कुछ आगे बढ़ा ?” “सूरज निकलता किस वक्त है ?” “देखा है Read more
लियोनार्दो दा विंची
फ्लॉरेंस ()(इटली) में एक पहाड़ी है। एक दिन यहां सुनहरे बालों वाला एक नौजवान आया जिसके हाथ में एक पिंजरा Read more
गैलेन
इन स्थापनाओं में से किसी पर भी एकाएक विश्वास कर लेना मेरे लिए असंभव है जब तक कि मैं, जहां Read more
आर्किमिडीज
जो कुछ सामने हो रहा है उसे देखने की अक्ल हो, जो कुछ देखा उसे समझ सकने की अक्ल हो, Read more
एरिस्टोटल
रोजर बेकन ने एक स्थान पर कहा है, “मेरा बस चले तो मैं एरिस्टोटल की सब किताबें जलवा दू। इनसे Read more
हिपोक्रेटिस
मैं इस व्रत को निभाने का शपथ लेता हूं। अपनी बुद्धि और विवेक के अनुसार मैं बीमारों की सेवा के Read more
यूक्लिड
युवावस्था में इस किताब के हाथ लगते ही यदि किसी की दुनिया एकदम बदल नहीं जाती थी तो हम यही Read more

write a comment

%d bloggers like this: