ऋषभदेव मंदिर उदयपुर – केसरियाजी ऋषभदेव मंदिर राजस्थान

राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी नदी के तट पर स्थित धुलेव नामक कस्बा है। यही पर मानव सभ्यता के पुराकर्ता आदि तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव का विशाल मंदिर है। जो ऋषभदेव मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है। पूरे भारत में यही एक ऐसा मंदिर है जहाँ दिग्म्बर तथा श्वेतांबर जैन, वैष्णव, शैव, भील एवं तमाम सच्छुद्र स्नान कर समान रूप से मूर्ति का पूजन करते है। प्रतिमा की अतिशयता एवं प्रभावना के कारण ही यह कस्बा (धुवेल) ऋषभदेव जी के नाम से प्रसिद्ध है। प्रति वर्ष लाखों यात्री भारत के कोने कोने से ऋषभदेव मंदिर के दर्शन के लिए आते है।

केसरियाजी ऋषभदेव मंदिर का इतिहास, दर्शन व स्थापत्य






एक किलोमीटर के घेरे में स्थित पक्के पाषाण का यह विशाल मंदिर अपनी प्राचीन शिल्पकला के द्वारा पर्यटकों के मन को अनायास ही मुग्ध कर लेता है। कहा जाता है कि पहलें यहां ईटों का बना हुआ एक जिनालय था। जिसके टूट जाने पर 14वीं 15वी शताब्दी में जीर्णोद्धार के फलस्वरूप यह भावनात्मक एकता का प्रतीक विशाल ऋषभदेव मंदिर सामने आया। यहां के शिलालेखों से पता चलता है कि इस मंदिर के भिन्न भिन्न विभाग अलग अलग समय के बने हुए है।

ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य




प्रथम द्वार से जिस पर नक्कारखाना है, प्रवेश करते ही बाह्य परिक्रमा कर चौक आता है। यहां पर दूसरा द्वार है। जिसके दोनों ओर काले पत्थर का एक एक हाथी खड़ा है। दक्षिण की ताक में पद्मावती एवं उत्तर की ताक में चक्रेश्वरी देवी के दर्शन होते है। इस द्वार से 100 सीढियां चढ़ने पर एक अलग मंडप आता है। जो नौ स्तंभ का होने के कारण नौ चौकी कहलाता है। यहां से तीसरे द्वार में प्रवेश करने पर खेला मंडप आता है। और इसके आगे मुख्य मंदिर का गर्भगृह है। जिसमें ऋषभदेव जी की काले पाषाण की प्रतिमा स्थापित है। गर्भगृह के ऊपर ध्वजादंड सहित विशाल शिखर है। और खेला मंडप और नौ चौकी पर गुम्बद है। मंदिर के उत्तरी, दक्षिणी एवं पश्चिमी पार्श्व में देव कुलिकाओ (बावन जिनालय) की पंक्तियां है। जिनमें से प्रत्येक के मध्य में सहित एक एक मंदिर है। देव कुलिकाओ और मंदिर के बीच भीतरी परिक्रमा है। प्रवेशद्वार के दक्षिण भाग में डूंगरपुर की महारानी द्वारा नवनिर्मित मंदिर है। जिसमें 5फुट ऊंची पद्मासन में स्थित पार्शवनाथ की एवं दक्षिण दीवार में सप्तर्षि की कायोत्सर्ग प्रतिमा है।





गर्भगृह में ऋषभदेव भगवान की पद्मासन स्थित मनुष्य के समान अवगाहन वाली साढ़े तीन फीट ऊंची श्यामवर्गीय भव्य प्रतिमा है। जिसमें नीचे ही नीचे मध्य भाग में दो बैलों के बीच में देवी तथा उस पर सर्व धातु के बने हुए हाथी, सिंह आदि स्थित है। इनके ऊपर 16 स्वप्न ( जो तीर्थंकर की माता को तीर्थंकर के में आने पर आया करते थे) अंकित है। इन पर छोटी छोटी नवजीन प्रतिमाएं है। जिन्हें लोग नवग्रह कहते है। प्रतिमा की पद्मासन स्थित मुद्रा के बीच वृषभ चिन्ह है। जो कर्ममूलक संस्कृति का प्रतीक है। प्रतिमा के आजूबाजू तथा ऊध्र्व भाग मे सर्वण धातु का बना हुआ शेष 23 तीर्थंकरों की प्रतिमा से अंकित भव्य सिंहासन है। इस सिहासन को छोड़कर समस्त गर्भगृह तथा उसका द्वार चांदी से मढ़ा हुआ है।

ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य




ऋषभदेव मंदिर में स्थित भगवान ऋषभदेव की प्रतिमा पर कोई लेख या संवत् अंकित नहीं है। अतः इसकी प्राचीनता एवं प्रतिष्ठा के संबंध में कई किवदंतियां प्रचलित है। एक किवदंती के अनुसार रामायण काल मे यह प्रतिमा लंका के मंदिर में विराजमान थी। भगवान रामचंद्र लंका विजय कर आते समय इसको अपने साथ लाए और उज्जैन में प्रतिष्ठित की।




एक अन्य किवदंती के अनुसार इस प्रतिमा का निर्माण 8वी शताब्दी में हुआ और विक्रम संवत 82 में उज्जैन संघ के आचार्य श्री विद्यानंदि ने इसे प्रतिष्ठित किया।

एक ओर किवदंती के अनुसार कहा जाता है कि अलाऊद्दीन के समय में यह प्रतिमा इसी स्थान से 64 किमी दूर जंगल में स्थित एक मंदिर में थी। जब विदेशी आक्रमणकारियों ने सोमनाथ के मंदिर को तोड़ इस मंदिर पर भी आक्रमण किया तो समस्त सेना अंधी हो गई। और एक पुजारी को स्वप्न आया जिसके अनुसार वह प्रतिमा को कावंड़ में रखकर यहां धुवेल ले आया। और एक साहूकार ने इसकी प्रतिषठिता कराई।

ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य



एक ओर प्रचलित किवदंती के अनुसार माना जाता हैं कि यह प्रतिमा डूंगरपुर इलाके के आसपुरे बडौदे में विराजमान थी। विदेशी आक्रमणों से आतंकित होकर सुरक्षा की दृष्टि से कतिपय भक्तगण कांवड़ मे इसे यहां ले आएं। और पागल्यजी (स्थान विशेष) पर रखी। पर उसी दिन मूर्ति अंतर्ध्यान हो गई। मूर्ति को ढूंढते ढूंढते एक पुजारी एक ग्वाले की सहायता से जंगल में पहुंचा। वहां देखता क्या है कि बांसों की झाडी में रखी प्रतिमा पर एक गाय दूध झर रही है। इस चमत्कार से प्रभावित हो वहां पर गाय के स्वामी सेठ ने एक मंदिर बनवाया और प्रतिमा की विधिवत प्रतिष्ठिता की। स्नान कराते समय मूर्ति पर घाव देखकर सभी चमत्कृत हुए। इस पर रात्रि में सेठ खो स्वप्न में भगवान ने कहा कि मेरे आश्रम के निकट ग्लेच्छो ने गौवध किया था। उस समय गायों के जो घाव लगे थे। वो मेरे शरीर पर उधड आएं। आज भी प्रतिमा कमर के पास खंडित देखी जाती है।




न जाने कितने ही लोग प्रतिवर्ष अपनी कार्य सिद्धि की कामना से मनौती करने के लिए यहाँ आते है। किसी का आंगन सूना है तो संतान प्राप्ति की कामना से, कोई बीमार है तो स्वास्थ्य ठीक होने की कामना से, सब अपनी अपनी कामनाएं लेकर यहां दर्शन के लिए आते है।

ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य




ऋषभदेव मंदिर में नित्य सेवा पूजन का एक निश्चित कार्यक्रम है। जिसके अंतर्गत प्रातःकाल साढ़े सात बजे से जल प्रक्षाल होता है। जो आधे घंटे तक चलता है। इसकी सूचना धर्मशालाओं में ठहरे यात्रियों देने एक कर्मचारी रोज सुबह आता है। सभी भक्त स्नान करके विधिवत भगवान का जलाभिषेक करते है। ठीक प्रातः 8 बजे दूध प्रक्षाल चालू हो जाता है। इस समय की आलौकिक छवि देखते ही बनती है। इसके बाद पुनः जल प्रक्षाल होकर धूप सेवन होता है। 9 बजे केसर तथा फूलो से पूजन होता है। केसर पूजा के 10 मिनट बाद ही भगवान ऋषभदेव की आरती होती है। दोपहर में डेढ़ बजे से चार बजे तक प्रातःकाल की तरह पूजा होती है। उसके बाद मुख्य प्रतिमा को आंगीं (झांकी) धारण कराई जाती है। जो शाम को 7 बजे से रात्रि 11 बजे तक रहती है। इस समय आरती, स्तवन तथा वृत्यादि होते रहते है।





अश्विनी कृष्ण प्रथमा तथा द्वितीय को यहाँ अपूर्व रथ यात्रा निकलती है। तथा कृष्ण अष्टमी व नवमी को ऋषभदेव में विशाल मेला लगता है। जिसमें हजारों यात्री एकत्र होते है।


ऋषभदेव के आसपास और भी कई दर्शनीय स्थान है जिनमें पगल्याजी, चन्द्रगिरि, भीम पगल्या, भट्ठारख यशकीर्ति भवन, पहले पीपली मंदिर आदि उल्लेखनीय है।




ऋषभदेव जी की मूर्ति पर बहुत अधिक केसर चढाई जाती है। इस कारण यह केसरियाजी या केसरियाजी नाथ के नाम से भी प्रसिद्ध है। ऋषभदेव मंदिर की प्रतिमा चमकते हुए काले पाषाण की है। अतः भील लोग इनको कालाजी कहकर भी पुकारते है। और उनके उनकी इतनी अधिक श्रद्धा है और मान्यता है कि उन्हें कालाजी की सौगंध दिलाने पर वे अपने सत्य से विचलित नहीं होते। काला रंग इस बात का भी सूचक है कि भगवान गुणातीत है। जिस प्रकार काले रंग के आगे अन्य सभी रंग अदृश्य हो जाते है उसी प्रकार भगवान की शरण मे जाने पर सारे दोष दूर हो जाते है। और वह निर्विकार हो जाता है। धुलेव गांव मे स्थित होने के कारण धुलेवा धाणी के नाम से भी वे संबोधित किए जाते है। सौम्यपूर्ण प्रतिमा की अतिशयता वातावरण की पवित्रता तथा प्राकृतिक दृश्यों की मनोहरता के कारण यह स्थान आज भी लाखों लोगों का आकर्षण का केंद्र और श्रृद्धा भाजन बना हुआ है।



प्रिय पाठकों आपको हमारा यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है

प्रिय पाठकों यदि आपके आसपास कोई धार्मिक, ऐतिहासिक या पर्यटन महत्व का स्थल है, जिसके बारें में आप पर्यटकों को बताना चाहते है। तो आप अपना लेख कम से कम 300 शब्दों में हमारे submit a post संस्करण में जाकर लिख सकते है। हम आपके द्वारा लिखे गए लेख को आपकी पहचान के साथ अपने इस प्लेटफार्म पर जरूर शामिल करेगें

राजस्थान पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक
बूंदी राजस्थान
केतूबाई बूंदी के राव नारायण दास हाड़ा की रानी थी। राव नारायणदास बड़े वीर, पराक्रमी और बलवान पुरूष थे। उनके

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *