ईश्वरी सिंह की छतरी – महाराज सवाई ईश्वरी सिंह

बादल महल के उत्तर-पश्चिम मे एक रास्ता ईश्वरी सिंह की छतरी पर जाता है। जयपुर के राजाओ में ईश्वरी सिंह के साथ उसकी वीरता, गुण-ग्राहकता और कला-प्रेम के बावजूद जो कुछ बीती उसे विधि का विधान मानकर ही सब्र करना पडता है। अन्य राजाओं की छतरियां जहां गेटोर (ब्रहमपुरी) मे हैं, वहां ईश्वरी सिंह की छत्री सीटी पलैस के अहाते में ही तालकटोरा के पास समाधिस्थ है। चार स्तम्भो पर बनी गुम्बजदार छतरी जिसके पलस्तर मे नीले अलकरण ”लोई” मे रगडकर चमकाये गये है, वह स्थान है जहा सवाई जय सिंह के इस लाडले बेटे को चैन और आराम नसीब हुआ।

 

 

ईश्वरी सिंह की छतरी

 

 

1721 ई में दिल्ली के जय सिंहपुरा मे रानी सुख कंवर के गर्भ से जन्मे ईश्वरी सिंह को जय सिंह कितना प्यार करता था, यह इसी से सिद्ध है कि दो साल के चीमाजी” (ईश्वरी सिंह का बचपन का प्यार का नाम) को “चबेणी” के लिये लगभग पांच हजार रुपये की वार्षिक आय की जागीर निकाल दी गई थी। इस बालक को राजधानी से दूर बसवा मे रखा गया और जब वह चार साल का था तो पिता ने जय सिंहपुरा (दिल्ली) से ही उसके लिए जेवर, हथियार और लवाजमा भेजा। अपने मरने के दस बरस पहिले 1733 ई मे जय सिंह ने बाकायदा राज-दरबार जोडकर ईश्वरी सिंह को अपना युवराज घोषित किया। 1743 ई मे जयसिंह की मृत्यु के समय युवराज ईश्वरी सिंह राजसूय यज्ञ कर रहा था। उसने पिता की मृत्यु का समाचार सुना तो तुरन्त आया और वह यज्ञ पूरा नही हो सका। गद्दी पर बैठने के बाद ईश्वरी सिंह ने अपनी जिन्दगी के अगले सात साल अपने सौतेले भाई माधो सिंह और उसका साथ देने वाले पडौसी राजाओ के षडयन्त्रो का सामना करने और लडने-झगडने मे ही बिताये। 1750 ई मे जब होल्कर ने जयपुर पर धावा बोला तो उसके ढीठ मसाहिब हरगोविन्द नाटाणी ने उसे अधेरे मे रखा और धोखा दिया। इस नाटाणी ने।जयसिंह को उसकी मृत्यु शैय्या पर ईश्वरी सिंह का साथ देने का वादा किया था और उसके साथ दीवान विद्याधर ने भी। नाटाणी तो साफ मुकर गया और वृद्ध तथा अशक्त विद्याधर तटस्थ रह गया। अब ईश्वरी सिंह के सामने पराजय या मौत मुंह बायें खडी थी। उसने पराजय और आत्मग्लानि की जिन्दगी से मौत ही बेहतर समझी और विषपान कर अपना जीवन समाप्त कर दिया। सवाई जयसिंह के चहेते बेटे का अन्त बादशाह शाहजहा के लाडले दाराशिकोह के अन्त जैसा दर्दनाक तो नही, किन्तु मर्मान्तक अवश्य है।

 

 

सात साल का कुल समय और उसमे भी बडी-बडी लडाइयां, षडयन्त्र और कुचक। लेकिन इतने से अरसे मे ईश्वरी सिंह ने गेटोर मे अपने महान पिता की स्मृति मे संगमरमर की भव्य छतरी बनवाई, चौगान मे मोती बुर्ज खडी करवाई और ईसरलाट या सरगासूली के निर्माण से जयपुर वी आकाश-रेखा स्थापित की। ईश्वर विलास महाकाव्य उसके साहित्य प्रेम और मोती बुर्ज कीडा- प्रेम के परिचायक हैं। उसे बचपन से ही हाथियो की लडाई देखने का बडा शौक था और वह खुद घोडे पर सवार होकर ”साटमारी ” करता था। जयपुर के निकट गेटोर में सवाई जयसिंह की छतरी के इजारे पर इश्वरी सिंह को साटमारी करते हए बताया गया हैं। कागज पर अत्यन्त बारीक कटाई करके चित्र बनाना भी उसकी ‘हॉवी’ थी, और जयपुर के मानसिंह संग्रहालय मे उसके बनाये हुए ये कमनीय चित्र देखकर वाह-वाह करना पडता है। सागानेर का हाथ कागज उद्योग ईश्वरी सिंह की ही देन हे। विशेष प्रकार से घोट कर तैयार की जाने वाली कागज की गडिडयां ईश्वरसाही पाठो’ के नाम से जानी जाती रही है। उसके समय में इन पाठो को कौडियों से घिसने की तकनीक विकसित की गईं थी और क्वालिटी कट्रोल के लिए मुहर लगती थी। तब के सागानेरी पाठे ‘डेढ मोहरिया’ और ‘दो मोहरिया’ कहलाते थे।

 

 

जैसा हमारे देश मे दस्तूर है, इश्वरी सिंह को मरने के लिए मजबूर करने ओर स्वयं राजा बनने के बाद माधोसिंह ने अपने सौतेले अग्रज को ”ईश्वरावतार” कह कर पूजा। गणीजनखाने के गायक ओर वादक उसकी छतरी पर जाकर गाते-बजाते। सुरम्य जय निवास बाग के एक कोने में खडी यह उदास छतरी इस गाने- बजाने के समा मे जैसे और भी उदास नजर आती। सीटी पैलैस मे ईश्वरी सिंह की समाधि ही एकमात्र समाधि है।

 

 

ऐसो हू न और कोई भूप पातसाहन के
सुनयो होन देख्यो हम सगरे जहान में।।
मुरलीधर कहे सवाई प्रतापसिंह को.
चचल गज ठाडो दिन-रात चोगान मे।।

 

ईश्वरी सिंह की छतरी
ईश्वरी सिंह की छतरी

 

दूसरी बुर्ज है “मोती बुर्ज” जो सिटी पैलेस के अहाते की मुख्य दीवार से सटी हुई है। यह ईश्वरी सिह ने बनवाई थी। इसमें जयपुर के राजा खुद बैठकर चोगान में होने वाले खेल-तमाशों ओर करतबों को देखते थे। यहां ने घुमकर उत्तर-पूर्व के कोने में चतर- महल ओर चतर की बुर्ज भी है। चतर महल के मेहराबदार दालान बड़े अनुपात से बने हैं ओर सादा होने पर भी शानदार हैं। यह सवाई जयसिंह के समय की इमारत बताई जाती है जिसका प्रवेश द्वार ‘चतर की डयोटी’ इसके सामने के खुले चौक के पूर्व की ओर है। चतर को कोइ-कोई सवाई जयसिंह के काल में बडी प्रभावशालिनी “वडारण ‘ या प्रधान दासी भी बताते हें जिसकी याद आज तक इन इमारतों से कायम है। इस महल के दालानो से राजपरिवार के लोग नीचे चोक में हाथियों की लड़ाई देखा करते थे जो उन्‍नीसवी सदी के अन्त तक एक बडा मनोरजन था।

 

 

महाराजा राममिद्र पहला राजा था जिसने बात-बात में ओपचारिकता बरतने से इंकार किया था। वह खातीपग, झालाना या रामसागर के जंगलो में शिकार के लिए जाता तो यह बडा अटपटा लगता कि जब भी चंद्रमहल से निकले तो सिरह ड्योढ़ी के रास्ते से ही परे लवाजमे के साथ निकले। इसलिये वह अक्सर घोडे पर सवार होकर अपने दो- चार विश्वस्त साथियो-सेवकों को साथ लेकर चतर की डयोढी से बाहर आ जाता ओर बिना धुमधाम के चला जाता।

 

 

मोती बुर्ज के उत्तर में “श्याम बुर्ज है। इस बुर्ज के भीतर एक विशाल कुआं है जिसका पानी रहट या परशियन ब्हील द्वारा ऊपर बने हुए एक हौज में भरा जाता था। इस पानी से कभी जयनिवास बाग के सारे फव्वारे चलाये जाते थे। बुर्ज की ऊपरी मंजिल एक अष्टकोणीय बरामदा है जिसकी मेहराबों में चारो ओर जालियां लगी है। यहां रानिवास की औरते बैठकर नीचे मैदान में होने वाले खेल-तमाशे देख सकती थी और छत से महाराजा और उनके सामंत।

 

 

इन बुर्जों और चतर महल तक ऊपर ही ऊपर आने-जाने के लिए चंद्रमहल ओर जनानी ड्योढी तक जो मार्ग बने हुए हैं, उन्हे सुरंग” कहते है। इन एक-एक सुरंग पर कोई भी बडी इमारत बनाने जितनी लागत आईं होगी जिसकी अब कल्पना ही की जा सकती हैं। यह भी कल्पना का ही विषय है कि जब यह महल-मालिये पूरी तरह आबाद होगे, चोगान में हाथियों की लडाई ओर दूसरे मनोरजन होते होगे ओर इन सुरंगो मे होकर बराबर स्त्री-पुरुषो का आवागमन रहता होगा तो आज सुने ओर वीरान पडे हुए इन स्मारकों में केसा रंग, कैसी चहल-पहल ओर कैसी जिन्दगी अठखेलियां करती होगी।

 

 

नवीनतम अध्ययनों से इस बात का पता चलता है कि जयपुर का संस्थापक सवाई जयसिह भी चोगान के खेल का शौकीन था और एक बार जब वह अपनी ससुराल उदयपर में था तो उसने वहा इस खेल मे भाग लिया था।? जयपुर के चौगान मे जो सवाई जयसिंह ने ही बना दिया था, उसकी किसी ऐसी गतिविधि के सम्बन्ध मे अभी कोई जानकारी उपलब्ध नहीं हुइ है, किन्तु कुछ वर्षों पूर्व कुछ बडे आकार के चित्र उपलब्ध हुए हैं जिनमे उसके उत्तरा- धिकारी ओर पुत्र इश्वरी सिंह को चोगान मे जानवरों की लडाइयां देखते हुए बताया गया है। महाराजा सवाई मानसिंह संग्रहालय की प्रदर्शनी दीर्घा मे 1978 मे ये चित्र पहली बार प्रदर्शित किये गये थे। अब ऐसा ही एक चित्र वर्तमान महाराजा ने संग्रहालय को प्रदान किया है, जिसमे ईश्वरी सिंह के बाद राजा बनने वाले उसके सौतेले भाई माधोसिंह को चौगान मे ऐसी ही लडाइयां देखते हुए चित्रित किया गया है।

 

 

संग्रहालय के एक अधिकारी यदुएन्द्र सहाय ने इन चित्रों के आधार पर अपने अध्ययन मे कहा है कि ये सभी चित्र बडे सजीव और फिल्‍म की तरह है, एक नजर मे तो यह एक ही कलाकार की तूलिका के प्रतीत होते है, किन्तु वास्तविकता यह है कि हर चित्र सूरतखाने के किसी सिद्धहस्त चित्रकार की कृति है। इनमे एक चित्र है शिकार अगड की,जो सतराम और ऊदाराम की संयुक्त कलाकृति है। सवाई ईश्वरी सिंह इसमे काले फूलो की बूंटियो वाले पशमीने का आतम-सुख पहिने है और चीनी की बुर्ज मे बैठा है। बुर्ज के नीचे ही एक गोलाकार घेरे मे एक शेर बंधा है और उस पर सब ओर से शिकारी कुत्तो का दल झपट रहा है। चौगान के चारो ओर बनी सभी बुर्जे, दीवारे और मैदान महाराजा के मेहमानो और दूसरे तमाशबीनो से भरे हैं। एक मस्त हाथी ने भी बडा बखेडा मचा दिया है और उससे कुचले जाने के भय से लोग भाग रहे है। अनेक लोग कोडे और कपडो के टुकडे हाथ मे लिये उसे नियत्रित करने मे लगे है। सारा चित्र ऐसी सजीवता और तन्मयता से बनाया गया है कि फोटो की तरह एक-एक बात को उजागर करता है ओर लगता है जैसे कलाकार ने किसी विमान या हैलीकॉप्टर मे बैठकर इसे बनाया हो।

 

 

सुख निवास (चंद्रमहल) के इजारो पर भी पशुओ की लडाई के ऐसे ही चित्र बने है और यह कहना मुश्किल है कि पहले ये बने या वे और कौन किसकी अनुकृति है? और तो और, चित्र मे प्रदर्शित मकानो और दीवारो का रंग भी वही गाढा गुलाबी रंग है जिसके लिए जयपुर प्रसिद्ध हुआ। जयपुर को सवाई रामसिंह द्वितीय ने गुलाबी रंग दिया था, यह एक जानी-मानी बात है, किन्तु इस चित्र को देखकर अनुमान होता है कि जयपुर मे यह रंग कही-कही तो 1750 ई मे ही हो गया था अथवा होने लगा था।एक अन्य चित्र मे, जो जगरूप का बनाया हुआ है, ईश्वरी सिंह मोती बुर्ज मे बैठा दिखाया गया है। इसमे चतर की आड के दोनो ओर से अपने सवारों सहित हाथी आकर एक-दूसरे से भिड रहे हैं। इसी प्रकार एक चित्र मे, जो ऊदा का बनाया हुआ है, मोती बूर्ज के नीचे घोडो के दो जोडो की लडाई दिखाई गई है। दर्शको की भीड मे कुछ यूरोपीय पादरी भी साफ नजर आते है। अन्य चित्रो मे ईश्वरी सिंह इसी प्रकार भैसो और ऊंटों की लडाई भी देखता है। ये सभी पशु उत्तेजना और क्रोध की प्रतिमूर्ति बने हुए है।

 

 

एक चित्र जयसिंह, ईश्वरी सिंह और प्रताप सिंह, तीनो को देखने वाले अनुभवी चितेरे साहबराम का बनाया हुआ है, जिसमे एक शेर और हाथी की लडाई है। मैदान को बहिश्ती लोग अपनी मशको से बराबर छिडक रहे है। आकाश मे तरह-तरह के पतंग भी उड रहे है। इन चित्र मे यूरोपियन पादरियो की उपस्थिति उल्लेखनीय है। यूरोपियन लोग इस नगर मे इसके निर्माण के बाद से ही आने लगे थे और मनोरजन के लिए उस जमाने मे चौगान से बेहतर और क्या था।

 

 

जिस चित्र मे माधोसिंह प्रथम दस जोडे हाथियो की लडाई देख रहा है, वह भी उपरोक्त चित्रों के आकार का ही है। चौगान से गणगौरी दरवाजे मे होकर सिटी पैलेस या चौकडी सरहद के बाहर निकला जा सकता है। राज-दरबार और रानिवासों की इस उपनगरी का वह पश्चिमी द्वार है। किन्तु, अभी सिटी पैलेस का एक बैभव तो छुट ही गया, जिसका वर्णन किये बिना यह समूचा वर्णन अधूरा ही माना जायेगा। जयपुर को मंदिरों का नगर भी कहा गया है और सिटी पैलेस की परिधि मे ही ऐसे अनेक मन्दिर हैं जो स्थापत्य की दृष्टि से तो दर्शनीय है ही, ऐतिहासिक और धार्मिक दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण है। जिनका उल्लेख हम अपने आगे के लेखों में करेंगे।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

 

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
Hawamahal Jaipur
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
Hanger manger Jaipur
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक
बूंदी राजस्थान
केतूबाई बूंदी के राव नारायण दास हाड़ा की रानी थी। राव नारायणदास बड़े वीर, पराक्रमी और बलवान पुरूष थे। उनके
सवाई मानसिंह संग्रहालय
जयपुर के मध्यकालीन सभा भवन, दीवाने- आम, मे अब जयपुर नरेश सवाई मानसिंह संग्रहालय की आर्ट गैलरी या कला दीर्घा
मुबारक महल सिटी प्लेस जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के महलों में मुबारक महल अपने ढंग का एक ही है। चुने पत्थर से बना है,
चंद्रमहल जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक भवनों का मोर-मुकुट चंद्रमहल है और इसकी सातवी मंजिल ''मुकुट मंदिर ही कहलाती है।
जय निवास उद्यान
राजस्थान  की राजधानी और गुलाबी नगरी जयपुर के ऐतिहासिक इमारतों और भवनों के बाद जब नगर के विशाल उद्यान जय
तालकटोरा जयपुर
राजस्थान  की राजधानी जयपुर नगर प्रासाद और जय निवास उद्यान के उत्तरी छोर पर तालकटोरा है, एक बनावटी झील, जिसके दक्षिण
बादल महल जयपुर
जयपुर  नगर बसने से पहले जो शिकार की ओदी थी, वह विस्तृत और परिष्कृत होकर बादल महल बनी। यह जयपुर
माधो विलास महल जयपुर
जयपुर  में आयुर्वेद कॉलेज पहले महाराजा संस्कृत कॉलेज का ही अंग था। रियासती जमाने में ही सवाई मानसिंह मेडीकल कॉलेज

write a comment