आंद्रेयेस विसेलियस का जीवन परिचय और उन्होंने क्या खोज की?

आंद्रेयेस विसेलियस

“मैं जानता हूं कि मेरी जवानी ही, मेरी उम्र ही, मेरे रास्ते में आ खड़ी होगी और मेरी कोई सुनेगा नहीं, और यह भी कि–जब एनाटमी में वे लोग जिनकी अपनी आंखें नहीं हैं मुझ पर वार करना शुरू कर देंगे, मेरी हिफाजत में एक भी उंगली कहीं नहीं उठेगी। ये शब्द हैं जिनमें अट्ठाइस साल की कच्ची उम्र के आंद्रेयेस विसेलियस (Andreas Vesalius) ने सम्राट चार्ल्स पंचम से प्रार्थना की थी कि मुझे आश्रय दें। (Andreas Vesalius) आंद्रेयेस वेसेलियस अपनी गवेषणाओं का एक संग्रह सात भागों में प्रकाशित करने चला था। ‘डि ह्यूमेनि कार्पोरिस फैब्रिका (de humani corporis fabrica) ( मानव शरीर की रचना के विषय में कुछ )।

 

 

आंद्रेयेस विसेलियस को मालूम था कि उसकी आलोचना होगी और कटु आलोचना होगी। वह खुद डाक्टरों की चलती प्रैक्टिस की और प्रचलित शिक्षा-प्रणाली की आलोचना करने की ठान चुका था और स्वयं गैलेन की ही वेद-वाक्यता पर सन्देह उठाने की ठान चुका था। तेरह सदियों से चलता आ रहा शरीर-रचना विज्ञान सिद्धांत, तथा परीक्षण जिस मोड़ पर आ पहुंचा था, विसेलियस ने अपने को उस पर पाया। सो, इसमें कुछ आश्चर्य की बात नहीं कि नौजवान छोकरे को स्वभावत कुछ संकोच अनुभव हुआ कि राजकीय अभिरक्षा के बगैर वह कुछ भी प्रकाशित करने का साहस करे या नहीं।

 

 

आंद्रेयेस विसेलियस को जीवन परिचय

 

 

आंद्रेयेस विसेलियस का जन्म 1514 में, ब्रुसेल्स शहर में हुआ था। उसका पिता सम्राट चार्ल्स पंचम के यहां शाही औषधिविक्रेता था, और उसके पूर्वजों में (उसकी रगों में खून था) कितने ही आयुर्वेदशास्त्री हो चुके थे। जवानी में वह जरूर अपने ही घरवालो के लिए एक खासा सिरदर्द रहा होगा क्योकि छोटे-छोटे जानवरों, चूहों, परिंदों वगैरह पर चीरा फाडी करने का उसे शुरू से शौक था। वंश में उपयुक्त परम्परा ने और अपनी निजी अभिरुचि ने मिलकर जैसे पहले से ही फैसला कर रखा हो वह चिकित्सक बनेगा। आंद्रेयेस विसेलियस की शिक्षा-दीक्षा, तदनुसार, लूवे विश्वविद्यालय में तथा पेरिस विश्वविद्यालय के मेडिकल स्कूल में हुई। आंद्रेयेस विसेलियस के विद्यार्थी जीवन का दीक्षान्त पेदुआ विश्वविद्यालय में हुआ और, पढाई खत्म करते ही वही मेडिकल फेकल्टी मे शल्य-शास्त्र तथा शरीर शास्त्र के प्रोफेसर के रूप में उसे नियुक्ति मिल गई। 1543 तक वह वहीं बना रहा और अध्यापन-स्वाध्याय मे, तथा अपने जीवन के महान कार्य की अहर्निश पूर्ति मे लगा रहा। लेकिन आंद्रेयेस विसेलियस की किताब छपते ही उसकी नौकरी जाती रही, एक तूफान उठ खडा हुआ और तरह-तरह की मजबूरियां बन आईं। खैर, स्पेन के चार्ल्स पंचम के यहां वह राजकीय वेद्य नियुक्त हो गया। यहां पहुंच कर उसने शरीर-रचना पर आगे कुछ भी अनुसन्धान नही किया। चार्ल्स के बाद उस के बेटे फिलिप्स द्वितीय के यहां भी वह उसी तरह राज वेद्य ही बना रहा।

 

 

आंद्रेयेस विसेलियस
आंद्रेयेस विसेलियस

 

आंद्रेयेस विसेलियस को चिकित्सा शास्त्र की अध्ययन-अध्यापन विधि मे त्रुटियों का आभास तभी से कुछ न कुछ मिल चुका था जब वह पेरिस मे खुद एक विद्यार्थी था। शरीर-रचना चिकित्सा शास्त्र का एक मुख्य अंग है और चिकित्सा-विषयक सही-सही शिक्षा, बिना शरीर के अंगाग का प्रत्यक्ष कराए, दी भी कैसे जा सकती है? मुर्दे को देखते ही कुछ लोगो की तबियत खराब होने लगती है, लेकिन मानव-शरीर के सम्बन्ध में वैज्ञानिकों का परिचय और किसी तरह बढ भी कैसे सकता है? बीमारों का ठीक तरह से इलाज किसी और तरह शुरू भी कैसे किया जा सकता है? आज भी कितने ही लोग है, कितने ही धर्म है, जिन्हे इंसान के जिस्म पर चाकू चलाने से नफरत है। चीराफाडी होते देख लोगो को उलटी आने लगती है। उन दिनों जब विसेलियस एक विद्यार्थी के तौर पर शरीर-रचना विज्ञान पढ रहा था, प्रोफ़ेसर आता और सामने कुर्सी पर बैठकर गैलेन के ग्रन्थ का श्रद्धा भक्ति के साथ कुछ पाठ करके चला जाता। 200 ई० मे गैलेन की मृत्यु हुई थी और उसके ग्रन्थों मे जो कुछ मानव-शरीर के सम्बन्ध मे लिखा था वह प्राय (बार्बेरी) बन्दरों की चीराफाडी पर ही आधारित था। उधर, प्रोफेसर अपने घिसे-पिटे नोट्स पढ़ता जाता, और इधर एक सहायक उघडे मुर्दे के अंगाग तदनुसार जल्दी-जल्दी दिखाते चलने की रस्म पूरी करता जाता। कही-कही ऐसा भी आ जाता कि गैलेन के वर्णन में और सामने पढ़े नमूने मे परस्पर संगति बनती नहीं या बन ही नहीं पाती। ऐसे स्थलो पर प्रोफेसर साहब यही कहकर छट से आगे चल देते कि जरूर गैलेन के बाद से मनुष्य के शरीर मे कुछ परिवर्तन आ गए है। गैलेन के विरुद्ध सम्मति के लिए किसी में साहस नही था गैलेन स्वत प्रमाण था, और यह तब जबकि खुद गैलेन में स्थान-स्थान पर परस्पर-विरोध कुछ कम नही है।

 

 

आंद्रेयेस विसेलियस चिकित्सा शिक्षा की इस प्रणाली से असंतुष्ट था। उसे याद था कि बचपन में उसे किस प्रकार परिंदो पर, चुहों पर खुद चीरा फाडी करने का शौक था, उसने निश्चय कर लिया कि इन्सान के बारे मे भी वह अपना ज्ञान इसी तरह बढाएगा। अब मुश्किल यह थी कि फालतू शरीर कहां से हासिल किए जाएं ? एक ही रास्ता रह गया था कि मुर्दों को उड़ाया जाए (आज भी ‘हॉरर’ फिल्म में जब यह दहशत परदे पर पेश हो रही होती है, देखनेवालों में कितने ही मुंह फेर लेते हैं। यही एक रास्ता रह गया था जिसका परिणाम यह हुआ कि कुछ अनधिकारी लोग भी जा-जाकर कब्रों को पलीत करने लग गए।

 

 

कुछ भी हो, विसेलियस ने निश्चय कर लिया कि वह किसी भी और के लिखे-कहे पर आंख मूंदकर विश्वास कभी नहीं करेगा, अपने ही हाथों जो कुछ सामने खुलेगा उसी के आधार पर वह अगला कदम रखेगा, अपने सिद्धान्त बनाएगा। उसे भी रोज़ शरीर रचना विज्ञान पर लैक्चर देने होते थे, इन लेक्चरों में अब हाजिरी बढ़ने लगी। विद्यार्थियों के लिए उसने एक नियम ही बना दिया कि वे, उसकी क्लास में आप जिस्म को चीरने फाड़ने की आदत बनाएं, प्रोफेसर के गिर्द बुत बनकर खड़े न रहा करे, मेरी यह अपनी पुस्तक भी एक मार्गदर्शिका ही है, प्रत्यक्ष का स्थान यह नहीं ले सकती। सत्यासत्य की एक ही कसौटी हो सकती है– प्रत्यक्ष दर्शन।

 

विसेलियस ने अपने जमाने के डाक्टरों की आलोचना की, “आज जब बाकी सबने अपने उत्तरदायित्व का वह अरुचिकर अंश त्याग दिया है किन्तु साथ ही पैसे और ओहदे की अहमियत से मुंह जरा भी नहीं फेरा, तब भला ये मेरे साथी डाक्टर पुराने जमाने के उन हकीमों के साथ, उन च्यवनों के साथ अपना मुकाबला कर कैसे सकते हैं ?।

 

 

“खुराक के तरीके और तौर क्या होने चाहिए? यह प्रश्न आज नर्सो के जिम्मे छोड़ दिया जाता है। दवाइयां मिलाने का काम पंसारी करे, और चीरा फाड़ी का नाई (उस समय नाई ही मनुष्य शरीर की चीरा फाडी करता था)। फिर डाक्टर के लिए क्या रह गया ?”। आंद्रेयेस विसेलियस ने चिकित्सकों को प्रबोधित किया कि वे मरीज की सेहत का जिम्मा अपने हाथ ले लें, अपनी कुछ जिम्मेदारी समझे।

 

 

विसेलियस के ग्रंथ ‘फैब्रिका’ का महत्त्व बहुत कुछ उसके चित्रकार यान स्टीफन वॉन काल्कार की बदौलत है। वॉन काल्कार प्रसिद्ध कलाकार टीटियन का शिष्य था। आज तक उसके रेखाचित्रों की सूक्ष्म-दृष्टि को तथा स्वाभाविकता को मात नहीं दिया जा सका, और शरीर रचना शास्त्र की वे स्थायी सम्पत्ति बन चुके हैं। 1564 में आंद्रेयस विसेलियस का देहांत हुआ, आखिर वह भी इंसान था। उसकी प्रणाली की तथा उसके निष्कर्षों की आलोचना अब भी बन्द होने में नहीं आ रही थी। वह भी इंसान था, कहां तक बरदाश्त करता चलता?।

 

 

आंद्रेयेस विसेलियस का महत्त्व शरीर रचना विज्ञान में यही कुछ है कि चिकित्सा शास्त्र को शरीर के प्रत्यक्ष शल्योद्धाटन की ओर फिर से ले आने वाला “आदि पुरुष’ वही था। विसेलियस की यह स्थापना, यह निधि आज चिकित्सा के क्षेत्र मे सभी कही प्रामाणिक रूप में गृहीत हो चुकी है।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े—-

 

एनरिको फर्मी
एनरिको फर्मी— इटली का समुंद्र यात्री नई दुनिया के किनारे आ लगा। और ज़मीन पर पैर रखते ही उसने देखा कि Read more
नील्स बोर
दरबारी अन्दाज़ का बूढ़ा अपनी सीट से उठा और निहायत चुस्ती और अदब के साथ सिर से हैट उतारते हुए Read more
एलेग्जेंडर फ्लेमिंग
साधारण-सी प्रतीत होने वाली घटनाओं में भी कुछ न कुछ अद्भुत तत्त्व प्रच्छन्न होता है, किन्तु उसका प्रत्यक्ष कर सकने Read more
अल्बर्ट आइंस्टीन
“डिअर मिस्टर प्रेसीडेंट” पत्र का आरम्भ करते हुए विश्वविख्यात वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने लिखा, ई० फेर्मि तथा एल० जीलार्ड के Read more
हम्फ्री डेवी
15 लाख रुपया खर्च करके यदि कोई राष्ट्र एक ऐसे विद्यार्थी की शिक्षा-दीक्षा का प्रबन्ध कर सकता है जो कल Read more
मैरी क्यूरी
मैंने निश्चय कर लिया है कि इस घृणित दुनिया से अब विदा ले लूं। मेरे यहां से उठ जाने से Read more
मैक्स प्लांक
दोस्तो आप ने सचमुच जादू से खुलने वाले दरवाज़े कहीं न कहीं देखे होंगे। जरा सोचिए दरवाज़े की सिल पर Read more
हेनरिक ऊ
रेडार और सर्चलाइट लगभग एक ही ढंग से काम करते हैं। दोनों में फर्क केवल इतना ही होता है कि Read more
जे जे थॉमसन
योग्यता की एक कसौटी नोबल प्राइज भी है। जे जे थॉमसन को यह पुरस्कार 1906 में मिला था। किन्तु अपने-आप Read more
अल्बर्ट अब्राहम मिशेलसन
सन् 1869 में एक जन प्रवासी का लड़का एक लम्बी यात्रा पर अमेरीका के निवादा राज्य से निकला। यात्रा का Read more
इवान पावलोव
भड़ाम! कुछ नहीं, बस कोई ट्रक था जो बैक-फायर कर रहा था। आप कूद क्यों पड़े ? यह तो आपने Read more
विलहम कॉनरैड रॉटजन
विज्ञान में और चिकित्साशास्त्र तथा तंत्रविज्ञान में विशेषतः एक दूरव्यापी क्रान्ति का प्रवर्तन 1895 के दिसम्बर की एक शरद शाम Read more
दिमित्री मेंडेलीव
आपने कभी जोड़-तोड़ (जिग-सॉ) का खेल देखा है, और उसके टुकड़ों को जोड़कर कुछ सही बनाने की कोशिश की है Read more
जेम्स क्लर्क मैक्सवेल
दो पिन लीजिए और उन्हें एक कागज़ पर दो इंच की दूरी पर गाड़ दीजिए। अब एक धागा लेकर दोनों Read more
ग्रेगर जॉन मेंडल
“सचाई तुम्हें बड़ी मामूली चीज़ों से ही मिल जाएगी।” सालों-साल ग्रेगर जॉन मेंडल अपनी नन्हीं-सी बगीची में बड़े ही धैर्य Read more
लुई पाश्चर
कुत्ता काट ले तो गांवों में लुहार ही तब डाक्टर का काम कर देता। और अगर यह कुत्ता पागल हो Read more
लियोन फौकॉल्ट
न्यूयार्क में राष्ट्रसंघ के भवन में एक छोटा-सा गोला, एक लम्बी लोहे की छड़ से लटकता हुआ, पेंडुलम की तरह Read more
चार्ल्स डार्विन
“कुत्ते, शिकार, और चूहे पकड़ना इन तीन चीज़ों के अलावा किसी चीज़ से कोई वास्ता नहीं, बड़ा होकर अपने लिए, Read more
“यूरिया का निर्माण मैं प्रयोगशाला में ही, और बगेर किसी इन्सान व कुत्ते की मदद के, बगैर गुर्दे के, कर Read more
जोसेफ हेनरी
परीक्षण करते हुए जोसेफ हेनरी ने साथ-साथ उनके प्रकाशन की उपेक्षा कर दी, जिसका परिणाम यह हुआ कि विद्युत विज्ञान Read more
माइकल फैराडे
चुम्बक को विद्युत में परिणत करना है। यह संक्षिप्त सा सूत्र माइकल फैराडे ने अपनी नोटबुक में 1822 में दर्ज Read more
जॉर्ज साइमन ओम
जॉर्ज साइमन ओम ने कोलोन के जेसुइट कालिज में गणित की प्रोफेसरी से त्यागपत्र दे दिया। यह 1827 की बात Read more
ऐवोगेड्रो
वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी समस्याओं में एक यह भी हमेशा से रही है कि उन्हें यह कैसे ज्ञात रहे कि Read more
आंद्रे मैरी एम्पीयर
इतिहास में कभी-कभी ऐसे वक्त आते हैं जब सहसा यह विश्वास कर सकता असंभव हो जाता है कि मनुष्य की Read more
जॉन डाल्टन
विश्व की वैज्ञानिक विभूतियों में गिना जाने से पूर्वी, जॉन डाल्टन एक स्कूल में हेडमास्टर था। एक वैज्ञानिक के स्कूल-टीचर Read more
काउंट रूमफोर्ड
कुछ लोगों के दिल से शायद नहीं जबान से अक्सर यही निकलता सुना जाता है कि जिन्दगी की सबसे बड़ी Read more
एडवर्ड जेनर
छः करोड़ आदमी अर्थात लन्दन, न्यूयार्क, टोकियो, शंघाई और मास्कों की कुल आबादी का दुगुना, अनुमान किया जाता है कि Read more
एलेसेंड्रा वोल्टा
आपने कभी बिजली 'चखी' है ? “अपनी ज़बान के सिरे को मेनेटिन की एक पतली-सी पतरी से ढक लिया और Read more
एंटोनी लेवोज़ियर
1798 में फ्रांस की सरकार ने एंटोनी लॉरेंस द लेवोज़ियर (Antoine-Laurent de Lavoisier) के सम्मान में एक विशाल अन्त्येष्टि का Read more
जोसेफ प्रिस्टले
क्या आपको याद है कि हाल ही में सोडा वाटर की बोतल आपने कब पी थी ? क्‍या आप जानते Read more
हेनरी कैवेंडिश
हेनरी कैवेंडिश अपने ज़माने में इंग्लैंड का सबसे अमीर आदमी था। मरने पर उसकी सम्पत्ति का अन्दाजा लगाया गया तो Read more
बेंजामिन फ्रैंकलिन
“डैब्बी", पत्नी को सम्बोधित करते हुए बेंजामिन फ्रैंकलिन ने कहा, “कभी-कभी सोचता हूं परमात्मा ने ये दिन हमारे लिए यदि Read more
सर आइज़क न्यूटन
आइज़क न्यूटन का जन्म इंग्लैंड के एक छोटे से गांव में खेतों के साथ लगे एक घरौंदे में सन् 1642 में Read more
रॉबर्ट हुक
क्या आप ने वर्ण विपर्यास की पहेली कभी बूझी है ? उलटा-सीधा करके देखें तो ज़रा इन अक्षरों का कुछ Read more
एंटोनी वॉन ल्यूवेनहॉक
सन् 1673 में लन्दन की रॉयल सोसाइटी के नाम एक खासा लम्बा और अजीब किस्म का पत्र पहुंचा जिसे पढ़कर Read more
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स
क्रिस्चियन ह्यूजेन्स (Christiaan Huygens) की ईजाद की गई पेंडुलम घड़ी (pendulum clock) को जब फ्रेंचगायना ले जाया गया तो उसके Read more
रॉबर्ट बॉयल
रॉबर्ट बॉयल का जन्म 26 जनवरी 1627 के दिन आयरलैंड के मुन्स्टर शहर में हुआ था। वह कॉर्क के अति Read more
इवेंजलिस्टा टॉरिसेलि
अब जरा यह परीक्षण खुद कर देखिए तो लेकिन किसी चिरमिच्ची' या हौदी पर। एक गिलास में तीन-चौथाई पानी भर Read more
विलियम हार्वे
“आज की सबसे बड़ी खबर चुड़ैलों के एक बड़े भारी गिरोह के बारे में है, और शक किया जा रहा Read more
“और सम्भव है यह सत्य ही स्वयं अब किसी अध्येता की प्रतीक्षा में एक पूरी सदी आकुल पड़ा रहे, वैसे Read more
गैलीलियो
“मै गैलीलियो गैलिलाई, स्वर्गीय विसेजिओ गैलिलाई का पुत्र, फ्लॉरेन्स का निवासी, उम्र सत्तर साल, कचहरी में हाजिर होकर अपने असत्य Read more
निकोलस कोपरनिकस
निकोलस कोपरनिकस के अध्ययनसे पहले– “क्यों, भेया, सूरज कुछ आगे बढ़ा ?” “सूरज निकलता किस वक्त है ?” “देखा है Read more
लियोनार्दो दा विंची
फ्लॉरेंस ()(इटली) में एक पहाड़ी है। एक दिन यहां सुनहरे बालों वाला एक नौजवान आया जिसके हाथ में एक पिंजरा Read more
गैलेन
इन स्थापनाओं में से किसी पर भी एकाएक विश्वास कर लेना मेरे लिए असंभव है जब तक कि मैं, जहां Read more
आर्किमिडीज
जो कुछ सामने हो रहा है उसे देखने की अक्ल हो, जो कुछ देखा उसे समझ सकने की अक्ल हो, Read more
एरिस्टोटल
रोजर बेकन ने एक स्थान पर कहा है, “मेरा बस चले तो मैं एरिस्टोटल की सब किताबें जलवा दू। इनसे Read more
हिपोक्रेटिस
मैं इस व्रत को निभाने का शपथ लेता हूं। अपनी बुद्धि और विवेक के अनुसार मैं बीमारों की सेवा के Read more
यूक्लिड
युवावस्था में इस किताब के हाथ लगते ही यदि किसी की दुनिया एकदम बदल नहीं जाती थी तो हम यही Read more

write a comment

%d bloggers like this: