अरब इजरायल युद्ध कब हुआ था – अरब इजरायल संघर्ष के कारण

अरब इजरायल युद्ध

द्वितीय विश्य युद्ध की समाप्ति के बाद 14 मई, 1948 में संयुक्त राष्ट्र संघ ने ब्रिटिश आधिपत्य के फिलिस्तीनी भू-क्षेत्र को दो हिस्सों में विभक्त करके यहूदियों तथा फिलिस्तीनियों के लिए अलग अलग स्वदेशों के निर्माण का प्रस्ताव पारित किया किन्तु अरबों को यह बात रास नहीं आयी और उन्होने नवोदित यहूदी राष्ट्र इसरायल को समाप्त करने के लिए युद्ध छेड़ दिया। यह बात अलग है कि अमरीका द्वारा प्रदत्त आर्थिक तथा सामरिक सहायता से इसरायल ने न केवल फिलिस्तीनियों के प्रस्तावित स्वदेश निर्माण वाले भू-क्षेत्र पर कब्जा कर लिया बल्कि उन्हे शरणार्थियों की तरह भटकने को विवश कर दिया अपने इस लेख में हम इसी अरब इजरायल युद्ध का उल्लेख करेंगे और निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से जानेंगे:—-

 

अरब इजरायल युद्ध कब हुआ था? अरब इजरायल युद्ध के कारण? अरब इजरायल संघर्ष के क्या कारण थे? तृतीय अरब इजरायल युद्ध कब हुआ? प्रथम अरब इजरायल युद्ध कब हुआ? अरब इजरायल के मध्य युद्ध कितने चरणों में लड़ाई गया था? अरब इजरायल संघर्ष को हल करने में संयुक्त राष्ट्र के प्रयासों पर प्रकाश? अरब इजरायल विवाद पर संयुक्त राष्ट्र की भूमिका पर प्रकाश? द्वितीय अरब इजरायल संघर्ष कब हुआ? चौथा अरब इजरायल संघर्ष कब हुआ? इजरायल फिलस्तीन का संघर्ष की शुरुआत कहां से हुई? इजरायल फिलस्तीन संघर्ष के कारण क्या है?

 

अरब इजरायल युद्ध के कारण

 

विश्व के तीन प्रमुख धर्मो-ईसाई धर्म, इस्लाम धर्म तथा यहूदी धर्म का जन्मस्थल पश्चिमी एशिया आज भी युद्ध के आंतक और तनाव से घिरा भू-क्षेत्र है। दरअसल अरबी (फिलिस्तीनी) तथा यहूदियों (इसरायली) के बीच इस सामरिक तनाव की गाथा लगभग 2,000 वर्ष पुरानी है, जब यहूदियों को उनकी मातृभूमि (जहा आज सीरिया, लेबनान, जोर्डन है) से भगा दिया गया था। जहां आज इसरायल है, पहले वह भू-क्षेत्र भी फिलिस्तीन कहलाता था। यहीं से पलायन करने के बाद निर्वासन की यत्रणा झेलते यहूदी वर्षों तक दुनिया कोने-कोने मे भटकते रहे।

 

प्रथम विश्व युद्ध के बाद इस गाथा ने तब मोड लिया, जब 1922 में ‘राष्ट् संघ’ (League of Nation) ने 2 नवम्बर, 1917 की बालफर योजना के अनुसार ब्रिटिश आधिपत्य के फिलिस्तीन और जोर्डन के क्षेत्रो में ही यहूदी राज्य की स्थापना पर अपनी सहमति व्यक्त की किन्तु कुछ अडचनों के कारण प्रस्ताव कार्यान्वित न हो सका।

 

द्वितीय विश्व युद्ध के शुरू होते-होते यह प्रश्न फिर उठा विवादास्पद
पेलेस्टाइन में यहूदी आव्रजन (Immigration) बढ़ता गया क्योंकि जर्मनी से भी हिटलर की तानाशाही के सताये यहूदी आ रहे थे। अतः यहूदियों के लिए अलग स्वदेश-निर्माण की मांग फिर से जोर पकड़ने लगी। फलतः 4 मई, 1948 को संयुक्त राष्ट्र संघ ने फिलिस्तीनी भू-क्षेत्र को दो हिस्सों में विभक्त कर दिया। इस
तरह हुआ नये राष्ट्र ‘इसरायल’ का जन्म।

 

 

अरब इजरायल युद्ध की शुरुआत

 

इसरायल के जन्म के साथ ही फिलिस्तीनियों को पड़ोसी देशो जोर्डन, , लेबनान और सीरिया के रेगिस्तानी इलाको में तम्बुओ में शरणार्थियों की तरह रहना पडा। उधर, विश्व के कई देशों से भाग कर जो यहूदी नवजात राष्ट्र इसरायल पहुंच रहे थे, उनका हार्दिक स्वागत किया गया और उन्हे पूरा संरक्षण मिला। फिलिस्तीनियों के पलायन के साथ-साथ इसरायल ने अपने क्षेत्र का विस्तार भी जारी रखा। यही नहीं बल्कि अपनी स्थापना के साथ-साथ इसरायल ने अपने हिस्से से 40 प्रतिशत अधिक भाग पर कब्जा कर लिया था। फलत फिलिस्तीनियों और इसरायलियो के बीच युद्धों की अन्तहीन श्रृंखला शुरू हो गयी। 1948 से लेकर 1973 के दौरान चार बडे युद्ध लडे गये।

 

 

अरब इजरायल प्रथम युद्ध (1948)

14 मई, 1948 को इसरायल की स्थापना के तुरन्त बाद ही अमरीका ने उसे समर्थन दे दिया। 15 मई, 1948 को मिस्र, इराक, जोर्डन, सीरिया व लेबनान की संयुक्त अरब सेना ने इसरायल पर धावा बोल दिया। ये सभी देश इसरायल के पास ही स्थित है। 7 जनवरी, 1949 को युद्ध विराम लागू हो गया परन्तु तब तक इसरायल ने अपने क्षेत्र मे 50 प्रतिशत की वृद्धि कर ली थी।

 

अरब इजरायल द्वितीय युद्ध (1956)

1956 में एक बार फिर अरबों और यहूदियो के बीच युद्ध की लपटें जली। 1956 मे मिस्र ने स्वेज नहर का राष्ट्रीयकरण करके इसरायल के जहाजों पर पाबंदी लगा दी। इस राष्ट्रीयकरण का प्रभाव इग्लैंड और फ्रांस पर भी पडा। इसरायल ने इन दोनो देशो के सहयोग से अरबो के एक बडे क्षेत्र पर अधिकार कर लिया। बाद मे अमरीका तथा संयुक्‍त राष्ट्र संघ (UNO) के हस्तक्षेप से इसरायल ने तमाम विजित क्षेत्रों को लौटा दिया।

 

अरब इजरायल तृतीय युद्ध (1967)

सीरिया की सीमा से इसरायल पर कुछ हमले हो रहे थे। इसरायल ने 1967 में जवाबी कार्रवाई की धमकी दी। सीरिया ने मिस्र से सहायता मांगी, अतः मिस्र ने भी अपनी सेना की लामबंदी कर दी। इसरायल ने अपने ऊपर हमले की आंशका से 5 जून, 1967 को सीरिया, जोर्डन व मिस्र के सैनिक अड्डों पर अचानक हमला कर दिया। इस अचानक हमले से इन तीनो देशो की सुरक्षा व्यवस्था चरमरा कर रह गयी तथा इसरायल ने मिस्र के तेल उत्पादक क्षेत्र सीनाई (Sinai), सीरिया की गोलान हाइट्स व जोर्डन के पश्चिमी तट पर अधिकार कर लिया। स्वेज नहर का पूर्वी तट भी उसके अधिकार मे आ गया। अरबों की करारी हार हुई।

 

अरब इजरायल चतुर्थ युद्ध (1973)

इसरायल ने अपने आधिपत्य के अरब प्रदेशों की वापस करने मे आनाकानी की। इससे क्षुब्ध होकर अरब देशों मिस्र व सीरिया ने 6 अक्तूबर, 1973 को यहूदी त्योहार ‘योम किपर’ (Yom Kippur) के दिन इसरायल पर आक्रमण कर दिया। इसलिए इसे ‘योम किपर युद्ध’ भी कहते है। मिस्र व सीरिया को प्रारम्भिक
सफलता अवश्य मिली परन्तु वे 1967 में इसरायल द्वारा विजित प्रदेशों को वापस लेने में असफल रहे। अन्ततः 1974 में अमरीका के तत्कालीन विदेश मंत्री डॉ. हेनरी किसिंजर ने मिस्र, सीरिया, लेबनान, आदि अरब देशों का दौरा किया और अरब-यहूदियों में सन्धि-स्थापना के प्रयास किये। इन प्रयासों के फलस्वरूप ही
युद्धो की यह श्रृंखला समाप्त हुई।

 

फिलिस्तीनी मुक्ति संगठन (Palestine Liberation Organization)

 

इस युद्ध मे फिलिस्तीनी मुक्ति संगठन का जिक्र अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। 1964 में संगठित इस मोर्चे का विशेष उद्देश्य फिलिस्तीनियो को उनका स्वदेश वापस दिलाना था। संगठन के अध्यक्ष यासर अराफात के नेतृत्व में फिलिस्तीन ने अपने स्वतन्त्रता आंदोलन को शुरू किया। हालांकि इसरायल के पास अमेरिकी आर्थिक और सामरिक समर्थन था किन्तु अराफात के नेतृत्व में अरबों ने विशाल विश्व जनमत खडा कर लिया। तभी से यह प्रयास विश्वव्यापी बना कि फिलिस्तीनियों के लिए भी स्वदेश निर्माण पर सक्रिय रूप से गौर किया जाये।

 

वर्तमान स्थिति

वैमनस्य और आपसी तनाव की लड़ाई अब भी जारी है, जो कभी भी युद्ध में परिणत हो सकती है। इसरायल के प्रश्न को लेकर अब अरब-देश विभाजित हो गये है। यद्यपि सभी चाहते है कि फिलिस्तीनियों को रहने के लिए उनका अपना भू-क्षेत्र होना चाहिए। इसरायल के प्रति कैम्प डेविड समझौते (1979) के दौरान मिस्र का मैत्रीपूर्ण रवैया देखकर सीरिया, यमन व अल्जीरिया, आदि अरब-देश नाराज है। सबसे चिन्ताजनक बात यह है कि इराक, सऊदी अरब व लीबिया परमाणु बम बनाने का प्रयास कर रहे हैं। याद कोई देश परमाणु बम बनाने में सफल हो जाता है तो पश्चिमी एशिया में स्थिति और भी विस्फोटक हो जायेगी।

 

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—-

 

झेलम का युद्ध
झेलम का युद्ध भारतीय इतिहास का बड़ा ही भीषण युद्ध रहा है। झेलम की यह लडा़ई इतिहास के महान सम्राट Read more
चंद्रगुप्त मौर्य और सिकंदर का युद्ध
चंद्रगुप्त मौर्य और सिकंदर का युद्ध ईसा से 303 वर्ष पूर्व हुआ था। दरासल यह युद्ध सिकंदर की मृत्यु के Read more
शकों का आक्रमण
शकों का आक्रमण भारत में प्रथम शताब्दी के आरंभ में हुआ था। शकों के भारत पर आक्रमण से भारत में Read more
हूणों का आक्रमण
देश की शक्ति निर्बल और छिन्न भिन्न होने पर ही बाहरी आक्रमण होते है। आपस की फूट और द्वेष से भारत Read more
खैबर की जंग
खैबर दर्रा नामक स्थान उत्तर पश्चिमी पाकिस्तान की सीमा और अफ़ग़ानिस्तान के काबुलिस्तान मैदान के बीच हिन्दुकुश के सफ़ेद कोह Read more
अयोध्या का युद्ध
हमनें अपने पिछले लेख चंद्रगुप्त मौर्य और सेल्यूकस का युद्ध मे चंद्रगुप्त मौर्य की अनेक बातों का उल्लेख किया था। Read more
तराईन का प्रथम युद्ध
भारत के इतिहास में अनेक भीषण लड़ाईयां लड़ी गई है। ऐसी ही एक भीषण लड़ाई तरावड़ी के मैदान में लड़ी Read more
तराइन का दूसरा युद्ध
तराइन का दूसरा युद्ध मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान बीच उसी तरावड़ी के मैदान में ही हुआ था। जहां तराइन Read more
मोहम्मद गौरी की मृत्यु
मोहम्मद गौरी का जन्म सन् 1149 ईसवीं को ग़ोर अफगानिस्तान में हुआ था। मोहम्मद गौरी का पूरा नाम शहाबुद्दीन मोहम्मद गौरी Read more
चित्तौड़ पर आक्रमण
तराइन के दूसरे युद्ध में पृथ्वीराज चौहान के साथ, चित्तौड़ के राजा समरसिंह की भी मृत्यु हुई थी। समरसिंह के तीन Read more
मेवाड़ का युद्ध
मेवाड़ का युद्ध सन् 1440 में महाराणा कुम्भा और महमूद खिलजी तथा कुतबशाह की संयुक्त सेना के बीच हुआ था। Read more
पानीपत का प्रथम युद्ध
पानीपत का प्रथम युद्ध भारत के युद्धों में बहुत प्रसिद्ध माना जाता है। उन दिनों में इब्राहीम लोदी दिल्ली का शासक Read more
बयाना का युद्ध
बयाना का युद्ध सन् 1527 ईसवीं को हुआ था, बयाना का युद्ध भारतीय इतिहास के दो महान राजाओं चित्तौड़ सम्राज्य Read more
कन्नौज का युद्ध
कन्नौज का युद्ध कब हुआ था? कन्नौज का युद्ध 1540 ईसवीं में हुआ था। कन्नौज का युद्ध किसके बीच हुआ Read more
पानीपत का द्वितीय युद्ध
पानीपत का प्रथम युद्ध इसके बारे में हम अपने पिछले लेख में जान चुके है। अपने इस लेख में हम पानीपत Read more
पंडोली का युद्ध
बादशाह अकबर का चित्तौड़ पर आक्रमण पर आक्रमण सन् 1567 ईसवीं में हुआ था। चित्तौड़ पर अकबर का आक्रमण चित्तौड़ Read more
हल्दीघाटी का युद्ध
हल्दीघाटी का युद्ध भारतीय इतिहास का सबसे प्रसिद्ध युद्ध माना जाता है। यह हल्दीघाटी का संग्राम मेवाड़ के महाराणा और Read more
सिंहगढ़ का युद्ध
सिंहगढ़ का युद्ध 4 फरवरी सन् 1670 ईस्वी को हुआ था। यह सिंहगढ़ का संग्राम मुग़ल साम्राज्य और मराठा साम्राज्य Read more
दिवेर का युद्ध
दिवेर का युद्ध भारतीय इतिहास का एक प्रमुख युद्ध है। दिवेर की लड़ाई मुग़ल साम्राज्य और मेवाड़ सम्राज्य के मध्य में Read more
करनाल का युद्ध
करनाल का युद्ध सन् 1739 में हुआ था, करनाल की लड़ाई भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखती है। करनाल का Read more
प्लासी का युद्ध
प्लासी का युद्ध 23 जून सन् 1757 ईस्वी को हुआ था। प्लासी की यह लड़ाई अंग्रेजों सेनापति रॉबर्ट क्लाइव और Read more
पानीपत का तृतीय युद्ध
पानीपत का तृतीय युद्ध मराठा सरदार सदाशिव राव और अहमद शाह अब्दाली के मध्य हुआ था। पानीपत का तृतीय युद्ध Read more
ऊदवानाला का युद्ध
ऊदवानाला का युद्ध सन् 1763 इस्वी में हुआ था, ऊदवानाला का यह युद्ध ईस्ट इंडिया कंपनी यानी अंग्रेजों और नवाब Read more
बक्सर का युद्ध
भारतीय इतिहास में अनेक युद्ध हुए हैं उनमें से कुछ प्रसिद्ध युद्ध हुए हैं जिन्हें आज भी याद किया जाता Read more
आंग्ल मैसूर युद्ध
भारतीय इतिहास में मैसूर राज्य का अपना एक गौरवशाली इतिहास रहा है। मैसूर का इतिहास हैदर अली और टीपू सुल्तान Read more
आंग्ल मराठा युद्ध
आंग्ल मराठा युद्ध भारतीय इतिहास में बहुत प्रसिद्ध युद्ध है। ये युद्ध मराठाओं और अंग्रेजों के मध्य लड़े गए है। Read more
1857 की क्रांति
भारत में अंग्रेजों को भगाने के लिए विद्रोह की शुरुआत बहुत पहले से हो चुकी थी। धीरे धीरे वह चिंगारी Read more
1971 भारत पाकिस्तान युद्ध
भारत 1947 में ब्रिटिश उपनिषेशवादी दासता से मुक्त हुआ किन्तु इसके पूर्वी तथा पश्चिमी सीमांत प्रदेशों में मुस्लिम बहुमत वाले क्षेत्रों Read more
सारंगपुर का युद्ध
मालवा विजय के लिये मराठों को जो सब से पहला युद्ध करना पड़ा वह सारंगपुर का युद्ध था। यह युद्ध Read more
तिरला का युद्ध
तिरला का युद्ध सन् 1728 में मराठा और मुगलों के बीच हुआ था, तिरला के युद्ध में मराठों की ओर Read more

write a comment