इवान पावलोव जिसने खोजा था बच्चे के चिड़चिड़ापन और ज़िद्दीपन का कारण?

भड़ाम! कुछ नहीं, बस कोई ट्रक था जो बैक-फायर कर रहा था। आप कूद क्यों पड़े ? यह तो आपने सोचा ही नहीं था कि कोई खतरा है, सोचने की नौबत ही नहीं आई। सोचने को वक्‍त ही कहां था, बस आप एकदम से कूद पड़े। धूल का एक कण जब आंख के पास पहुंचने को होता है, हमारी आंख खुद-ब-खुद बन्द हो जाती है। जरा-सी भी मिट्टी नाक में घुसी कि हम छींक देते हैं। खाते हुए कोई भी चीज़ श्वास-नली में गलती से चली गई कि खांसना शुरू हों जाता है और वह टुकड़ा वहां से निकल बाहर आ जाता है। ये सभी क्रियाएं रिफ्लेक्स एक्शन अथवा “रिफ्लेक्स’ स्वतः प्रतिक्रियाएं कहलाती हैं। ये हमें सीखनी नहीं पड़ती नवजात शिशु में भी वे उसी स्वाभाविकता के साथ विद्यमान होती हैं जैसे एक अधेड़-उम्र के आदमी में। ये स्वाभाविक प्रतिक्रियाएं हमारे अंदर में जन्म के साथ ही आ जाती हैं, और इसे हमारी खुश किस्मती ही समझना चाहिए क्योंकि यही प्रतिक्रिया हैं वस्तुत: जो हमें जिन्दा रखे रखती हैं। इन रिफ्लेक्स क्रियाओं में हमें कुछ सोच विचार नहीं करना पड़ता, किन्तु, स्वयं इनके विषय में काफी सोच विचार चिन्तन-मनन, वैज्ञानिकों ने किया है। इस क्षेत्र में शायद सबसे अधिक अध्ययन रूस के एक खोजकर्ता इवान पावलोव ने किया है।

 

 

इवान पावलोव का जीवन परिचय

 

 

इवान पावलोव का जन्म 14 सितम्बर, 1849 को, मध्य रूस के एक छोटे-से कस्बे रियाजान में हुआ था। पिता गांव का एक पादरी था। मां-बाप ने बच्चे को उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित ही नहीं किया, अपितु विषय के चुनाव में भी उसे पूर्ण स्वतंत्रता दी। इवान पावलोव की शिक्षा का आरंभ एक धार्मिक पाठशाला में हुआ जहां एक पादरी शिक्षक की छत्रछाया में बालक में विज्ञान के प्रति अभिरुचि जागरित हुई।

 

 

पाठशाला के बाद पावलोव सेंट पीटर्सबर्ग विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ नैचुरल साइन्सेज मे दाखिल हुआ। यहां एक पुस्तक मस्तिष्क की स्वाभाविक प्रतिक्रियाएं उसके हाथ लगी, जिसने उसका भविष्य निर्धारित कर दिया। पुस्तक का विषय था, मनुष्य की शारीरिक तथा मानसिक क्रियाओं मे परस्पर सम्बन्ध। पावलोव ने निश्चय किया कि बडा होकर वह एक डाक्टर बनेगा। शरीर विज्ञान का प्रोफेसर। 1879 में उसकी चिकित्सक बनने की शिक्षा-दीक्षा समाप्त हो गई। सैनिक चिकित्सा एकेडमी से स्नातक होकर, बचपन में लिए अपने स्वप्न के अनुसार पावलोव ने सेंट पीटर्सबर्ग मे एक प्रयोगशाला स्थापित की ताकि वह शरीर-तन्त्र सम्बन्धी अनुसन्धान को अनवरत रख सके।

 

इवान पावलोव
इवान पावलोव

 

प्रयोगशाला बहुत ही साधन-विहीन थी। कोई नियमित सहायक नही, और जो थोडे-बहुत साधन उपकरण आवश्यक होते वे भी पावलोव को खुद अपनी थोडी-सी तनख्वाह के अन्दर ही जुटाने पड़ते। किन्तु वह घबराया नही अपने ध्येय की पूर्ति में लगा ही रहा। धीरे-धीरे आसपास उसका कुछ नाम भी होने लग गया। 41 वर्ष की आयु में उसकी नियुक्ति मेडिकल एकेडमी में फॉर्मकॉलोजी के प्राध्यापक के रूप मे हो गईं। एक वर्ष पश्चात, उसे सेंट पीटर्सबर्ग के प्रयोगात्मक विधि संस्थान में खुली नई प्रयोगशाला का अध्यक्ष भी बना दिया गया।

 

 

इवान पावलोव को सबसे पहले अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान उसके पाचन सस्थान सम्बन्धी अनुसंधानों पर मिला था। 1904 मे इवान पावलोव को नोबल पुरस्कार दिया गया। शरीर के नाडी-तन्त्र में तथा पाचन तंत्र मे परस्पर सम्बन्ध क्या होता है यह उसने सिद्ध कर दिखाया। वैसे पावलोव का विश्वास था कि शरीर की सभी क्रियाएं-प्रतिक्रियाए हमारे नाड़ी तन्त्र द्वारा ही चालित होती है। तब तक वैज्ञानिको को यह मालूम नही था कि पाचन-क्रिया में कुछ महत्त्वपूर्ण योग हार्मोन्स का भी हुआ करता है।

 

 

पावलोव का धैर्य असीम था, और उत्साह और आत्मविश्वास का भी कोई अन्त नही। पाचन-क्रिया पर परीक्षण करते वक्‍त उसने कुत्ते ही हमेशा लिए। उसे ख्याल रहता कि बेचारे पशु की स्वाभाविक क्रियाओं में कुछ भी अन्तर इन परीक्षणों से नही आना चाहिए। इसके लिए उसने एक ऑपरेशन का आविष्कार किया कि कुत्ते के मेदे मे जो कुछ हो रहा है उसे साफ-साफ प्रतिक्षण दिखाई देता रहे। पहले 30 परीक्षणो मे उसे असफलता ही मिली। किन्तु वह कहा मानने वाला था। अगले परीक्षण में जब उसे सफलता मिली, पावलोव यही उसकी आदत थी, खुशी में खुलकर नाच उठा नोबल पुरस्कार तो पावलोव को पाचन-संस्थान सम्बन्धी इन परीक्षणो की बदौलत ही मिला था, लेकिन जो चीज़ उसे विश्व-भर मे प्रसिद्ध कर गई, वह थी उसका कंडीशन्ड रिफ्नैक्सेज’ परक कार्य। कुत्तों के पाचन-तन्त्र पर अनुसन्धान करते हुए उसका ध्यान इस बात की ओर खिंचने लगा कि खाना सामने आने पर कुत्ते मे क्या-क्या प्रतिक्रियाएं शुरू हो जाती है। उसने देखा कि कुत्ते के मुंह मे पानी आना शुरू हो जाता है।खाना मिलने पर ही नही, सामने आने पर ही। वैज्ञानिको को यह तो पता था ही कि खाने को पचाने के लिए जैसे हमे भी ज़रूरत पड़ती है, जानवर के मुंह मे भी लार का निकल आना जरूरी होता है। लेकिन वैज्ञानिकों का ख्याल यही था कि लार निकलने की यह हालत एक विशुद्ध शारीरिक प्रतिक्रिया है। किन्तु खाना आंखो के सामने आते ही यह लार क्यों टपकने लग गई ?

 

 

तभी इवान पावलोव ने अपना वह क्रांतिकारी वैज्ञानिक अनुमान प्रस्तुत किया कि यह सब पिछले सचित अनुभवों के कारण होता है, अर्थात ऐसी प्रतिक्रियाएं केवल मात्र शारीरिक ही हो यह जरूरी नही, वे मानसिक भी हो सकती है। और अब इस अनुमान की परीक्षा के लिए उसने एक परीक्षण का आविष्कार किया। एक कमरे को खाली करके उसमे एक कुत्ते को लाया गया। घंटी बजी, और रोटी सामने आ गई, और कुत्ते के मुंह से लार टपकनी शुरू हो गई। कितनी ही बार यही कुछ किया गया, और होता यह गया कि घंटी बजते ही लार टपकना शुरू हो जाता, रोटी साथ आए या न आए। अर्थात वह स्वाभाविक जन्मजात प्रतिक्रिया भी पावलोव ने बदल डाली थी। कुत्ते में वही प्रतिक्रिया घंटी की आवाज़ के सामने भी सिद्ध कर दिखाई जो आम तौर पर उसमें रोटी सामने आने पर ही प्रत्याशित थी।

 

 

एक और अजीब परीक्षण पावलोब ने अब यह किया कि रोटी के साथ एक वृत्ताकार प्रकाश-रेखा भी दीवार पर पडती। अण्डाकार प्रकाश के साथ रोटी न आती। इस प्रकार जानवर यह जान गया कि रोटी की उम्मीद प्रकाश दिखाई देने पर करना बेवकूफी है। अब यह किया गया कि प्रकाश की इस अण्डाकृति को धीमे-धीमे वृत्ताकार किया जाने लगा कि आखिर दोनो आकृतियों में विवेक करना मुश्किल हो गया। बेचारे को मालूम न हो कि उसे रोटी मिलेगी या नही। नतीजा यह हुआ कि कुत्ते का दिमाग फिर गया और वह बेचेनीं मे कमरे मे चक्कर काटने लगा और भौंकने लगा। सौभाग्य से पावलोव ने यह भी कर देखा था कि इस प्रकार की सीखी कृत्रिम प्रतिक्रियाओं को विस्मृत करा कर पशु को और मनुष्य को भी पुन उसकी स्वाभाविक स्थिति में वापस भी लाया जासकता है। यही इस बेचेनीं का इलाज है।

 

 

आज के शरीर वैज्ञानिकों ने पावलोव के परीक्षणों से बहुत कुछ सीखा है। इवान पावलोव के सिद्धांतो का कुछ उपयोग मनुष्यों पर भी किया जा चुका है। कुत्ते में जिस प्रकार कुछ प्रतिक्रिया कृत्रिम रूप में स्थिर की जा सकती हैं, इन्सान के बच्चे में भी उसी आसानी के साथ कुछ कृत्रिमता आहित की जा सकती है। मां अगर बच्चे के मन में कुत्ते का, बिजली का, समुद्र का डर डालना चाहे, तो बच्चा इन चीजों से डरने लग भी जाएगा। किंतु मां के अपने मन पर इन भय का कुछ प्रभाव यदि नहीं पडता, बच्चे पर भी नही पडे़गा। यही चाल उलटे बच्चा खुद भी अपने मां-बाप के साथ खेल सकता है। एक बार उसे पत्ता चल जाए सही कि चिड़चिडापन दिखाने से उसका मतलब सिद्ध हो जाता है, वह अब जब चाहे चिडचिडा होकर दिखा देगा और मां-बाप का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट कर लिया करेगा। पावलोव ने तो यह भी कर दिखाया कि एक ‘स्थिर प्रवृत्ति को अस्थिर करके उसे पुन स्थिर भी किया जा सकता है, पशुओं में भी और मनुष्यों में भी। लेनिन की अध्यक्षता मे सोवियत सरकार ने पावलोव को पर्याप्त आर्थिक सहायता दी। शायद उसे इन परीक्षणो की उपयोगिता यह नजर आई हो कि मनुष्यों में भी वांछित शिक्षा भरी जा सकती है।

 

 

87 वर्ष की आयु मे 1936 में इवान पावलोव की मृत्यु हुई। कुत्तों के साथ परीक्षण करते हुए जब उसने घंटी बजाने की विधि निकाली थी, मनोवैज्ञानिकों के हाथ वह एक नया उपकरण मनुष्य के दैनिक व्यवहार को समझने के लिए दे चला था।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े—-

 

 

एनरिको फर्मी
एनरिको फर्मी--- इटली का समुंद्र यात्री नई दुनिया के किनारे आ लगा। और ज़मीन पर पैर रखते ही उसने देखा कि Read more
नील्स बोर
दरबारी अन्दाज़ का बूढ़ा अपनी सीट से उठा और निहायत चुस्ती और अदब के साथ सिर से हैट उतारते हुए Read more
एलेग्जेंडर फ्लेमिंग
साधारण-सी प्रतीत होने वाली घटनाओं में भी कुछ न कुछ अद्भुत तत्त्व प्रच्छन्न होता है, किन्तु उसका प्रत्यक्ष कर सकने Read more
अल्बर्ट आइंस्टीन
“डिअर मिस्टर प्रेसीडेंट” पत्र का आरम्भ करते हुए विश्वविख्यात वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने लिखा, ई० फेर्मि तथा एल० जीलार्ड के Read more
हम्फ्री डेवी
15 लाख रुपया खर्च करके यदि कोई राष्ट्र एक ऐसे विद्यार्थी की शिक्षा-दीक्षा का प्रबन्ध कर सकता है जो कल Read more
मैरी क्यूरी
मैंने निश्चय कर लिया है कि इस घृणित दुनिया से अब विदा ले लूं। मेरे यहां से उठ जाने से Read more
मैक्स प्लांक
दोस्तो आप ने सचमुच जादू से खुलने वाले दरवाज़े कहीं न कहीं देखे होंगे। जरा सोचिए दरवाज़े की सिल पर Read more
हेनरिक ऊ
रेडार और सर्चलाइट लगभग एक ही ढंग से काम करते हैं। दोनों में फर्क केवल इतना ही होता है कि Read more
जे जे थॉमसन
योग्यता की एक कसौटी नोबल प्राइज भी है। जे जे थॉमसन को यह पुरस्कार 1906 में मिला था। किन्तु अपने-आप Read more
अल्बर्ट अब्राहम मिशेलसन
सन् 1869 में एक जन प्रवासी का लड़का एक लम्बी यात्रा पर अमेरीका के निवादा राज्य से निकला। यात्रा का Read more
विलहम कॉनरैड रॉटजन
विज्ञान में और चिकित्साशास्त्र तथा तंत्रविज्ञान में विशेषतः एक दूरव्यापी क्रान्ति का प्रवर्तन 1895 के दिसम्बर की एक शरद शाम Read more
दिमित्री मेंडेलीव
आपने कभी जोड़-तोड़ (जिग-सॉ) का खेल देखा है, और उसके टुकड़ों को जोड़कर कुछ सही बनाने की कोशिश की है Read more
जेम्स क्लर्क मैक्सवेल
दो पिन लीजिए और उन्हें एक कागज़ पर दो इंच की दूरी पर गाड़ दीजिए। अब एक धागा लेकर दोनों Read more
ग्रेगर जॉन मेंडल
“सचाई तुम्हें बड़ी मामूली चीज़ों से ही मिल जाएगी।” सालों-साल ग्रेगर जॉन मेंडल अपनी नन्हीं-सी बगीची में बड़े ही धैर्य Read more
लुई पाश्चर
कुत्ता काट ले तो गांवों में लुहार ही तब डाक्टर का काम कर देता। और अगर यह कुत्ता पागल हो Read more
लियोन फौकॉल्ट
न्यूयार्क में राष्ट्रसंघ के भवन में एक छोटा-सा गोला, एक लम्बी लोहे की छड़ से लटकता हुआ, पेंडुलम की तरह Read more
चार्ल्स डार्विन
“कुत्ते, शिकार, और चूहे पकड़ना इन तीन चीज़ों के अलावा किसी चीज़ से कोई वास्ता नहीं, बड़ा होकर अपने लिए, Read more
“यूरिया का निर्माण मैं प्रयोगशाला में ही, और बगेर किसी इन्सान व कुत्ते की मदद के, बगैर गुर्दे के, कर Read more
जोसेफ हेनरी
परीक्षण करते हुए जोसेफ हेनरी ने साथ-साथ उनके प्रकाशन की उपेक्षा कर दी, जिसका परिणाम यह हुआ कि विद्युत विज्ञान Read more
माइकल फैराडे
चुम्बक को विद्युत में परिणत करना है। यह संक्षिप्त सा सूत्र माइकल फैराडे ने अपनी नोटबुक में 1822 में दर्ज Read more
जॉर्ज साइमन ओम
जॉर्ज साइमन ओम ने कोलोन के जेसुइट कालिज में गणित की प्रोफेसरी से त्यागपत्र दे दिया। यह 1827 की बात Read more
ऐवोगेड्रो
वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी समस्याओं में एक यह भी हमेशा से रही है कि उन्हें यह कैसे ज्ञात रहे कि Read more
आंद्रे मैरी एम्पीयर
इतिहास में कभी-कभी ऐसे वक्त आते हैं जब सहसा यह विश्वास कर सकता असंभव हो जाता है कि मनुष्य की Read more
जॉन डाल्टन
विश्व की वैज्ञानिक विभूतियों में गिना जाने से पूर्वी, जॉन डाल्टन एक स्कूल में हेडमास्टर था। एक वैज्ञानिक के स्कूल-टीचर Read more
काउंट रूमफोर्ड
कुछ लोगों के दिल से शायद नहीं जबान से अक्सर यही निकलता सुना जाता है कि जिन्दगी की सबसे बड़ी Read more
एडवर्ड जेनर
छः करोड़ आदमी अर्थात लन्दन, न्यूयार्क, टोकियो, शंघाई और मास्कों की कुल आबादी का दुगुना, अनुमान किया जाता है कि Read more
एलेसेंड्रा वोल्टा
आपने कभी बिजली 'चखी' है ? “अपनी ज़बान के सिरे को मेनेटिन की एक पतली-सी पतरी से ढक लिया और Read more
एंटोनी लेवोज़ियर
1798 में फ्रांस की सरकार ने एंटोनी लॉरेंस द लेवोज़ियर (Antoine-Laurent de Lavoisier) के सम्मान में एक विशाल अन्त्येष्टि का Read more
जोसेफ प्रिस्टले
क्या आपको याद है कि हाल ही में सोडा वाटर की बोतल आपने कब पी थी ? क्‍या आप जानते Read more
हेनरी कैवेंडिश
हेनरी कैवेंडिश अपने ज़माने में इंग्लैंड का सबसे अमीर आदमी था। मरने पर उसकी सम्पत्ति का अन्दाजा लगाया गया तो Read more
बेंजामिन फ्रैंकलिन
“डैब्बी", पत्नी को सम्बोधित करते हुए बेंजामिन फ्रैंकलिन ने कहा, “कभी-कभी सोचता हूं परमात्मा ने ये दिन हमारे लिए यदि Read more
सर आइज़क न्यूटन
आइज़क न्यूटन का जन्म इंग्लैंड के एक छोटे से गांव में खेतों के साथ लगे एक घरौंदे में सन् 1642 में Read more
रॉबर्ट हुक
क्या आप ने वर्ण विपर्यास की पहेली कभी बूझी है ? उलटा-सीधा करके देखें तो ज़रा इन अक्षरों का कुछ Read more
एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक
सन् 1673 में लन्दन की रॉयल सोसाइटी के नाम एक खासा लम्बा और अजीब किस्म का पत्र पहुंचा जिसे पढ़कर Read more
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स (Christiaan Huygens) की ईजाद की गई पेंडुलम घड़ी (pendulum clock) को जब फ्रेंचगायना ले जाया गया तो उसके Read more
रॉबर्ट बॉयल
रॉबर्ट बॉयल का जन्म 26 जनवरी 1627 के दिन आयरलैंड के मुन्स्टर शहर में हुआ था। वह कॉर्क के अति Read more
इवेंजलिस्टा टॉरिसेलि
अब जरा यह परीक्षण खुद कर देखिए तो लेकिन किसी चिरमिच्ची' या हौदी पर। एक गिलास में तीन-चौथाई पानी भर Read more
विलियम हार्वे
“आज की सबसे बड़ी खबर चुड़ैलों के एक बड़े भारी गिरोह के बारे में है, और शक किया जा रहा Read more
“और सम्भव है यह सत्य ही स्वयं अब किसी अध्येता की प्रतीक्षा में एक पूरी सदी आकुल पड़ा रहे, वैसे Read more
गैलीलियो
“मै गैलीलियो गैलिलाई, स्वर्गीय विसेजिओ गैलिलाई का पुत्र, फ्लॉरेन्स का निवासी, उम्र सत्तर साल, कचहरी में हाजिर होकर अपने असत्य Read more
आंद्रेयेस विसेलियस
“मैं जानता हूं कि मेरी जवानी ही, मेरी उम्र ही, मेरे रास्ते में आ खड़ी होगी और मेरी कोई सुनेगा Read more
निकोलस कोपरनिकस
निकोलस कोपरनिकस के अध्ययनसे पहले-- “क्यों, भेया, सूरज कुछ आगे बढ़ा ?” “सूरज निकलता किस वक्त है ?” “देखा है Read more
लियोनार्दो दा विंची
फ्लॉरेंस ()(इटली) में एक पहाड़ी है। एक दिन यहां सुनहरे बालों वाला एक नौजवान आया जिसके हाथ में एक पिंजरा Read more
गैलेन
इन स्थापनाओं में से किसी पर भी एकाएक विश्वास कर लेना मेरे लिए असंभव है जब तक कि मैं, जहां Read more
आर्किमिडीज
जो कुछ सामने हो रहा है उसे देखने की अक्ल हो, जो कुछ देखा उसे समझ सकने की अक्ल हो, Read more
एरिस्टोटल
रोजर बेकन ने एक स्थान पर कहा है, “मेरा बस चले तो मैं एरिस्टोटल की सब किताबें जलवा दू। इनसे Read more
हिपोक्रेटिस
मैं इस व्रत को निभाने का शपथ लेता हूं। अपनी बुद्धि और विवेक के अनुसार मैं बीमारों की सेवा के Read more
यूक्लिड
युवावस्था में इस किताब के हाथ लगते ही यदि किसी की दुनिया एकदम बदल नहीं जाती थी तो हम यही Read more