ईसरलाट जयपुर – मीनार ईसरलाट का इतिहास

राजस्थान  के जयपुर में एक ऐतिहासिक इमारत है ईसरलाट यह आतिश के अहाते मे ही वह लाट या मीनार है जो आज तक गुलाबी नगर की आकाश रेखा बनी हुई है। जयपुर वाले इसे सरगा सूली कहते है, किन्तु इसका अधिकृत ओर उपयुक्त नाम ‘ईसरलाट” है।

 

 

ईसरलाट का इतिहास हिन्दी में

 

 

1743 ई में सवाई जयसिंह की मृत्यु होने के बाद उसका ज्येष्ठ पुत्र इश्वरी सिंह उसका उत्तराधिकारी हुआ, किन्तु उसके नसीब में न राज लिखा था ओर न चैन। उसका सौतेला भाई माधोसिंह अपने मामा उदयपुर के महाराणा की शह से स्वयं जयपुर का राज्य हथियाने के सपने सजो रहा था। जब माधोसिंह ने महाराणा, कोट के दुर्जनसाल ओर बूंदी के उम्मेद सिंह के सहयोग से जयपुर पर धावा बोला तो ईश्वरी सिंह ने अपने प्रधानमन्त्री राजामल खत्री और धुला के राव के नेतृत्व मे एक सेना भेजी। दोनो ही सेना नायक बडी वीरता से लड़े ओर उन्होंने आक्रमणकारी को रणक्षेत्र छोडकर भागने पर विवश कर दिया। 1744 ई मे यह हमला तो विफल रहा, लेकिन 1748 ई में माधोसिंह ने महाराणा, मल्हार राव होल्कर, जोधपुर, कोटा, बूंदी और शाहपुरा के राजाओं की सहायता से फिर कूच किया। जयपुर से बीस मील दर बगरू के पास दोनो सेनाओ की मुठभेड हुई और सात शत्रुओं की सम्मिलित सेना को ईश्वरी सिंह के सेनापति हरगोविन्द नाटाणी ने फिर परास्त किया। यह सफलता सचमुच बडी महत्त्वपर्ण थी और ईश्वरी सिंह ने इसके उपलक्ष मे 1749 ई मे सात खण्डो या सात मंजिल का यह विजय-स्तम्भ बनवाया, जिसे आज ईसरलाट के नाम से जाना जाता है।

 

 

ईसरलाट की कहानी

 

 

इस ऐतिहासिक तथ्य की अवहेलना कर जयपुर वासियों ने इस मीनार के साथ एक कहानी जोड दी। यह कहानी ईश्वरी सिंह को अपने प्रधानमंत्री और सेनापति हरगोविन्द नाटाणी की बेटी का प्रेमी बताती है और जताती है कि उसे देखने के लिये ही ईश्वरी सिंह ने यह मीनार बनवाई। उन्‍नीसवी सदी के अन्त मे श्री कृष्णराम भट्ट ने भी अपने “कच्छवश महाकाव्य” मे इस कहानी को स्थान देकर कुछ श्लोक लिख डाले। किन्तु, उस काल मे राजा की ऐसी इच्छा को पूरी करने के और भी अनेक रास्ते हो सकते थे। यह नितांत हास्यास्पद ही है कि ईश्वरी सिंह जैसा विवेकवान और वीर राजा अपनी किसी चहेती को मात्र देखने के लिये इतनी ऊंची मीनार पर चढ़ता। यह कहानी सभवत पहली बार सूर्यमल्ल मिश्रण के वंश भास्कर मे आई है, जो ईसरलाट के बनने के कम से कम सौ वर्ष बाद लिखा गया था। ” वंश भास्कर” वदी के आश्रय मे लिखा गया था और बूंदी उस युद्ध मे पराजित हुई थी जिसके उपलक्ष मे यह विजय-स्तम्भ बना। इस कहानी से बूंदी के विजेता ईश्वरी सिंह और हरगोविन्द दोनो का ही अपयश हो जाता था ओर उनकी विजय की बात भी गौण। फिर ईश्वरीसिह के आत्मघात के बाद राजा बनने वाले माधोसिह को भी यह विजय- चर्चा नही सहाती होगी। अतः नाटाणी हरगोविन्द की दुहिता ओर ईश्वरी सिंह के प्रेम की बात का बतंगड ही बनता गया और कच्छ वंश महाकाव्य में भी स्थान पा गया।

 

ईसरलाट मीनार जयपुर
ईसरलाट मीनार जयपुर

 

अशीम कुमार राय ने इस प्रेम कहानी को सर्वथा अनर्गल ओर बेतुकी माना है, किन्तु उनसे एक भूल हो गई है। उन्होंने हरगोविन्द नाटाणी का मकान छोटी चौपड पर स्थित कोतवाली को बताया है जो ईसरलाट से कोई 500 मीटर दूर है। कोतवाली वास्तव मे सवाई जय सिंह के समकालीन लूणकरण नाटाणी की हवेली थी जबकि हरगोविन्द की हवेली इस लाट के सामने ही नाटाणियों के रास्ते मे है।

 

 

हरगोविन्द नाटाणी था तो बनिया, लेकिन था बडा दिलेर और हिम्मतवाला सिपाही। राजमहल की लडाई में वह जयपुर की फौज की हरावल मे था ओर अपनी व्यह-रचना से उसने मरहठों, कोटा और उदयपुर की मिली-जली फौज के छक्के छुड़ा दिये थे। बेशक, इस कामयाबी ने उसके होंसले काफी बुलन्द कर दिये थे ओर वह फोज बख्शी से रियासत के सबसे बडे ओहदे मुसाहिबी पर पहुंचना चाहता था। उस वक्‍त मुसाहिब था केशवदास खत्री जो सवाई जयसिंह के विश्वासपात्र और काबिल प्रधानमत्री राजामल खत्री का ही पुत्र था और खुद भी बडा काबिल था। लेकिन जब हरगोविन्द महाराजा ईश्वरी सिंह और केशवदास मे मनमुटाव कराने में सफल हुआ तो ईश्वरी सिंह ने केशवदास को जहर खाने के लिये मजबूर कर दिया। केशवदास का मरना था कि ईश्वरी सिंह और जयपुर के बुरे दिन आ गये और सारे शहर में यह बात चल गई

मत्री मोटो मारियो खत्री केशवदास।
अब थे छोडो ईसरा, राज करण री आस।।

 

माधोसिंह जयपुर की गद्दी हासिल करने के लिये बराबर जोड-तोड कर रहा था ओर अपने मामा उदयपुर के महाराणा की मदद से उसने होल्कर की मरहठा फौज को अपनी हिमायत पर फिर बुला लिया था। ईंश्वरी सिंह के काबिल मुसाहिब को मरवाने वाला हरगोविन्द ईश्वरी सिंह का भी नही रहा। 1750 ईस्वी में जब होल्कर जयपुर पर चढ आया और ईश्वरी सिंह ने हरगोविन्द से फौज जुटाने के लिये कहा तो पहले तो वह दिलासे देता रहा कि ‘एक लाख कछवाहे मेरे खीसे (जेब) में है’ और बाद मे जब हमलावर शहर के बाहर ही आ खडे हुए तो उसने ढिठाई से जवाब दिया कि “हुजूर, खीसा तो फट गया! अब ईश्वरी सिंह क्या करता, सवाई जय सिंह के इस बडे बेटे ने तब अपने को जलील होने से बचाने के लिये सोमलखार (सखिया) खाया और काले साप से अपने आपको डसाया। सारे राजनीतिक जजालो से उसे छट्टी मिल गई।

 

 

हरगोविन्द और विद्याधर दीवान ने ईश्वरी सिंह की आत्महत्या का समाचार खुद होल्कर को दिया और पन्द्रह दिन वाद होल्कर माधोसिंह को हाथी पर अपने साथ बैठाकर इस शहर में निकला। इस ऐतिहासिक घटना का एक जयपुरी टप्पा है

 

माधो मागे आधो’ ईसर दे ने पाव।
ज्यो गोविन्द किरपा करे तो सारा ही पर दाव।।

 

ईसरलाट की सातों मंजिले अष्टकोणीय बनी है और हर दो मंजिल के बाद चारो ओर घुमती हुई गैलरी या दीर्घा है। दीपावली और अन्य अवसरों पर जब यह मीनार बिजली की रोशनी से प्रकाशमय हो जाती है तो इसकी शोभा देखते ही बनती है। ईसरलाट को किसने बनाया इस पर इतिहास देखने से पता चलता है कि ईसरलाट को बनाने वाले उस्ता (कारीगर) का नाम गणेश खोबाल बताया जाता है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

त्रिपोलिया गेट जयपुर राजस्थान
राजस्थान  की राजधानी जयपुर एक ऐतिहासिक शहर है, यह पूरा नगर ऐतिहासिक महलों, हवेलियों, मंदिरों और भी कितनी ही ऐतिहासिक इमारतों Read more
गोपीजन वल्लभ जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर में श्री जी की मोरी में प्रवेश करते ही बांयी ओर गोपीजन वल्लभ जी का मंदिर Read more
ब्रजराज बिहारी जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  के जयपुर शहर में ब्रजराज बिहारी जी का मंदिर चंद्रमनोहर जी के मंदिर से थोडा आगे जाने पर आता Read more
श्री गिरधारी जी का मंदिर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर में राजामल का तालाब मिट॒टी और कुडे-कचरे से भर जाने के कारण जिस प्रकार तालकटोरा कोरा ताल Read more
गोवर्धन नाथ जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  राज्य की राजधानी जयपुर के व्यक्तित्व के प्रतीक झीले जाली-झरोखों से सुशोभित हवामहल की कमनीय इमारत से जुड़ा हुआ Read more
लक्ष्मण मंदिर जयपुर
राजस्थान  की गुलाबी नगरी जयपुर के मंदिरों में लक्ष्मणद्वारा या लक्ष्मण मंदिर भी सचमुच विलक्षण है। नगर-प्रासाद मे गडा की Read more
सीताराम मंदिर जयपुर
राजस्थान  की चंद्रमहल जयपुर के राज-परिवार का निजी मंदिर सीतारामद्वारा या सीताराम मंदिर कहलाता है, जो जय निवास मे  के उत्तरी- Read more
राजराजेश्वरी मंदिर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के चांदनी चौक के उत्तरी-पश्चिमी कोने मे रसोवडा की ड्योढी से ही महाराजा Read more
ब्रज निधि मंदिर जयपुर
राजस्थान  में जयपुर वाले जिसे ब्रजनंदन जी का मन्दिर कहते है वह ब्रज निधि का मंदिर है। ब्रजनिधि का मंदिर Read more
गंगा - गोपाल जी मंदिर जयपुर
भक्ति-भावना से ओत-प्रोत राजस्थान की राजधानी जयपुर मे मंदिरों की भरमार है। यहां अनेक विशाल और भव्य मदिरों की वर्तमान दशा Read more
गोविंद देव जी मंदिर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के सैंकडो मंदिरो मे गोविंद देव जी मंदिर का नाम दूर-दूर तक श्रृद्धालुओं Read more
रामप्रकाश थिएटर जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर में जयसागर के आगे अर्थात जनता बाजार के पूर्व में सिरह ड्योढ़ी बाजार मे खुलने वाला Read more
ईश्वरी सिंह की छतरी
बादल महल के उत्तर-पश्चिम मे एक रास्ता ईश्वरी सिंह की छतरी पर जाता है। जयपुर के राजाओ में ईश्वरी सिंह के Read more
जनता बाजार जयपुर
राजा के नाम पर बन कर भी जयपुर जनता का शहर है। हमारे देश में तो यह पहला नगर है जो Read more
माधो विलास महल जयपुर
जयपुर  में आयुर्वेद कॉलेज पहले महाराजा संस्कृत कॉलेज का ही अंग था। रियासती जमाने में ही सवाई मानसिंह मेडीकल कॉलेज Read more
बादल महल जयपुर
जयपुर  नगर बसने से पहले जो शिकार की ओदी थी, वह विस्तृत और परिष्कृत होकर बादल महल बनी। यह जयपुर Read more
तालकटोरा जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर नगर प्रासाद और जय निवास उद्यान के उत्तरी छोर पर तालकटोरा है, एक बनावटी झील, जिसके दक्षिण Read more
जय निवास उद्यान
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के ऐतिहासिक इमारतों और भवनों के बाद जब नगर के विशाल उद्यान जय Read more
चंद्रमहल जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक भवनों का मोर-मुकुट चंद्रमहल है और इसकी सातवी मंजिल ''मुकुट मंदिर ही कहलाती है। Read more
मुबारक महल सिटी प्लेस जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के महलों में मुबारक महल अपने ढंग का एक ही है। चुने पत्थर से बना है, Read more
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार Read more
Hanger manger Jaipur
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी Read more
Hawamahal Jaipur
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और Read more

write a comment