अष्टमी रोहिणी केरल का प्रमुख त्यौहार की जानकारी हिन्दी में

अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य

अष्टमी रोहिणी केरल राज्य में ही नही बल्कि पूरे भारत मे एक प्रमुख त्यौहार है। यह त्यौहार भगवान कृष्ण के जन्मदिन का उत्सव है। यह क्षेत्रीय विविधताओं के साथ उत्तर भारत में कृष्णा जन्माष्टमी कहते है। केरल मे इसे अष्टमी रोहिणी कहते है। यह त्योहार चंद्रमा अष्टमी के 8 वें क्वार्ट पर चिंगम (अगस्त-सितंबर) के मलयालम महीने में चौथे चंद्र राष्ट्रवाद या रोहिणी नक्षत्र के अधीन आता है। यह त्यौहार पूरे भारत मे उत्साह और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है।

 

 

 

 

केरल में अष्टमी रोहिणी कैसे मनाते हैं

 

 

जैसा की हमने ऊपर बताया अष्टमी रोहिणी, जिसे गोकुलष्टमी और कृष्णा जयंती या जन्माष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। और यह पूरे भारत में विभिन्न नामों के साथ मनाया जाता है। केरल मे अष्टमी रोहिणी पर भगवान कृष्ण के भक्तों द्वारा उपवास (वृथम) के दिन के रूप में मनाया जाता है। कहा जाता है कि भगवान कृष्णा का जन्म ‘अवतारम’ मध्यरात्रि में हुआ था, इसलिए केरल में महिलाओं, विशेष रूप से नंबुथिरी महिलाओं, मध्यरात्रि तक जागते रहते है और भगवान के पूजा अर्चना करते है। इसके अलावा मनोरंजन गतिविधियों और आनंद के साथ नाच गाकर समय गुजारती है। लड़कियां आम तौर पर खूबसूरत काकोट्टिकली का प्रदर्शन करती हैं और गाने गाती हैं। यह मध्यरात्रि में पारंपरिक पूजा करने के बाद ही है कि भक्त उन चीजों को विभाजित करते हैं जिन्हें पहले से ही भगवान चढाया गया था।

 

 

 

अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
अष्टमी रोहिणी फेस्टिवल के सुंदर दृश्य

 

 

 

अष्टमी रोहिणी के इस समय कृष्णा मंदिरों को शानदार ढंग से सजाया जाता है, जिसमें तेल दीपक और उत्सव सुबह के शुरुआती घंटों तक जारी रहते हैं। बड़ी संख्या में भक्त इस दिन अपने श्रद्धालु में पूरी शिंगर में एक झलक के लिए इकट्ठे होते हैं। गुरुवायूर देवस्ववम में प्रमुख उत्सव होते हैं। भक्तों इस मंदिर पर अपलम और पल्पयसम (चावल के पेस्ट और गुड़ के केक) के साथ प्रसाद वितरण करते.है। इन्हें भगवान का पसंदीदा भोजन माना जाता है। इस दिन विभिन्न कृष्ण मंदिरों में भक्तों द्वारा विशेष उत्सव मनाए जाते हैं।

 

 

 

 

प्रिय पाठकों केरल के प्रसिद्ध फेस्टिवल अष्टमी रोहिणी पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताए। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

यदि आपके आसपास कोई धार्मिक, ऐतिहासिक, पर्यटन, या कोई ऐसा त्यौहार आपके क्षेत्र मे मनाया जाता है, जिसके बारे में आप पर्यटकों और हमारे पाठकों को बताना चाहते है तो आप उसके बारे मे सटीक और सही जानकारी कम से कम 300 शब्दों मे यहां लिख सकते है। Submit a post हम अपके द्वारा लिखी गई पोस्ट को अपने इस प्लेटफार्म पर आपके नाम के साथ शामिल करेगें।

 

 

 

केरल के टॉप 10 फेस्टिवल

 

 

दार्जिलिंग हनीमून डेस्टिनेशन के सुंदर दृश्य
आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी
गणतंत्र दिवस परेड
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
शिमला हनीमून डेस्टिनेशन सुंदर दृश्य
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है ।
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की
हर की पौडी हरिद्वार
उत्तराखंड राज्य में स्थित हरिद्वार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है।
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के

write a comment

%d bloggers like this: